New Age Islam
Sun Oct 24 2021, 04:48 AM

Hindi Section ( 7 Jun 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

False Authority of Men over Women: Part 2 महिलाओं पर पुरुषों की झूठी फ़ज़ीलत: भाग-२

मौलवी मुमताज़ अली की माया नाज़ तसनीफ हुकूके निसवां

उर्दू से अनुवादन्यू एज इस्लाम

पहला तर्कजो शारीरिक शक्ति के गुण पर आधारित हैकेवल एक निराधार कथन है जिस पर किसी भी तरह से तर्क नहीं दिया जा सकता है। हम मानते हैं कि पुरुषों में महिलाओं की तुलना में अधिक शारीरिक शक्ति होती है। लेकिन यह कैसे साबित हो सकता है कि शारीरिक ताकत ही एकमात्र ऐसी चीज है जो पुरुषों को एक इंसान के रूप में महिलाओं पर गरिमा और श्रेष्ठ बनाती है?

मजबूत अंगों के लिए ताकत का काम और कमजोर अंगों के लिए आराम का काम भी स्पष्ट है। कौन कहता है कि कड़ी मेहनत और मुशक्कत के काम पुरुषों को नहीं देनी चाहिए। पुरुषों को लगन से मेहनत करनी चाहिए। पहाड़ों को काटें। पेड़ों को काटें। इंसानों का गला काट दें या जो कुछ भी वे अपनी कठोरता और दिल की सख्ती से चाहते हैंलेकिन सवाल यह है कि क्या ऐसे कार्यों की शक्ति उन्हें किसी सच्चे गुण या सम्मान का दावा देती है। जिसका उत्तर उपरोक्त तर्क में नहीं है। हमारे प्रश्न का उत्तर और यह तर्क कि उपरोक्त अजीबोगरीब बेबसी और लाचारी को उसकी संपूर्णता में देखा जा सकता हैइस तथ्य में देखा जा सकता है कि पुरुषों और महिलाओं के बीच प्रतिस्पर्धा करने के बजाय पुरुषों और मवेशियों के बीच प्रतिस्पर्धा करने के लिए एक ही तर्क दिया जा सकता है। उन्हें पुरुषों की तुलना में अधिक शारीरिक शक्ति दी गई हैइसलिए यदि पुरुषों पर उनकी श्रेष्ठता हैतो इस तर्क को स्वीकार करना होगा। दोनों तार्किक तर्क सही हैं और एक सही निष्कर्ष के लिए सभी शर्तें मौजूद हैं और परिणाम भी सही है। तोउपरोक्त तर्क के आधार परयदि पुरुषों की महिलाओं पर कोई श्रेष्ठता है (बशर्ते इसे सद्गुण शब्द से व्याख्या करना जायज़ हो)तो यह वही है जैसे चौपाए पुरुषों पर श्रेष्ठता रखते हैं। लेकिन अगर गधे में इतनी भारी बोरी ढोने की ताकत है जिसे आदमी नहीं उठा सकतातो गधा अपनी श्रेष्ठता साबित नहीं करता हैतो पुरुष इस बात से अपनी श्रेष्ठता साबित नहीं कर सकते कि उनके पास महिलाओं की तुलना में कठिनाइयों को सहन करने की अधिक शक्ति है।

आसानी के लिए और याद करने के लिए हम इस तर्क को एक अलग तरीके से दिखाते हैं। इस बारे में सोचें कि एक पुरुष और एक महिला के बीच प्रतिस्पर्धा करने का क्या मतलब है। इसमें कोई शक नहीं है कि पुरुष और महिलाएं हैवानियत में तो शामिल हैं ही। और उन्हें पुरुष-इंसान और महिला-इंसान या संक्षेप मेंहैवानियत के संदर्भ में पुरुष और महिला नहीं कहा जाता है। बल्कि इंसान से जिसमें पुरुष और महिला दोनों शामिल हैं। मुराद है हैवान+मजबूत नफ्से नात्का या इस प्रकार कहो कि हैवान कुछ ज़्यादा चीजों के साथ। पस यह ही चीज अधिक है। जिसने हैवान को उंचा कर के मानवता के स्तर तक पहुंचाया है और उनमें मुकाबला करने से मकसूद यह है कि क्या इंसान के दोनों अफराद हैवानियत से तरक्की कर के बराबर स्तर पर पहुंचे हैं। या आदमी अधिक ऊंचाई पर पहुंच गया है। लेकिन पहला तर्क इस बिंदु पर बिलकुल खामोश है। यह केवल यह दर्शाता है कि आदमी का डील डोल अधिक मजबूत है। हड्डियाँ सख्त होती हैं। पैर मजबूत हैं। हालांकिइन मामलों को इस "अतिरिक्त" में शामिल नहीं किया गया है। बल्किवे हैवानियत से संबंधित हैं। जिसमें पुरुष और महिला प्रतियोगिता की आवश्यकता नहीं है।

