New Age Islam
Tue Jan 18 2022, 09:36 AM

Hindi Section ( 12 Dec 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Political Ambitions Turn Sufis into Militants राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं ने सूफियों को उग्रवादी बना दिया है, जैसा कि सूफी समूहों व्यवहार से पता चलता है।

सुहैल अरशद, न्यू एज इस्लाम

26 अक्टूबर 2021

मुमताज कादरी और अब्बास सिद्दीकी उग्रवादी तसव्वुफ़ का आधुनिक चेहरा हैं।

प्रमुख बिंदु:

1. सूफियों को उनकी सहिष्णुता, शांति और सद्भाव के लिए जाना जाता है।

2. 21 वीं सदी में तसव्वुफ़ पर इस्लामी कौम परस्ती का प्रभाव पड़ा

3. 2003 और 2006 के दौरान कुछ सूफी उग्रवादी संगठन वजूद में आए।

4. 2003-2006 के दौरान इराक की नक्शबंदी सेना एक सूफी उग्रवादी संगठन थी

मुमताज कादरी

-----

सूफियों को उनके सहिष्णु और बहुलवादी व्यवहार के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। वे शांति, अहिंसा, सहिष्णुता, शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का उपदेश देते हैं। उनका समाज के प्रति समग्र दृष्टिकोण है। उनके लिए धर्म साध्य (रूहानियत) के प्राप्ति का साधन है। जब वे सांसारिक सुख-सुविधाओं को छोड़ देते हैं तो वे अल्लाह की याद में मगन होते हैं। नींद में भी इनका दिल जागता रहता है।

आम धारणा के विपरीत, मध्ययुगीन सूफियों ने अपना पूरा जीवन खानकाहों में नहीं बिताया, हालांकि उन्होंने अपना अधिकांश समय ज़िक्र में बिताया। वह ज्ञान की तलाश में महाद्वीपों की यात्रा करते थे और इस्लाम का पर्याप्त ज्ञान प्राप्त करने के बाद ही वह किसी शहर में बस जाते और धर्म का प्रचार करते थे। चूँकि उन दिनों बहुत कम धार्मिक मदरसे या शिक्षा के केंद्र थे, सूफियों ने एक ऐसे गुरु की तलाश में दूर-दूर तक यात्रा की, जो उनकी ज्ञान की भूख और आध्यात्मिकता की प्यास को बुझा सके। लगभग सभी सूफियों ने अपने जीवन का प्रारंभिक भाग एक आदर्श गुरु (पूर्ण शिक्षक) की तलाश में और धार्मिक शिक्षा के केंद्रों की यात्रा में बिताया है।

उदाहरण के लिए, प्रसिद्ध सूफी हुसैन इब्न मंसूर हल्लाज, जिनकी यह घोषणा करने के लिए हत्या कर दी गई थी कि वह हक़ हैं और ما فی جبتی الا اللہ (खुदा मेरी चादर में है) फारस में जन्म लिया लेकिन ज्ञान की प्राप्ति के लिए और लाज़मी धार्मिक रस्में अदा करने के लिए  बसरा, मक्का और भारत की यात्रा की।

भारत के महान सूफी, ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती, जिन्हें ख्वाजा गरीब नवाज के नाम से भी जाना जाता है, ने भी शिक्षा और आध्यात्मिकता को आगे बढ़ाने के लिए दूर-दूर तक यात्रा की। उनका जन्म सिस्तान (ईरान और अफगानिस्तान में फैला हुआ क्षेत्र) में हुआ था और उन्होंने इस्लाम का अध्ययन करने के लिए बुखारा और समरकंद की यात्रा की और अंततः अजमेर में बसने से पहले इराक, लाहौर और दिल्ली की यात्रा की।

एक अन्य सूफी, बहराम बुखारी सका, जो पहले मुगल सम्राट हुमायूं की सेना में सेनापति थे, वह भी हुमायूं की सेना को छोड़कर ईरान, इराक, नजद, मक्का और मदीना गए और फिर भारत लौट आए। वह आगरा में रहे और फिर बंगाल की यात्रा की और बर्दवान में उसकी मृत्यु हो गई। उनका उपनाम सका (जलवाहक) रखा गया था क्योंकि वह अपने कंधे पर पानी की एक बोरी उठा कर प्यासे को पानी पिलाया करते थे। वह सांसारिक इच्छाओं से मुक्त थे और उन्होंने अपना जीवन धर्म का प्रचार करने और अपनी प्यासों की प्यास बुझाने के लिए समर्पित कर दिया।

