New Age Islam
Tue Nov 30 2021, 01:03 AM

Hindi Section ( 9 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

In Pakistan, Djinns are more popular than science and scientists जिन्नात पाकिस्तान में विज्ञान और वैज्ञानिकों से ज्यादा लोकप्रिय है

सुहैल अरशद, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

17 जुलाई 2021

पाकिस्तान में यु ट्यूब और टीवी चैनलों पर अजिन्ना के प्रोग्राम कसरत से उपलब्ध हैं

प्रमुख बिंदु:

1. हॉरर शो के निर्माता प्रेतवाधित घरों में जाते हैं और जिनों को उपस्थित होने का आदेश देते हैं

2. दर्शकों के भीतर सस्पेंस और एक्सप्लोरेशन पैदा करने के लिए नकली सीन बनाए जाते हैं।

-------------

अजिन्ना --- मानवीय गुणों से युक्त इस छिपे हुए प्राणी का किसी भी इस्लामी समाज में विशेष स्थान है। कुरआन और हदीस और सहाबा की रिवायतों में उनका उल्लेख है। उनका जिक्र करने से मुसलमानों में डर और कंपकंपी पैदा हो जाती है। इसलिए मुसलमानों के बीच जिन्नात और इंसानों के बीच झड़पों की कहानियां बहुत लोकप्रिय हैं। जिन्न पर किताबें हमेशा मुसलमानों के बीच लोकप्रिय रही हैं।

जैसा कि पाकिस्तान एक इस्लामिक देश है इसलिए जिनों को भी मीडिया प्लेटफॉर्म पर भी बहुत महत्व और प्रसिद्धि प्राप्त हो चुकी है। एक ऐसे युग में जब यूट्यूब लाइक और व्यू और टीवी रेटिंग सीधे वित्तीय लाभ से संबंधित हैं, पाकिस्तान में यूट्यूबर्स और टीवी चैनल अधिक से अधिक दर्शकों को आकर्षित करके वित्तीय लाभ हासिल करने के लिए अजिन्ना का शोषण करते हैं। टीवी चैनल अजिन्ना पर आधारित डरावने कार्यक्रम पेश करते हैं और YouTubers जिनों और भूतों से आसेब जदा घरों पर तरह तरह के कार्यक्रम बनाते हैं।

अजिन्ना पर कुछ कार्यक्रम यहां दिए गए हैं जो विभिन्न चैनलों पर प्रसारित किये जाते हैं एक्सप्रेस न्यूज टीवी चैनल पर "वह क्या है" और "राज़ की बात" और एमकेटीवी पोस्ट कार्यक्रम। इन डरावने शो के निर्माता प्रेतवाधित घरों में जाते हैं और असाधारण गतिविधियों को रिकॉर्ड करते हैं जो दर्शकों में सनसनी पैदा करते हैं। ये कार्यक्रम दर्शकों के बीच काफी लोकप्रिय हैं और लाखों लोग इन्हें देखते हैं। इन कार्यक्रमों की सफलता ने दूसरों को भी अजिन्ना पर इसी तरह के कार्यक्रम बनाने के लिए प्रेरित किया है।

दिलचस्प बात यह है कि कुछ निर्माता ऐसे भी हैं जो न केवल प्रेतवाधित घरों में जाते हैं और असाधारण गतिविधियों को रिकॉर्ड करते हैं बल्कि अपने "आमिलों" की मदद से अजिन्ना को "भगाने" का दावा भी करते हैं। उदाहरण के लिए, Mux9TV के निर्माता जामे शौकत की टीम में एक आमिल हैं। आशिक हुसैन नाम का यह आमिल हर प्रेतवाधित घर में जामे शौकत के साथ होता है और अपने अमलियात (बुरी ताकतों से सुरक्षा के इल्म) से उस जगह को पाक करता है। इस प्रक्रिया में, वे अलौकिक हरकतों को रिकॉर्ड करते हैं और कभी-कभी इन अनदेखी ताकतों से डरते भी हैं और उन्हें शारीरिक तौर पर नुकसान भी पहुंचता है। ये दृश्य दर्शकों में सनसनी पैदा कर देते हैं।

एमकेटीवी पोस्ट ऐसा ही एक कार्यक्रम है जिसमें एक आमिल टीम में होता है। अमिल अपने ज्ञान की मदद से जगह या घर को पाक करने की कोशिश करता है जबकि अजिन्ना टीम के अन्य सदस्यों पर हमला करता है और कभी-कभी अजिन्ना उन पर हावी हो जाते हैं और जिन्न और अमिल के बीच झगड़ा होता है।

तथ्य यह है कि निर्माता दर्शकों में रहस्य और उत्साह पैदा करने के लिए नकली दृश्य बनाते हैं। उदाहरण के लिए, जब आमिल कुरआन की आयतों का पाठ कर रहा हो और अजिन्ना को किसी भी रूप में प्रकट होने के लिए कह रहा हो, तो दूसरे कमरे में आग की लपटें दिखाई देती हैं। दर्शकों को यकीन दिलाया जाता है कि जिन्नात आग की लपटों के रूप में अपना गुस्सा दिखा रहे हैं। कभी-कभी टीम के सदस्य कैमरे के पीछे से पत्थर फेंकते हैं ताकि दर्शकों को यकीन हो जाए कि जिन्नात पत्थर फेंक रहे हैं।

