New Age Islam
Tue Aug 03 2021, 07:04 AM

Hindi Section ( 13 Jul 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 7 On Takfirism इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता है क़िस्त: 7 तकफीरिज़म पर

जिहादियों का तकफ़ीरी वक्तव्य बनाम तकफ़ीर की पारंपरिक व्याख्या

प्रमुख बिंदु

जमात-उल-तकफीर और अल-हिजरा और अन्य जिहादियों का तकफीरी बयान

तकफ़ीरी बयानबाजी मुख्यधारा के मुसलमानों को निशाना बनाती है

क्लासिकी उलमा और तकफिर का मुद्दा

हदीसें जो मुसलमानों को तकफिर से रोकती हैं

एक मुसलमान पर तब तक तकफीर नहीं किया जा सकता जब तक कि वह स्वयं इस्लाम के मूल सिद्धांतों को नकार न दे।

तकफिरी जिहादियों और क्लासिकी उलमा के बीच तुलना साबित करती है कि इस्लामोफोबिक दावा झूठा और निराधार है।

---------------

न्यू एज इस्लाम विशेष संवाददाता

(उर्दू से अनुवादन्यू एज इस्लाम)

25 जून 2021

इस्लामोफोबिया वाले लोग अक्सर दावा करते हैं कि जिहादी सच्चे इस्लाम का प्रतिनिधित्व करते हैंजो इस्लामी कानून और स्रोतों की पारंपरिक व्याख्याओं में संरक्षित है। हमने पिछले छह खंडों में अध्ययन किया है कि यह इस्लामोफोबिक दावा सच नहीं है। इस विषय को जारी रखते हुएहम अब जिहादी तकफ़ीरी बयानबाजी पर ध्यान केंद्रित करेंगे ताकि उनके और इस्लाम की क्लासिकी व्याख्या के बीच का अंतर स्पष्ट हो जाए। जो निश्चित रूप से इस इस्लामोफोबिक दावे को अमान्य कर देगा।

जिहादियों का तकफीरी बयान

जिहादी समूहों मेंजमात-ए-तकफीर वल-हिजरासबसे चरमपंथी तकफ़ीरी समूहजमात-ए-मुस्लिमीन को दिया गया एक नामजिसे शुक्री मुस्तफा ने मुस्लिम ब्रदरहुड की एक शाखा के रूप में स्थापित कियाको "आतंकवादी पनाहगाह" कहा जाता है। जो ओसामा बिन लादेन का सहयोगी है लेकिन वह अक्सर और भी अधिक हिंसक साबित हुआ है। माना जाता है कि समूह ने "सलफी जिहादी आंदोलन में एक बहुत ही हिंसक परंपरा का निर्माण किया है "इससे अल-कायदा द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली कुछ रणनीतियां पैदा हुई हैं और जिनकी तकफ़ीरी और हिंसक विचारधारा को यूरोप में सलफी जिहादियों द्वारा व्यापक रूप से स्वीकार किया जा रहा है। समूह की स्थिति यह है कि "मानव निर्मित कानून" "अवैध" हैं और जो लोग उनकी विचारधारा को स्वीकार नहीं करते हैं उनके साथ "चोरीअपहरणजबरन विवाह और यहां तक कि उन्हें मारने की अनुमति है।" इस समूह की तकफ़ीरी बयानबाजी किसी भी अन्य जिहादी समूह की तुलना में अधिक चरमपंथी है। जमात-उल-तकफीर वल-हिजरा के कुछ तकफीरी बयान नीचे दिए गए हैंजिनमें से अधिकांश को अन्य जिहादी समूहों ने स्वीकार कर लिया है।

* हर बड़ा गुनाह करने वाला जो उस पर ज़ोर देता है और उससे तौबा नहीं करता वह काफिर है।

* मुस्लिम शासक जो अल्लाह द्वारा बताए गए नियमों के अनुसार न्याय नहीं करते हैंवे निश्चित रूप से काफिर हैं।

* उलमा काफिर हैं क्योंकि वे उन शासकों को काफिर नहीं मानते जिन्होंने घोर पाप किए हैं और निष्क्रिय हैं।