सभी जानते हैं कि स्त्री और पुरुष हैवान की प्रजाति हैं। अल्लाह पाक ने हैवान में हैवानी लक्षणों की गति और रक्तपात और आतंक और क्रोध को कम करके और अपनी हिकमत से उसमें मलकूती ताकत रख कर हैवान की एक नई किस्म बनाई है जिसका नाम इंसान रखा है। पस पुरुष और महिला के मुकाबले से उन्हें मलकूती ताकत में मुकाबला उद्देश्य है न हैवानी गुड़ों में पुरुष की फजीलत या ज्यादती साबित करना इंसानी गुण के लिहाज़ से उनकी रिजालत साबित करना है।

दूसरेभले ही यह स्वीकार किया जाए कि शारीरिक शक्ति के मामले में पुरुषों की महिलाओं पर श्रेष्ठता हैलेकिन यह निर्णायक रूप से साबित नहीं होता है कि पुरुषों ने यह शक्ति स्वभाव से हासिल की है या उस सभ्यता ने उन्हें विशेष रूप से मजबूत बनाया है। जहां तक बाहरी कारणों का संबंध हैयह स्पष्ट है कि शारीरिक शक्ति की कमी स्त्री और पुरुष दोनों में स्वाभाविक नहीं है। इसके विपरीतविशेष प्रकार की सभ्यताओं और समाजों ने हजारों शताब्दियों के बाद ऐसे मतभेद पैदा किए हैंजैसे समय के साथ विभिन्न कौमों में ऐसे अस्थायी मतभेद पैदा हुए हैं। क्या कारण है कि काबुल के अफरीदी इतने मजबूत और शक्तिशाली हैं और कलकत्ता के बाबू आमतौर पर बोदे और फुसफुसे होते हैं। क्या कारण है कि पंजाब के सिखों को हरब्रन पंजाब कहा जाता है और भारत के बनिए अपनी नामर्दी और डरपोक होने लिए मिसाल है। महिलाओं को कमजोर करने वाले कारण इसमें कोई शक नहीं कि उनके कार्य उस समय से पहले के हैं जब बंगालियों या बनियों की कमजोरी के कारण शुरू हुए। इस कथन की पुष्टि कि पुरुषों और महिलाओं में ताकत की कमी बहुत स्वाभाविक नहीं है। बल्कियह अस्थायी और आकस्मिक कारणों का परिणाम है। हालांकि दुनिया भर में महिलाएं एक निश्चित प्रकार का जीवन जीती हैंकई सांस्कृतिक परिस्थितियों में अंतर के कारणविभिन्न देशों और राष्ट्रों की महिलाओं की मजबूत शारीरिक शक्ति में कोई अंतर नहीं पाया जाता है। गज़नी और रहरात की महिलाओं की मजबूत शारीरिक शक्ति की तुलना करें।दिल्ली और लखनऊ की पत्नियों से पता चलेगा कि यह अंतर व्यक्तिगत और खल्की नहीं है जितना यह सांस्कृतिक है। कहने का तात्पर्य यह है कि महिलाओं की यह कमजोरी इस तथ्य के कारण है कि महिलाओं को पुरुषों की तुलना में निचले स्तर पर रखने से उनकी ताकत कमजोर और निलंबित और धीरे-धीरे नष्ट हो जाती है।

पहले तर्क का दूसरा भाग या इस तर्क के पहले भाग का परिणाम जो इन शब्दों में निकला है कि साम्राज्य बल का परिणाम हैऔर भी बेतुका और गलत विचार है। मानव सभ्यता के प्रारंभिक दिनों मेंजब दुनिया भयावहता और अज्ञानता से भरी थीऔर मनुष्य के सांस्कृतिक अधिकार और समाज के तरीके विषय नहीं थे। हर मामला जो लाभदायक माना जाता थाउसी प्राचीन जंगली सिद्धांत द्वारा तय किया गया था कि "जिसकी लाठी उसकी भैंस है" (जारी)

--------

False Authority of Men over Women: Part 1 औरतों पर पुरुषों की झूठी फ़ज़ीलत: भाग-१

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/false-authority-men-women-part-2/d/124948

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism

 

Loading..

Loading..