New Age Islam
Sun Sep 26 2021, 09:11 PM

Hindi Section ( 29 Jun 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

The Qur'an is essential for the survival of humanity मानवता की अस्तित्व के लिए कुरआन पर अमल जरूरी

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

युसूफ रामपूरी

कुरआन मजीदकायनात बनाने वाले की तरफ से नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर नाज़िल होने वाली आखरी किताब है। जिस तरह पैगम्बरे इस्लाम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की बेअसत के बाद अम्बिया व रसूल क भेजने का वह सिलसिला जो हजरत आदम से शुरू हुआ था, ख़त्म हो गया। इसी तरह कुरआन मजीद के नुज़ूल के बाद आसमानी किताबों और सहिफों के नुज़ूल का सिलसिला भी पूरा हो गया। इसलिए जिस तरह कयामत तक पुरी इंसानियत के लिए हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम आखरी नबी व रसूल हैं, इसी तरह कयामत तक बनी नौए इंसान के रूश्द व हिदायत के लिए कुरआन मजीद अल्लाह की आखरी किताब है। इसलिए इस बात पर ईमान लाना जरूरी है कि मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम आखरी नबी व रसूल है, आपके बाद कोई और नबी या रसूल नई शरीअत के साथ आने वाला नहीं है, इसी तरह इस बात पर भी यकीन लाज़मी है कि कुरआन के बाद कोई किताब नाज़िल होने वाली नहीं। इस किताब के नुज़ूल के बाद पिछली शरीअतें मंसूख हो गईं। इस्लाम के पैगम्बर के आखरी रसूल होने और आप की रिसालत और आखरी शरीअत को बरहक मानना और उस पर अमल करना आवश्यक है। अल्लाह पाक ने खुद कुरआन के बारे में किताबे मुबीनकहा है, जिससे साफ़ तौर से मालुम होता है कि अमल के लिहाज़ से भी कुरआन की शिक्षा सपष्ट हैं और उनमें किसी तरह की कोई पेचीदगी नहीं है। इसलिए ज़िन्दगी गुज़ारने के लिए कुरआन में ब्यान किये हुए अहकामात पर अमल ही कामयाबी की जमानत है । कुरआन की अहमियत व अजमत का तकाजा है कि पुरी इंसानियत इसकी तरफ रुजूअ करे और उसी के मुताबिक़ अपनी ज़िन्दगी बसर करे। कादिरे मुतलक के इंसानियत के लिए निर्धारित किये हुए उसूलों में सरसर कामयाबी है और इसके खिलाफ काम करने में खुली हुई नाकामी है।

कुरआन करीम के अलावा रुए ज़मीन पर कोई ऐसी किताब मौजूद नहीं है जो इंसानी ज़िन्दगी का कामिल तौर से एहाता करने वाली हो और ऐसा जामेअ निजाम पेश करने वाली हो जो अल्लाह की सबसे अहम् मखलूक के लिए हर लिहाज़ से मुफीद व अहम हो। कुरआन करीम को छोड़ कर दूसरी किताबों से इनसानी ज़िन्दगी के लिए किसी निजाम का निर्धारण करना और उससे पुरी इंसानियत की भलाई की बाबत उम्मीद रखना उलझनों का शिकार हो जाता है। हमें इतिहास में ऐसी बहुत सी मिसालें मिलती हैं कि लोगों ने अपने इल्म व तजुर्बे की बुनियाद पर इंसानी ज़िन्दगी के लिए निज़ाम बनाए लेकिन वह सब या तो अपनी मौत आप मर गए या फिर उनके बहुत से नुक्सान सामने आए। असल में किसी भी इंसानी अकल की बुनियाद पर निर्धारित किये हुए निजाम को न तमाम इंसानों पर नाफ़िज़ किया जा सकता है और न ही इसे अधिक लम्बे समय तक चलाया जा सकता है। क्योंकि इंसान कि अक्ल बहुत सीमित है और उसका ज्ञान नाकिस है। इसका बनाया हुआ निजाम खताओं से खाली नहीं हो सकता।

