New Age Islam
Fri Jul 01 2022, 05:39 AM

Hindi Section ( 23 Feb 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

On The Hijab Controversy हिजाब का हालिया विवाद

नसीर अहमद, न्यू एज इस्लाम

17 फरवरी, 2022

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

हिजाब एक मुसलमान औरत का केवल धार्मिक लिबास ही नहीं है बल्कि महिलाओं की पारसाई का एक मेयार भी है

प्रमुख बिंदु:

1. हिजाब केवल मुस्लिम महिलाएं ही नहीं बल्कि ईसाई राहिबाएं और विभिन्न हिन्दू महिलाएं आदि भी पहनती हैं

2. पर्दा यूरोप में उच्च वर्ग की महिलाएं भी पहनती थीं

3. निकट अतीत में निचले वर्ग की महिलाओं को अपने सीनों का पर्दा करने की अनुमति नहीं थी और अगर ऐसा करने की कोशिश करती थीं तो उन पर जुर्माना लगाया जाता था उन्हें सख्त दी जाती थी।

---------------

Representative Photo: from the files

------

हिजाब न केवल मुस्लिम महिलाओं का एक धार्मिक पहनावा है, बल्कि पारसाई का एक मानक भी है जो न केवल मुस्लिम महिलाओं द्वारा बल्कि ईसाई ननों और कई हिंदू महिलाओं द्वारा भी पहना जाता है। यूरोप में उच्च वर्ग की महिलाओं द्वारा भी पर्दा किया जाता था। शरीर के जिन अंगों को ढकने की आवश्यकता होती है, उन्हें सार्वजनिक शालीनता और अनुशासन की आवश्यकता हो सकती है, लेकिन यदि किसी महिला की पारसाई के लिए उसके शरीर के किसी भी हिस्से को ढंकने की आवश्यकता होती है, तो उसे नग्न रखने की मांग केवल अश्लीलता है।

हाल के दिनों में, निम्न वर्ग की महिलाओं को अपने सीनों को ढंकने की अनुमति नहीं थी और अगर वह ऐसा करने की कोशिश करतीं तो उन पर जुर्माना लगाया जाता था या कड़ी सजा दी जाती थी। ऐसी महिलाएं भी हैं जो इस बात से नाराज हैं कि पुरुष अपने ऊपरी शरीर को उजागर कर सकते हैं जब कि उन्हें सार्वजनिक रूप से अपने सीनों को ढंकने के लिए मजबूर किया जाता है। आज के प्रचलित सामाजिक मानदंडों को देखते हुए, यह मांग करना अपमानजनक होगा कि महिलाओं को अपने सीनों को स्विमिंग पूल आदि में नहीं ढंकना चाहिए, हालांकि कई महिलाएं इस तरह के सिद्धांत का समर्थन कर सकती हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि अभी भी कई महिलाएं हैं जो ऐसा नहीं करती हैं। एक समय ऐसा भी आ सकता है कि ऐसी महिलाएं कम ही रह जाएं जो अपनी छाती खोलने से हिचकिचाती हैं, जब कि ऐसा कोई कानून भी लागू हो सकता है।

सिद्धांत रूप में, ऐसा कोई नियम या कानून नहीं होना चाहिए जिसके लिए एक महिला को अपने शरीर के किसी भी हिस्से को उजागर करने की आवश्यकता हो जिसे उसकी हया और पारसाई छिपाने की मांग करे। दूसरों को यह इख्तियार नहीं है कि वह फैसला करें कि महिला के किस हिस्से को उजागर किया जाना चाहिए, जबकि सार्वजनिक अनुशासन और शालीनता का सिद्धांत यह तय करता है कि व्यक्ति को किन हिस्सों को ढंकना चाहिए।

जब कुरआन कहता है कि "दीन में कोई जबरदस्ती नहीं है" (आयत 2:256), तो यह तर्क दिया जा सकता है कि इस्लाम में कुछ भी आवश्यक नहीं है क्योंकि किसी भी चीज़ में कोई जबरदस्ती नहीं है! हालांकि, इसका मतलब यह नहीं है कि एक व्यक्ति धर्म के मामलों में दूसरे को मजबूर करेगा या यह कि हर कोई अपनी समझ के अनुसार अपने धर्म का पालन करने के लिए स्वतंत्र है। किसी चीज को दूसरे पर थोपा नहीं जा सकता। इसलिए, आवश्यकता का निर्धारण करना गलत है। प्रत्येक व्यक्ति को अपनी समझ के अनुसार अपने धर्म का पालन करने का अधिकार है, जब तक कि यह दूसरों को नुकसान न पहुंचाए।

Representative Photo

------

जो तर्क पेश किये जा रहे हैं वह निराशाजनक हैं हिजाब पहनने को हथियार लेकर चलने के साथ तुलना करना एक बेकार तुलना की तार्किक गलती है! आरिफ मोहम्मद खान का यह तर्क कि केवल इस्लाम के पांच स्तंभ ही इस्लाम में आवश्यक हैं, इस्लाम से उनकी अज्ञानता को स्पष्ट करता है। इस्लाम के पांच स्तंभ का सम्बन्ध फिकह से है कुरआन से नहीं। कुरआन एक मुकम्मल हयात का जाब्ता है जिसमें जीवन के हर पहलु का घेराव किया गया है और तमाम जाब्ते मुत्तकी और परहेजगार मुसलमान के लिए दुनिया और आखिरत की कामयाबी के लिए आवश्यक हैं। हिजाब (न कि बुर्का), जैसा कि पुरी दुनिया में मुस्लिम महिलाएं सदियों से पहनती आई हैं, कुरआन की आयत 24:31 में महिलाओं की पारसाई के स्पष्ट जाब्ते के मुताबिक़ है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है कि जिनके अपने एजेंडे हैं वह आयत की अलग अलग अंदाज़ में व्याख्या करना पसंद करते हैं। वह अपनी ज़िन्दगी में अपनी समझ के अनुसार अमल करने के लिए आज़ाद हैं।

