New Age Islam
Wed Jan 19 2022, 02:53 AM

Hindi Section ( 28 May 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Baitul Maal (House of Money) And the Muslim Economy बैतुल माल और मुस्लिम अर्थव्यवस्था


सैयद ज़ाहिद अहमद अलीग

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

जीवन के जिन क्षेत्रों में मुसलमानों ने दीन के नियमों का पालन किया, उन क्षेत्रों में अल्लाह ने उनके लिए अमन और शांति रखी और जिन क्षेत्रों में कौम ने दीन की उपेक्षा की, कौम को अपमानित और पराजित किया गया। उदाहरण के लिए, नमाज़ और हज में हम शरीअत का पालन करते रहे, तो अल्लाह ने हमें मस्जिदों और काबा में अमन और शांति अता किया। इसके विपरीत, जब हम राजनीति और अर्थशास्त्र में शरीअत को भूल गए , तो अल्लाह ने हमारे लिए मुश्किलें पैदा कर दीं। जब मुसलमानों ने शूरा व्यवस्था को त्याग दिया और महसूस किया कि समाजशास्त्र और राजनीति का दीन से कोई लेना-देना नहीं है, तो हम सामाजिक और राजनीतिक रूप से खंडित हो गए। आज देश के सामाजिक ढांचे में मुसलमान सबसे पिछड़ी कौम हैं। देश में कई मुसलमानों का अलग-अलग राजनीतिक दलों में विशेष स्थान तो है लेकिन हम कौमी स्तर पर एक राष्ट्रीय नेता से वंचित रह गए हैं। वित्त और अर्थशास्त्र में हम बैतुल माल के अनुशासन को भूल गए हैं और यदि हम ब्याज से बचने की कोशिश नहीं करते हैं तो हम आर्थिक पिछड़ेपन का शिकार हो जाते हैं और देश की वित्तीय व्यवस्था में हमारा कोई अस्तित्व नहीं है। कुल मिलाकर, भारत के 31% मुसलमान गरीबी रेखा से नीचे रहते हैं। शहरी क्षेत्रों में 20% मुसलमान भी देश में औसत जीवन स्तर तक जीने में सक्षम नहीं हैं, जबकि मुसलमानों के कुल जमा धन का 29% देश के अन्य कौमों में जा रहा है। आजीविका का आर्थिक साधन मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता है। इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए, अल्लाह पाक ने (सूरह जुमआ) में पैसा कमाने का निर्देश दिया है ताकि लोग आत्मनिर्भर बनें और अपनी जरूरतों को पूरा करने का प्रयास करें और दूसरों के सहारे जीविकोपार्जन करने या भीख मांगने को जरिया बनाकर अपने आत्मसम्मान का हनन न करें। हालाँकि हाथ फैलाना को कानून द्वारा मना नहीं किया गया था, पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने नैतिक रूप से हाथ को फैलाने से मना किया था कि ऊपरी हाथ निचले हाथ से बेहतर है (बुखारी) की शिक्षा दे कर हाथ फैलाने से नैतिक रूप से रोक दिया। आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम बेअत करते समय इस बात की शर्त रखते थे कि बेअत करने वाला किसी से सवाल नहीं करेगा। इसके साथ आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने मजदूर का हाथ चूम कर मेहनत मजदूरी से अपनी रोज़ी का इंतज़ाम करने वालों की हौसला अफजाई फरमाई। समाज में हमेशा कुछ लोग ऐसे रहे हैं जो किसी वजह से खुद अपनी जीविका का इंतज़ाम नहीं कर सकते। जैसे लूले, अंधे, अपाहिज, कमज़ोर, यतीम, बेवह और वह लोग जो कोशिश के बावजूद अपनी रोज़ी का सामान नहीं कर पाते। उनकी किफालत का बार कौम के सर पर डाल दिया गया।

