New Age Islam
Sat Sep 25 2021, 03:06 PM

Hindi Section ( 7 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Taliban Are Unlikely To Reform: Afghan Women’s Greatest Fears May Realise even under Taliban 2.0 तालिबान में सुधार की संभावना नहीं है: इस तालिबान सरकार में अफगान महिलाओं का डर सच साबित हो सकता है

तालिबान 1996-2001 से अब तक: रावा के एक अध्ययन के आधार पर तालिबान लीडरों की जानिब से महिलाओं के अधिकार की सुरक्षा हालिया आश्वासन से मुनाफिकत की बू आती है

प्रमुख बिंदु:

1. तालिबान ने "शरीअत" के ढांचे के भीतर महिलाओं के अधिकारों की रक्षा करने का वादा किया है, लेकिन कोई और विवरण नहीं दिया है।

2. 1996 से 2001 तक, तालिबान के इतिहास में उत्पीड़न का एक अध्याय था क्योंकि उन्होंने महिलाओं पर विभिन्न प्रतिबंध लगाए थे।

3. रिवोल्यूशनरी एसोसिएशन ऑफ अफगान वीमेन (RAWA) ने 1996 और 2001 के बीच महिलाओं पर 29 प्रतिबंधों और सभी अफगानों पर 11 प्रतिबंधों की एक "संक्षिप्त" सूची प्रकाशित की है।

4. हिजाब और नकाब के विषय पर इस्लामी फिकह के चारों मज़ाहिब के बीच मतभेद है।

5. इस्लामी फिकह के चारों मज़ाहिब में एक ही बात पर असहमती है कि एक महिला के हाथ और चेहरे को ढंकना चाहिए या नहीं।

6. तालिबान में सुधार की संभावना नहीं है, और अफगान महिलाओं को जो डर है वह सच साबित हो सकता है।

--------

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

31 अगस्त 2021

Daily life in Kabul in 1988, one year before civil war broke out. Patrick Robert/Sygma via Getty Images

-----

तालिबान ने 1996 से 2001 तक अफगानिस्तान के लगभग तीन-चौथाई हिस्से पर कब्जा कर लिया और सबसे सख्त शरीअत या इस्लामी कानून लागू किया। 1994 में, तालिबान अफगान गृहयुद्ध में सबसे मजबूत ताकत के रूप में उभरा, जिसमें मुख्य रूप से पूर्वी और दक्षिणी अफगानिस्तान के पश्तून जिलों के छात्र शामिल थे, जिन्होंने सोवियत-अफगान युद्ध में लड़ाई लड़ी थी। मुहम्मद उमर के नेतृत्व में यह आंदोलन अफगानिस्तान के अधिकांश हिस्सों में फैल गया। 1996 में, तालिबान ने अफगानिस्तान के तानाशाह इस्लामिक अमीरात की स्थापना की, और कंधार नई अफगान राजधानी बन गया। उसके चरम पर, केवल तीन देशों, पाकिस्तान, सऊदी अरब और संयुक्त अरब अमीरात ने तालिबान सरकार को मान्यता दी। 2001 में सत्ता से बेदखल होने के बाद, तालिबान ने अफगानिस्तान में युद्ध में अमेरिका समर्थित करजई प्रशासन और नाटो के नेतृत्व वाले अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा सहायता बल (आईएसएएफ) से लड़ने के लिए एक विद्रोही बल के रूप में पुनर्गठित किया। युद्ध में हजारों नागरिक मारे गए और लाखों लोग बेघर हो गए। दो दशकों की लड़ाई के बाद अब तालिबान ने अफगानिस्तान पर कब्जा कर लिया है। पार्टी ने 15 अगस्त, 2021 को काबुल पर कब्जा कर लिया और तेजी से पूरे देश में फैल गई। यह सब अमेरिका-तालिबान शांति समझौते का परिणाम है, जिसमें तालिबान नेताओं ने अफगानिस्तान को पश्चिमी देशों के लिए खतरा पैदा करने वाले आतंकवादियों के लिए एक सुरक्षित पनाहगाह बनने से रोकने का संकल्प लिया है। हालाँकि, पहले से ही इस बात को लेकर चिंताएँ हैं कि पार्टी देश पर शासन करने का इरादा कैसे रखती है, साथ ही महिलाओं, मानवाधिकारों और राजनीतिक स्वतंत्रता पर इसके शासन के निहितार्थ भी हैं।

