New Age Islam
Tue Nov 30 2021, 02:08 AM

Hindi Section ( 3 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Islamophobia Watch: 30 Mosques Shut Down In Less Than One Year for Harbouring Extremists इस्लामोफोबिया वाच: चरमपंथियों को पनाह देने की वजह से एक साल से भी कम समय में फ्रांस की 30 मस्जिदें बंद

फ्रांसीसी सरकार की कार्रवाई इस्लामोफोबिया से प्रभावित प्रतीत होती है

प्रमुख बिंदु:

1. सरकार ने 24,000 सांस्कृतिक और धार्मिक संगठनों का भी निरीक्षण किया है

2. 30 मस्जिदों को चरमपंथियों को पनाह देने के लिए बंद कर दिया गया है

3. सरकार ने कथित तौर पर चरमपंथियों को पनाह देने के लिए 650 गैर सरकारी संगठनों और अन्य धार्मिक संगठनों को भी बंद कर दिया है।

------

न्यू एज इस्लाम संवाददाता

1 अक्टूबर, 2021

(Photo courtesy: aa.com)

-----

पिछले साल अक्टूबर में एक मुस्लिम युवक द्वारा इतिहास के प्रोफेसर सैमुअल पेटी की हत्या के बाद से फ्रांस सरकार ने देश में इस्लामी चरमपंथ पर नकेल कसने के अपने प्रयास तेज कर दिए हैं। फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों ने एक कदम और आगे बढ़ते हुए कहा कि इस्लाम समग्र रूप से संकट के दौर से गुजर रहा है। इसीलिए फ्रांस सरकार ने देश में चरमपंथ पर अंकुश लगाने के लिए कई उपायों का आह्वान किया। उनकी सरकार ने गैर सरकारी संगठनों और धार्मिक संगठनों के अलावा, देश में मुसलमानों और उनके पूजा स्थलों के खिलाफ एक अभियान शुरू किया है।

अब, फ्रांस के आंतरिक मंत्री जेराल्ड डार्मेनीयन के अनुसारनिरीक्षण किये गए 89 मस्जिदों में से एक तिहाई अर्थात 30 मस्जिदों को  आतंकवादियों को शरण देने के लिए बंद कर दिया गया है। निकट भविष्य में छह और मस्जिदों को बंद कर दिया जाएगा।यह निरीक्षण नवंबर 2020 को शुरू हुआ था।

मस्जिदों के अलावा, सरकार ने चरमपंथियों को पनाह देने के आरोप में 650 गैर सरकारी संगठनों और अन्य धार्मिक संगठनों को बंद कर दिया है। फ्रांस की पुलिस ने कुल 24,000 जगहों का निरीक्षण किया है।

यह भी ध्यान देने योग्य है कि सरकार ने स्ट्रासबर्ग में निर्माणाधीन एक मस्जिद के निर्माण पर भी रोक लगा दी है, भले ही मस्जिद के आयोजकों को फ्रांसीसी अधिकारियों से मंजूरी मिल गई थी।

विपक्ष के विरोध के बीच इस साल अगस्त में अलगाववाद विरोधी कानून पारित किया गया था। कानून के तहत, राजनीतिक इस्लाम को बढ़ावा देने वाले संगठन सरकार के नियंत्रण में हैं। राजनीतिक इस्लाम को बढ़ावा देने के आरोप में पांच राजनीतिक संगठनों को बंद कर दिया गया है, और निकट भविष्य में दस और बंद हो सकते हैं।

यह एक तथ्य है कि फ्रांस में कट्टरपंथी तत्व और कट्टरपंथी इस्लामी संगठनों के सदस्य फ्रांसीसी मुस्लिम युवाओं के बीच उग्रवाद को बढ़ावा देते रहे हैं। दूसरी ओर, उनके अतिवाद ने इस्लामोफोबिया को बढ़ावा दिया। अलगाववादी कानून का उद्देश्य राजनीतिक इस्लाम पर अंकुश लगाना है जिसे इन चरमपंथी संगठनों ने बढ़ावा दिया है। लेकिन फ्रांस और वामपंथी विपक्ष के साथ-साथ संयुक्त राष्ट्र का मानना है कि कानून मुसलमानों को और हाशिए पर डाल देगा।