* जो कोई भी उनके द्वारा प्रस्तुत जिहादी और तकफीरी विचारधाराओं को स्वीकार नहीं करता है उसे काफिर माना जाता है। यहां तक कि एक व्यक्ति जो उनकी विचारधारा को स्वीकार करता है लेकिन उनके जिहादी समूह में शामिल नहीं होता हैउसे काफिर माना जाता है।

* हालांकिजो व्यक्ति उनके समूह में शामिल होने के बाद उसे छोड़ देता है उसे मुर्तद कहा जाता है और उसका खून उनके लिए जायज माना जाता है। इसलिएसभी धार्मिक समूह जिनके पास उनका निमंत्रण पहुंचालेकिन वह उनके इमाम के प्रति निष्ठा की शपथ लेने नहीं आएवे सभी काफिर हैं और इस्लाम के दायरे से बाहर हैं।

* अल्लाह और उसके रसूल के अलावा किसी और का अनुसरण करना शिर्क है। इसलिएजो कोई इमामों की राय और सहाबा की आम सहमति में विश्वास करता हैया जो क़ियास या मसालेह मुर्सलह या इस्तिहसान या अन्य शरिया तर्कों में विश्वास करता हैवह काफिर है।

* चौथी शताब्दी हिजरी के बाद इस्लामी काल कुफ्र और अज्ञानता के हैं क्योंकि वे (इससे मुख्यधारा के सुन्नी सूफी मुसलमानों को संदर्भित करता है जो फिकह के चार स्कूलों में से एक का पालन करते हैं) 'तकलीद की मूर्तियोंकी पूजा करते रहे हैंऔर खुदा के अलावा जिनकी पूजा की जाती है। इसलिएएक मुसलमान को तर्क के साथ शरीयत के नियमों को जानना चाहिए। उनके लिए किसी भी धर्म के मामले में तकलीद करना जायज़ नहीं है।

* किसी भी सहाबी के शब्द या कर्म शरीयत के सबूत नहीं हैंभले ही वह खलीफा ए राशिद क्यों न हो!

*हिजरत उनकी जिहादी सोच का एक और महत्वपूर्ण तत्व है। इससे उनका मतलब जाहिल समाज से होशपूर्वक खुद को अलग करना और जिहादियों के अनुसार आज के सभी समाज जिहालत और अंधकार से पीड़ित हैं। इन समाजों से अलग होना जरूरी है। अन्यथायह कुफ्र और शिर्क के कृत्यों को जन्म देगा।

* ये जिहादी ऐसे क्लासिकी उलमा और फुक्हा की बातों को खारिज करते हैं जिनहें फिकही मामलों में अनुसंधान और तर्क तक पहुंच है। वे तफसीर औरअकाइद पर उपलब्ध पुस्तकों की भी परवाह नहीं करते। ऐसी पुस्तकों के अधिकांश महान उलमा और फुकहा उनकी नजर में मुसलमान भी नहीं हैं।

* वे कुरआन और सुन्नत की आज्ञाओं में विश्वास करने का दावा करते हैं। हालाँकिउनके लेखन में यह स्पष्ट रूप से देखा जा सकता है कि वह पहले एक राय बनाते हैं और फिर जबरन और अवैध रूप से कुरआन के पाठ को अपनी राय के समर्थन में प्रस्तुत करते हैं और सुन्नत में जो उनकी बातों के अनुसार है इसे स्वीकार कर लेते हैं। और जब कोई चीज़ उनके दृष्टिकोण का समर्थन नहीं करती हैतो वे इसे सीधे तौर पर अस्वीकार कर देते हैं या पल्ला झाड़ लेते हैं कि "इसका वह मतलब नहीं है जो लोग समझते हैं"!

