New Age Islam
Mon Oct 25 2021, 12:57 PM

Hindi Section ( 8 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why ‘Progressive’ Muslims are wrong in Condemning Naseeruddin Shah’s Anti-Taliban Video नसीरुद्दीन शाह के तालिबान विरोधी वीडियो की निंदा करने में 'प्रगतिशील' मुसलमान गलत हैं; वजह और कारण

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

7 सितंबर, 2021

गलतियों पर उंगली उठाने के बजाय, उन्हें इस महत्वपूर्ण मोड़ पर शाह के साथ खड़े होने की जरूरत है।

प्रमुख बिंदु:

1. नसीरुद्दीन शाह के वीडियो ने प्रभाव डाला है क्योंकि इसने हिंदू रूढ़िवादियों और मुसलमानों के एक वर्ग को नाराज कर दिया है, जिनमें कुछ ऐसे भी हैं जो खुद को प्रगतिशील मुसलमान कहना पसंद करते हैं।

2. तालिबान की निंदा करने के लिए मुस्लिम संगठनों का इनकार स्पष्ट रूप से चिंताजनक है, लेकिन अधिक चिंताजनक बात यह है कि प्रगतिशील मुसलमानों की इस मुद्दे को स्पष्ट रूप से देखने में असमर्थता है।

3. नसीरुद्दीन शाह ने भले ही इस्लाम को मध्य युग से जोड़ा हो, लेकिन हम इसे लेकर इतने गुस्से में क्यों हैं? क्या हमारी दीनीयात और फिकह अभी भी मध्ययुगीन नहीं है?

4. इन मुस्लिम प्रगतिशीलों को मुस्लिम रूढ़िवाद का बचाव करने के बजाय शाह के विचारों को मजबूत करना चाहिए।

------- 

तालिबान की वापसी और कुछ भारतीय मुसलमानों के जश्न के मद्देनजर, नसीरुद्दीन शाह ने एक अपमानजनक वीडियो पोस्ट किया है जिसमें वह उन लोगों की निंदा करते हैं जो इस्लामवादियों के आगमन को देखकर खुश हैं। यह देखते हुए कि तालिबान ने पहली बार सत्ता में आने पर देश के साथ क्या किया था, शाह ने उन्हें जानवर और जंगली कहा। उनका सवाल था कि क्या मुसलमानों को आधुनिकता की ओर बढ़ना चाहिए या इस मध्यकालीन मानसिकता की ओर लौटना चाहिए। यह वीडियो छोटा और दिलचस्प है। वीडियो ने अपना प्रभाव दिखाया और इस तथ्य से स्पष्ट है कि इसने हिंदू रूढ़िवादियों और तालिबान के मुस्लिम हमदर्द दोनों को नाराज कर दिया है।

शाह ने भारतीय इस्लाम और इस्लाम के अन्य रूपों के बीच अंतर करते हुए कहा कि भारतीय इस्लाम सहिष्णु था और बहुलवाद का सम्मान करता था।  उन्होंने कहा "जो लोग तालिबान का जश्न मनाते हैं वे इस अंतर को नहीं समझते हैं,"। हिंदू रूढ़िवादियों ने इस अंतर का उपयोग यह वर्णन करने के लिए किया कि कैसे भारतीय इस्लाम का इस्तेमाल 'लाखों हिंदुओं' को मारने, 'उनकी सांस्कृतिक विरासत को नष्ट करने' और 'उनकी पहचान मिटाने' के लिए किया गया था। हालांकि, इस तथ्य की ओर इशारा करते हुए कि वे यह भूल गए हैं कि इस तरह के "बर्बर शासन" की लंबी अवधि के बावजूद, देश में हिंदुओं का 85% बहुमत है। हिंदू रूढ़िवादियों का मुख्य बिंदु यह है कि इस्लाम मूल रूप से हर जगह समान है। और यह कि यह एक हिंसक धर्म है और इसका वास्तविक आधार इस्लामी वर्चस्व है। इस दृष्टिकोण का इतिहास से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि इस्लाम हमेशा स्थानीय संस्कृतियों और रीति-रिवाजों से जुड़ा रहा है, इसलिए कोई भी केवल एक प्रकार के इस्लाम के बारे में बात नहीं कर सकता है। लेकिन हिंदू रूढ़िवादियों का एक एजेंडा है और इस्लाम को एक अपरिवर्तनीय वहदत पसंद और बर्बर संप्रदाय के रूप में पेश करना उनके हित में है।