हालांकि तालिबान ने अफगानिस्तान पर नियंत्रण हासिल करने के तुरंत बाद एक आम माफी की घोषणा की, यह कहते हुए कि महिलाओं और लड़कियों को स्कूल जाने और यहां तक कि "शरीअत" के ढांचे के भीतर काम करने की अनुमति दी जाएगी, लेकिन उन्होने कोई अतिरिक्त विवरण प्रदान नहीं किया गया था। एक संवाददाता सम्मेलन में, तालिबान के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि महिलाओं को शिक्षा, स्वास्थ्य देखभाल और नौकरियों के अधिकार होंगे और वे "शरिया कानून" के तहत "खुश" होंगी। उन्होंने कहा, "तालिबान इस्लाम पर आधारित महिलाओं के अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। महिलाएं स्वास्थ्य क्षेत्र और अन्य क्षेत्रों में जहां जरूरत हो वहां काम कर सकती हैं। महिलाओं के साथ भेदभाव नहीं किया जाएगा।" तालिबान के एक अन्य प्रवक्ता सोहेल शाहीन ने कहा कि पार्टी अफगान रीति-रिवाजों और इस्लामी मूल्यों के अनुसार महिलाओं और अल्पसंख्यकों के अधिकारों का सम्मान करेगी।

इस बात को लेकर चिंता जताई जा रही है कि तालिबान इस बार महिलाओं के अधिकारों पर इस्लामी शिक्षाओं की व्याख्या कैसे करेगा। पिछली बार जब वह 1996 से 2001 तक सत्ता में थे, तो दमन तालिबान शासन का हिस्सा था। उन्होंने शीघ्र ही महिलाओं पर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए। उन दिनों महिलाओं को स्कूल जाने, नौकरी पाने या पुरुष रिश्तेदार के बिना घर छोड़ने की आजादी नहीं थी। जिन लोगों ने तालिबान के आदेशों की अवहेलना की और इस्लाम की उनकी व्याख्या को स्वीकार नहीं किया, उन्हें कोड़े लगाए गए, जो इस्लाम की कई अन्य व्याख्याओं के अनुसार क्रूर और इस्लाम के खिलाफ है।

A woman holds a placard as Afghan migrants demonstrate against the Taliban takeover of Afghanistan, on the island of Lesbos, Greece. (REUTERS)

------

अफ़ग़ान महिलाओं के क्रांतिकारी संघ (RAWA) ने 1996 से 2001 के बीच महिलाओं पर 29 और सभी अफ़गानों पर 11 प्रतिबंधों की एक "संक्षिप्त" सूची प्रकाशित की है जो तालिबान ने अपने शासन के दौरान लगाए थे। आज, दो दशक बाद, तालिबान नेताओं का कहना है कि वे इस्लामी मूल्यों के अनुसार महिलाओं के अधिकारों का सम्मान करेंगे, यह सवाल उठाते हुए कि वे अपने साक्षात्कारों में किस इस्लामी मूल्यों का जिक्र कर रहे हैं। क्या 2021 के "इस्लामी मूल्य" 1996-2001 के मूल्यों से भिन्न होंगे? चूंकि इस्लामी फिकह में कुछ लचीलापन है और समय की जरूरतों के अनुसार उप-मुद्दों (फुरुई) को बदला जा सकता है, क्या हम तालिबान से इसकी उम्मीद कर सकते हैं? एक और चिंता यह है कि क्या वे तालिबानी फिकह नामक एक नया न्यायशास्त्र विकसित करेंगे क्योंकि इस्लाम की पारंपरिक व्याख्या में विभिन्न प्रकार के फिकही मज़ाहिब मौजूद हैं। हनफ़ी, शाफई, मालकी, हंबली और जाफ़री - प्रत्येक की इस्लाम के उप-मुद्दों (फुरुई) की अलग-अलग व्याख्याएँ हैं।

