New Age Islam
Sat Nov 27 2021, 08:41 AM

Hindi Section ( 19 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

True Taqiyya: Practice Of Muslims Concealing Their Religion वास्तविक तक़िय्या: खुद को नुकसान से बचाने के लिए मुसलमानों द्वारा अपने धर्म को छिपाने का कार्य

न्यू एज इस्लाम के लिए मार्था ली

17 नवंबर, 2021

तक़िय्या शब्द 'विकाया' से बना है जिसका अर्थ है सुरक्षा

प्रमुख बिंदु:

वास्तव में, सभी मुसलमान - सुधारवादियों से लेकर जिहादियों तक सभी तक़िय्या का पालन करते हैं

कई पश्चिमी लेखक तक़िय्या की शिया समझ से या तो अनजान हैं या उनकी दिलचस्पी नहीं है।

-------------

Photo: Pinterest

----

जाने-माने कट्टरपंथी सुन्नी इस्लाम पसंद लेखक डेनियल हकीत्जो के ट्विटर अकाउंट को निलंबित किए जाने से कुछ समय पहले, उन्होंने खलील अंदानी - इस्लाम के इस्माइली संप्रदाय से संबंधित इस्लामी अध्ययन के एक प्रोफेसर पर तक़िय्या का आरोप लगाया। क्योंकि अंदानी ने अपने सुन्नी मुस्लिम साथियों से इस बात को छिपाना कबूल किया था कि मैं रमज़ान में रोज़ा नहीं रखता (जैसा कि कई इस्माइली नहीं रखते)।

हालांकि सतही तौर पर एक तुच्छ मामला है, यह वास्तव में गैर-मुस्लिम लेखकों द्वारा तक़िय्या शब्द के दुरुपयोग के दशकों के बाद ऐतिहासिक रूप से स्वीकार्य तरीके से तकय्यह बाज़ी का एक दुर्लभ उदाहरण है।

तक़िय्या शब्द 'विकाया' से बना है जिसका अर्थ है सुरक्षा। ऐतिहासिक रूप से, इसका मतलब है कि मुसलमान खुद को नुकसान से बचाने के लिए अपने धर्म को छिपाते हैं। सुन्नी तक़िय्या के सिद्धांत को स्वीकार करते हैं, जबकि इनसाइक्लोपीडिया ईरानिका में कहा गया है कि मुसलमान "तक़िय्या को गैर-मुसलमानों के साथ व्यवहार में मजबूरी के कारण उपयोग तक सीमित रखते हैं" इसलिए यह शब्द शिया शब्द के करीब है, जो ऐतिहासिक रूप से सुन्नियों से अधिक कमजोर हैं।

एक प्रमुख उदारवादी विचारक अंदानी ने इस हकितजू का जवाब इस टिप्पणी के साथ  दिया: "इस्माइली मुसलमान अक्सर तक़िय्या का अभ्यास करते हैं, जिसका उद्देश्य सुन्नी बहुमत के उत्पीड़न से अपने धार्मिक विश्वासों और प्रथाओं को छुपाना है। शिया इमामों के मुताबिक तकय्यह हमारे धर्म का हिस्सा है। ऐतिहासिक रूप से, हम आप जैसे असहिष्णु फिरका परस्तों द्वारा मारे और काटे गए हैं!"

हाल के दशकों में, तक़िय्या की अवधारणा राएज होने के तौर पर, मज्मूम धोका दही के, ख़ास तौर पर इस्लामी आतंकवाद पर पश्चिमी बहसों में और यहाँ तक कि मुख्य धारा के यूरोपीय मीडिया में भी आम होता हुआ दिखाई दे रहा है। तकय्यह के इतिहास और वास्तविकता को देखते हुए, यह कहा जा सकता है कि इसका इस्तेमाल ज्यादातर शियाओं द्वारा उन स्थितियों में किया जाता था जहां उनके पास अपने जीवन के लिए डरने के वैध कारण थे, लेकिन गैर-मुस्लिमों का सुन्नी इस्लाम पसंद आतंकवादियों की कार्य शैली के लिए इस शब्द का उपयोग करना अजीब बात है।

तक़िय्या के आरोप अक्सर उन लोगों द्वारा लगाए जाते हैं जो मानते हैं कि इस्लाम स्वाभाविक रूप से चरमपंथी और हिंसक है, और धोखा देना धर्म का एक अभिन्न अंग है।

सुन्नियों का शियाओं पर गुस्सा और उनके बे दरेग तक़िय्या बाज़ी ने रेमंड इब्राहिम जैसे पश्चिमी लेखकों को तक़िय्या का बचाव करने और यह कहने से नहीं रोका कि मामुलात को छुपाने की अनुमति दी जानी चाहिए।

लेकिन अगर सुधारवादियों से लेकर जिहादियों तक सभी मुसलमान तक़िय्या बाज़ हो जाते हैं, तो इस शब्द का सही अर्थ खो जाता है।यहाँ तक कि चरमपंथियों के स्पष्ट इस्लाम पसंदी पर भी भरोसा नहीं किया जा सकता है। न ही यह सच है कि मुखर चरमपंथी वास्तव में गुप्त नरमपंथी होते हैं।

जहां तक अवैध इस्लामी गतिविधियों का संबंध है, यह स्पष्ट नहीं है कि किसी भी प्रत्यक्ष धोखे के लिए धार्मिक स्पष्टीकरण क्यों आवश्यक है। अपराध धोखे पर निर्भर करता है। निश्चित रूप से सभी आतंकवादियों को, उनकी विचारधारा की परवाह किए बिना, पकड़े गए बिना हमले के अपने सच्चे इरादों को विफल करना होगा?