नसीरुद्दीन शाह

-----

शाह के संदेश पर मुसलमानों को क्या आपत्ति है? शाह का विरोध करने वालों में न केवल तालिबान की वापसी का जश्न मनाने वाले मुसलमान हैं, बल्कि वे भी हैं जो खुद को समुदाय के भीतर एक आधुनिकतावादी और प्रगतिशील आवाज के रूप में पेश करते हैं। उन्होंने दो प्रकार की आपत्तियां उठाई हैं।

उनका कहना है कि शाह के बयान का मतलब है कि भारत में सभी मुसलमानों ने तालिबान की वापसी का जश्न मनाया, जो वास्तव में गलत है। उनका मानना है कि केवल कुछ भारतीय मुसलमानों ने तालिबान की वापसी का स्वागत किया है और इसके लिए पूरे मुस्लिम समुदाय को दोष देना स्पष्ट रूप से गलत है। इस तर्क में कुछ वजन हो सकता है, लेकिन यह निर्धारित करने की कसौटी क्या है कि यह उत्सव केवल मुसलमानों के एक छोटे से वर्ग द्वारा मनाया गया है? पक्के तौर पर जानने का कोई तरीका नहीं है क्योंकि इसके लिए कोई सर्वे नहीं किया गया है। शायद इसे समझने का एकमात्र तरीका तालिबान की वापसी पर प्रमुख मुस्लिम संगठनों की स्थिति को देखना है। जैसा कि मैंने पहले लिखा है, देवबंदियों, बरेलवियों और अहल-ए-हदीस के विभिन्न संगठनों ने न केवल खुले तौर पर इसकी निंदा नहीं की है, बल्कि अतीत में (और कुछ हाल में) वे हमेशा तालिबान के दृष्टिकोण के करीब रहे हैं। इस बात से कौन इनकार कर सकता है कि एक उदारवादी बरेलवी, देवबंदियों के साथ अपने मतभेदों के बावजूद, तालिबानी शरीअत या इस्लामिक स्टेट की विचारधारा का समर्थन नहीं करता है? इन संगठनों के लाखों अनुयायी हैं। तालिबान की निंदा करने से उनका इनकार बहुत परेशान करने वाला है, लेकिन इससे भी अधिक चिंता की बात यह है कि प्रगतिवादी मुसलामानों को इस मुद्दे को स्पष्ट अंदाज़ में नहीं देखना चाहिए।

शाह के वीडियो पर दूसरी आपत्ति यह है कि उन्होंने भारतीय मुसलमानों को मध्य युग के हिंसक इस्लाम और एक आधुनिक और प्रगतिशील इस्लाम के बीच चयन करने के लिए कहा है। यहाँ आपत्ति यह है कि शाह ने पूरे मध्यकालीन इस्लामी इतिहास को बर्बर कहा है। लोग इस बात पर आपत्ति जताते हैं कि शाह का यह दावा कि भारतीय इस्लाम अलग है, न केवल गलत है, बल्कि रूढ़िवादियों के इस दावे को भी पुष्ट करता है कि इस्लाम की यह स्थिति हिंदू धर्म के सांस्कृतिक प्रभावों के कारण है।

मुझे नहीं लगता कि शाह का इरादा पूरे मुस्लिम इतिहास को 'बर्बर' कहने का था। हम जानते हैं कि इस्लाम ने भारत के इतिहास में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, जिसमें सबसे प्रबल समानता का सिद्धांत है। लेकिन कुछ प्रगतिशील मुसलमानों (जिनमें से अधिकांश उच्च जाति के अशराफिया मुसलमान हैं और जिन्हें अपने विदेशी नसब के सिलिसले पर गर्व है) के लिए समस्या यह है कि वे यह विश्वास नहीं करना चाहते हैं कि इस्लाम पर हिंदू धर्म का भी कुछ सकारात्मक प्रभाव है। जिसका परिणाम सोच व फिक्र में एक निश्चित संयम और बहुलवाद की स्वीकृति में भी देखा जा सकता है। इस्लाम, जो खुद को एक आदर्श धर्म कहता है, किसी कमतर मुशरिकाना धर्म से कुछ भी कैसे स्वीकार कर सकता है?