सबसे महत्वपूर्ण किताब जो उनके जिहादी विचारों और विश्वासों से पर्दा उठाती है वह जिकरियात मआ जमाअतूल मुस्लिमीन- अल तकफीर वल हिजरहहै जो जमातुल तकफीर वल हिजरह के एक सदस्य अब्दुल रहमान अबुल खैर की लिखित है जिसने बाद में इस ग्रुप को छोड़ दिया था।

सैयद कुतुब ने अपनी किताबों "फी ज़िलाल अल-कुरान" और "माअलिम फील-तरीक" में आईएसआईएस की तकफीरी विचारधारा को प्रस्तुत किया। यह सर्वविदित है कि सैयद कुतुब और मुस्लिम ब्रदरहुड के अन्य विचारक मौलाना मौदूदी की इलाही हुकूमत की अवधारणा से बहुत प्रभावित थे। आईएसआईएस के प्रमुख सदस्यों में से एक अबू मुहम्मद अल-अदनानी सैयद कुतुब की तफसीर "फी ज़िलाल-उल-कुरान" से प्रेरित थे।

तुर्की इब्न मुबारक अल-बनाली कहते हैं, "अदनानी ने नियमित रूप से बीस वर्षों तक इस पुस्तक का अध्ययन किया। एक सबक के दौरान उसकी नजर से कुरआन की इस आयत की तफसीर गुजरी " और जो लोग अल्लाह के उतारे पर आज्ञा नहीं देते हैं वे काफिर हैं। (5: 4)। उन्होंने अपने एक सहयोगी से पूछा कि सीरियाई संविधान के स्रोत क्या हैं। विधायिका की शक्ति क्या हैनिदेशक मंडल और न्यायिक शक्तियां क्या हैंजब उनके साथी ने जवाब दिया तो अदनानी ने कहा, ''क्या हमारी सरकार काफिर है?'' उनके साथी उलमा चले गए। मामलों पर बहस करने का उसका तरीका यह था।अदनानी बाद में ISIS में शामिल हो गए और एक प्रमुख प्रवक्ता बन गए।

अपनी किताब रिसाला अल ईमानमें एक सल्फी जिहादी सिद्धांतकार सालेह सरिया (१९३३-१९७४) मुस्लिम शासकों की तकफीर करते हैं और आम मुसलमानों को जाहिलियत बिरादरी से संबंध रखने वाला करार देते हैं और उनकी जमीनों को दारुल हरबकरार देते हैं। वह यह भी कहते हैं सारे मुस्लिम देश में वर्तमान शासन का तरीका बेशक कुफ्र पर आधारित है और उन तमाम देशों के लोग जाहिलियत के दिनों से संबंध रखते हैं।

तकफ़ीरी बयानबाजी मुख्य रूप से मुख्यधारा के मुसलमानों को लक्षित करती है

जिहादी तकफ़ीरी बयानबाजी को देखने वाला कोई भी इस तथ्य से इनकार नहीं कर सकता कि उन्होंने दुनिया भर के मुस्लिम समाजों को भारी नुकसान पहुंचाया है। यही कारण है कि सीरियाइराक और अफगानिस्तान में मुसलमानों को "मुर्तद" घोषित किया गया और उन्हें मार दिया गया। तुलनात्मक रूप से भीतकफ़ीरी बयानिये का उद्देश्य गैर-मुसलमानों की तुलना में मुसलमानों को अधिक नुकसान पहुँचाना है। प्रभावित देशों के आम मुस्लिम नागरिक अब बेघरअनाथविधवा या शरणार्थी आश्रितों का जीवन जीने को मजबूर हैं। तकफीरी जिहादियों के प्रभाव में आने से पहले उनकी पूजा वे खुलेआम पूजा करते थेअब परेशान कुन हालात या संदेह की स्थिति में है।

क्लासिकी उलमा और फुकहा और तकफीर का मुद्दा

मुख्यधारा के मुसलमानों के क्लासिकी और पारंपरिक उलमा द्वारा एक व्यक्तिगत मुसलमान के तकफीर का भी अभ्यास किया गया है। हालांकिजिहादियों के विपरीतक्लासिकी इस्लामी उलमा तकफीर के बारे में बहुत सावधान हैं। वे तकफ़ीर तभी करते हैं जब कोई व्यक्ति सार्वजनिक स्तर पर धर्म की ज़रूरतों को नकारता हैअन्यथा उनका सामान्य निर्णय यह है कि अहले क़िबला की तकफ़ीर नहीं की जाएगी।

