New Age Islam
Tue Nov 30 2021, 01:31 AM

Hindi Section ( 19 Oct 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Mosques of the Valley Are Calling On the Kashmiri Pandits घाटी की मस्जिदें कश्मीरी पंडितों को बुला रही हैं

मासूम मुरादाबादी

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

14 अक्टूबर 2021

पिछले हफ्ते श्रीनगर में तीन कश्मीरी पंडितों की निर्मम हत्या ने एक बार फिर उन कश्मीरी गैर-मुस्लिमों के अस्तित्व पर सवाल खड़ा कर दिया है, जो अपने जीवन और संपत्ति के लिए सभी खतरों के बावजूद अभी तक पलायन नहीं कर पाए हैं। पिछले मंगलवार को मशहूर केमिस्ट माखन लाल की हत्या के बाद चरमपंथियों ने गुरुवार को प्रिंसिपल स्पिंदर कौर और स्कूल टीचर दीपक चंद की बेरहमी से हत्या कर दी।कराची स्थित आतंकवादी संगठन टीआरएफ ने हमले की जिम्मेदारी ली है। जबकि लश्कर-ए-तैयबा ने माखन लाल की हत्या की जिम्मेदारी लेते हुए कहा है कि उन्होंने आरएसएस के लिए काम किया था। आतंकियों के निशाने पर रहीं स्पिंदर कौर एक दयालु महिला बताई जाती है जो अपनी सैलरी का आधा हिस्सा गरीब बच्चों को पढ़ाने में खर्च कर देती थीं। उन्होंने एक अनाथ मुस्लिम लड़की को भी गोद लिया था। हत्या पर प्रतिक्रिया देते हुए, सर्वदलीय सिख समन्वय समिति के अध्यक्ष जगमोहन सिंह रीना ने कहा कि हमला घाटी में बहुसंख्यक और अल्पसंख्यक के बीच दरार पैदा करने की साजिश का हिस्सा था।

इस बात से कोई इंकार नहीं है कि कश्मीर में चल रहे अलगाववादी आंदोलन का सबसे बड़ा नुकसान वहां के हिंदू-मुस्लिम भाईचारे को हुआ है। कश्मीर का इतिहास बताता है कि सैकड़ों साल से हिंदू और मुसलमान एक साथ रहे हैं। न केवल उनकी संस्कृति और समाज बल्कि उनकी भाषा और लहजा भी एक जैसा है। कश्मीर में चप्पे चप्पे पर हिंदू-मुस्लिम एकजुटता के संकेत देखे जा सकते हैं। इतनी उथल-पुथल के बावजूद, आज भी घाटी के मुसलमान हैं जो अमरनाथ यात्रा के दौरान भक्तों को उनके गंतव्य स्थल तक ले जाते हैं। मनोरंजन के लिए कश्मीर आने वाले लाखों पर्यटक डल झील और रिगल मार्ग की यात्रा के लिए स्थानीय मुसलमानों की मदद भी लेते हैं और यह मुसलमानों के लिए उनकी आजीविका का स्रोत भी है। लेकिन जब से घाटी में विद्रोह शुरू हुआ है, पर्यटन लगभग समाप्त हो गया है और यहां के हिंदू-मुस्लिम भाईचारे को भारी नुकसान पहुंचा है। हालांकि, घाटी के शांतिप्रिय मुसलमान कभी नहीं चाहते थे कि उनके पड़ोस में रहने वाले कश्मीरी पंडित उनसे सालों तक अलग रहें, क्योंकि वे उनके अस्तित्व का एक अभिन्न अंग हैं। इसका प्रमाण हिंदुओं पर हाल ही में हुए आतंकवादी हमलों पर स्थानीय मुसलमानों की प्रतिक्रिया से है।

हिंदी दैनिक 'दैनिक भास्कर' ने 13 अक्टूबर को हिंदू-मुस्लिम एकजुटता पर एक विस्तृत रिपोर्ट प्रकाशित की, जिसमें कहा गया था कि कश्मीर में रहने वाले गैर-मुस्लिम निश्चित रूप से आतंकित हैं, लेकिन उम्मीद की एक किरण है कि कश्मीर के गैर-मुस्लिमों को आश्वस्त करने के लिए और उनकी सुरक्षा भरोसा दिलाने के लिए जगह जगह मुसलमान ही आगे आ रहे हैं। वे प्रदर्शनों में हिस्सा ले रहे हैं और आतंकवाद के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। वे आतंकवाद के पीड़ितों के घर भी जाते हैं और उनके शोक संतप्त परिवारों के दुख को साझा कर रहे हैं। उल्लेखनीय है कि श्रीनगर की दो महत्वपूर्ण मस्जिदों ने मुसलमानों से गैर-मुसलमानों की सुरक्षा के लिए आगे आने की अपील की है।

