New Age Islam
Mon Jan 17 2022, 07:49 PM

Hindi Section ( 31 May 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Gandhiji's Injured Goat and His Proximity with Muslims गांधी जी की घायल बकरी और मुसलमानों से उनकी नजदीकी

फीरोज़ बख्त अहमद

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

बहुत कम लोग जानते हैं कि गांधी जी धाराप्रवाह उर्दू लिखतेबोलते और पढ़ते थेवे अरबी भी जानते थे और फारसी भी जानते थे क्योंकि अधिकांश राजनीतिक सभाओं में उन्होंने फारसी कविताओं और बातों का इस्तेमाल किया।उर्दू संस्कृति या इस्लामी मूल्यों से निकटता का परिणाम था मौलाना आजाद से नजदीकियां।

कुछ लोगों के लिए गांधीजी राजनीतिज्ञ होंगे। कुछ लोगों के लिए वे एक दार्शनिक होंगेकुछ लोगों के लिए वे भारत की स्वतंत्रता के लिए एक सैनिक होंगे और कुछ लोगों के लिए वे सिर्फ एक अच्छे इंसान होंगे। राजनीति में रहते हुए इंसान का एक अच्छा इंसान बने रहना एक मुश्किल काम है। लेकिन गांधीजी का गुण यह था कि वह सब कुछ के बावजूद एक श्रेष्ठ व्यक्ति थे।

मौलाना आजाद के अनुसार एक अच्छा इंसान होना एक महानता है जो देखने में बहुत आम लगती है लेकिन शायद ही कभी यह भाग्यशाली लोगों की विशेषता होती है। वास्तव में गांधी जी बहुत अच्छे इंसान थे। एक बार जब बंगाल के नोआखली क्षेत्र में खतरनाक हिंदू-मुस्लिम दंगे चल रहे थेतब गांधी जी घर-घर जाकर सद्भावना का संदेश दे रहे थे। यह घटना मेरे पिता स्वर्गीय नूरुद्दीन अहमद के पास कलकत्ता में मौलाना के अप्रकाशित लिखित खजाने से ली गई है। जब बड़ा लाल बाज़ार के एक घर के ज़ीने से गांधी जी उतरे तभी उन्हें एक जोशीले बंगाली मुसलमान ने पकड़ लिया और गर्दन गिरफ्त में कर के गला दबाना शुरू कर दिया। उन दिनों सिक्योरिटी गार्ड नहीं हुआ करते थे। इससे पहले मौलाना आजाद जो उस समय उनके साथ थे और मौलाना हबीब-उर-रहमान लुधियानवीमौलाना हिफ्ज़-उर-रहमान आदि जैसे अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उनके साथ थेगांधी जी को बचाने की कोशिश कर रहे थेउस व्यक्ति ने कहा, "कोई भी आगे नहीं आएगा। "इस काफिर की यहाँ आने की हिम्मत कैसे हुई!" यह कहकर उसने गांधीजी को धक्का दियावह धान पान तो थे ही गिर गए। मगर गिरते हुए उन्होंने जब सुरह फातेहा पढ़ी तो सब दांग रह गए। यह देखकर बंगाली मुसलमान भी चकित रह गया और शत्रुता थूक कर उनका आजीवन शिष्य बन गया। उसका नाम अब्दुल रहमान मंडल था।

ऐसे समय में जब साबरमती आश्रम में भारत-पाक विभाजन को रोकने के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण सभा हो रही थीगांधीजी उठे और अपनी घायल बकरी के पैर पर मिट्टी बाँधने लगे। बैठक में उपस्थित अन्य महत्वपूर्ण व्यक्ति थे: सर स्टाफर्ड क्रिप्सलारेंससराए वी अल्कवेंडरपंडित नेहरूसरदार वल्लभभाई पटेल और मौलाना आजाद। जब पन्द्रह मिनट तक गांधी जी नहीं आए तो २ मई १९४६ की इस मीटिंग में शामिल होने वाले बाहर आंगन में आ गए जब उन्होंने आंगन में प्रवेश कियातो उन्होंने देखा कि गांधीजी अपनी बकरी के पैर में पट्टी बांध रहे थे। इससे बकरी छटपटा रही थी। यह देखकर सरपैथिक लॉरेंस ने कहा, "अद्भुत गांधीजी! इतनी महत्वपूर्ण बैठक इतनी छोटी सी बात के लिए छोड़ दी है।'' मौलाना आजाद ने पास में खड़े होकर इस अवसर की नाजुकता को भांपते हुए कहा, ''सरपैथिक! गांधीजी महान हैं और इसीलिए वे महानता के स्तर पर पहुंच गए हैं कि वह लोग छोटी लगने वाली चीजों को महत्व देते रहे हैं। लोग उन्हें इसलिए चाहते हैं क्योंकि गांधीजी को बड़ी चीजों के साथ-साथ छोटी चीजों की भी बहुत परवाह है! 