इस्लामी कानून (फिकह) के मानक और क्लासिकी उलमा का सामान्य दृष्टिकोण यह है कि किसी भी मोमिन की तकफीर निषिद्ध है यहाँ तक कि वह खुद उस धर्म की किसी भी आवश्यकता से इनकार न करे जो मुस्लिम बनने के लिए आवश्यक है। वे इस समझ और व्याख्या को निम्नलिखित हदीसों पर लागू करते हैं।

आका ए दो जहां सैयद मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं: अगर कोई शख्स अपने भाई को काफिर कहता है तो यकीनन उनमें से एक काफिर है। (सहीह बुखारी जिल्द ८ किताब ७३ हदीस नम्बर १२५)

यही हदीस मुस्लिम शरीफ में थोड़े अलग शब्दों के साथ रिवायत की गई है:

हजरत मोहम्मद मुस्तफा सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं: जो कोई भी अपने भाई को काफिर कहता है तो उसकी हकीकत उनमें से किसी एक की तरफ लौटेगी। अगर उसकी बात सच है तो ठीक, वरना उसकी बात उसी की तरफ लौट जाएगी (और इस तरह तोहमत लगाने वाला शख्स खुद काफिर हो जाएगा)। [सहीह मुस्लिम किताब १००, नम्बर ०११७]

जिस शख्स ने किसी मोमिन को काफिर कहा गोया कि उसने उसका क़त्ल कर दिया। (तिरमिज़ी और बुखारी)

जो शख्स शहादत के कलमे की गवाही दे उसे काफिर न कहो। जो शख्स शहादत के कलमे की गवाही देने वाले को काफिर कहता है वह कुफ्र के करीब है। (तबरानी में इब्ने उमर से मरवी है)

ईमान की बुनियाद तीन चीजों पर है। जो शख्स शहादत के कलमे की गवाही दे उसे किसी भी गुनाह के लिए काफिर न कहो और न ही किसी बद आमाली की वजह से उसे इस्लाम से बाहर मत करो। (अबू दौउद)

ऊपर वर्णित सभी हदीसों से यह कानून निकला है कि सच्चे अकीदे के किसी भी मोमिन को काफिर नहीं कहा जाना चाहिए। यह कानून इतना सख्त है कि आरोप सही नहीं होने पर आरोप लगाने वाले को काफिर माना जाएगा। इसलिए तालिबान के विचारक काशिफ अली ने इलाही अहकाम और पैगंबर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के आदेशों और उपरोक्त सभी बयानों का उल्लंघन किया है।

अहले सुन्नत का एक सिद्धांत है कि अहले क़िबला में से किसी को भी काफिर नहीं कहा जा सकता” (शरह अकाएदे नसफीया, अल्लामा साअदुदीन तफ्ताजानी- १२१)

किसी मुसलमान पर उस वक्त तक कुफ्र का फतवा सादिर नहीं किया जा सकता जब तक उसकी बातों में ईमान की गुंजाइश बाकी हो (दुर्रे मुख्तार, किताबुल जिहाद, फी बयान इर्तेदाद)

हनफी मकतबे फ़िक्र के संस्थापक अबू हनीफा की तरफ इशारा करते हुए यह खा गया है कि उन्होंने किसी भी अहले किबला की तकफीर नहीं की है

इमाम आज़म अबू हनीफा रज़ीअल्लाहु अन्हु ने फरमाया: कोई भी शख्स उस समय तक ईमान से बाहर नहीं हो सकता जब तक वह इस बात का इनकार न करे जिससे वह ईमान में दाखिल हुआ है। (दुर्रे मुख्तार, जिल्द ३, पेज ३१०)

अल्लामा मुल्ला अली कारी ने फरमाया कि किसी मोमिन को ईमान से बाहर करना एक गंभीर काम है” (शरह अल शिफा, जिल्द 2, पृष्ठ-५००)