उपमहाद्वीप के एक अन्य सूफी अली हजवेरी का जन्म गजनी में हुआ था लेकिन लाहौर में बसने से पहले इराक में रहते थे।

महान भारतीय सूफी ख्वाजा निजामुद्दीन औलिया का जन्म बदायूं, भारत में हुआ था, लेकिन बाबा फरीद से आध्यात्मिक प्रशिक्षण प्राप्त करने के लिए पाकिस्तान के पाकपट्टन गए। फिर वे भारत लौट आए और दिल्ली में बस गए।

इन सभी सूफियों ने मानव जाति के लिए प्रेम, सहिष्णुता, सेवा का उपदेश दिया और समाज में सद्भाव को बढ़ावा दिया। उन्होंने विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों के लोगों को एक साथ लाया और भारत के बहुसांस्कृतिक धर्मनिरपेक्ष ताने-बाने को आकार देने में भूमिका निभाई।

इन सूफियों ने अपने बौद्धिक क्षितिज का विस्तार करने, इस्लाम के शांतिपूर्ण संदेश का प्रचार करने और धार्मिक और आध्यात्मिक शिक्षा प्राप्त करने के लिए कुरआन के आदेश " سیروا فی الارض" (पृथ्वी की यात्रा) का पालन किया।

अपने जीवन का एक बड़ा हिस्सा ज्ञान और आध्यात्मिकता प्राप्त करने में व्यतीत करने के बाद, वे अपने दर्सगाहों में आबाद गए और आम लोगों की सेवा की।

बाद में अब्बास सिद्दीकी ने फेसबुक पर एक वीडियो पोस्ट कर बांग्लादेश में दुर्गा पूजा स्थल पर हमला करने वालों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की। (फाइल फोटो)

----

21वीं सदी में, सूफी और उनके खानकाह इस्लाम के भीतर उग्रवादी और चरमपंथी वैचारिक संप्रदायों का लक्ष्य बन गए हैं क्योंकि उनका मानना है कि सूफी और उनके खानकाह और दरगाह गैर-इस्लामी अकीदों और शिर्क (खुदा के साथ शरीक) को बढ़ावा देते हैं। उग्रवादी और चरमपंथी समूहों ने दरगाहों और दरगाहों पर जाने वाले मुसलमानों पर हमला किया है।

हालाँकि, 20वीं और 21वीं सदी में, तसव्वुफ़ में भी राजनीति और इस्लामी कौम परस्ती के प्रभाव में वैचारिक परिवर्तन हुए। राजनीतिक महत्वाकांक्षाओं ने तसव्वुफ़ के गद्दियों को राजनीतिक जोड़-तोड़ का केंद्र बना दिया है। इस्लामिक कौम परस्ती ने तसव्वुफ़ को भी प्रभावित किया है, और कुछ हिंसक सूफी संप्रदाय राजनीतिक प्रभाव में उभरे हैं। रफीद फुजैल अली ने अपने लेख "इराक में सूफी विद्रोही समूह Sufi Insurgent Groups in Iraq " में लिखा है कि 2003 और 2006 के बीच इराक में अमेरिका विरोधी विद्रोह के दौरान कई सूफी आतंकवादी समूह उभरे, जिनमें से कुछ के नाम नीचे हैं

सूफी स्क्वाड्रन ऑफ़ शेख अब्दुल कादिर अल जिलानी (2005)

کتبۃ الشیخ عبد القادر الجیلانی الجہادیہ (शेख अब्दुल कादिर जिलानी की जिहादी बटालियन) (अगस्त 2006)

जैश-ए-रिजाल-ए-तारिक-ए-नक्शबंदिया (अल नक्श्बंदिया सिलसिले की फ़ौज के आदमी (2006) (JRTN)