गांधी जी मौलाना आज़ाद के बड़े अकीदतमंद थे और उनकी बहुत इज्ज़त किया करते थे। मौलाना के किरदार को देख कर ही वह मुसलमानों से खुद को बहुत करीब समझते थे। गांधी जी ने कई पत्रिकाओं का सम्पादन किया जिनमें ख़ास थे अंग्रेजी का इन्डियन ओपिनियन (Indian Opinion) और गुजराती का हरीजन। इन दोनों पत्रिकाओं में गांधी जी ने खुले मन से मौलाना आज़ाद की तारीफों के पुल बांधे हैं हरीजन में एक जगह वह लिखते हैं: मौलाना आज़ाद की आदत थी कि वह विरोधियों से नहीं उलझते थे। गांधी जी को पता था कि मौलाना हमेशा रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का उसवा ए हस्ना का नुस्खा इख्तियार करते थे जिसमें शिफा है। दुश्मनों से क्या सुलूक होना चाहिए वह सब रसूलुल्लाह के उस्वे में है। इसके बाद किसी से सबक लेने या मदरसे की जरूरत नहीं, उनका इत्तेबा ही इस मर्ज़ का इलाज है। मौलाना विरोधियों को जवाब नहीं दिया करते थे। गांधी जी के अनुसार मौलाना साहब राजनीति को दीनी चीज मानते थे और कहा करते थे कि इसकी मिसाल उस मयकदे की सी है कि जाम ही नहीं टकराते अमामे भी उछलते हैं। विरोधियों को जवाब देने का मतलब है हमने उन्हें मान लिया और यह इश्के मकसूद की नफी है।

गांधी जी मौलाना साहब की जराफत व हाज़िर दिमागी के भी कायल थे। मौलाना आज़ाद के हाफ़िज़े में अरब शायरों की हाज़िर जवाबियाँ, अरब शासकोण की सटीक गणना और अरब कनीजों की बरजस्ता गोइयाँ ढेर थीं। जराफत से संबंधित उनकी राय थी कि समा और जराफत में वही रिश्ता है जो हुस्न और नजाकत में है। खिलवत पसंदी गांधी जी के अनुसार मौलाना साहब के किरदार का एक अहम् हिस्सा थी तन्हाई चाहे जिस हालत में भी आएगी। शुरू से ही मौलाना को जब से उनके कलकत्ता बाली गंज सर्कुलर रोड वाले मकान में देखा तो यही पाया कि शुरू से ही तबीयत की उफ्ताद कुछ ऐसी घटित हुई थी कि खलवत के ख्वाहाँ और जलवत के गुरेज़ाँ रहते थे। लोग लड़कपन का ज़माना खेल कूद में बसर करते थे मगर बारह तेरह साल की उम्र में ही मौलाना का यह हाल था कि किताब ले कर किसी कोने में जा बैठते और कोशिश रहती कि लोगों की नजर से ओझल रहें।

आज के राजनेता कैसे बेरहमी से सरकारी धन की बर्बादी करते हैं यह एक पुराना तथ्य हैलेकिन गांधीजी के साथ ऐसा नहीं था। माले मुफ्त दिले बेरहम वाली बात गांधी जी घायलों की सहायता के लिए चंदा इकट्ठा कर रहे थे। ये है चंपारण का मामला, एक छात्र ने ऑटोग्राफ के बदले उसे 10 रुपये का नोट दिया। गांधीजी को रात को अपने मेजबान मित्र राजन महापात्र के घर लौटना था। उस समय गांधीजी के साथ आचार्य कृपलानी और श्री भंसाली थे। गांधीजी ने आचार्य कृपलानी को दस रूपये का नोट दिया और कहा कि तांगा कर लें। वह तांगेवाला से पांच रुपये लेना भूल गयावहीं तांगेवाले ने भी उसे पैसे नहीं लौटाए। रात में जब गांधी जी ने जे. कृपलानी से हिसाब मांगा तो उन्होंने कहा, ''टाँगे वाले नें तो पैसे बिल्कुल नहीं लौटाएगा। इस पर गांधी जि को गुस्सा आ गया और बोले '' देखो कृपलानी यह लोगों का पैसा है हमें इस ट्रस्ट का बहुत सावधानी से उपयोग करना है। अब सेहम दान के पैसे में से कोई भी खर्च नहीं करेंगे और हम तीनों में से केवल एक ही यात्रा खर्च का भुगतान करेगा। कृपलानी जी को इसके बदले में रात का खाना छोड़ना पड़ा। यह गांधीजी के जीवन के उस हिस्से पर प्रकाश डालता है जिसमें वे सिद्धांतों और अनुशासन को सबसे ज्यादा महत्व देते थे।