अल्लामा जलालुद्दीन रज़ीअल्लाहु अन्हु ने फरमाया कि अहले किबला की तकफीर खुद मुशरिकाना अमल है। (दलाइलुल मसाइल)

कई इमामों ने स्पष्ट रूप से यह खा कि अगर तकफीर न करने की कोई भी बुनियाद पाई जाए तो तकफीर नहीं की जाएगी चाहे वह बुनियाद कमज़ोर ही क्यों न हो। (रफउल इश्तेबाह अन इबारतुल इश्तेबाह-४)

दिल्ली के तीन महान शायरों में से एक प्रसिद्ध सूफी संत ख्वाजा मीर दर्द (1785) ने कहा: "हम क़िबला के लोगों को काफिर नहीं कहते हैंहालांकि यह हो सकता है कि वे अक्सर मामलों में झूठे होते हैं और अलग अकीदों और मामुलात पर अमल पैरा होते हैं। यह इस तथ्य के कारण है कि अल्लाह की वहदानियतमुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की नबूवत में विश्वास और क़िबला के प्रति उनका आकर्षण उन्हें उनके ईमान से बाहर नहीं करता है। जिन्होंने बाद में बिदआत (बिदअते सय्येअह) और झूठे मोअतकेदात का प्रतिबद्ध किया। पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा: अहले क़िबला के मामले में सावधान रहें और उन्हें काफिर न कहें। (इल्मुल किताब पेज- ७५)

इसके अलावा और भी अनेकों उलमा और फुकहा ए इस्लाम का यह सर्वसम्मत निर्णय है कि अहले क़िबला में से किसी भी व्यक्ति को काफिर नहीं कहा जा सकता है। (अल मवाकिफ, पेज ६००)

तकफीर के मुद्दे पर जिहादियों और क्लासिकी उलमा और फुकहा के बीच तुलना

जिहादी हर उस मुसलमान की तकफीर करते हैं जो उनके जिहादी विचारों का समर्थन नहीं करते जबकि क्लासिकी उलमा व फुकहा किसी एक मुस्लिम की तकफीर में बहुत एहतियात बरतते हैं। शुरू से लेकर अब तक क्लासिकी उलमा हमेशा एतेकादियात और फुरुई अहकाम के बीच एक अलग करने वाली लाइन स्थापित करते आए हैं। इस विचार के विपरीत जिहादी एतेकादियात और फुरुई अहकाम के बीच कोई फर्क ही नहीं करते यही वजह है कि वह तकफीर के मामले में एक गंभीर खता का शिकार हैं।

न्यू एज इस्लाम द्वारा प्रकाशित एक लेख मेंनियमित स्तंभकार गुलाम ग़ौस सिद्दीकी लिखते हैं:

अकीदों और आमाल के बीच फर्क करते हुए मरकजी धारे के क्लासिकी मुस्लिम विद्वान अपनी किताब शरह अकाएद अल नस्फीमें लिखते हैं, “तुम्हें मालुम होना चाहिए कि शरीअत के अहकाम में से कुछ का संबंध अमल की कैफियत से जिन्हें फुरुई और अमली कहा जाता है और कुछ एतेकादियात से संबंधित हैं जिन्हें अस्लिय और एतेकादियह कहा जाता है (तफ्ताजानी, शरह अकाएद)

"सभी मुख्यधारा के इस्लामी उलमा अकीदों से संबंधित मामलों पर पूर्ण सहमति में हैंजबकि व्यावहारिक नियमों या सांप्रदायिक मुद्दों से संबंधित मामलों पर भी एक-दूसरे के साथ मजबूत मतभेद हैं। नतीजतनहम देखते हैं कि इस्लामी फिकह के सभी चार स्कूल हनफ़ीशाफईमालकी और हंबली अकीदों के मामलों में एक दूसरे के साथ पूर्ण सहमति में हैंजबकि वे व्यावहारिक मामलों या फुरुई मुद्दों से संबंधित मामलों पर बहुत भिन्न हैं। सांप्रदायिक फैसलों में मतभेदों के बावजूदवे कभी भी एक-दूसरे की तकफीर नहीं करते हैं। इसके बजायवे एक-दूसरे को मुसलमान मानते हैं और अपने-अपने फुरुई अहकामों का पालन करते हुए एक-दूसरे का सम्मान करते हैं।