अल्लाह ने अमीरों की दौलत में गरीबों का हक तय किया है और ज़कात के रूप में एक अनिवार्य घटक निर्धारित किया है जिसे इकट्ठा करके बैतुल माल के माध्यम से वितरित किया जाए। उन्होंने अपने जीवन में बैतुल माल की एक महान व्यवस्था की स्थापना की और सहाबा ने भी इस व्यवस्था को बनाए रखा। बैतुल माल एक ऐसी व्यवस्था है जो न केवल मुसलमानों के मानवीय, वित्तीय और संगठनात्मक संसाधनों की रक्षा करेगी बल्कि मुसलमानों के सभी वित्तीय संसाधन और आर्थिक समस्याओं का समाधान होगा। हज़रत अबू बकर रज़ीअल्लाहु अन्हु ने बैतुल माल में ज़कात न जमा करने वालों पर युद्ध की घोषणा कर दी थी, जबकि वह ज़कात से इनकार नहीं कर रहे थे, बल्कि बैतुल माल में ज़कात इकट्ठा करने के बजाय वह इसे अपने दम पर खर्च करना चाहते थे। हज़रत अबू बकर रज़ीअल्लाहु अन्हु ने उनकी राय नहीं मानी और उन्हें ज़कात को बैतुल माल में जमा करने के लिए मजबूर किया। हमें इस बात पर विचार करना चाहिए कि हजरत अबू बकर रज़ीअल्लाहु अन्हु का आज के मुसलमानों के बारे में क्या फैसला होता जो अपनी जकात को बैतुल माल में जमा करने के बजाय खुद खर्च करते हैं? अल्लाह की रहमत वास्तव में मुसलमानों पर है जिसके कारण कौम किसी तरह जीवित है। नहीं तो मुसलमानों द्वारा अपनाया गया व्यवहार अल्लाह के अज़ाब को न्यौता देने के लिए काफी है। मुसलमान खुद दीन का एक अहम हिस्सा भूल गए हैं जिसके लिए मुसलमान दुहाई देते नहीं थकते हैं, उसी दीन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा भुला दिया गया है। नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की फरमाबरदारी का दम भरते नहीं थकते उसी रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के स्थापित किये हुए नज़्म के खिलाफ अमल कर रहे हैं। बैतुल माल का जो नज़्म रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कायम किया था, उससे समाजी और माली संसाधनों का बेहतर से बेहतर इस्तेमाल होता था। आज भी अगर मुसलमान एक बैतुल माल स्थापित कर लें तो मुसलमानों की सभी आर्थिक समस्याओं का समाधान हो सकता है। ऐसा अनुमान है कि मुसलमानों द्वारा भारतीय बैंकों में जमा किए गए धन का 29 प्रतिशत गैर-मुसलमानों को ऋण के रूप में दिया जाता है। इस प्रकार, मुसलमानों को सालाना 66,700 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है, जबकि देश के 97 प्रतिशत मुसलमानों को अनियमित क्षेत्र में काम करने के कारण वित्तीय सेवाओं तक पहुँचने में कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है।

