New Age Islam
Fri Nov 26 2021, 10:23 PM

Hindi Section ( 3 Oct 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

As Tehreek-e-Taliban Pakistan Heightens Attacks In Pakistan, Threat to the Region’s Security Rises तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान के बढ़ते हमले से खुद पाकिस्तानी सुरक्षा को खतरा

अफगानिस्तान में तालिबान को पाकिस्तान का समर्थन उनके लिए अच्छा नहीं होगा

प्रमुख बिंदु:

1. टीटीपी ने पाकिस्तान में आतंकी हमले तेज कर दिए हैं

2. तालिबान ने टीटीपी को पाकिस्तान में हमले करने से नहीं रोका

3. तालिबान ने टीटीपी लड़ाकों और नेताओं को अपनी हिरासत से रिहा कर दिया है

4. टीटीपी ने पाकिस्तान के माफी के प्रस्ताव को खारिज करते हुए कहा कि उसे अपने संघर्ष पर गर्व है

5. अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के लिए इमरान खान का उत्साह जल्द ही फीका पड़ सकता है

----

न्यू एज इस्लाम विशेष संवाददाता

30 सितंबर, 2021

पाकिस्तान, अमेरिका तालिबान वार्ता के शुरू से ही तालिबान का समर्थन करता रहा है। उसने दोहा वार्ता में शिरकत के लिए अमेरिका के कहने पर पाकिस्तान में कैद मुल्ला ब्रादर को रिहा कर दिया था। अफगानिस्तान में तालिबान के सत्ता में आने के बाद भारत के खिलाफ सामरिक चुनौतियां पैदा हो गई हैं क्योंकि वह हमेशा भारत को अफगानिस्तान से बाहर करना चाहता था। भारत ने अफगानिस्तान में अरबों डॉलर का निवेश किया है जिसे अब दुश्मन तालिबान की वजह से एक अविश्वाश्नीय भविष्य का सामना है।

इसलिए, पाकिस्तान के प्रधान मंत्री तालिबान के उदय पर अफगान राजनीति में पाकिस्तान की भागीदारी की बढ़ती संभावनाओं से प्रसन्न हैं।

हालांकि, घरेलू मोर्चे पर सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है क्योंकि अफगानिस्तान में तालिबान के उदय ने तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के साथ-साथ पाकिस्तान में सक्रिय अन्य आतंकवादी समूहों को मजबूत किया है। तालिबान की वैचारिक शाखा, टीटीपी, को 2007 में अपनी स्थापना के बाद से पाकिस्तान में एक खौफनाक ताकत के रूप में देखा गया है। इसने अतीत में नागरिकों, सार्वजनिक स्थानों और सैन्य प्रतिष्ठानों और कर्मियों पर हजारों हमले किए हैं। उन्होंने पाकिस्तान की लोकतांत्रिक सरकार को काफिरों और नास्तिकों की सरकार करार दिया और उन्हें बलपूर्वक उखाड़ फेंकने और एक ऐसी सरकार स्थापित करने की कसम खाई जिसमें शरीअत का शासन हो।

त्रासदी यह है कि टीटीपी ने पाकिस्तानी सेना में अपनी जगह बना ली है और खुफिया एजेंसियों और सरकारी विभागों में उसके हमदर्द मौजूद हैं। इसलिए जब अफगानिस्तान में तालिबान सत्ता में आया तो पाकिस्तान में बड़े जश्न का माहौल था। पाकिस्तान में टीटीपी इतना शक्तिशाली है कि राजनीतिक दलों को चुनाव के दौरान उनके समर्थन की जरूरत होती है। पाकिस्तान में कई मौलवी पाकिस्तान की हिंसक विचारधारा का समर्थन करते हैं और इस तरह पाकिस्तान में शियाओं और अन्य अल्पसंख्यकों पर उनके हमलों का खुले तौर पर और गुप्त रूप से समर्थन करते हैं।

