New Age Islam
Mon Jan 17 2022, 05:01 AM

Hindi Section ( 25 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Islam Encourages Sports and Discourages Lahw-al-Hadith or Vain Entertainment इस्लाम खेलों को बढ़ावा देता है और लह्वल हदीस की हौसला शिकनी करता है

हदीस में तीरअंदाजी और नेज़ाअंदाजी को प्रोत्साहित किया गया है

प्रमुख बिंदु:

प्रसिद्ध सहाबी हज़रत अबू तलहा एक कुशल तीरअंदाज़ थे

पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने तीरअंदाजी और नेज़ाअंदाजी को प्रोत्साहित किया है

कुरआन फालतू की बातों और फालतू के मनोरंजन की हौसला शिकनी करता है

  -----

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

23 नवंबर, 2021

(Courtesy: Muslims in America Sports)

-----

इस्लाम एक स्वस्थ समाज का निर्माण चाहता है जहां उसके सदस्य अपनी ज़िन्दगी नैतिकता और अनुशासन के अनुसार गुजारें। समाज के हर व्यक्ति पर लाज़िम है कि वह एक मिसाली समाज के निर्माण में अपनी सकारात्मक और रचनात्मक भूमिका अदा करे। इसलिए हर नागरिक को जरुरी है कि वह अपना समय खर्च करें और अपनी मानसिक और शारीरिक योग्यताओं को रचनात्मक उद्देश्यों के लिए खर्च करें। बेकार कामों में संसाधनों को व्यर्थ करने और बेकार बातों या निरुद्देश्य कार्यों में समय गुज़ारने की कुरआन व हदीस ने हौसला शिकनी की है। और जब समाज के लोगों की तवानाई और तवज्जोह को हटाने और उन्हें सहीह रास्ते और रचनात्मक उद्देश्यों से हटाने के लिए बेकार बातचीत या मनोरंजन का जरिया इस्तेमाल करते हैं। कुरआन कहता है:

और कुछ लोग खेल की बातें खरीदते हैं कि अल्लाह की राह से बहका दें बे समझे और उसे हंसी बना लें, उनके लिए ज़िल्लत का अज़ाब है (लुकमान:6)

कुरआन के अनुवादकों ने लह्वल हदीस शब्द का अनुवाद ध्वनि मनोरंजन या शब्द नाटक के रूप में किया है और कहा है कि इसके अर्थ में संगीत, गीत, रंगमंच शामिल हैं। आधुनिक संदर्भ में, लह्वल हदीस टीवी धारावाहिकों, संगीत वीडियो, मनोरंजन कार्यक्रमों को संदर्भित करता है जिसमें नृत्य, गीत और संगीत और मनोरंजन के अन्य सभी रूप शामिल हैं जो केवल लोगों का मनोरंजन करने और जीवन के रचनात्मक उद्देश्य से उनका ध्यान हटाने के लिए हैं।

कुरआन और हदीस स्वस्थ तर्ज़े अमल, गतिविधियों और खेलों को बढ़ावा देते हैं जिनसे मानसिक और शारीरिक सलाहियतों को बढ़ावा हासिल होता जो लोगों को अपनी समाजी जिम्मेदारियों को पूरा करने में सहायक हो सकते हैं। कुछ हदीसें ऐसी हैं जो तीरअंदाजी और नेज़ा अंदाजी जैसे खेलों को बढ़ावा देती हैं। नबी पाक सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के मशहूर सहाबी एक माहिर तीरअंदाज़ थे।

यजीद बिन अबी उबैद कहते हैं कि मैंने सलमा बिन अक्वा रज़ीअल्लाहु अन्हु को कहते सूना कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कबीला असलम के कुछ लोगों से मुलाक़ात की जो दो गिरोहों में तीरअंदाजी कर रहे थे। रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया: ऐ बनी इस्माइल (अरब को औलादे इस्माइल कहा जाता है), तीरअंदाजी की मश्क करें। तुम्हारे वालिद इस्माइल तीर अंदाज़ थे और मैं उस गिरोह के साथ था, यह सुन कर दुसरे गिरोह ने तीर चलाना छोड़ दिया। आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया: तुम तीर क्यों नहीं चलाते? उन्होंने जवाब दिया, “हम तीर कैसे चला सकते हैं। जबकि आपने हमारे प्रतिद्वंद्वी समूह का पक्ष लिया है। नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा: ठीक है, मैं दोनों समूहों के साथ हूं। अब तीर मारो। ”(हदीस 160, किताब अल-जिहाद जिल्द 2, सहीह बुखारी)

अबू हुरैरा रज़ीअल्लाहु अन्हु बयान करते हैं कि एक बार ऐसा हुआ कि हब्शी नेजों से खेल रहे थे। अचानक हजरत उमर रज़ीअल्लाहु अन्हु आए और उन्हें देखते ही आपने कंकरियाँ उठा कर उन पर फेंक दिया। आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया उमर उनको खेलने दो। अली ने यह अब्दुर्रज्जाक से सूना और उन्होंने मुअम्मर से सूना और उन्होंने मजीद कहा कि वह मस्जिद में खेल रहे थे। (हदीस 123, किताब अल जिहाद, सहीह बुखारी)

विडंबना यह है कि मुसलमानों को खेलों में कम दिलचस्पी है और लह्वल हदीस में ज्यादा दिलचस्पी है। वह अपना ज्यादातर समय टीवी पर संगीत वीडियो और मनोरंजन कार्यक्रम देखने में बिताते हैं। वह अपना ज्यादातर समय फेसबुक और व्हाट्सएप पर भी बिताते हैं, जो एक तरह की लह्वल हदीस भी है। इस्लाम मुसलमानों को हल्के और स्वस्थ मनोरंजन से पूरी तरह से मना नहीं करता है क्योंकि तनाव से बचने के लिए जरूरी है लेकिन कुरआन कभी भी मुसलमानों को अपना अधिकांश कीमती समय व्यर्थ मनोरंजन और बकवास में खर्च करने के लिए प्रोत्साहित नहीं करता है।

मुस्लिम देश भी खेलों को बढ़ावा नहीं देते हैं और यह शरिया की सख्त व्याख्या के कारण है जो खेलों को समय की बर्बादी और गैर-इस्लामी मानते हैं। जिन खेलों को बढ़ावा दिया जाना चाहिए उनमें घुड़सवारी को भी शामिल किया जा सकता है। लेकिन दुर्भाग्य से इन खेलों में मुसलमानों का प्रतिनिधित्व जिनमें अतीत के मुसलमानों ने बढ़त हासिल की है अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में कम है। पैगंबर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के जीवन के दौरान, मुस्लिम महिलाओं ने युद्धों में भाग लिया, लेकिन आज अधिकांश मुस्लिम देश मुस्लिम महिलाओं को अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में भाग लेने की अनुमति नहीं देते हैं। धार्मिक समूह खेल में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी का विरोध करते हैं, इसलिए मुस्लिम सरकारें उनके फतवों को टालने की हिम्मत नहीं करती हैं। मुसलमानों के मन से इस भ्रांति को दूर करने के लिए कुरआन और हदीस की फिर से व्याख्या करने की जरूरत है ताकि उनकी प्रतिभा को राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर स्वीकार किया जा सके।

English Article: Islam Encourages Sports and Discourages Lahw-al-Hadith or Vain Entertainment

Urdu Article: Islam Encourages Sports and Discourages Lahw-al-Hadith or Vain Entertainment اسلام کھیل کی حوصلہ افزائی کرتا ہے اور لہو الحدیث کی حوصلہ شکنی کرتا ہے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/lahw-hadith-vain-entertainment/d/125844

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..