मोतकेदात को मामुलात से भ्रमित करकेजिहादी उन मुसलमानों को बदनाम करते हैं जो उनसे सहमत नहीं हैं। उदाहरण के लिएजिहादी वर्तमान मुख्यधारा के मुसलमानों की तकफीर करने के लिए निम्नलिखित आयत पेश करते हैं:

और जो अल्लाह के उतारे पर हुक्म न करे वही लोग काफिर हैं।“ (5:44)

आइएसआइएस के तथाकथित प्रशिक्षण कैम्प की दरसी किताब मुकर्रर फिल तौहीदमें उन्होंने उस तमाम लोगों को मुर्त्द करार दिया है जो खुदा के नियम लागू नहीं करते हैं। अपनी लेखनी में चाहे वह दाबुक’, ‘रोमिय’, या ख़ास भारतीय दुष्प्रचार मैगजीन वाइस ऑफ़ हिन्दहो, वह अपने विचारों को स्थिर करने के लिए लगातार कुरआन की इन आयतों 5:44 और 4:65 का हवाला देते हैं जिनमें स्पष्ट तौर पर ब्यान किया गया है कि जो अल्लाह के उतारे पर हुक्म न करे वही लोग काफिर हैं।

आयत 5:44 की जिहादी व्याख्या के विपरीत क्लासिकी उलमा ए इस्लाम ने एक बिलकुल अलग ताबीर व व्याख्या पेश की है जो मुख्य धारे के मुसलामानों के बीच आम और ख़ास में स्वीकार्य है। जनाब गुलाम गौस सिद्दीकी लिखते हैं:

"पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सहाबा सहित सभी समय के मुख्यधारा के इस्लामी उलमा की विचारधारा आइएसआइएसमौलाना मौदूदीजमाते इस्लामीसैयद क़ुतुबअल बगदादीअदनानी और भारत के खिलाफ नए बनाए गए आइएसआइएस के समर्थक गिरोह "वलायत हिन्द" के खिलाफ है। आयत (5:44) को समझने के लिएइस्लामी उलमा ने विभिन्न मतों और निर्देशों को तैयार किया हैऔर इस कविता के आवेदन के संबंध में सबसे आम और लोकप्रिय राय यह है: "जो कोई अल्लाह द्वारा नाज़िल आज्ञाओं को मानता है। वह उसके अनुसार न्याय नहीं करता है अर्थात्व उसके उलुहियतईमान और सच्चाई से इनकार करता है। वह वास्तव में एक काफिर है। जब तक एक मुसलमान जो मानता है कि यह आयत सत्यइलाही वही और खुदा की आज्ञा हैलेकिन बदलती परिस्थितियों या किसी मजबूरी में इस संदेश को लागू करने में विफल रहता हैतो वह काफिर नहीं है।

इमाम फखर-उद-दीन राजी ने अपनी तफसीर "अल-तफ़सीर अल-कबीर" में लिखा है।

इकरमा ने कहातकफीर का हुक्म कि फरमाने इलाही है "और जो कोई अल्लाह द्वारा नाज़िल किए गए आदेश के अनुसार शासन नहीं करता हैतो वे काफिर हैं। "यह उस व्यक्ति पर लागू होता है। जो अपने दिल में और अपनी जुबान से अल्लाह द्वारा नाज़िल की गई आज्ञाओं की सच्चाई का इनकार करता है। और जो कोई अपने दिल में अल्लाह के द्वारा नाज़िल किए गए कानून की सच्चाई पर विश्वास करता है और अपनी जुबान से स्वीकार करता है कि यह अल्लाह द्वारा नाज़िल किया गया कानून हैभले ही वह इसकी अवज्ञा करता हैफिर भी वह अल्लाह के वही में विश्वास करता है। ईमान वाला माना जाएगा हाँलेकिन इस मामले में वह केवल एक बेअमल मोमिन के रूप में जाना जाएगा। इस संदर्भ को उद्धृत करने के बादइमाम रज़ी ने कहा, "यह सही उत्तर है।" (इमाम राज़ी अल तफसीर अल कबीर 5:44)