अल्लाह पाक द्वारा प्रस्तुत प्रणाली दोषों से मुक्त है, यह सभी मानवता के लिए है और यह पुनरुत्थान (कयामत) के दिन के लिए है। क्योंकि अल्लाह का ज्ञान सर्वव्यापी है, वह हर जगह लोगों की स्थितियों और मनोदशा से अवगत है, और वह सभी उम्र के मनुष्यों की स्थिति और आंकड़ों को जानता है, यहां तक कि हर चीज को भी। इसलिए, इस्लाम के रूप में, उन्होंने सभी मानव जाति के लिए एक सफल और उत्कृष्ट प्रणाली प्रस्तुत की, इस्लाम के पैगंबर को भेजा और कुरान का खुलासा किया, फिर इस्लाम के धर्म का पालन करने और कुरआन और उसमें विश्वास करने पर जोर दिया। विभिन्न आयतों के माध्यम से यह स्पष्ट किया कि किसी को भी कुरआन के बारे में संदेह नहीं करना चाहिए। यह केवल अल्लाह का कलाम है और इसमें जरा सी भी गड़बड़ी या मिलावट नहीं है। अल्लाह का इरशाद है, "यह एक ऐसी किताब है, जिसमें कोई शक नहीं (सुरह बकरा)।" सभी मामलों में अल्लाह के कलाम की प्रामाणिकता को साबित करना और उसमें लोगों के विश्वास को मजबूत करना आवश्यक था। क्योंकि हर युग में शैतानी और अत्याचारी शक्तियां कुरआन को मनुष्य का शब्द या किसी अन्य प्राणी का कलाम बनाने की कोशिश में सक्रिय हैं, या भगवान की रचना को इसके बारे में संदेह में डालने की कोशिश कर रही हैं। ताकि वह सच्चाई के धर्म से बेपरवाह हो जाए और कुरआन की रोशनी से कुछ हासिल न करे। इस प्रकार, हम देखते हैं कि हर युग में, इस्लाम के विरोधी लोगों ने कुरआन के खालिस अल्लाह का कलाम होने पर संदेह में डालते रहे हैं यह  है और कुरआन के खिलाफ विभिन्न आरोप लगाते रहे हैं।

क़ुरआन को अल्लाह का कलाम होने का दावा करने के बाद, इसे साबित करने के लिए एक व्यापक तर्क प्रस्तुत किया गया, जिसे आज भी लगभग चौदह शताब्दियों के बाद भी कोई काट नहीं पाया है। कुरआन ने चुनौती दी: "और यदि तुम्हे इस कलाम में संदेह हैं जो हमने अपने बंदे पर क्या उतारा है, तो इसके जैसा एक सूरह लाओ और अल्लाह के अलावा अपने सभी गवाहों को बुलाओ, अगर तुम सच्चे हो।" (अल-बकरा:२३) यह पवित्र क़ुरआन की चुनौती उस समय भी थी और आज भी है और क़यामत के दिन तक जारी रहेगी। लेकिन उस समय उत्तर नहीं दिया गया था, आज कोई उत्तर नहीं है और कयामत के दिन तक कोई उत्तर नहीं होगा। इसका मतलब यह नहीं है कि किसी ने कुरआन की चुनौती को स्वीकार करने और कुरआन की तरह सूरह और आयत पेश करने की कोशिश नहीं की, बल्कि यह कि अलग-अलग समय में कई बार ऐसे प्रयास किए गए, जैसे कि लबिद इब्न रबीआह ने सबसे पहले चुनौती को स्वीकार करने दावा किया था, लबिद इब्न रबिआह उस समय के एक प्रसिद्ध लेखक थे। उन्होंने जवाब में एक कविता लिखी जिसे काबा के गेट पर चिपका दिया गया था, लेकिन उसके तुरंत बाद किसी ने कुरआन का एक सूरह लिखा और उसके पास लटका दिया। जब लबिद इब्न रबीआ ने इस सूरह का पाठ किया, तो वह बहुत प्रभावित हुआ और उसने घोषणा की, "बेशक, यह मनुष्य का शब्द नहीं है और मैं इस पर विश्वास करता हूं।" इस घटना के बाद भी, महान फूसहां और बुल्गा ने कुरआन की सूरतों और आयतों के मानिंद सूरतें बनाने की कोशिश की, लेकिन वह बुरी तरह विफल रहे।

