New Age Islam
Wed Aug 17 2022, 04:50 PM

Hindi Section ( 18 Feb 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why Ordinary Hindus Should Worry About the Radicalization of their Religion आम हिंदुओं को अपने धर्म में बढ़ते कट्टरवाद की चिंता क्यों करनी चाहिए?

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

13 जनवरी 2022

कट्टरपंथी इस्लाम की तरह, कट्टरपंथी हिंदुत्वा भी अंततः अपने ही अनुयायियों को खा जाएगा।

प्रमुख बिंदु:

·         धर्म संसद में मुसलमानों के नरसंहार का न्योता दिया गया था।

·         आइएसआइएस द्वारा गुलामों के व्यापार की याद दिलाने के मुस्लिम महिलाओं की ऑनलाइन नीलामी की गई।

·         इस तरह की मुस्लिम विरोधी हिंसा भले ही कोई नई बात न हो, लेकिन इस पर सरकार का रवैया नया है।

·         इस हिंदू कट्टरवाद की कीमत अंततः आम हिंदुओं को ही चुकानी पड़ेगी।

-----

भारत में हाल की घटनाओं ने उस परिवर्तन पर एक गंभीर प्रकाश डाला, जिससे वर्तमान में हिंदू धर्म गुजर रहा है। जो कोई भी इस पवित्र दार्शनिक परंपरा से ताल्लुक रखता है, उसे इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि उसके नाम पर क्या हो रहा है। हम जो देख रहे हैं वह शायद इस देश के इतिहास में अभूतपूर्व है। तथाकथित हिंदू खुलेआम हथियारों के इस्तेमाल और मुसलमानों के नरसंहार की वकालत कर रहे हैं और अवाम इस तरह की कातिलाना भाषण पर तालियाँ बजा रही हैं। हरिद्वार और रायपुर जैसे विभिन्न स्थानों में आयोजित धर्म संसदों में एक बात समान है: और वह है मुसलमानों को खत्म करने या उन्हें द्वितीय श्रेणी का नागरिक बनाने की मांग। एक ऐसे देश में जहां किसी को भी ऐसे मजाक के लिए गिरफ्तार किया जा सकता है जो उसने कभी किया ही नहीं, धर्म संसद के प्रशासक खुलेआम घूम रहे हैं, बड़े पैमाने पर अपना जहर फैला रहे हैं।

इसी तरह की एक नरसंहार की बैठक के दौरान एक ऑनलाइन साइट के माध्यम से मुस्लिम महिलाओं की नीलामी की भी खबर आई। जिस तरह आइएसआइएस वास्तविक दुनिया में गुलामों का सौदा और व्यापार करता है, उसी तरह हमारे युवा हिंदुओं का एक समूह भी जो उस अवधारणा का हिस्सा बनना चाहता है। देश में समय-समय पर हुए विभिन्न मुस्लिम विरोधी दंगों के दौरान मुस्लिम महिलाओं के शरीर के साथ हिंदू चरमपंथियों का जुनून प्रकट होता रहा है। सूरत हो, मुंबई हो या अहमदाबाद, मुस्लिम महिलाओं के लाशों पर हिंदू अपनी मर्दानगी साबित कर रहे थे। सदियों से पहले मुसलमानों द्वारा और फिर अंग्रेजों द्वारा नपुंसक कहे जाने का मतलब था कि हिंदू पुरुषों में मुस्लिम पुरुषों की तुलना में असुरक्षा की भावना अधिक थी। और ये साबित करने का एक ही तरीका है कि उनमें मर्दानगी है, वो है मुस्लिम महिलाओं को सबक सिखाना और वो भी बेहद घटिया अंदाज़ में।

जब हिंसा की बात आती है, तो नारीवादियों ने अक्सर महिलाओं को किसी न किसी रूप में पुरुषों से काफी अलग अंदाज़ में पेश करने का प्रयास किया है। इस रोमांटिक धारणा को अब खत्म करने की जरूरत है। मुस्लिम महिलाओं की ऑनलाइन नीलामी न केवल पुरुषों का काम थी बल्कि हम जानते हैं कि कम से कम एक हिंदू महिला भी बराबर की भागीदार थी। जो लोग गुड़गांव में मुसलमानों को नमाज़ पढ़ने की अनुमति नहीं देते हैं उनमें हिंदू महिलाओं का एक बड़ा समूह है जो स्वेच्छा से इस वैचारिक मिशन में भागीदार के रूप में काम करता है। हर बाबू बजरंगी के लिए, हमारे पास हमेशा एक माया कोडनानी होती थी।

इस मुस्लिम विरोधी भावना को वर्तमान राजनीतिक व्यवस्था के उत्पाद के रूप में समझना आसान होगा। इसकी जड़ें हमारी राजनीति में हैं। मुस्लिमों ने राजनीतिक और धार्मिक क्षेत्र में जो किया है, उसके माध्यम से इस मुस्लिम विरोधी भावना को समझने का रुझान पाया जाता है। लेकिन हिंदू हिंसा को हर बार किसी अन्य बाहरी कारक तक सीमित नहीं किया जाना चाहिए। इस तरह का विश्लेषण हिंदू चरमपंथियों के एक बयान से ज्यादा कुछ नहीं है, जो मानते हैं कि एक समुदाय के रूप में हिंदू स्वाभाविक रूप से शांतिपूर्ण और सहिष्णु हैं। इसलिए यदि वे हिंसा और कट्टरता में शामिल हैं तो यह निश्चित रूप से दूसरों की गलती है अन्यथा उन्हें ऐसा करने में सुविधा प्रदान की गई होगी। यह गैर-ऐतिहासिक समझ कुछ जातियों और बौद्ध धर्म जैसे धर्मों के खिलाफ हिंदू हिंसा की सराहना करने में विफल है जो अपने जन्मस्थान पर ही ख़त्म हो चुका है। जिस तरह मुस्लिम हिंसा को उसके अपने बुनियाद पर समझने की जरूरत है, उसी तरह हिंदू हिंसा को उसकी राजनीति और परंपराओं से निकलने वाला समझना जरूरी है।

