New Age Islam
Sun Oct 17 2021, 02:41 PM

Hindi Section ( 13 Oct 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Blasphemy Laws Have Turned Muslim Countries into Killing Fields तौहीने रिसालत कानूनों ने मुस्लिम देशों को क़त्ल का बाज़ार बना दिया है

पाकिस्तान में तौहीन के लिए मुसलमानों और गैर-मुसलमानों की हत्या की जा सकती है।

प्रमुख बिंदु:

1. पाकिस्तान में तौहीने रिसालत कानूनों के तहत 1500 लोगों पर मुकदमा चलाया जा रहा है।

2. 1990 के बाद से कथित तौहीने मज़हब के लिए 70 लोगों की न्यायिक हत्या कर दी गई है

3. कुरआन तौहीने रिसालत के लिए कोई शारीरिक दंड निर्धारित नहीं करता है

4. धर्मत्याग (इर्तेदाद) भी तौहीने मज़हब में शामिल है

5. तौहीने मज़हब एक राजनीतिक हथियार है जिसका इस्तेमाल मुस्लिम देशों में कलह को दबाने के लिए किया जाता है।

  -----

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

12 अक्टूबर 2021

तौहीने रिसालत या अपमानजनक भाषण या लेखन के बारे में इस्लामी इल्मी हलकों में बहुत चर्चा हुई है। कई इस्लामी विद्वानों का मानना है कि तौहीन एक अपराध नहीं है, बल्कि अल्लाह और उसके रसूल के खिलाफ एक गंभीर पाप है और इसलिए अपराधी को कानूनी रूप से दंडित नहीं किया जा सकता है, स्वयं खुदा, अपने फरिश्तों की और अपने नबियों (न केवल पैगंबर मुहम्मदसल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ) के अपमान की निंदा करता है, बल्कि कुरआन अपमान करने वालों के लिए कोई शारीरिक दंड निर्धारित नहीं करता है। इसके बजाय, कुरआन मुसलमानों को तौहीने रिसालत के प्रति सहिष्णु होने की सलाह देता है।

लेकिन 11वीं सदी में इस्लामी उलमा के एक वर्ग ने सत्ता के भूखे मुस्लिम शासकों के साथ मिल कर तौहीने रिसालत को एक आपराधिक अपराध बना दिया, जिसके लिए मौत की सजा दी जाती है। इन उलमा ने तौहीने रिसालत की सजा के समर्थन में कुरआन की आयतों की व्याख्या और सफाई पेश की। उदाहरण के लिए, 11वीं सदी के इस्लामी विचारक इमाम ग़ज़ाली ने सुझाव दिया कि जो लोग खुदा और कयामत के बारे में अपरंपरागत विचारों को फैलाते हैं, उन्हें मौत के घाट उतार दिया जाना चाहिए क्योंकि वे सुन्नी इस्लाम में अराजकता पैदा करने के लिए ग्रीक दर्शन और शियावाद से प्रभावित थे। तब से कई मुस्लिम वैज्ञानिकों और दार्शनिकों को प्रताड़ित किया गया और उन्हें फांसी पर लटका दिया गया।

इस्लाम में तौहीन को एक आपराधिक अपराध बनाने की परंपरा को आगे बढ़ाया गया और 20वीं शताब्दी के कुछ उलमा ने इसे मजबूत भी किया, हालांकि उदार उलमा के एक वर्ग ने इन कुरआन की आयतों के आधार पर तौहीने रिसालत को दंडित करने के विचार का विरोध किया। मुसलमानों को सलाह दी गई है कि वे संयम बरतें और मौखिक निंदा के बाद तौहीन करने वालों को छोड़ दें। लेकिन अधिकांश आधुनिक उलमा, यहां तक कि २१वीं सदी के उलमा भी मानते हैं कि तौहीने रिसालत एक आपराधिक अपराध है और इसे मौत से कम की सजा नहीं दी जानी चाहिए।