कुरआन के खिलाफ नफरत और हठ आधुनिक समय में भी जारी है इस्लाम व दुश्मन कौमें कई तरह से कुरआन पर हमला कर रहे हैं। हाल ही में, कुरआन की तुलना में एक नया कुरआन लाने का दावा किया गया है, जिसके बारे में पश्चिमी दुनिया में शोर सुनाई दे रहा है और इसको पढ़ने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है, लेकिन तथ्य यह है कि नई किताब साज़िश के तहत लोगों को गुमराह करने और कुरआन से हटाने के उद्देश्य से लाया गया यह किसी भी तरह से कुरआन के साथ प्रतिस्पर्धा नहीं कर सकता है। क्योंकि यह इंसानों द्वारा लिखी गई किताब है और कुरआन अल्लाह का खालिस कलाम है। अल्लाह के कलाम और इंसानों के कलाम में स्पष्ट अंतर है। सभी तर्कवादी इस बात से सहमत हैं कि मनुष्य गलतियों का स्रोत है, जो विभिन्न अवसरों पर गलतियों और कमियों की ओर ले जाता है। क्योंकि उसका ज्ञान बहुत सीमित है। मनुष्य के ज्ञान की तुलना कभी भी अल्लाह के ज्ञान से नहीं की जा सकती। मनुष्य के ज्ञान की शर्त यह है कि उसे पांच हजार साल पहले के बारे में स्पष्ट जानकारी नहीं है कि अगले पांच हजार वर्षों में क्या होने वाला है। मनुष्य को यह भी नहीं पता कि पूरे ब्रह्मांड में कितने जीव हैं, उन्हें इस बात का अंतिम ज्ञान भी नहीं है, किसके दिमाग में क्या चल रहा है और कौन क्या सोच रहा है, यह मनुष्य को पता भी नहीं है। यहां तक कि अगर कोई व्यक्ति अलग-अलग लोगों की छिपी परिस्थितियों और गुप्त मुद्दों के बारे में नहीं जानता है, तो उसके द्वारा लिखी गई किसी भी पुस्तक को पापों से कैसे मुक्त किया जा सकता है और इसे कयामत के दिन तक कैसे लागू किया जा सकता है जब अल्लाह पाक के ज्ञान में वह सब कुछ शामिल है वह लाखों साल पहले की स्थिति को जानता है और हजारों-लाखों वर्षों में क्या होने वाला है, वह न केवल इसके बारे में जानता है बल्कि उसकी इच्छा के अनुसार सब कुछ होने वाला है। वह प्रत्येक व्यक्ति की व्यक्तिगत समस्याओं से पूरी तरह अवगत है और वह कौमों और लोगों की सामूहिक समस्याओं से भी पूरी तरह अवगत है।