एक्सप्रेस न्यूज के वह क्या है के एक एपिसोड में, एक महिला जिन्नी इमारत की छत पर चलती हुई और टीम के सदस्यों के पास आती हुई दिखाई देती है और कहती है, "करीब आओ, क्या तुम डरे हुए हो?" डर कर सदस्य उस पर समुद्र का पानी छिड़कते हैं और जिन्नी उनकी तरफ एक कुल्हाड़ी फेंक कर फरार हो जाती है। कोई भी समझ सकता है कि यह निर्माता द्वारा बनाया गया नाटक था।

दूसरी ओर, पाकिस्तानी टीवी चैनलों और यूट्यूब पर बहुत कम विज्ञान और प्रौद्योगिकी कार्यक्रम हैं और ये कार्यक्रम बहुत कम दर्शकों को आकर्षित करते हैं। उदाहरण के लिए, एक्सप्रेस समाचार कार्यक्रम "साइंस एंड टेक" के एक एपिसोड को चार महीनों में केवल 250 बार देखा गया। इसी कड़ी में एंकर ने कहा कि 60 के दशक में पाकिस्तान के अलग-अलग शहरों में हमेशा की तरह क्वांटम फिजिक्स पर वर्कशॉप और सेमिनार होते थे, लेकिन धीरे-धीरे पाकिस्तान में साइंस के प्रति दिलचस्पी कम होती गई. यूट्यूब पर एक और साइंस प्रोग्राम को साल में सिर्फ 1.4 हजार व्यूज मिले। इससे पता चलता है कि अजिन्ना और मानव के नकली संघर्ष के कार्यक्रम पाकिस्तान में वैज्ञानिक कार्यक्रमों की तुलना में अधिक लोकप्रिय हैं।

पाकिस्तान में मुसलमानों के मानस पर धर्म का हमेशा से ही दबदबा रहा है और इस आम गलत धारणा के कारण कि विज्ञान धर्म के खिलाफ है, पाकिस्तान के मुसलमानों ने विज्ञान को ज्यादा महत्व नहीं दिया है। 1979 में, डॉ. मुहम्मद अब्दुल सलाम ने 60 के दशक के दौरान पाकिस्तान में विज्ञान संस्कृति के कारण अपने विद्युत एकीकरण सिद्धांत के लिए विज्ञान में नोबेल पुरस्कार जीता। लेकिन जनरल जिया-उल-हक के नेतृत्व में धर्म ने विज्ञान को पछाड़ दिया और धार्मिक उग्रवाद केंद्रीय हो गया। बाद के समय में, पाकिस्तान के विभिन्न चरमपंथी संगठन जैसे तालिबान पाकिस्तान, लश्कर-ए-तैयबा, लश्कर-ए-झांगवी, सिपह-ए-सहाबा आदि उभरे जिन्होंने आधुनिक शिक्षा को हतोत्साहित किया और यहां तक कि शैक्षणिक संस्थानों पर हमला किया और नष्ट कर दिया।

मीडिया पाकिस्तान में वैज्ञानिक प्रवृत्ति को बढ़ावा देने में एक प्रमुख भूमिका निभा सकता था लेकिन दुर्भाग्य से इसने मुस्लिम समाज में अंधविश्वास और अवैज्ञानिक प्रवृत्तियों को बढ़ावा दिया है। प्रेतवाधित घरों में जाने के बजाय, जामे शौकत और सज्जाद सलीम जैसे लोग छोटे शहरों और गांवों में युवा वैज्ञानिकों की खोज करने और पाकिस्तानियों के बीच विज्ञान को बढ़ावा देने के लिए जा सकते थे।

जो खुदा के जीव हैं और इस दुनिया में इंसानों के साथ रहते हैं। उनके अपने परिवार हैं, उनके अपने स्कूल और बाजार हैं। उनका अपना समाज है। क्योंकि वे इंसानों के साथ रहते हैं इसलिए हितों का टकराव और संघर्ष उनके बीच एक स्वाभाविक बात है। लेकिन यह टकराव दुर्लभ है क्योंकि दोनों टकराव से बचने की कोशिश करते हैं और जब ऐसा होता है तो कहानियां बनाई जाती हैं। आम तौर पर n दिखने वाले जीव इंसानों को परेशान नहीं करना चाहते हैं लेकिन जब जामे शौकत और सज्जाद सलीम जैसे लोग अजिन्ना के बसे हुए घरों में जाते हैं और कहते हैं "क्या आप आ सकते हैं?" वे कुछ प्रतिक्रिया दिखाते हैं और उन्हें नुकसान पहुंचाने की कोशिश करते हैं ताकि वे अपनी जगह छोड़ दें। इन YouTubers और टीवी चैनलों के निर्माताओं के लिए उनकी गोपनीयता में हस्तक्षेप करना और उनकी शांति भंग करना अत्यधिक अवैज्ञानिक है।

English Article: In Pakistan, Djinns are more popular than science and scientists

Urdu Article: In Pakistan, Djinns are more popular than science and scientists پاکستان میں سائنس اور سائنسدانوں سے زیادہ مقبول اجنہ ہیں

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/pakistan-djinns-popular-science/d/125741

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..