उदाहरण के लिए, हिजाब और नकाब के विषय पर, केवल एक बिंदु है जिस पर इस्लामी फिकह के चार मज़ाहिब के मुस्लिम फुकहा ने असहमति जताई है, और वह यह है कि क्या किसी महिला के हाथ और चेहरे को ढंकना आवश्यक है या उन्हें बेनकाब छोड़ा जा सकता है। इस्लामी फिकह के चारों मज़ाहिब इस पर सहमत नहीं हैं। अधिकांश मालिकी और हनफ़ी फुकहा मानते हैं कि एक महिला के चेहरे और हाथों को छोड़कर पूरे शरीर को ढंकना चाहिए। हंबली फिकह और शाफई फिकह में, जो चार मज़ाहिब में सबसे सख्त हैं, मुस्लिम महिलाओं के लिए अपने चेहरे और हाथों सहित अपने पूरे शरीर को ढंकना अनिवार्य है। जहां तक तालिबान के हिजाब कानून का सवाल है, यह फिलहाल स्पष्ट नहीं है, हालांकि तालिबान के प्रवक्ता हाल ही में महिलाओं को कार्यालयों में काम करने की अनुमति देने पर सहमत हुए हैं, क्या उन्हें हिजाब कानून से छूट दी जाएगी या हिजाब के सबसे सख्त कानून को उनके लिए अनिवार्य कर दिया जाएगा। महिलाओं के अधिकारों के बारे में चिंता तब पैदा होती है जब हम तालिबान के अतीत को देखते हैं, जो 20 साल पहले पहली बार सार्वजनिक रूप से एक कट्टरपंथी संगठन के रूप में सामने आया था जिसने महिलाओं को उनके अधिकारों से वंचित कर दिया था।

रावा की रिपोर्ट के अनुसार, 1996 से 2001 तक तालिबान द्वारा अपने शासन के दौरान महिलाओं पर लगाए गए प्रतिबंधों की सूची और उनके साथ जो व्यवहार किया गया वह इस प्रकार है:

1. घर के बाहर महिलाओं के काम पर पूर्ण प्रतिबंध, जो महिला शिक्षकों, इंजीनियरों और अधिकांश पेशेवरों पर भी लागू होता है। काबुल के कुछ अस्पतालों में कुछ ही महिला डॉक्टरों और नर्सों को काम करने की अनुमति है।

2. घर के बाहर महिलाओं की गतिविधियों पर पूर्ण प्रतिबंध जब तक कि वे महरम (पिता, भाई या पति जैसे करीबी पुरुष रिश्तेदार) के साथ न हों।

3. पुरुष दुकानदारों के साथ महिलाओं के व्यवहार पर प्रतिबंध।

4. पुरुष डॉक्टरों द्वारा महिलाओं के इलाज पर रोक

5. स्कूलों, विश्वविद्यालयों या किसी अन्य शिक्षण संस्थान में महिलाओं के पढ़ने पर रोक। (तालिबान ने लड़कियों के स्कूलों को धार्मिक मदरसों में बदल दिया है।)

6. महिलाओं के लिए जरूरी है कि वे एक लंबा पर्दा (बुर्का) पहनें जो उन्हें सिर से पैर तक ढके

7. तालिबान कानून के मुताबिक, जो महिलाएं हिजाब नहीं पहनती हैं या बिना महरम के घर से बाहर निकलती हैं, उन्हें कोड़े मारे जाते हैं, पीटा जाता है और गाली दी जाती है।

8. टखनों को न ढकने पर सार्वजनिक रूप से कोड़े मारना

9. व्यभिचार (जिना) के आरोप में महिलाओं को सार्वजनिक रूप से पत्थर मारना। (इस सिद्धांत के अनुसार, कई प्यार करने वाले जोड़ों को संगसार किया जाता है)।

10. सौंदर्य प्रसाधनों के उपयोग पर प्रतिबंध (नेल पॉलिश का उपयोग करने वाली कई महिलाओं की उंगलियां काट दी गई हैं)।

11. महिलाओं पर गैर महरम पुरुषों के साथ बात करने या हाथ मिलाने पर प्रतिबंध

12. महिलाओं के जोर से हंसने पर प्रतिबंध (किसी अजनबी को किसी महिला की आवाज नहीं सुननी चाहिए)।

13. चलते समय शोर करने वाले ऊँची एड़ी के जूते पहनने पर प्रतिबंध। (पुरुष को स्त्री के पदचिन्ह नहीं सुनना चाहिए)।