कुरआन द्वारा की गई भविष्यवाणियां और जिस तरह से वे पूरी तरह से सच साबित हो रही हैं, वह भी इस बात की पुष्टि करती है कि कुरआन खुदा का कलाम है जबकि सामान्य लेखक या तो भविष्यवाणियां करने की हिम्मत नहीं करते हैं या फिर करते भी हैं तो उनकी भविष्यवाणी सच नहीं होती। क्योंकि उन्हें भविष्य का कोई ज्ञान नहीं है, भले ही उनके पास कुछ अनुमान हों, भले ही वे दोषपूर्ण और सीमित ज्ञान के आधार पर हों, जबकि सर्वशक्तिमान अल्लाह का ज्ञान निश्चित है, इसमें किसी भी तरह की हिचकिचाहट की कोई जगह नहीं है। कुरआन ने रोमनों की हार की भविष्यवाणी की थी। अल्लाह तआला फरमाता है: "(यहाँ से) बहुत क़रीब के मुल्क में रोमी (नसारा अहले फ़ारस आतिश परस्तों से) हार गए (2) मगर ये लोग अनक़रीब ही अपने हार जाने के बाद चन्द सालों में फिर (अहले फ़ारस पर) ग़ालिब आ जाएँगे (3) क्योंकि (इससे) पहले और बाद (ग़रज़ हर ज़माने में) हर अम्र का एख्तेयार ख़ुदा ही को है और उस दिन ईमानदार लोग ख़ुदा की मदद से खुश हो जाएँगे (4) वह जिसकी चाहता है मदद करता है और वह (सब पर) ग़ालिब रहम करने वाला है (5)। (रोम: 2 से 5 ) इतिहास गवाह है कि यह भविष्यवाणी हर शब्द में सच साबित हुई। जब फारस ने रोमनों पर अधिकार कर लिया, तो मुशरिकों ने मुसलमानों चिढ़ाना शुरू कर दिया कि अहले किताब ईसाई मजूसियों द्वारा पराजित हुए। मुशरिकीन मजूसियोंसे लगाव रखते थे और ईसाईयों से अहले किताब होने के बिना पर चिढ़ते थे। उस समय, महान पादरियों की हत्या कर दी गई थी और यहां तक कि ईसाइयों के सबसे पवित्र क्रॉस को भी ईरानी विजेताओं द्वारा छीन लिया गया था और रोमन शक्ति को तोड़ दिया गया था। इस पर मुशरेकीन अहले इस्लाम का इस तरह अपमान करते थे जैसे हमारे भाई तुम्हारे भाइयों को नष्ट कर देंगे। ऐसे समय में जब रोमनों के फिर से संकट से उभरने का कोई संकेत नहीं दिख रहा था, कुरआन ने भविष्यवाणी की थी कि रोमन कुछ वर्षों में प्रबल होंगे। कुरआन यहाँ "जाअ" शब्द का प्रयोग किया है। अहले लुगात (कोशकारों) का मत है कि यह अवधि केवल तीन वर्ष से नौ वर्ष तक की होती है। यानी सिर्फ नौ साल में रोमन फिर से उभर आएंगे। कुरआन की इस आयत ने चौंका दिया और मुशरेकीन इसे किसी भी परिस्थिति में स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थे।मगर नौ साल के अंदर ऐन बद्र के दिन जबकि मुसलमान मुशरेकीन व कुफ्फार ग़ालिब आकर ख़ुशी मना रहे थे यह खबर सुनने को मिली कि इरान के मजूसियों पर अहले किताब ने गलबा पा लिया यह खबर सुन कर अहले इस्लाम और अधिक खुश हुए। गौर कीजिए कि कुरआन ने जो भविष्यवाणी की थी वह किसी निश्चित अवधि के भीतर किस तरह पूरी हुई। इस भविष्यवाणी को पूरा होते देख कुछ काफिरों और मुशरिकों ने भी इस्लाम कबूल कर लिया।

कुरआन ने यह भी भविष्यवाणी की थी कि मुसलमानों द्वारा पूरे अरब पर विजय प्राप्त की जाएगी। फरमाया गया था, "ये लोग अपनी फूकों से अल्लाह के नूर को बुझाना चाहते हैं, और अल्लाह अपने नूर को पूरा करेगा, भले ही काफिरों को यह कितना ही नागवार हो। वही है जिसने अपने रसूल को मार्गदर्शन और सत्य के धर्म के साथ भेजा, कि वह इसे सभी धर्मों पर हावी कर दे, चाहे वह मुशरिकों को कितना ही नागवार क्यों न हो। ” (सुरह सफ:८-९) कुरआन की यह भविष्यवाणी सही साबित हुई कुछ ही वर्षों में पूरा अरब मुसलमानों के पदचिन्हों पर चल पड़ा, जबकि यह भविष्यवाणी उस समय की गई थी कि जब स्थिति मुसलमानों के विरुद्ध थी, उनकी संख्या बहुत कम थी, अधिक यह कि वह अव्यवस्था की स्थिति में थे, और उनके पीछे कोई सांसारिक शक्ति नहीं थी। इसके विपरीत, मुशरेकीन आर्थिक और सैन्य रूप से और व्यक्तियों की संख्या के मामले में मजबूत और स्थिर थे। उस समय दुनिया में कोई भी विचारक अरब में इस्लाम के गौरवशाली भविष्य या प्रभुत्व की बात नहीं कर सकता था, लेकिन क्योंकि भविष्यवक्ता वह था जिसका ज्ञान सब कुछ समाहित करता है और जो सर्वशक्तिमान है, इसलिए इसके पूरा होंने में कोई शक नहीं हो सकता था।