कई पश्चिमी लेखक तक़िय्या की शिया समझ से या तो अनजान हैं या उनकी दिलचस्पी नहीं है। और फिर भी वे इस्लाम पसंदी की प्रवृत्ति का वर्णन करने के लिए इस शब्द पर भरोसा करते हैं। फ्रांसीसी प्रोफेसर मैरी-थेरेस उरवॉय के अनुसार, शरीअत तक़िय्या को प्रोत्साहित करता है, इसलिए इस्लाम पसंदी ही इस्लाम का एकमात्र प्रामाणिक रूप होना चाहिए क्योंकि अन्यथा "कुरआनी मतन का स्पष्ट खंडन" आवश्यक होगा। रणनीतिक नीति और खुफिया विशेषज्ञ क्लेयर एम लोपेज़ के अनुसार, पश्चिम में इख्वानुल मुस्लेमीन ने इस्लाम से संबंधित सभी मामलों में खुद को सही ठहराने के लिए "तक़िय्या" का इस्तेमाल किया है।

वास्तव में, ऐसा लगता है कि कोई भी मुसलमान संदेह से परे नहीं है। पामेला गेलर जैसे पंडितों ने भी जहदी जसर जैसे प्रमुख इस्लाम विरोधी मुस्लिम कार्यकर्ताओं पर "तक़िय्या" को "गुप्त जिहाद" के रूप में इस्तेमाल करने का आरोप लगाया है।

लेकिन जैसा हकीकत के व्यवहार से स्पष्ट होता है, सलाफी, एक शिया परंपरा के रूप में, तकय्यह की कड़ी निंदा कर सकते हैं जिनसे वे नफरत करते हैं, बजाय इसके कि इसे धार्मिक जोश और जज्बे के तौर पर उपयोग करें। कुछ सुन्नी उलमा ने तकय्यह बाज़ी को शिया धर्म का "मौलिक सिद्धांत" और एक "भ्रष्ट सिद्धांत" कहा है जिसका सुन्नी संप्रदाय से कोई लेना-देना नहीं है।

हकीतजू जैसे कट्टर व्यक्ति के लिए इस शब्द का उपयोग करना विशेष रूप से दिलचस्प है। दरअसल, उन्होंने एक अलग संदर्भ में शियाओं पर तकय्यह बाज़ी का आरोप लगाया है। उन्होंने अपने "गुप्त ईरान समर्थक एजेंडे" के लिए एक शिया मीडिया आउटलेट की आलोचना की और कहा कि "खोमैनी के एजेंडे के तत्वों में से एक तकय्यह की आड़ में सुन्नी-शिया गठबंधन को बढ़ावा देना है।"

उल्लेखनीय है कि हकीतजू केवल शिया धोखे को बेनकाब करने के लिए तक़िय्या शब्द का इस्तेमाल करते हैं। वह पश्चिम में अन्य सुन्नी मौलवियों की निंदा करने और क़न पर हमला करने के लिए बदनाम हैं - जिन पर वह इस्लाम को कमजोर करने और मुस्लिम युवाओं को धोखा देने का आरोप लगाते हैं, लेकिन उनहोंने कभी भी अपने व्यवहार को तकय्यह बाज़ी नहीं कहा।

 तक़िय्या  को एक "असहिष्णु संप्रदायवादी" के क्लासिकी अर्थों में इस्तेमाल किया जा रहा है, यह एक बिल्कुल नई भावना है, जैसा कि अंदानी ने इसका वर्णन किया है। जहां तक इस्लाम और पश्चिम में इस्लाम परस्ती पर सभी गैर-मुस्लिम टीकाकारों का संबंध है, तो उनके लिए यह वाकई इतना मुश्किल नहीं होना चाहिए कि वह ऐसे सुन्नी या शिया इस्लाम पसंदों के बीच जो अपने वैचारिक एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए धोखे का सहारा लेते हैं। और ऐसे मुसलमानों के बीच अंतर कर सकें जो अपनी धार्मिक अकीदों को छिपाने के लिए मजबूर हैं, वरना उनके मारे जाने का जोखिम है। इन दोनों को आपस में मिलाले से किसी को लाभ नहीं होता है, सिवाय स्वयं उन इस्लाम पसंदों के, जो लंबे समय से पश्चिमी गलतफहमियों पर परवान चढ़ रहे हैं।

 ----

मार्था ली मिडिल ईस्ट फोरम की एक परियोजना इस्लामिस्ट वॉच के रिसर्च फेलो हैं।

English Article: True Taqiyya: Practice Of Muslims Concealing Their Religion In Order To Protect Themselves From Harm

Urdu Article: True Taqiyya: Practice Of Muslims Concealing Their Religion In Order To Protect Themselves From Harm حقیقی تقیہ: خود کو نقصان سے بچانے کے لیے مسلمانوں کا اپنے مذہب کو چھپانے کا عمل

URL:  https://www.newageislam.com/hindi-section/taqiyya-muslims-religion-sunnis-shias/d/125804

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..