दिलचस्प बात यह है कि यह देखा गया है कि मुस्लिम-बहुल देशों के उलमा तौहीन के लिए मौत की सजा के पक्ष में हैं और मुस्लिम-अल्पसंख्यक देशों के उलमा मौखिक विरोध और निंदा के पक्ष में हैं। उदाहरण के लिए, भारत के एक इस्लामी आलिम मौलाना वहीद-उद-दीन खान का मानना था कि कुरआन ने धर्मत्याग (इर्तेदाद) के लिए मौत का आदेश नहीं दिया है। इसी तरह का दृष्टिकोण कुरआन के एक आलिम मुहम्मद यूनिस और भारत के अन्य इस्लामी विद्वानों का है। इसके विपरीत अधिकांश पाकिस्तानी उलमा का मानना है कि तौहीने रिसालत करने वाले को मौत की सजा दी जानी चाहिए।

यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि इन उलमा ने धर्मत्याग (इर्तेदाद) को तौहीने रिसालत की श्रेणी में शामिल किया है। यद्यपि कुरआन धर्मत्याग (इर्तेदाद) के लिए मृत्युदंड का प्रावधान नहीं करता है, लेकिन उलमा धर्मत्याग (इर्तेदाद) को एक प्रकार की तौहीन और इस पर मृत्युदंड के लिए अधिकांश उलमा की सहमति का हवाला पेश करते हैं।

हालांकि कई ईसाई देशों ने तौहीन के कानूनों को निरस्त कर दिया है या सजा कम कर दी है, लेकिन कई मुस्लिम-बहुल देशों में अभी भी तौहीन के कानून हैं जिनके तहत सैकड़ों मुसलमानों और गैर-मुसलमानों पर मुकदमा चलाता है और उन्हें अन्यायपूर्ण तरीके से मार दिया जाता है।

पाकिस्तान और ईरान में तौहीने रिसालत के सख्त कानून हैं। पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्य --- हिंदू, ईसाई, अहमदी, शिया और अन्य जो धर्म पर अपरंपरागत विचार व्यक्त करते हैं उन पर तौहीने मज़हब का आरोप लगाया जाता है लेकिन उन्हें दंडित नहीं किया जाता है। फिर भी, आरोपियों को अदालत के बाहर भीड़ या चरमपंथियों द्वारा मार दिया जाता है। उनके खिलाफ मामला अदालत में नहीं जाने के बाद से लगभग 70 लोगों को न्यायेतर तरीके से मार दिया गया है। यह बहुत ही निराशाजनक स्थिति है कि कट्टरपंथी मौलवियों की स्वीकृति से बना कानून अभियुक्तों को दोषी नहीं पाता और फिर भी उन्हें अन्यायपूर्ण तरीके से मार दिया जाता है।

पाकिस्तान में किसी पर भी तौहीने मज़हब का आरोप लगाया जा सकता है, भले ही वह उलमा के रवैये को ही चुनौती क्यों न दे रहा हो। इस स्थिति को बदलने की जरूरत है। पाकिस्तान के उदारवादी विचारक और बुद्धिजीवी इस परंपरा के खिलाफ बोलते हैं, लेकिन वे हमेशा खतरे में रहते हैं। पंजाब के राज्यपाल सलमान तासीर की एक चरमपंथी ने तौहीने रिसालत कानूनों को रद्द करने की मांग के लिए हत्या कर दी थी। स्थिति निराशाजनक दिखती है क्योंकि डॉ ताहिर-उल-कादरी जैसे इस्लामी विद्वान, जिन्होंने आत्मघाती बम विस्फोटों और आतंकवाद के खिलाफ एक मजबूत फतवा जारी किया था, तौहीने रिसालत के लिए मौत की सजा का समर्थन करते हैं और मानते हैं कि मुसलमानों पर भी तौहीने मज़हब का आरोप लगाया जा सकता है।

----

English Article:  Blasphemy Laws Have Turned Muslim Countries into Killing Fields

Urdu Article: Blasphemy Laws Have Turned Muslim Countries into Killing Fields توہین رسالت کے قوانین نے مسلم ممالک کو قتل کا بازار بنا دیا ہے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/blasphemy-sharia-pakistan-non-muslims/d/125569

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..