कुरआन की प्रामाणिकता और उसके कलामे इलाही का इससे बड़ा प्रमाण और क्या हो सकता है कि चौदह शताब्दियों के दौरान एक भी चीज प्रकाश में नहीं आई है जो कुरआन का खंडन करती है? कुरआन धरती, आसमान, चांद, सूरज और सितारों के बारे में जो कहता है, वैज्ञानिक शोध उसे एक-एक करके साबित कर रहे हैं। यानी जो शोध हो रहा है वह कुरआन के खिलाफ नहीं है। वैसे तो कुरआन ने उस समय बहुत सी बातें कही थीं, जब इंसानों को या तो उनका ज्ञान नहीं था या बहुत सीमित थे और लोग अनुमान लगाते थे, लेकिन अब वह विज्ञान आगे बढ़ चुका है। अंतरिक्ष में, महासागरों में और पहाड़ों में खोजे गए, कई आश्चर्यजनक चीजें खोजी गईं, लेकिन साथ ही यह भी पता चला कि वैज्ञानिकों ने सदियों के शोध के बाद कई चीजों की खोज की है। कुरआन में उनका उल्लेख बहुत पहले किया गया है, क्योंकि उदाहरण के लिए, वैज्ञानिकों ने चंद्रमा, सूर्य और सितारों के बारे में अपने शोध के बाद निष्कर्ष निकाला है कि वे सभी घूर्णन कर रहे हैं। इस जानकारी को प्राप्त करने के बाद, वैज्ञानिकों को बहुत गर्व हुआ, भले ही कुरआन ने लगभग चौदह शताब्दी पहले कहा था कि "सब एक ही आकाश में तैर रहे हैं" (अल-अनबिया ३३)। तैरने की ताबीर से कुरआन के फसाहत व बलाग्त का अंदाजा लगाया जा सकता है। अगर कुरआन में मानव विज्ञान की तलाश की जाए, तो निश्चित रूप से इस पुस्तक में दुनिया के कई विज्ञान हैं। इतना ज्ञान कोई नहीं दे सकता। इससे यह भी साबित होता है कि कुरआन अल्लाह की किताब है। क्योंकि वह सभी ज्ञान का ज्ञाता है और सब कुछ उसी के द्वारा बनाया गया है।

जब सबूतों के आलोक में यह साबित हो जाता है कि कुरआन एक आसमानी पुस्तक और खुदा का खालिस कलाम है, तो मनुष्य को कुरआन की सच्चाई को जानना होगा, उस पर विश्वास करना होगा और उसे लागू करना होगा। दुनिया की किताबों में जो कुछ भी कहा गया हो, लेकिन कुरआन में जो कहा गया है, वह सभी से श्रेष्ठ है और दोषों से मुक्त है। हैरानी की बात यह है कि कुछ लोग कुरआन की आयतों का विरोध करते हैं और उन्हें शांति और मानवता के खिलाफ कहते हैं। बुद्धि इसे नहीं मानती। कुरआन की जिन आयतों पर शांति के संदर्भ में आपत्ति की जा रही है, वे या तो द्वेष और अज्ञानता के कारण हैं या ज्ञान की कमी के कारण हैं। तथ्य यह है कि कुरआन नियमित रूप से सभी मनुष्यों की सुरक्षा के लिए एक पूर्ण प्रणाली प्रस्तुत करता है और ऐसे आदेश जारी करता है, जिसके द्वारा मनुष्य शांति और अमन की ठंडी छांव में रह सकता है। लोगों के लिए कितना अच्छा है कि वे न्यायपूर्वक कार्य करें, कुरआन की शिक्षाओं पर ध्यान दें, उसके कलामे इलाही होने पर विश्वास करें और उसके अनुसार जीवन व्यतीत करें। निश्चय ही वे इस जीवन में भी और आखिरत में भी सफल होंगे।

---------------

Related Article:

The Qur'an is essential for the survival of humanity انسانیت کی بقا کیلئے قرآن پر عمل ضروری

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/the-qur-essential-survival/d/125033

New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Women in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Women In Arab, Islamophobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism


Loading..

Loading..