New Age Islam
Wed Jun 23 2021, 01:17 PM

Hindi Section ( 25 May 2017, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Is A Punishment Possible on Triple Talaq? क्या तीन तलाक पर सजा संभव है?

 

मौलाना हुसैन अहमद कासमी

12 मई, 2017

शरीअत में तलाक को '' अब्गजुल मुबहात '' यानी वैध चीजों में सबसे नापसंद करार दिया गया है लेकिन चूँकि अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में अक्सर विवाद पैदा हो जाती है और पति-पत्नी के हर समय साथ रहने के कारण विवाद की संभावना अधिक होती है, इसलिए जब इस विवाद के परिणाम में घृणा इस स्थिति तक पहुँच जाए कि सुधार की सारी कोशिशें नाकाम हो जाए और अल्लाह की हद पर कायम रहते हुए वैवाहिक जीवन बिताना मुश्किल हो जाए, तो अंतिम निर्णय के रूप में अलग होने के लिए इस्लामी शरीअत ने पुरुष को तलाक का विकल्प दिया है, और तलाक का सबसे अच्छा तरीका बताया कि ऐसी पाकी की स्थिति में जिसमें एकीकरण की नौबत नहीं आई हो, एक तलाक और बस, अधिक की जरूरत नहीं है। इद्दत गुजरने के बाद पत्नी अपने मर्ज़ी की मालिक हो जाएगी, और यह तरीका भी औचित्य के दायरे में आता है कि अलग अलग तुहूर में तीन तलाकें दे, लेकिन यह तरीका तो अवैध है कि कोई अपनी पत्नी को एक साथ तीन तलाकें दे, क्योंकि इसके परिणाम समाज के लिए बहुत ही विनाशकारी हैं, तो क्या वैध तरीका एक साथ तीन तलाक देने पर सज़ा निर्धारित की जा सकती है? किस प्रकार की सजा तय की जा सकती है और किस तरह की नहीं?

जब हम उस पर विचार करते हैं तो यह बात सामने आती है कि सजा दो तरह की हैं, निर्धारित और गैर निर्धारित शरीअत में कुछ अपराधों के प्रतिबद्धता के लिए सजा को निर्धारित कर दिया गया है, उनके अपराध की प्रतिबद्धता के लिए वह निर्धारित सजा समय का हाकिम अपराधी को देगा, इसमें कमी या बेशी का अधिकार किसी को नहीं है, ऐसी सजा को हुदूद कहा जाता है जैसे, जिना की हद, चोरी की हद और शराब की हद आदि, और जिन अपराध पर शरीअत ने कोई सज़ा लागु नहीं की है, उन्हें वक्त के हाकिम के सवाब दीद पर रोक रखा है, उनको ताज़ीर कहा जाता है और यह सजा कई प्रकार की हो सकती है।

एक साथ तीन तलाक देना हालांकि शरई जुर्म है, लेकिन शरीअत की ओर से कोई सज़ा निर्धारित नहीं है जिसे '' हद '' कहा जाए लेकिन मनोवैज्ञानिक सजा के रूप में आदेश दिया गया कि तीन तलाक के बाद उसकी पत्नी पुरी तरह से अलग हो गई और अगर वापसी होगी भी तो ऐसी अपमान के साथ कि इससे बढ़कर कोई अपमान नहीं है और यह बहुत बड़ी मनोवैज्ञानिक सजा है।

इसके अलावा कुरआन और हदीस में तीन तलाक पर कोई सजा नहीं है, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने एक साथ तीन तलाक देने पर बहुत नाराज़गी व्यक्त फरमाते हुए कहा: '' क्या अल्लाह की किताब से खिलवाड़ किया जाएगा जबकि मैं तुम्हारे बीच मौजूद हूँ '' (निसाई: 5594) लेकिन उसे कोई वित्तीय या शारीरिक सजा नहीं दी।

लेकिन एक साथ तीन तलाक के अंत के लिये ताज़ीर हो सकती है '' ताज़ीर किसी विशेष काम या विशेष कथन के साथ विशेष नहीं है '' (मोइनुल अलहकाम: 195) इसलिए अब हमें यह देखना है कि एक साथ तीन तलाक देने पर कौन सी ताज़ीर (दण्ड) हो सकती है।

तीन तलाक पर शारीरिक दंड:

हज़रत उमर रदिअल्लाहु अन्हु के बारे में रिवायत है कि वह तीन तलाक देने वालों को शारीरिक दंड देते थे, तो हज़रत अनस रज़िअल्लाहु अन्हु से रिवायत है जब उमर रदिअल्लाहु अन्हु के पास कोई ऐसा व्यक्ति लाया जाता जिसने अपनी पत्नी को एक साथ तीन तलाकें दी होतीं, तो उसकी पिटाई फ़रमाते। (मुसन्निफ़ इब्ने अबी शीबह हदीस संख्याः 17790)

एक दूसरी रिवायत है: एक व्यक्ति जिसने अपनी पत्नी को हज़ार तलाकें दी थीं, उमर रदिअल्लाहु अन्हु की सेवा में लाया गया तो उस व्यक्ति ने कहा: मैं नें वैसे ही मजाक किया है, हज़रत उमर रदिअल्लाहु अन्हु ने उसे दुर्रे से मारा और कहा: '' तेरे लिए उनमें से तीन तलाकें पर्याप्त हैं '' (लेखक अब्दुर्रज्जाक: 393/6 हदीस 1134)

हज़रत मुफ्ती रसीद अहमद कहते हैं, '' इन कारणों से तलाक का प्रचलित दस्तूर निसंदेह दण्डनीय अपराध है सरकार पर फ़र्ज़ है कि ऐसे अपराध पर इबरत दिलाने वाली सज़ा दे, सरकार द्वारा उपेक्षा की स्थिति में समुदाय से बाईकाट (बहिष्कार) की ताज़ीर (दण्ड) उपयुक्त है।(अहसनुल फतावा: 195/5)

प्रसिद्ध फ़क़ीह मुफ्ती मुहम्मद तकी उस्मानी एक साथ तीन तलाक देने वालों के लिए सरकार को राय देते हुए तहरीर फ़रमाते हैं:

'' फिर विशेषता के साथ इस तलाक की समस्या में यह बात बहुत उपयोगी होगी कि तीन तलाकें एक समय में देना कानूनी अपराध को प्रतिबद्ध करे उसके लिए कोई दण्ड निर्धारित कर दी जाए (हमारे आएली मासाएल: 156 बहवाला 'निकाह और तलाक और हमारे जिम्मेदारियां '': पृष्ठ: 131)

हजरत मौलाना मुफ्ती अब्दुर्रहीम लाजपुरी रहमतुल्लाह अलैह तीन तलाक देने वालों के बारे में कहते हैं:

एक साथ तीन तलाक देने का रिवाज गलत है और खिलाफ सुन्नत है उस पर प्रतिबंध लगाया जा सकता है अगर बाज़ ना आए तो प्रभावशाली लोग क़तऐ तअल्लुक़ और रबाईकाट कर लें। (फतावा रहीमया: 316/5)

हजरत मौलाना मुफ्ती अहमद खानपुरी, तलाक की बे राह रवि पर सामाजिक बहिष्कार (मुकातेआ) से संबंधित एक इस्तेफ्ता का विस्तृत जवाब देते हुए कहते हैं:

'' आपके लिये एक ही स्थिति रह जाती है और वह है सामाजिक बहिष्कार की, लेकिन इस सिलसिले में दो बातें ध्यान में रखें पहली यह कि हज़रत मौलाना मुफ्ती किफायतुल्लाह के बकौल '' जमाअत से बाहर करना पापों के प्रतिबद्धता के लिए होता है जो कतई हराम हैं जिनका मुसलमानों की सोसायटी पर बुरा असर पड़ता है। (किफ़ायतुल मुफ्ती: 95,94 / 9) इसलिए तलाक देने की वह सूरतें जो शरअन हराम हैं उनमें तो यह सजा प्रस्तावित कर सकते हैं, इसके अलावा मामलों में नहीं ''। (महमूदुल फतावा: 450/4)

भारतीय समाज में तीन तलाक पर कौन सी सजा अपनाई जाए:

उपरोक्त दंड से किस प्रकृति की सजा को मौजूदा हालात में भारतीय समाज में व्यावहारिक रूप से अपनाया जा सकता है। वित्तीय जुर्माना तो वैध नहीं है, इसलिए तीन तलाक पर वित्तीय जुर्माना नहीं किया जा सकता। शारीरिक दंड (मारपीट), निर्वासन और कैद की सजा के कार्यान्वयन के लिए बल की जरूरत है, और भारत में वर्तमान में मुसलमानों को बल प्राप्त नहीं है इसलिए यहाँ तीन तलाक पर इन तीनों दंड का अमलन कार्यान्वयन नहीं हो सकता है।