यह कानून मुस्लिम बच्चों को होम स्कूलिंग से रोकता है। इससे घर में रहने वाले मुस्लिम बच्चों की बुनियादी इस्लामी शिक्षा बाधित होगी। यह मुसलमानों के धार्मिक अधिकारों का हनन है। यह नागरिकों के निजी जीवन में भी हस्तक्षेप है।

कानून का एक और हिस्सा मरीजों को धार्मिक कारणों से लिंग के आधार पर डॉक्टरों को चुनने से रोकता है।

ये कानून नागरिकों के व्यक्तिगत अधिकारों का उल्लंघन करते हैं और विपक्ष समेत मानवाधिकार संगठनों ने इन कानूनों को अल्पसंख्यक अधिकारों का उल्लंघन बताया है।

तथ्य यह है कि फ्रांसीसी सरकार ने 89 में से 30 मस्जिदों को चरमपंथियों के लिए एक आश्रय स्थल पाया है, यह एक इस्लामोफोबिक अभियान प्रतीत होता है। इसका मतलब यह होगा कि एक तिहाई मस्जिदें चरमपंथियों को पनाह दे रही थीं। यह बात बेमानी लगती है क्योंकि अगर यह सच है तो चरमपंथी कहां हैं? सरकार ने अतिवादियों या आतंकवादियों की कोई गिरफ्तारी नहीं की है।

सरकार ने 24,000 सांस्कृतिक और धार्मिक संगठनों का भी निरीक्षण किया है और उनमें से 650 को बंद कर दिया गया है। यह भी इस्लामोफोबिया पर आधारित लगता है। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अल्पसंख्यक संस्थानों की निगरानी के लिए सरकार के पास पहले से ही तंत्र और कानून हैं। यह दिलचस्प है कि सरकार इतनी सारी मस्जिदों और संगठनों को क्यों राजनीतिक इस्लाम और उग्रवाद को बढ़ावा देने के लिए वाला समझती है।

सरकार का दावा है कि कानून का उद्देश्य फ्रांस की धर्मनिरपेक्ष व्यवस्था को मजबूत करना है, लेकिन विश्लेषकों का कहना है कि यह धार्मिक स्वतंत्रता को सीमित करता है और मुसलमानों को पसमांदा करता है।

यह कानून सरकार की अनुमति के अधीन बनाकर होम स्कूलिंग को मुसलमानों की शिक्षा की पसंद को भी सीमित करता है।

इस कानून के तहत, मरीजों को धार्मिक या अन्य कारणों से अपने डॉक्टरों को चुनने से रोक दिया गया है, और सभी सरकारी कर्मचारियों के लिए "धर्मनिरपेक्ष शिक्षा" को अनिवार्य कर दिया गया है।

अंतरराष्ट्रीय संगठनों और गैर सरकारी संगठनों, विशेष रूप से संयुक्त राष्ट्र ने, कानून द्वारा मुसलमानों को निशाना बनाने और हाशिए पर रखने के लिए फ्रांस की आलोचना की है।

प्रत्येक देश को अपनी सुरक्षा सुनिश्चित करने का अधिकार है, लेकिन उसे ऐसे कानून बनाने का समर्थन नहीं करना चाहिए जो उसके अल्पसंख्यकों, विशेष रूप से मुसलमानों को लक्षित या हाशिए पर डाल दें। चरमपंथ और आतंकवाद से लड़ना होगा, लेकिन पूरे मुस्लिम समुदाय को अलग-थलग करके और पूरे समुदाय को बदनाम करके नहीं, बल्कि उन्हें इस लड़ाई में साथ लेकर चलना होगा। उग्रवाद और राजनीतिक इस्लाम से लड़ने के नाम पर फ्रांसीसी सरकार द्वारा उठाए गए कदम मुसलमानों में इस्लामोफोबिया और अलगाववाद को और बढ़ावा देंगे और देशभक्त फ्रांसीसी मुसलमानों में उत्पीड़न और असुरक्षा की भावना पैदा करेंगे।

English Article: Islamophobia Watch: 30 Mosques Shut Down In Less Than One Year for Harbouring Extremists

Urdu Article: Islamophobia Watch: 30 Mosques Shut Down In Less Than One Year for Harbouring Extremists اسلاموفوبیا واچ: انتہا پسندوں کو پناہ دینے پر ایک سال سے بھی کم میں 30 مساجد بند

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/france-mosque-islamophobia-extremists/d/125706

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..