14. महरम के बिना टैक्सियों में सवारी करने पर महिलाओं पर प्रतिबंध।

15. रेडियो, टेलीविजन या किसी भी प्रकार के सार्वजनिक समारोहों में महिलाओं की उपस्थिति पर प्रतिबंध।

16. खेल केंद्रों या क्लबों में महिलाओं के खेलने या प्रवेश पर प्रतिबंध।

17. महरमों के साथ भी महिलाओं के साइकिल या मोटरबाइक पर सवारी करने पर प्रतिबंध।

18. महिलाओं के चमकीले रंग के कपड़े पहनने पर प्रतिबंध तालिबान के शब्दों में, ये "यौन रूप से आकर्षित करने वाले रंग" हैं।

19. ईद या किसी अन्य मनोरंजन के अवसर पर महिलाओं के एकत्रित होने पर रोक।

20. नदियों के किनारे या सार्वजनिक स्थानों पर महिलाओं के कपड़े धोने पर प्रतिबंध।

21. "महिला" शब्द सहित सभी स्थानों के नामों का संपादन। उदाहरण के लिए, "महिला उद्यान" का नाम "बहार बाग़" रखा गया है।

22. अपार्टमेंट या घरों की बालकनियों पर महिलाओं के आने पर प्रतिबंध।

23. सभी खिड़कियों पर पेंटिंग करना अनिवार्य, ताकि महिलाएं घर के बाहर नजर न आ सकें।

24. पुरुषों के दर्जी पर महिलाओं के नाप लेने या महिलाओं के कपड़े सिलने पर प्रतिबंध।

25. महिलाओं के सार्वजनिक स्नानागार पर प्रतिबंध।

26. एक ही बस में पुरुषों और महिलाओं के एक साथ यात्रा करने पर प्रतिबंध। सार्वजनिक बसों में अब "केवल पुरुष" (या "केवल महिलाएं") लिखा होता है।

27. बुर्का के अंदर भी फैले हुए सलवार पहनने पर पाबंदी।

28. महिलाओं की फोटोग्राफी या वीडियोग्राफी पर प्रतिबंध।

29. अखबारों और किताबों में छपी महिलाओं की तस्वीरें या घरों और दुकानों की दीवारों पर टंगे हुए चित्रों पर भी रोक है।

इसमें आगे कहा गया है कि "महिलाओं पर उपरोक्त प्रतिबंधों के अलावा, तालिबान ने:

1. न केवल महिलाओं के लिए बल्कि पुरुषों के लिए भी संगीत सुनने पर प्रतिबंध लगा दिया गया था।

2. सभी को फिल्में, टेलीविजन और वीडियो देखने से प्रतिबंधित करना।

3. मार्च में पारंपरिक नया साल (नौरूज़) मनाना मना है। तालिबान ने इस छुट्टी को गैर-इस्लामी कहा है।

4. मजदूर दिवस (1 मई) को अस्वीकार कर दिया गया क्योंकि इसे "कम्युनिस्ट" अवकाश माना जाता है।

5. एक आदेश जारी किया गया है कि गैर-इस्लामिक नामों वाले सभी लोगों के अपने लिए इस्लामी नाम होने चाहिए।

6. अफगान युवाओं को बाल कटवाना अनिवार्य है

7. पुरुषों को इस्लामी पोशाक और टोपी पहननी चाहिए।

8. पुरुषों को अपनी दाढ़ी नहीं काटनी चाहिए, दाढ़ी एक मुट्ठी भर होनी चाहिए।

9. सभी लोगों को मस्जिदों में रोजाना की पांच नमाज में शामिल होना चाहिए।

10. कबूतर रखने और पक्षियों के साथ खेलने पर रोक, इसे गैर-इस्लामिक घोषित करते हुए, उल्लंघन करने वालों को कैद की सज़ा और पक्षियों को मार दिया जाएगा। पतंगबाजी भी प्रतिबंधित है।

11. सभी दर्शकों को खिलाड़ियों का उत्साहवर्धन करते हुए अल्लाह अकबर का नारा लगाना चाहिए और ताली बजाने से बचना चाहिए।

12. पतंगबाजी सहित कुछ खेलों पर प्रतिबंध लगाना, जिसे तालिबान "गैर-इस्लामी" कहता है।