मैंने एक 70 वर्षीय व्यक्ति को एक टीवी चर्चा में यह कहते सुना कि उनके समय में उसकी कक्षा में मुस्लिम छात्रा हिजाब नहीं पहनती थीं। उन्होंने यह नहीं बताया कि उन्होंने किस कॉलेज में पढ़ाई की है। यह वह समय था जब कॉलेज शिक्षा में महिलाओं की भागीदारी बहुत कम थी और मुस्लिम महिलाओं की इससे भी कम। इसके अलावा, मुस्लिम महिलाएं केवल लड़कियों/महिलाओं के स्कूलों/कॉलेजों में जाना पसंद करती हैं और शायद ही कभी सह-शिक्षा प्रणाली वाले स्कूलों/कॉलेजों में जाना पसंद करती हैं। यह बात वाजिब है कि जिन लोगों को सह-शिक्षा प्रणाली के साथ कॉलेज जाने में कोई आपत्ति नहीं थी, वह अतीत में पर्दे को आवश्यक नहीं समझती होंगी।

उच्च शिक्षा में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी पिछले एक दशक में दोगुनी हो गई है और यह संभव नहीं होता अगर उन्होंने मिश्रित शिक्षा प्रणाली वाले स्कूलों/कॉलेजों में जाने की अपनी हिचकिचाहट को ख़त्म नहीं करतीं। यह हिजाब पहनने की स्वतंत्रता थी जिसने इन लड़कियों में से कई को अपने घरों से बाहर निकलने के लिए प्रेरित किया और अगर इस पर प्रतिबंध लगा दिया गया तो यह एक पीछे हटने वाला कदम होगा और इनमें से कई लड़कियां अपने घरों में रहने के लिए मजबूर हो जाएंगी। यह विकास और आधुनिकता के लक्ष्य को फायदे से ज्यादा नुकसान पहुंचाएगा। महिलाओं को अपनी मर्जी से वही पहनने की आजादी दी जाए जिसमें बेतकल्लुफ हों।

Representative Photo: From the Files

------

जबकि कुछ महिलाओं को प्रचलित पितृसत्तात्मक व्यवस्था के कारण हिजाब पहनने के लिए मजबूर किया जा सकता है, लेकिन सभी महिलाओं को एक ही नजरिए से देखना सही नहीं है। कई महिलाएं स्वेच्छा से हिजाब पहनती हैं क्योंकि इससे उन्हें घर छोड़ने की आजादी मिलती है जिसके बिना उन्हें घर के अंदर रहने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। मेरे अपने परिवार में, मेरी सास ने कभी हिजाब नहीं पहना था और मेरी पत्नी ने 25 साल की उम्र तक हिजाब नहीं पहना था। लेकिन जब उन्होंने अचानक बुर्का पहनना शुरू किया तो मैं हैरान रह गया। यह बदलाव हमारे बच्चों के स्कूल जाने के बाद आया क्योंकि उन्हें अक्सर घर से बाहर जाना पड़ता था। मैंने उन्हें बुर्का छोड़ने के लिए राजी किया क्योंकि यह मुझे परेशान करता था लेकिन फिर उन्होंने हिजाब अपनाया और उस पर चल पड़ी। मैं ऐसी कई महिलाओं को जानता हूं जिन्होंने तब तक हिजाब नहीं पहना था जब तक उनके पास नौकरी नहीं थी या जब उनके लिए अक्सर घर से बाहर आना जरूरी नहीं था। हिजाब ऐसी महिलाओं को आजादी देता है। मैं यह कहने की हिम्मत करता हूं कि अगर हिजाब मुस्लिम महिलाओं की धार्मिक पोशाक का प्रतीक नहीं होता, तो कई गैर-मुस्लिम महिलाओं ने इसे अपनाया होता और इसमें उतनी ही स्वतंत्रता महसूस होती।

मेरी राय में, अदालतों को हिजाब पर प्रतिबंध लगाने के बजाय यथास्थिति की बहाली का आदेश देना चाहिए था, क्योंकि लड़कियों को अगले आदेश तक हिजाब पहनने से रोकना उन्हें स्कूलों/कॉलेजों से बाहर रखने के समान है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है क्योंकि इसकी वजह से कई लड़कियां अपनी परीक्षा देने में असफल रही हैं। मुझे उम्मीद है कि लोग समझदारी से काम लेंगे और हम महिलाओं को यह आदेश देना बंद कर देंगे कि उन्हें क्या बेनकाब करना चाहिए।

English Article: On The Hijab Controversy

Urdu Article: On The Hijab Controversy حجاب کا حالیہ تنازع

Malayalam Article: On The Hijab Controversy ഹിജാബ്വിവാദത്തെക്കുറിച്ച്

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/religious-clothing-hijab-controversy-female-modesty/d/126437

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..