अब ऐसे भयानक नुकसान को नज़रअंदाज कर देश की तकदीर बदलने का सपना देखने वालों को अपनी सोच का जायज़ा लेना चाहिए। बिना बैतुल माल के मुसलमानों का आर्थिक शोषण नहीं रोका जा सकता और न ही गरीबी को मिटाया जा सकता है। इसलिए हम मिल्लत के सभी सदस्यों से अनुरोध करते हैं कि वे ध्यान से सोचें और बैतुल माल स्थापित करने के लिए सही प्रयास करें। देश के मिल्ली संस्थानों के प्रदर्शन को देखते हुए, यह स्पष्ट है कि यह मिल्लत की जरूरतों के मुकाबले कुछ भी नहीं है। वास्तव में एक प्रतिशत मुसलमान भी व्यावहारिक रूप से किसी बैतुल माल से नहीं जुड़े हैं। यह मानते हुए कि सामाजिक और आर्थिक पिछड़ेपन ने कौम का आत्मविश्वास छीन लिया है। लोग एक-दूसरे पर शक करते हैं और आगे बढ़कर एक-दूसरे के मामलों में सहयोग करने से डरते हैं। यही कारण है कि मिल्लत में बड़े और सफल मिल्ली संस्थानों का अभाव है। इससे पहले कि वे मिल्ली संस्थानों के निर्माण और आकार देने में अपना समर्थन दें, लोग इसमें अपना हिस्सा तलाश करने लगते हैं। फलस्वरूप मिल्ली संस्थाओं की स्थापना के साथ ही तनाव कम होने लगता है और वे सफल होने के बजाय डूब जाते हैं। हमारा मानना है कि जैसे-जैसे लोग आपसी विश्वास और सहयोग से बैतुल माल से जुड़ेंगे, बैतुल माल मजबूत होगा और मुसलमानों की आर्थिक समस्याएं हल होंगी। इसलिए मिल्लत के प्रत्येक सदस्य से बैतुल माल की स्थापना और गठन में भाग लेने का अनुरोध है।एक व्यक्ति को मिला कर घर बनता है, घरों को मिला कर एक बस्ती या एक मोहल्ले को मिलाकर एक जिला, प्रांत और देश बनता है। इसलिए किसी व्यक्ति का आंदोलन में शामिल होना एक महान कार्य की शुरुआत होगी। और निश्चिंत रहें, इसकी शुरुआत हर उस व्यक्ति से होगी जिसके पास अभी यह लेख है। देश में कुछ लोग सोचते हैं कि बैतुल माल एक इस्लामी सरकार के तहत ही संभव है और चूंकि भारत एक गैर-इस्लामी देश है, इसलिए यहां बैतुल माल स्थापित नहीं किया जा सकता है और बैतुल माल की बात अमीर आदमी के बिना व्यर्थ है। साथ ही साथ यह भी बात करते हैं कि बैतुल माल के नाम पर जकात संगठन बनाने वालों को ऐसा करने का अधिकार किसने दिया और वे खुद से ऐसी जिम्मेदारी कैसे ले सकते हैं? अब ऐसे लोगों को कौन समझाए कि देश का कानून बैतुल माल स्थापित करने में आड़े नहीं आता। और अगर देश में कुछ लोग बैतुल माल को स्थापित करने की कोशिश कर रहे हैं, तो उनका समर्थन किया जाना चाहिए, इसलिए ईमान वाले के लिए यह अनिवार्य है कि वह अच्छे कामों में एक दूसरे का साथ दे और एक दूसरे को बुराई से मना करे।

अब कौन सा औचित्य बनता है कि जो लोग अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के तरीके को स्थापित करना चाहें तो उनका साथ देने की बजाए उनका विरोध किया जाए? ऐसे लोगों के अमली प्रयासों में शरीक होना असल में इस्लामी प्रयासों का विरोध है। इस विरोध का जवाब आख़िरत में देना होगा। जब तक देश के मुसलमान देश में व्यवस्था बनाए रखने के लिए दृढ़ संकल्पित नहीं होंगे, तब तक देश का दुख दूर नहीं हो सकता। हमें लोगों को समझना और समझाना है कि मुसलमानों की अर्थव्यवस्था बिना वित्त के ठीक नहीं हो सकती है और वित्त को मजबूत करने के लिए, पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने बैतुल माल की स्थापना की। अब मुसलमान बैतुल माल की अनदेखी कर अपनी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं कर सकते इसलिए जरूरी है कि मिल्लत का हर सदस्य देश में बैतुल माल के गठन और स्थापना के संबंध में अपनी जिम्मेदारी को समझे और निभाए। जब तक हम इस्लामी शिक्षाओं के खिलाफ काम करते हुए आर्थिक विकास के लिए प्रयास करते रहेंगे, हम असफल होंगे और जब हम इस्लामी शिक्षाओं और अनुशासन का पालन करके अर्थव्यवस्था को ठीक करने का प्रयास करेंगे, तो अल्लाह की मदद और समर्थन हमारे साथ होगी। इंशाअल्लाह

URL for Urdu article: https://newageislam.com/urdu-section/baitul-maal-(house-of-money)-and-the-muslim-economy--بیت-المال-اور-مسلم-معیشت/d/1785

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/baitul-maal-muslim-economy/d/124898

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..