गांधी जी की विशेष आदत थी कि वे कुछ भी फेंकते नहीं बल्कि उसका बहुत ख्याल रखते थे। इसका मतलब यह नहीं था कि उन्हें कूड़ा-करकट इकट्ठा करने का बहुत शौक थायह मामला तब था जब गांधीजी लंदन जा रहे थे। जिस जहाज में वे यात्रा कर रहे थे वह एक पनडुब्बी थी और प्रत्येक यात्री को हास्य और अक्सर निरर्थक सामग्री के साथ एक मुफ्त पत्रिका मिलती थी। इसे "स्कैंडल टाइम्स" कहा जाता था। कभी-कभीयह लोगों के व्यक्तिगत संबंधों की निंदा भी करता था। जब गांधी जी को इसकी एक प्रति दी गई तो उन्होंने पन्ना पलट कर वह क्लिप निकाल ली जिससे कागज एकत्र किए गए थे।'स्कैंडल टाइम्सके बचे हुए पन्ने लौटाते हुए उन्होंने कहा, ''इसमें केवल वही चीज काम की थीबाकी बेकार कागज हैं। 1931 की सर्दी थी जब गांधीजी इंग्लैंड में थे। लंदन मेंजहां वे रह रहे थेउनकी रक्षा के लिए दो पुलिस गार्डसार्जेंट इवांस और सार्जेंट रोजर्स तैनात किए गए थे। दोनों गार्डों को भी जासूसी करने के लिए नियुक्त किया गया था। इसलिए जब गांधी जी को कड़ाके की ठंड में सुबह ४ बजे उठना पड़ता था।जब तक गांधीजी के भारत लौटने का समय आयातब तक दोनों बहुत अच्छे दोस्त बन चुके थे। गांधीजी को ब्रिटिश शासकों के साथ इस यात्रा में ज्यादा सफलता नहीं मिलीलेकिन भारत लौटने पर उन्हें याद आया कि उन्होंने अपने दोस्त को गार्ड से वादा किया था कि वह उन्हें दो अंग्रेजी घड़ियां उपहार के रूप में देंगेलेकिन व्यस्तता में वह खरीद नहीं सके थे।

बंबई पहुंचकर गांधीजी ने अपने निजी सचिव से कहा, ''तुरंत बाजार से दो अंग्रेजी घड़ियां खरीदो। उन दिनों गांधीजी के कहने पर "स्वदेशी" चीजों के इस्तेमाल का आंदोलन चल रहा था क्योंकि अंग्रेजों ने गांधीजी की बात नहीं मानी और असफल होकर इंग्लैंड से लौट आए। इसलिए गांधीजी के सचिव को एक भी घड़ी नहीं मिली। फिर सेसभी बाजारों का निरीक्षण करने और क्रॉफर्ड मार्केट में जाने के बाददुकानदार ने घड़ियों का एक पूरा टोकरा भेजाजिसमें स्विसजर्मनफ्रेंच घड़ियाँ थीं लेकिन अंग्रेजी घड़ी नहीं थी। अंत में दया दिखाते हुएउनके सचिव ने पूछा, "गांधीजीआपको ऐसी अंग्रेजी घड़ियों की आवश्यकता क्यों है?" आप ही हैं जिन्होंने अंग्रेजी सामानों के बहिष्कार का आदेश दिया है। "तब गांधीजी ने उन्हें पूरी बात समझाई और कहा," मुझे अंग्रेजों से कोई शिकायत नहीं हैजिसके कारण मैंने अपने दोस्तों इवांस और इजर्स से अपना वादा निभाया है। मैं इसे उनकी खुशी के लिए पूरा करना चाहता हूं। आखिरकारगांधी जी को ये घड़ियां दिल्ली में मिल गईं और उन्होंने अपने दोस्तों के पास पार्सल से भेज दीं।

बहुत कम लोग इस बात से वाकिफ हैं कि गांधी जी भी क्रिकेट के एक अच्छे खिलाड़ी थे। २ अक्टूबर १९५० के देहली के रोजनामा अल जमीया में आफताब अहमद सिद्दीकी (मरहूम) लिखते हैंगांधी जी के अल फ्रेड हाईस्कुल ,राज कोट, के क्लास फेलो घेला भाई मेहता ने मुझे बताया कि गांधी जी बहुत अच्छे क्रिकेटर थे। उनको बल्लेबाजी और फील्डिंग में महारत हासिल थी। वह कवर्ज़ में बहुत तेज़ी से गेंद को फील्ड करते थे। उनके man पसंद खिलाड़ी इंगलिस्तान के कप्तान डीलक्स आर- जार्डाइन थे। इसी लेख में आफताब साहब लिखते हैं कि एक बर गांधी जी ने एमसीसी की टीम के लिए मैच भी खेला था। यह बात दिसंबर 1934 की है। बहुत कम लोग जानते हैं कि गांधीजी ने यह मैच कैसे खेला लेकिन लिखित प्रमाण लक्ष्मी मर्चेंट के पास है जो विजय मर्चेंट की बहन हैं और बॉम्बे दैनिक "फ्री प्रेस जर्नल" यह लेख 24 जनवरी1949 में प्रकाशित हुआ था। आफताब साहब ने मिस लक्ष्मी मर्चेंट के माध्यम से यह भी लिखा है कि 1934 में गांधी जी ने एमसीसी टीम के लिए एक मैच खेला और ऑटोग्राफ बुक पर भी हस्ताक्षर किए। यह हस्ताक्षर बुक आज एमसीसी के संग्रहालय का एक मूल्यवान संपत्ति माना जाता है।

URL for Urdu article: https://www.newageislam.com/urdu-section/gandhiji-injured-goat-/d/1832

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/gandhiji-injured-goat-proximity-muslims/d/124910

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..