New Age Islam
Tue Sep 28 2021, 01:10 AM

Hindi Section ( 17 Aug 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

A Taliban Leader Gives out Taliban’s Plans for Indian Kashmir एक तालिबानी नेता ने तालिबान की कश्मीर योजनाओं का खुलासा किया

कश्मीरी नेता का कहना है कि भारत को कश्मीर छोड़ना होगा

प्रमुख बिंदु:

1. यह इंगित करता है कि तालिबान निकट भविष्य में कश्मीर के अंदर आतंकवादी गतिविधियों को बढ़ाने की योजना बना रहा है।

2. अब भारत का इत्मीनान खत्म होनी चाहिए

3. भारत को अफगानिस्तान में चुनौतियों के मद्देनजर एक रक्षा रणनीति विकसित करने की आवश्यकता है

------------

न्यू एज इस्लाम स्टाफ लेखक

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट के अनुसार, हाल ही में पाकिस्तान के उर्दू दैनिक उम्मत के साथ एक साक्षात्कार में अफगान तालिबान ने कश्मीर पर अपने इरादे स्पष्ट कर दिए हैं और भारत को खबरदार हो जाना चाहिए। तालिबान नेता फारूक रहमानी ने दो टूक कहा है कि ''जैसा अफगानिस्तान में हुआ है, कब्जे वाली ताकतों को कश्मीर भी छोड़ना होगा।'' उन्होंने कहा, "अफगानिस्तान से अमेरिका और नाटो बलों की वापसी और तालिबान की पेश कदमी कब्जे वाले कश्मीर के उत्पीड़ित मुसलमानों के लिए आशा की किरण बन गई है।" कुल जमाती हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के संयोजक फारूक रहमानी और अन्य कश्मीरी 'स्वतंत्रता सेनानियों' ने अफगानिस्तान में तालिबान की पेश कदमी को भारत के लिए खतरे का संकेत बताया है।

कुल जमाती हुर्रियत कॉन्फ्रेंस के संयोजक फारूक रहमानी ने भी कहा, "हमें उम्मीद है कि तालिबान लड़ाकों के आगे बढ़ने से क्षेत्र और दुनिया के लिए सकारात्मक परिणाम आएंगे।"

इससे पहले अफगान सरकार ने तालिबान को आगे बढ़ने से रोकने के लिए भारत से सैन्य सहायता मांगी थी।

Pakistan Urdu Daily Ummat

------

इस साक्षात्कार से भारत की आंखें खुल जानी चाहिए और उसकी शांति समाप्त हो जानी चाहिए। अगर तालिबान अफगानिस्तान में सत्ता में आता है, तो वे निश्चित रूप से भारत के विरुद्ध मोर्चा खोलेंगे। पाकिस्तान खुले तौर पर अफगानिस्तान में तालिबान का समर्थन कर रहा है और इसके लिए उसने पहले ही लश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकवादी संगठनों को अफगान सरकार के खिलाफ मदद करने के लिए अफगानिस्तान में स्थानांतरित कर दिया है और भारतीय हस्तक्षेप के मामले में भारत के साथ लड़ता है। बदले में पाकिस्तान कश्मीर में तालिबान का इस्तेमाल करना चाहता है। यह साक्षात्कार भविष्य में तालिबान और पाकिस्तान के खतरनाक इरादों को उजागर करता है। अफगानिस्तान में कड़ा कदम उठाने के बाद तालिबान कश्मीर में अपनी सैन्य गतिविधियां बढ़ाएगा।

भारत ने अफगानिस्तान में अरबों रुपये का निवेश किया है और पाकिस्तान राजनीतिक और आर्थिक रूप से अफगानिस्तान में भारत को खत्म करने की कोशिश करेगा। अफगानिस्तान के साथ भारत के प्रमुख व्यापारिक हित हैं। अब तक, भारत के व्यापार और आर्थिक हितों को संयुक्त राज्य अमेरिका और नाटो की उपस्थिति से संरक्षित किया गया है। लेकिन अब जबकि अमेरिका और नाटो चले गए हैं, भारत को अपनी कूटनीतिक और रक्षा रणनीति तय करने की जरूरत है ताकि वह अपने अरबों के निवेश को बचा सके।

इस संबंध में भारत को रूस से कुछ सबक सीखने की जरूरत है। जब संयुक्त राज्य अमेरिका और सऊदी अरब के इरादों के कारण सीरियाई गृहयुद्ध के दौरान उसके व्यापार और आर्थिक हित दांव पर थे, रूस ने एक दृढ़ और निर्णायक रुख अपनाया कि अगर संयुक्त राज्य अमेरिका और सऊदी अरब ने सीरिया पर हमला किया तो वह चुप नहीं रहेगा बल्कि क्षेत्र में अपने निवेश की रक्षा के लिए युद्ध शुरू कर देगा। पुतिन ने अपनी सेना को सतर्क रहने का भी आदेश दिया, जिसका अर्थ है कि वह एक निर्णायक लड़ाई के लिए पूरी तरह से तैयार था। इस आक्रामक रुख ने उस दिन रूस को बचा लिया और संयुक्त राज्य अमेरिका ने सीरिया पर आक्रमण करने और उसे नष्ट करने की हिम्मत नहीं की। क्या भारत अफगानिस्तान में अपने हितों की रक्षा के लिए इतनी हद तक जाएगा? यह केवल समय ही बताएगा।

----------------

Related Article:

A Taliban Leader Gives out Taliban’s Plans for Indian Kashmir ایک طالبان لیڈر نے انٹرویو میں کشمیر کے لیے طالبان کے منصوبے ظاہر کئے

A Taliban Leader Gives out Taliban’s Plans for Indian Kashmir in an Interview with the Pro-Taliban Urdu Daily of Pakistan, Ummat

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/taliban-afghanistan-kashmir-pakistan/d/125233

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..