इसी तरह का उत्तर इमाम गज्जाली ने अल मुस्तफामें और इमाम अबू मोहम्मद बिन अतिया अल उन्द्लिसी ने अल मुहर्र्रुल वजीज़में भी दिया है।

तकफीर और कुरआनी आयत 5:44 की तफसीर व तशरीह के मसले पर जिहादियों और क्लासिकी उलमा ए इस्लाम के बीच इस तुलनात्मक अध्ययन के बाद यह बात स्पष्ट हो जाती है कि जिहादियों का नज़रिया इस्लाम की क्लासिकी और रिवायती व्याखा पर आधारित नहीं है। इसलिए, इस्लामोफोबिया के शिकार लोगों के पास ऐसे दावे करने की कोई बुनियाद नहीं है।

--------------

Related Article:

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 1- On the Hakimiyyah اسلاموفوبز کا دعوی کہ جہادزم اسلام کی روایتی تشریحات کی ترجمان ہے کا رد بلیغ، قسط اول مسئلہ حاکمیت پر

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 اسلامو فوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے

Refuting Islamophobic Claims: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، قسط ثالث: ملک سے غداری کے لئے ورغلانے والے جہادی بیانیہ کا بطلان

Refuting Islamophobic Claim - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، قسط رابع: خودکش بم دھماکوں یا شہادت آپریشن کو جائز قرار دینے والے جہادی بیانیہ کا بطلان

Refuting Islamophobic Claims, Part 5- On The Concept of Darul Islam and Darul Harb اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، قسط پنجم ، دار الحرب اور دار الاسلام

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 6 On Targeting Civilians in Revenge اسلاموفوبک دعوی کا رد کہ جہادی اسلام کی روایتی اور مرکزی دھارے کی تشریحات کی ترجمانی کرتے ہیں: قسط ششم، انتقاما عام شہریوں کو نشانہ بنائے جانے سے متعلق بحث

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 7 On Takfirism اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، تکفیری بیانیہ پر

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 1- On the Hakimiyyah

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 on Imperativeness of Reclaiming ‘Muslim Land’

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 5- On The Concept of Darul Islam and Darul Harb

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Islam- Part 6 On the Killing of Mushrikin and Kuffar

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 7 On Takfirism

Refuting Islamophobic Claims इस्लामोफोब्ज़ का दावा कि जिहादिस्ट इस्लाम की रिवायती तशरीहात की तर्जुमान है का रद्दे बलीग़क़िस्त : मसला हाकिमियत

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 इस्लामोफोबिया और जिहादिज्म का रद्द: कभी मुस्लिम सरज़मीन रहे इलाके को दुबारा हासिल करना लाज़िम या नहीं?

Refuting Islamophobic Claims: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता हैतीसरी क़िस्त: देश से गद्दारी के लिए बहकाने वाले जिहादी बयानिये की अमान्यता

Refuting Islamophobic Claim - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता हैचौथी क़िस्त: आत्मघाती बम विस्फोटों या शहादत अभियानों को सही ठहराने वाले जिहादी बयानिये का खंडन

Refuting Islamophobic Claims, Part 5- On The Concept of Darul Islam and Darul Harb इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता हैपांचवां क़िस्तदारुल हरब और दारुल इस्लाम पर

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 6 On Targeting Civilians in Revenge इस्लामोफोबिक दावों का खंडन कि जिहादी इस्लाम की पारंपरिक और मुख्यधारा की व्याख्याओं का प्रतिनिधित्व करते हैं: किस्त: 6 बदले में आम नागरिकों को निशाना बनाए जाने के विषय पर चर्चा

URL:https://www.newageislam.com/hindi-section/refuting-islamophobic-claimsjihadist-part-7/d/125081


New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Women in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Women In Arab, Islamophobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism


Loading..

Loading..