इस लिहाज से अफगानिस्तान में तालिबान का उभार इमरान खान की सरकार के लिए चिंता का विषय तो है ही, साथ ही उनके लिए खुशी का भी जरिया बन गया है। टीटीपी ने हाल के महीनों में पाकिस्तान में अपनी आतंकवादी गतिविधियां तेज कर दी हैं। पाकिस्तान में टीटीपी के उदय का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अकेले अगस्त में उसने 50 से ज्यादा आतंकी हमले किए, जिसमें पाकिस्तान में आत्मघाती बम विस्फोट भी शामिल थे, जिसमें सैकड़ों लोग और रक्षाकर्मी मारे गए थे।

पाकिस्तान के संकट को बढ़ाने के लिए, अफगान तालिबान ने हजारों टीटीपी लड़ाकों को उनके साथ एकजुटता में रिहा कर दिया है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की एक रिपोर्ट के अनुसार, लगभग 6,000 टीटीपी लड़ाके अफगानिस्तान में मौजूद हैं। इमरान खान ने खुद स्वीकार किया है कि अफगान तालिबान टीटीपी का समर्थन करता है और पाकिस्तान में टीटीपी के हमलों में सुविधा प्रदान करता है। अफगान तालिबान टीटीपी का इस्तेमाल चीन के खिलाफ अपनी रणनीति के एक हिस्से के तहत करते हैं। कम्युनिस्ट देश के पास पाकिस्तान और अफगानिस्तान में अरबों की परियोजनाएं हैं, और तालिबान टीटीपी का समर्थन करता है, जिसने हाल ही में पाकिस्तान के अंदर चीनी इंजीनियरों पर हमला किया था।

और यह कि टीटीपी शरिया पर आधारित इस्लामी सरकार से कम कुछ भी स्वीकार नहीं करेगा, इस तथ्य से स्पष्ट हो गया कि पिछले हफ्ते जब पाकिस्तानी सरकार अपने परिवार के साथ कुनार और नंगरहार में टीटीपी लड़ाकों के भाग जाने वाले टीटीपी के लड़ाकों को इस शर्त पर माफी की पेशकश की थी कि उन्हें आत्मसमर्पण करना होगा और अपना संघर्ष छोड़ छोड़ना होगा, लेकिन उन्होंने यह कहते हुए प्रस्ताव को ठुकरा दिया कि उन्हें इस्लाम के लिए अपने संघर्ष पर गर्व है। इसके बजाय, उन्होंने मांग की कि पाकिस्तानी सरकार पूरे देश में शरिया कानून लागू करे।

टीटीपी की इस आक्रामक स्थिति से ही पता चलता है कि टीटीपी सरकारी और नागरिक ठिकानों पर अपने हमले बढ़ाएगी। तालिबान समर्थक पाकिस्तानी धार्मिक नेता भी उनकी वैचारिक आधार को मजबूत करने में उनकी मदद करेंगे। वह पाकिस्तान के राजनीतिक नेताओं के भ्रष्टाचार का इस्तेमाल देश के लोगों को यह समझाने के लिए करेगा कि केवल तालिबान ही पाकिस्तान में भ्रष्टाचार मुक्त और न्यायपूर्ण सरकार प्रदान कर सकता है।

संक्षेप में, अफगानिस्तान में तालिबान के उदय से पाकिस्तान में टीटीपी को बढ़ावा मिलेगा, जो तालिबान की विचारधारा के लिए प्रतिबद्ध है और जिसे तालिबान का समर्थन प्राप्त है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि टीटीपी पाकिस्तान पर अपनी पकड़ मजबूत करने और देश में अपने हमलों को बढ़ाने के लिए आईएसआईएस के साथ गठबंधन कर सकता है। इसलिए, अफगानिस्तान में तालिबान के उदय के लिए इमरान खान के उत्साह के बावजूद, टीटीपी न केवल पाकिस्तान के लिए बल्कि पूरे क्षेत्र की सुरक्षा के लिए खतरा बन सकता है।

English Article: As Tehreek-e-Taliban Pakistan Heightens Attacks In Pakistan, Threat to the Region’s Security Rises

Urdu Article: As Tehreek-e-Taliban Pakistan Heightens Attacks In Pakistan, Threat to the Region’s Security Rises جیسے جیسے تحریک طالبان پاکستان، پاکستان میں حملے تیز کر رہی ہے، خطے کی سلامتی کے لیے خطرہ بڑھتا جا رہا ہے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/tehreek-taliban-pakistan-attack-security/d/125502

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..