यह संभव है कि शाह ने इस्लाम को मध्य युग से भी जोड़ा हो क्योंकि हमारा पूरा दीनीयात और फिकह अभी भी मध्ययुगीन है और नहीं बदला है। इस स्थिति में, क्या हमें मध्य युग और आधुनिकता के बीच किसी एक का चयन नहीं करना चाहिए?

भारतीय मुसलमानों को एक अनोखी स्थिति का सामना करना पड़ता है क्योंकि उनका देश अभी भी धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक है, हालांकि सीमित सही। यह वह विशिष्टता थी जिसे शाह इंगित करने का प्रयास कर रहे थे। इस संदर्भ में यदि मुस्लिम संगठन तालिबान की निंदा नहीं करते हैं, तो इसका मतलब केवल यह हो सकता है कि मुसलमानों के लिए धर्मनिरपेक्षता, लोकतंत्र और संविधान केवल शब्द हैं जो उनके सांप्रदायिक हितों की रक्षा करते समय ही उनके लिए मायने रखते हैं।

मेरा मानना है कि कुछ प्रगतिशील मुसलमान इस रहस्य को समझ सकते हैं लेकिन फिर भी इस रुझान से अवगत नहीं होना चाहते हैं।

आंशिक रूप से 'प्रगतिशील' मुसलमान ऐसा इसलिए कर रहे हैं क्योंकि वे मुसलमानों को हिंदू रूढ़िवादियों के इस्लामोफोबिया से बचाना चाहते हैं। तालिबान की वापसी का न केवल मुसलमानों के एक वर्ग द्वारा स्वागत किया गया, बल्कि रूढ़िवादी हिंदुओं ने भी स्वागत किया, जिन्होंने इस अवसर का उपयोग यह दिखाने के लिए किया कि 'वास्तविक' इस्लाम क्या है। लेकिन मुसलमानों को बचाने की इस इच्छा का केवल एक ही प्रभाव पड़ा है, और वह है धार्मिक रूढ़िवाद और संभावित सुधार के मुद्दों पर किसी भी चर्चा का द्वार बंद करना। इस्लामोफोबिया से लड़ने के नाम पर प्रगतिशील मुसलमान रूढ़िवादियों के साथ क्यों खड़े हैं? अगर कोई मानता है कि शाह के लिए अपनी चिंता व्यक्त करने का यह सही समय नहीं है, क्योंकि रूढ़िवादी हिंदू इस अवसर का दुरुपयोग करेंगे, तो शायद शाह जैसे लोगों को कभी भी बोलना नहीं चाहिए।

ये प्रगतिशील मुसलमान कुछ नया नहीं कर रहे हैं। वे केवल रूढ़िवादियों के वही पुराने शब्द दोहरा रहे हैं जो इस्लाम और मुसलमानों के बारे में अपनी अज्ञानता के कारण इस तरह के सवालों में कभी नहीं रहे। आज की जटिल दुनिया में कभी भी उचित संदर्भ नहीं होता है और किसी भी संदर्भ में यदि कोई कुछ लिखता या कहता है तो उसका उपयोग किसी अन्य उद्देश्य के लिए किया जा सकता है। मुसलमानों को हिंदू रूढ़िवादियों के उदय के सामने तालिबान की निंदा करने से नहीं रोका जाना चाहिए। न ही उन्हें तालिबान का समर्थन करने वालों की आलोचना करना बंद करना चाहिए। यह वह समय है जब हमें शाह जैसे बहादुर लोगों के लिए खड़ा होना चाहिए। ऐसा करने में विफलता केवल मुस्लिम समुदाय के भीतर धार्मिक रूढ़िवाद को मजबूत करेगी।

-------

Urdu Article: Why ‘Progressive’ Muslims are wrong in Condemning Naseeruddin Shah’s Anti-Taliban Video نصیر الدین شاہ کی طالبان مخالف ویڈیو کی مذمت میں 'ترقی پسند' مسلمان غلط ہیں؛ اسباب و علل

English Article: Why ‘Progressive’ Muslims are wrong in Condemning Naseeruddin Shah’s Anti-Taliban Video

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/progressive-muslims-naseeruddin-anti-taliban/d/125332

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..