मुफ्ती तक़ी उस्मानी और मुफ्ती रशीद अहमद रहमतुल्लाह अलैहि ने जो दर्दनाक सजा की वकालत की है, तो उनके

मद्देनजर पाकिस्तान सरकार है जहां मुस्लिम शासक हैं इसलिए वहाँ सजा संभव है।

तीन तलाक पर सामाजिक बहिष्कार (मुकातेआ) की सज़ा मौजूदा हालात में भारतीय समाज में व्यावहारिक रूप से संभव है, इसलिए एक साथ तलाक और अन्य सामाजिक बुराइयों के मुकाबला के लिए ऐसी निवारक समिति गठित की जा सकती है जो एक साथ तीन तलाक जैसी बुराइयों के अपराधियों के खिलाफ एक अनिश्चित काल तक सामाजिक बहिष्कार की घोषणा करे।

लेकिन दो बातों का विशेष ध्यान रखा जाए, पहले इंसाफ की सजा केवल उन्ही बुराइयों पर हो जो शरअन हराम हैं, जैसा कि मुफ्ती किफायतुल्लाह रहमतुल्लाह अलैह के फतवा में ऊपर गुज़र चुकी।

क्या तीन तलाक पर भारतीय न्यायपालिका से दंड दिए जाने का मांग किया जा सकता है:

हाल के दिनों में मीडिया और इस्लाम विरोधी ताकतों की ओर से इस्लाम के तीन तलाक कानून की आलोचना और प्रोपेगंडह से घबरा कर कई मुस्लिम बुद्धिजीवी भारत सरकार और न्यायपालिका से एक साथ तीन तलाक पर सजा की मांग कर बैठे, गौरतलब है कि यह बस भोलापन है, जो हिकमत और मसलेहत के सरासर खिलाफ है, और सरकार और न्यायपालिका को शरीअत में हस्तक्षेप का निमंत्रण देने के बराबर है।

मूल काम:

मुफ़्ती महमूदुल हसन गंगोही रहमतुल्लाह अलैह फ़रमाते हैं:

'' अपराध के खात्मे के लिए इरशाद, तलकीन, हिदायत, तज़कीर, तजकिया बातिन की जरूरत है, ताकि मन में भय पैदा हो, स्वर्ग और नरक का पूरा ध्यान, कब्र, कयामत, हश्र, हिसाब, किताब, ख़ुदा ए कहार की महानता और उसके के पुरस्कार का ध्यान आवश्यक है, ताकि अच्छे कर्मों और अख़लाक़ ए फ़ाज़लह की रूचि हो अन्यथा केवल सख्ती से सुधार नहीं होता, अगर होता है तो अस्थायी होता है '' (फतावा महमुदिया: 185/5)

उक्त पाठ को नकल करने के बाद मौलाना मुफ्ती अहमद खान पूरी साहब फ़रमाते हैं:

इसलिए सभी जिम्मेदार सज्जनों को चाहिए कि इसी रविश पर अग्रसर हों, यही मूल इलाज है उलेमा हज़रात इस मकसद को अपना मिशन बनाएँ, और उसके लिए अपने को समाप्त करें कभी ज़रूरत पड़े तो ताज़ीरी कार्रवाई शरई सीमाओं के अंदर रह कर अंजाम दें, बाकी बस दंड वाला तरीका स्थायी नहीं है, बल्कि एक अवधि के बाद शरीअत और ज़िम्मेदारों के खिलाफ विद्रोह का झंडा उठाने का स्रोत है और महिलाओं की अश्क शुई भी वास्तविक रूप में नहीं होगी, बहुत बहुत तो इतना हुआ कि तलाक का खात्मा होगा लेकिन वैवाहिक जीवन की कड़वाहट में वृद्धि होगी। (महमूदुल फतावा: 453/4)

12 मई, 2017 स्रोत: राष्ट्रीय सहारा, नई दिल्ली

URL for Urdu article: https://www.newageislam.com/urdu-section/is-punishment-possbile-triple-talaq/d/111142

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/is-punishment-possible-triple-talaq/d/111285

New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Womens in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Womens In Arab, Islamphobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism,

 

Loading..

Loading..