13. आपत्तिजनक साहित्य रखने वाले को फांसी दी जाएगी।

14. इस्लाम के अलावा किसी और धर्म को अपनाने वाले को फांसी दी जाएगी।

15. सभी पुरुष छात्रों को पगड़ी पहननी चाहिए। उनका कहना है "अगर पगड़ी नहीं है, तो शिक्षा नहीं,"

16. गैर-मुस्लिम अल्पसंख्यकों को बहुसंख्यक मुस्लिम आबादी से अलग करने के लिए अपने कपड़ों पर एक प्रतीक या एक पीला कपड़ा पहनना चाहिए। जैसा कि नाजियों ने यहूदियों के साथ किया था।

17. आम अफगानों और विदेशियों के लिए इंटरनेट के उपयोग पर प्रतिबंध

 आदि आदि .. "

रावा की रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि महिलाओं के परदे पर एक अध्यादेश तैयार करने के लिए एक विशेष समिति का गठन किया गया था, जिसे कथित तौर पर इस्लामिक स्टेट ऑफ अफगानिस्तान के उच्च न्यायालय की नौ सदस्यीय पेशेवर समिति द्वारा जारी किया गया था, जो इस प्रकार है:

* "जो परदे का इनकार करता है वह काफ़िर है और बेनकाब रहने वाली महिला बदकार है"

* "निकाब पहनने की शर्तें:

* पर्दा पूरे शरीर को ढंकना चाहिए।

*महिलाओं के कपड़े पतले नहीं होने चाहिए।

* महिलाओं के कपड़े सजे संवरे और रंगीन नहीं होने चाहिए।

* महिलाओं के कपड़े चुस्त और टाइट नहीं होने चाहिए ताकि उत्तेजक अंग दिखाई न दें। पर्दा महीन कपड़े का नहीं होना चाहिए।

* महिलाएं परफ्यूम न लगाएं। अगर कोई महिला इत्र लगा कर पुरुषों के पास से गुजरती है, तो उसे व्यभिचारी (जानी) माना जाएगा।

* महिलाओं के कपड़े पुरुषों के कपड़ों के समान नहीं होने चाहिए।

"उसके अलावा,

* महिलाएं परफ्यूम न लगाएं।

* वह ज़ेब व ज़ीनत वाले कपड़े न पहने।

* वह पतले कपड़े न पहने।

* वह टाइट और चुस्त कपड़े न पहने।

* वे अपने पूरे शरीर को ढक कर रखें।

उनके कपड़े पुरुषों के कपड़े के समान नहीं होने चाहिए।

* मुस्लिम महिलाओं के कपड़े गैर-मुस्लिम महिलाओं के कपड़ों के समान नहीं होने चाहिए।

* उनके पांवों के गहनों का शोर न करना।

* वे बहुत सुंदर कपड़े न पहनें।

* वह सड़क के बीच में न चलें।

* वह पति की आज्ञा के बिना घर से बाहर न निकलें।

* वह किसी अजनबी मर्द से बात न करें।

* बोलना जरूरी हो तो बिना हंसे धीमी आवाज में बोलें।

*वे अजनबियों की तरफ न देखें।

* वह अजनबियों के साथ मेल जोल न करें।"

स्रोत: http://www.rawa.org/rules.htm

RAWA सर्वेक्षण के परिणामों और महिलाओं के अधिकारों की रक्षा के लिए तालिबान के प्रवक्ताओं द्वारा किए गए वादों को देखते हुए, यह आकलन करना मुश्किल नहीं है कि तालिबान में सुधार की संभावना नहीं है और यह कि अफगान महिलाओं की सबसे बुरी आशंका सच हो सकती है।

--------------

Related Article:

Taliban Are Unlikely To Reform: Afghan Women’s Greatest Fears May Realise even under Taliban 2.0 طالبان میں اصلاح کا امکان نہیں: افغان خواتین کو جن باتوں کا خوف ہے وہ طالبان کی اس حکومت میں بھی سچ ثابت ہو سکتے ہیں

Taliban Are Unlikely To Reform: Afghan Women's Greatest Fears May Realise even under Taliban 2.0

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/taliban-afghan-women-reform/d/125325

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..