ये सभी सूफी आतंकवादी समूह अमेरिकी वर्चस्व के खिलाफ लड़ने के लिए अस्तित्व में आए, और कुछ मामलों में अल-कायदा के साथ लड़े।

फुजैल अली लिखते हैं:

"अप्रैल 2003 में बाअसी शासन के पतन और बड़े पैमाने पर सुन्नी विद्रोह के उदय के बाद, किसी भी प्रमुख सूफी समूह ने कब्जे के पहले वर्षों में हिंसा का सहारा नहीं लिया। सूफियों ने देखा शोरिश का नेतृत्व उनके एतेहासिक विरोधी अर्थात सल्फी कर रहे हैं। अल-कायदा से जुड़े आतंकवादी समूहों ने सूफियों और उनके पवित्र स्थल पर हमला किया है जिनमें सूफी बुजुर्गों की कब्रों का विध्वंस भी शामिल है लेकिन एक महत्वपूर्ण मोड़ पर, सूफी और सलाफी 2004 में फालुजा की लड़ाई में एक साथ मिल कर लड़े थे। विद्रोहियों का नेतृत्व एक छोटे सूफी संप्रदाय के अनुयायी शेख अब्दुल्ला अल-जुनबी ने किया था। जो कि अल-नभानिया नामक एक छोटे सूफी सिलसिले के अनुयायी हैं। अल-जुनबी मुजाहिदीन शूरा परिषद का प्रमुख था, जिसने दिसंबर 2004 तक सुन्नी शहर को नियंत्रित किया था। काउन्सिल सल्फी, सूफी और बाअसी समूहों का एक सामूहिक संगठन था। "

जेआरटीएन या नक्शबंदी सेना का उद्देश्य बाअस सरकार को फिर से स्थापित करना है। इसलिए, यह स्पष्ट है कि इराक में कुछ सूफी संप्रदाय देश की राजनीतिक प्रक्रिया में शामिल हो गए और इस तरह हिंसा को उचित ठहराया।

फुजैल अली आगे लिखते हैं:

जिस दिन 30 दिसंबर, 2006 को सद्दाम हुसैन को फांसी दी गई थी, उसी दिन जैश-ए-रिजाल उल-तरीका अल-नक्शबंदिया (नक्शबंदिया आर्डर की सेना के पुरुष) ने इसके गठन की घोषणा की। जैश-ए-रिजाल उल-तरीका अल-नक्शबंदिया स्पष्ट रूप से ऊपर वर्णित तीन समूहों में से सबसे अधिक संगठित है। बाअसी और अरब कौम परस्ती का प्रतीक - यद्यपि तसव्वुफ़ की प्रकृति के विपरीत है - जेआरटीएन की वेबसाइट के पहले पन्ने पर, मध्य पूर्व से उत्तरी अफ्रीका तक 22 देशों की अरब भूमि का एक नक्शा चित्रित किया गया है। वेबसाइट पर इस्तेमाल किए गए शब्दों से यह भी संकेत मिलता है कि जैश-ए-रिजाल उल-तरीका अल-नक्शबंदिया एक बाअसी-बहुमत संगठन है जो 1990 के दशक की शुरुआत से पार्टी के भीतर इस्लामवाद की ओर बढ़ते रुझान को दर्शाता है।

इसने संयुक्त राज्य अमेरिका को तसव्वुफ़ को बदनाम करने का अवसर प्रदान किया है, जिस पर आतंकवाद विरोधी मुसलमानों को गर्व था और जिन्होंने तसव्वुफ़ को इस्लाम के खिलाफ ढाल के रूप में इस्तेमाल किया है। संयुक्त राज्य अमेरिका ने पूरे सूफी समुदाय को बदनाम करने की कोशिश की और तसव्वुफ़ के खिलाफ एक अभियान शुरू किया, इसे दुनिया के लिए एक नया खतरा बताया। वेब पत्रिका एनपीआर की एक रिपोर्ट में यूएस ब्रिगेडियर जनरल क्रेग निक्सन के हवाले से कहा गया है:

निक्सन ने कहा कि अल-कायदा और जैश-उल-नक्शबंदी की विचारधाराएं स्पष्ट रूप से अलग हैं। "हमने स्थानीय स्तर की रणनीति के साथ उनके गठबंधन को देखा है, लेकिन जैश-उल-नक्शबंदी स्पष्ट रूप से एक कौम परस्त तत्व है जिसका उद्देश्य पूर्व बाअसी नेतृत्व की ओर लौटना है।"

रिपोर्ट के अनुसार, "इस समूह का गठन इराकी सेना में एक पूर्व गैर-कमीशंड अधिकारी अब्दुल रहमान नक्शबंदी ने स्थापित किया था जिसका संबंध दियाला के उत्तरपूर्वी प्रांत में हमरैन झील के इलाके से है जो कि अब इराक के उन कुछ क्षेत्रों में से एक है जहां शोरिश ने अमेरिका और इराकी कंट्रोल के खिलाफ विद्रोह किया है। समूह के बारे में ठोस जानकारी गायब है, लेकिन ब्रिगेडियर जनरल क्रेग निक्सन का कहना है कि इसका प्रारम्भ 2003 में संयुक्त राज्य अमेरिका के खिलाफ जिहाद के आह्वान के साथ शुरू हुआ था।

यद्यपि इन सूफी उग्रवादी समूहों के बारे में अब नहीं सुना जाता है, जिन्होंने तसव्वुफ़ के अनुयायियों को राहत दी है, भारत और पाकिस्तान में हम कुछ सूफी तत्वों को देखते हैं जो आक्रामकता और हिंसा प्रदर्शित करते हैं। यह इस्लाम के महान सूफियों की शिक्षाओं के खिलाफ है।

उदाहरण के लिए, कादरी वंश के एक स्वयंभू सूफी मुमताज कादरी ने पाकिस्तान के तौहीने रिसालत कानूनों को निरस्त करने की मांग के लिए एक राजनेता की हत्या कर दी। उसे एक अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी और उसकी कब्र को अब एक पवित्र मजार में बदल दिया गया है। इस प्रकार, उसकी दरगाह आक्रामक तसव्वुफ़ का प्रतीक बन गई है।

भारत में, बंगाल के स्वयंभू सूफी, अब्बास सिद्दीकी, बहुसंख्यक समुदाय के खिलाफ अभद्र भाषा बोलते हैं। उनहोंने हाल ही में कहा था कि वह कुरआन को अपवित्र करने वालों का गला काट देंगे। वह फुरफोरा शरीफ में एक सूफी संत की दरगाह के पीरज़ादा हैं।

सूफियों का भ्रष्टाचार सूफी केंद्रों की राजनीति के शिकार होने के कारण सामने आई है। ये केंद्र राजनीतिक रूप से प्रतिबद्ध सूफियों के लिए ताकत के अड्डे के तौर पर काम करते हैं जो सूफियों के रूप में अपनी हैसियत की मदद से सत्ता की सीढ़ी चढ़ना चाहते हैं। आक्रामक तसव्वुफ़ की यह प्रवृत्ति उपमहाद्वीप के मुसलमानों के लिए अच्छी नहीं होगी और दुनिया में इस्लाम की छवि को भी धूमिल करेगी। इसलिए ऐसे मतलबी, अज्ञानी और अवसरवादी सूफियों को सूफियों के दरबार में नहीं बैठने देना चाहिए।

 ----

हवाला:

Publication: Terrorism Monitor Volume: 6 Issue: 2

By: Rafid Fadhil Ali

January 25, 2008 09:58 PM Age: 14 years

https://www.npr.org/templates/story/story.php?storyId=105507397

English Article: Political Ambitions Turn Sufis into Militants As Is Evident From the Behaviour of the Sufi Groups and Individuals of Middle East and Indian Subcontinent

Urdu Article: Political Ambitions Turn Sufis into Militants As Is Evident From the Behaviour of the Sufi Groups and Individuals of Middle East and Indian Subcontinent سیاسی عزائم نے صوفیوں کو عسکریت پسندوں میں تبدیل کر دیا ہے جیسا کہ مشرق وسطیٰ اور برصغیر پاک و ہند کے صوفی گروہوں اور افراد کے طرز عمل سے واضح ہے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/sufi-middle-east-indian-militants-political/d/125946

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..