जबकि यह बताना महत्वपूर्ण है कि हिंदू हिंसा कोई नई बात नहीं है, लेकिन यह बताना भी महत्वपूर्ण है कि इस पर सरकार की प्रतिक्रिया काफी नई है। हिंसा के शिकार मुस्लिमों को शायद ही न्याय मिला हो, चाहे वह भागलपुर हो या नीली नरसंहार। लेकिन सरकार की राजनीतिक संस्कृति ने सुनिश्चित किया कि ऐसी घटनाओं की कम से कम राज्य के सर्वोच्च कार्यालयों द्वारा निंदा की जाए, और गिनती करने की रस्म अदा की जाती थी जिसमें पश्चाताप भी व्यक्त हो जाता था।

आज हम अपने राजनीतिक इतिहास में एक ऐसे चरण में प्रवेश कर चुके हैं जहां ऐसे गुण भी वितरित किए गए हैं। देश के शीर्ष राजनीतिक कार्यालय न केवल खामोश हैं, बल्कि तटस्थ संवैधानिक कार्यकर्ता भी अब पक्षपाती दिखाई दे रहे हैं। धर्म संसद में मुसलमानों के खिलाफ नरसंहार के आह्वान के बाद, आम नागरिकों की जिम्मेदारी थी कि वे यह बताएं कि पुलिस के पास नोटिस लेने और अपराधियों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की शक्ति है। लेकिन अभी तक हमने ऐसा कोई सरकारी कदम नहीं देखा है जिसका पालन किया गया हो, जिसे कुछ लोगों ने ठीक ही अधर्म संसद कहा है। यह निश्चित है कि इस मामले में राजनीतिक दबाव काम कर रहा है, लेकिन यह भी सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि इस तरह के पक्षपातपूर्ण व्यवहार का एकमात्र नुकसान निष्पक्ष एजेंसी के रूप में सरकार की धारणा को होगा। यदि राज्य कानून के शासन के बजाय कुछ लोगों की इच्छाओं और इशारों पर चलता रहा, तो अंततः हिंदू बहुमत को ही इसके परिणाम भुगतने होंगे।

रूढ़िवादी मुसलमानों की तरह बनना हिंदू चरमपंथियों की लंबे समय से इच्छा रही है। रणनीतिक अनुकरण के माध्यम से, वे हिंदू धर्म को सेमेटिक धर्म की कार्बन कॉपी बनाना चाहते हैं। यही कारण है कि हिंदू धर्म की वंशानुगत विविधता नापसंद है। क्यों कि यह एक संयुक्त राजनीतिक समुदाय के निर्माण को रोकता है। हालांकि ऐसा कहना जल्दबाजी होगी, लेकिन ऐसा लगता है कि हिंदू चरमपंथी अपने लक्ष्य में कामयाब हो रहे हैं। जाति, क्षेत्र और धार्मिक अनुष्ठानों के लिहाज़ से व्यापक विविधता तक हिंदू धर्म का एक विशिष्ट ब्रांड विकसित किया जा रहा है जो ऐसे सभी निशान मिटा रहा है। निचली जातियों और महिलाओं की बढ़ती साझेदारी हिंदू मत को एक सांचे में ढालने की कोशिश करती है जिसकी एक ही रणनीति मुसलमानों को अलग-थलग करना और बदनाम करना है। हम एक ऐसी स्थिति देख रहे हैं जिसमें शायद हिंदू समाज कट्टरवाद की ऊंचाई पर पहुंच गया है और केवल अलग विचार रखने वाले हिंदू ही इसे रोक सकते हैं।

हिंदू समाज को यह नहीं भूलना चाहिए कि मुस्लिम कट्टरवाद की कीमत खुद मुसलमानों ने चुकाई है। हिंदू चरमपंथी अस्थायी रूप से मुसलमानों को अलग-थलग कर सकते हैं। लेकिन अंत में आम हिंदुओं को ही इस कट्टरवाद की कीमत चुकानी पड़ेगी।

----

English Article: Why Ordinary Hindus Should Worry About the Radicalization of their Religion

Urdu Article:  Why Ordinary Hindus Should Worry About the Radicalization of their Religion کیوں عام ہندوؤں کو اپنے مذہب میں بڑھتی ہوئی بنیاد پرستی کی فکر کرنی چاہیے؟

Malayalam Article: Why Ordinary Hindus Should Worry About the Radicalization of their Religion എന്തുകൊണ്ടാണ് സാധാരണ ഹിന്ദുക്കൾ തങ്ങളുടെ മതത്തിന്റെ തീവ്രവൽക്കരണത്തെക്കുറിച്ച് വിഷമിക്കേണ്ടത്?

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/hindus-radicalization-religion/d/126399

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..