New Age Islam
Tue Aug 09 2022, 07:45 PM

Hindi Section ( 31 March 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Minorities in Sindh of Pakistan under Constant Fear of Security and Survival: Report पाकिस्तान में डर के साये में जीने को मजबूर सिंध के अल्पसंख्यक- रिपोर्ट

वेब मॉनीटरिंग

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

30 मार्च, 2022

सिंध - 29 मार्च एमएनएन पाकिस्तान के सिंध प्रांत में अल्पसंख्यक नफरत अंगेज़ तकरीरों के मनोवैज्ञानिक, सामाजिक और आर्थिक प्रभावों के कारण अपनी सुरक्षा और अस्तित्व के लिए निरंतर भय में जी रहे हैं। राष्ट्रीय न्याय और शांति आयोग, कैथोलिक बिशप्स सम्मेलन के एक अभिन्न निकाय ने अध्ययन किया, जिसका शीर्षक था "नफ़रत की तकरीर: एक लतीफ इम्तियाज़!" दी न्यूज़ इंटरनेशनल की रिपोर्ट के अनुसार सिंध में धार्मिक नफरत अंगेज़ तकरीरों के रुझानात ने रिपर्ट किया कि ईसाई, हिंदू, सिख, शिया और अहमदी समुदाय लगातार खतरे में हैं। अध्ययन ने राज्य से धार्मिक उपदेशों, प्रवचनों और मदरसा पाठ्यक्रम के लिए निगरानी, विनियमन और मानकीकरण प्रक्रियाओं को शुरू करने और समानता और गैर-भेदभाव पर एक व्यापक नीति तैयार करने का आह्वान किया।

अध्ययन के दस्तावेजी साक्ष्य उपेक्षित नफरत अंगेज़ तकरीर की पहचान करने के लिए एक उपकरण के रूप में कार्य करते हैं और समाज पर नफरत अंगेज़ तकरीर के हानिकारक प्रभावों की जांच करते हैं। द न्यूज के अनुसार, अध्ययन ने अपने निष्कर्षों में पाया कि पाकिस्तान में नफरत अंगेज़ तकरीर को सामान्य माना जाता है, और इसका एक तात्कालिक प्रभाव यह है कि लोग आत्मविश्वास खो देते हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि जैसे-जैसे पीड़ितों में हीनता की भावना विकसित होती है, वे खुद को अलग-थलग करने लगते हैं, जिससे उनका मानसिक स्वास्थ्य और खराब हो जाता है। शोध से पता चला है कि सार्वजनिक क्षेत्रों में महिलाओं को नफरत अंगेज़ तकरीर के प्रति अधिक संवेदनशील माना जाता है, क्योंकि पुरुष प्रधान समाज में महिलाएं होने के कारण वे पहले से ही अपने लिंग के आधार पर असुरक्षित हैं।

धार्मिक अल्पसंख्यकों से संबंधित महिलाएं अपने पारंपरिक पहनावे के कारण जनता द्वारा आसानी से पहचानी जाती हैं। सिंध में, उदाहरण के लिए, हिंदू महिलाएं आमतौर पर घाघरा चोली पहनती हैं, जो उनकी पारंपरिक पोशाक है। द न्यूज के अनुसार, अध्ययन में सिंध में जबरन परिवर्तन को अपराध घोषित करने के लिए भी कहा गया और राजनीतिक दलों को एक कानून पारित करने के लिए कहा गया, जिसे नवंबर 2016 में प्रांतीय विधानसभा में आजमाया गया था, लेकिन धार्मिक पार्टियों के दबाव के कारण विफल रहा। उन्होंने यह भी मांग की कि पूरे पाकिस्तान में लड़कों और लड़कियों दोनों के लिए शादी की कानूनी उम्र 18 साल तय की जाए, और वरिष्ठ सिविल जजों से कहा गया कि वह आज़ाद मर्ज़ी, इच्छा उम्र की हकीकत की दुरुस्तगी और उसमें शामिल फरीकैन के वैवाहिक स्थिति की उपस्थिति को सुनिश्चित करें अध्ययन में यह भी पाया गया कि चिकित्सा संस्थानों में भेदभाव किया जाता है, जहां धार्मिक अल्पसंख्यकों के सदस्यों को उनके अकीदे के आधार पर चिकित्सा सहायता से वंचित किया जाता है, और इस तरह के मानवाधिकारों के उल्लंघन के लिए किसी को भी जिम्मेदार नहीं ठहराया जाता है।

नफरत अंगेज़ तकरीर की प्रवृत्ति को देखते हुए, उल्लेखनीय टिप्पणियों में से एक यह है कि धार्मिक अल्पसंख्यक समुदाय खराब मानसिक स्वास्थ्य, उनकी पदोन्नति के खिलाफ जानबूझकर किए गए प्रयासों और शैक्षणिक संस्थानों से अल्पसंख्यक छात्रों की उच्च ड्रॉपआउट दर, सुरक्षा की कमी और उपेक्षा के कारण आर्थिक विकास में पीछे हैं।

English Article: Minorities in Sindh of Pakistan under Constant Fear of Security and Survival: Report

Urdu Article:  Minorities in Sindh of Pakistan under Constant Fear of Security and Survival: Report سندھ کی اقلیتیں پاکستان میں خوف کے سائے میں رہنے پر مجبور۔۔رپورٹ

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/minorities-sindh-pakistan-security-survival/d/126703

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..