मस्जिदों के इमामों ने जुमे की नमाज के बाद विशेष रूप से श्रीनगर में गैर-मुस्लिम पड़ोसियों की रक्षा करने और कश्मीरी पंडितों से न जाने की अपील की है। इसको लेकर लाल चौक पर अलग-अलग इलाकों के मुसलमानों ने धरना प्रदर्शन में हिस्सा लिया है। इनमें सरकारी कर्मचारी, खिलाड़ी, वरिष्ठ नागरिक और अन्य शामिल थे। सभी ने मासूमों की हत्या की कड़ी निंदा की और हत्याओं को आतंकवादियों द्वारा सांप्रदायिक सद्भाव को बाधित करने का प्रयास करार दिया। प्रदर्शनकारियों ने सभी गैर-मुसलमानों से कहा कि वे स्थानांतरित होकर आतंकवादियों की योजनाओं को सफल न होने दें। कश्मीर के सबसे बड़े सिविल सेवकों के संगठन का एक प्रतिनिधिमंडल कश्मीरी पंडितों के क्षेत्र का दौरा कर रहा है और उन्हें सांत्वना दे रहा है। समिति के अध्यक्ष रफीक राथर का कहना है कि ये हत्याएं हमारे सांस्कृतिक ताने-बाने के खिलाफ हैं। कश्मीरी पंडित और कश्मीरी मुसलमान सैकड़ों वर्षों से एक साथ रह रहे हैं। हमारे सांस्कृतिक मूल्य जीवित रहेंगे। हम उन्हें किसी चरमपंथी गतिविधियों का शिकार नहीं होने देंगे। बारामूला में कश्मीरी पंडितों से बात करते हुए प्रतिनिधिमंडल ने कहा, ''इस मुश्किल समय में हम मुसलमानों के घर और दिल आपके लिए खुले हैं।''

कश्मीरी पंडितों के प्रति स्थानीय मुसलमानों की यह भावना काबिले तारीफ है। इसमें कोई शक नहीं कि घाटी से कश्मीरी पंडितों के पलायन के पीछे, जहां की स्थिति दमनकारी है, वहां राजनीतिक गतिविधियों का भी अभाव है। सभी जानते हैं कि 1990 के दशक में जब जगमोहन राज्य के राज्यपाल थे और कोई चुनी हुई सरकार नहीं थी, तो उन्होंने घाटी से कश्मीरी पंडितों के पुनर्वास का मार्ग प्रशस्त किया। राज्यपाल के रूप में जगमोहन के कार्यकाल पर सवालिया निशान लग गया है। ऐसा कहा जाता है कि उन्होंने एक राजनीतिक एजेंडे के तहत घाटी में हिंदुओं और मुसलमानों के बीच की खाई को बढ़ाने का काम किया, जिसके परिणाम कश्मीरी पंडितों और मुसलमानों दोनों को भुगतने पड़े। आज घाटी में दोनों के बीच की जो खाई नजर आती है वह मूलतः जगमोहन युग की देन है। यह केवल कश्मीरी पंडित ही नहीं हैं जो विद्रोह के कारण पलायन करने के लिए मजबूर हुए थे, बल्कि असंख्य कश्मीरी मुसलमान भी शांति की तलाश में घाटी से चले गए हैं और वे भी देश और विदेश के विभिन्न हिस्सों में कसमपुर्सी की जीवन जीने के लिए मजबूर हैं।

कश्मीर में लंबे समय से स्थिति खराब है आतंकवाद ने पूरे राज्य की शांति व्यवस्था को बर्बाद कर दिया है। चिंता की बात यह है कि अब घाटी में नागरिकों के हताहत होने की संख्या में अचानक वृद्धि हो गई है, जिससे उनमें असुरक्षा की भावना बढ़ गई है। अब तक झड़पों और आतंकी हमलों में सुरक्षा बलों पर हमले होते थे, लेकिन अब नागरिकों पर हमले की संख्या बढ़ गई है। इस साल अब तक आतंकियों ने 25 नागरिकों की हत्या की है। इस दौरान सुरक्षाबलों के 20 जवान भी शहीद हो गए। अक्टूबर के पहले सप्ताह में जब सात नागरिक मारे गए, तो तीन कश्मीरी मुसलमान, दो सिख और दो हिंदू मारे गए। नागरिकों की नृशंस हत्याओं के खिलाफ जम्मू-कश्मीर दोनों में आक्रोश की लहर है। लोगों की आम शिकायत यह है कि धारा 370 को निरस्त हुए दो साल से अधिक समय बीत चुका है, लेकिन सरकार स्थिति को नियंत्रित नहीं कर पाई है। आतंकवादी घटनाओं में कोई कमी नहीं आई है और न ही कानून-व्यवस्था बहाल हुई है। इस हफ्ते पांच सुरक्षाकर्मियों की एक साथ हुई शहादत कई सवाल खड़े करती है। सरकार ने यह धारणा दी कि राज्य के विभाजन और अनुच्छेद 370 के निरस्त होने से सभी समस्याओं का समाधान हो जाएगा। लेकिन ऐसा लगता है कि यह बचकानी सांत्वना के अलावा और कुछ नहीं था।

इस बीच, आतंकवादी घटनाओं की संख्या घटने के बजाय बढ़ी है। पिछले साल के आंकड़ों पर एक नजर डालने से पता चलता है कि 2020 में उस अवधि के दौरान 33 नागरिक मारे गए थे। इसी तरह 2019 में आतंकियों ने 36 नागरिकों को निशाना बनाया था। उसी अवधि में सबसे अधिक मौतें 2018 में हुईं जब 40 नागरिकों की जान चली गई। सरकार ने दावा किया है कि उसने पिछले तीन साल में 630 आतंकवादी मारे हैं, जबकि 85 सुरक्षाकर्मी विभिन्न घटनाओं में शहीद हुए हैं। यह बात पिछले अगस्त में संसद में पेश एक सवाल के जवाब में कहा कही गई थी।

Urdu Article: Mosques of the Valley Are Calling On the Kashmiri Pandits وادی کی مسجدیں کشمیری پنڈتوں کو پکار رہی ہیں

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/mosques-valley-kashmiri-pandits/d/125608

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..