New Age Islam
Wed Aug 17 2022, 05:03 PM

Hindi Section ( 24 March 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Emerging Perspective of a Hindustani Muslim on Islam इस्लाम पर एक भारतीय मुसलमान का उभरता हुआ दृष्टिकोण

डॉ. बिनोय शंकर प्रसाद, न्यू एज इस्लाम

10 जनवरी 2022

भारत में औसत मुसलमान को खुद को भारतीय मुस्लिम कहने में कोई झिझक नहीं है, जैसा कि इंडोनेशियाई, मलेशियाई और अन्य मुस्लिम करते हैं।

प्रमुख बिंदु:

भारतीय मुसलमान अरब, तुर्की या फारसी मुसलमान नहीं हैं।

भारतीय मुसलमान सऊदी (सुन्नी) या ईरानी (शिया) वित्तपोषण समूहों के एजेंट नहीं हैं और न ही हो सकते हैं।

भारतीय मुसलमान खुद को भारतीय 'राष्ट्रवादी' मुसलमान कहना चाहेंगे।

सुकरात ने अंत में कहा कि अपुष्ट धर्म का पालन करने योग्य नहीं है।

Why are they silent? / Quartz India

----

भारत में औसत मुसलमान को खुद को भारतीय मुस्लिम कहने में कोई झिझक नहीं है, जैसा कि इंडोनेशियाई, मलेशियाई और अन्य मुसलमान करते हैं। भारतीय मुसलमान अरब, तुर्की या फारसी मुसलमान नहीं हैं। भारतीय मुसलमान सऊदी (सुन्नी) या ईरानी (शिया) वित्तपोषण समूहों के एजेंट नहीं हैं और न ही हो सकते हैं। जो अपनी मातृभूमि, भारत और अपने ही मुस्लिम भाइयों के खिलाफ विभाजन पैदा करने की कोशिश कर रहे हैं।

और हाँ, वे खुद को भारतीय 'राष्ट्रवादी' मुसलमान भी कहना चाहेंगे - उन्हें ऐसा करने में कोई शर्म नहीं है। 1857 से, भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन (स्वतंत्रता का पहला युद्ध) का इतिहास भारतीय राष्ट्रवादी मुसलमानों से भरा हुआ है: मौलाना अबुल कलाम आज़ाद, खान अब्दुल गफ्फार खान, हुमायूँ कबीर, जाकिर हुसैन और कई अन्य भारतीय राष्ट्रवादी मुसलमानों के शानदार प्रतिनिधि थे।

भारत जैसे कई देशों में सऊदी पेट्रोडॉलर की घुसपैठ के बाद ही मुस्लिम समुदाय के भीतर देश विरोधी ताकतें उभरने लगीं।

सामान्य तौर पर, भारतीय मुसलमानों ने बहुत पहले यह बहाना छोड़ दिया था कि वे अरब, पठान, मुगल या तुर्की मुसलमानों के वंशज हैं। शुरुआत में जो भी छोटी मोटी संख्या रही हो, वह ये जानते हैं कि वे शादी, गोद लेने और आवास के माध्यम से भारतीय आबादी का हिस्सा बन गए थे - भारत उनकी मातृभूमि बन गया था।

मादर-ए-वतन भारत माता का उर्दू अनुवाद है। फिर भारतीय मुसलमानों को भारत माता की जय कहने में कोई आपत्ति क्यों होगी? दुर्भाग्य से, हमारे देश, भारत में, एक राजनेता सांसद हैं जिन्होंने घोषणा की है कि वे "भारत माता की जय" नहीं कहेंगे, भले ही उनकी गर्दन तलवार के नीचे ला दी जाए। वहीं दूसरी ओर इसी देश भारत में सभी पार्टियों में ऐसे मुस्लिम राजनेता हैं, जो भारत माता की जय कहने से कभी नहीं हिचकिचाएंगे।

अगर हम औसत भारतीय मुस्लिम से पूछें कि वे किसका अनुसरण करना चाहते हैं, तो उनका पुरजोर जवाब होगा, बाद वाले।

स्वयंभू मुस्लिम नेताओं की एक छोटी संख्या बड़ी संख्या में हमारे मुस्लिम भाइयों और बहनों के कानों में जहर भर देती है और उन्हें हिंदुओं के साथ अनावश्यक संघर्षों में उलझा देती है। इसके अलावा, कई आर्थिक रूप से मजबूत और पेट्रोडॉलर संचालित कट्टरपंथी इस्लामी संगठन हैं जो औसत भारतीय मुस्लिम को कट्टरपंथी बनाने में सक्रिय हैं।

भारतीय मुसलमान भी इस बात से अच्छी तरह वाकिफ हैं कि जब तक उनके पड़ोस में एक दुश्मन इस्लामिक स्टेट, पाकिस्तान मौजूद है, जो हमेशा अपनी सभी विफलताओं के लिए भारत को दोषी ठहराएगा और भारतीय मुसलमानों का दिल जीतने की कोशिश करेगा। भारत में हिंदू और मुस्लिम विभाजन का खतरा लगातार बना रहेगा।

फिर, अपने हिंदू भाइयों और बहनों के साथ, उदारवादी प्रबुद्ध मुसलमान भी अपने अकीदे और समुदाय को सुधारने के बारे में सोचते हैं। सबसे पहले, उनके पास इस तथ्य पर डींग मारने का हर कारण है कि 300 मिलियन भारतीय मुसलमान अभी भी दुनिया भर के सभी मुसलमानों की तुलना में बेहतर हैं - विशेष रूप से 57 ओआईसी सदस्य देशों के मुसलमानों की तुलना में। भारतीय मुसलमानों को उनकी शांति और उच्च शिक्षा और व्यावसायिकता के लिए दुनिया के हर हिस्से में बहुत सम्मान दिया जाता है।

युवा, शिक्षित, प्रबुद्ध और वैज्ञानिक मिज़ाज रखने वाले भारतीय मुसलमान, अपने खुले मानसिकता की साझा संस्कृति के कारण, इस बात से सहमत होंगे कि दुनिया भर में लगभग तीन प्रकार के मुसलमान हैं।


पहली किस्म में ऐसे (ला अदरिया, मुल्हिद आदि) मुसलमान हैं जो अपनी पवित्र पुस्तक कुरआन को नहीं मानते हैं। उनका कहना है कि यह चुनावी, अव्यवस्थित, अप्रचलित, विरोधाभासी, नस्लीय वर्चस्व सिखाता है और इसलिए यह अर्थहीन है। धार्मिकता सिखाने वाली कुछ आयतों के बावजूद, उनका दावा है कि कुरआन समाजों के बीच हिंसक संघर्ष के बीज बोता है। वे इस्लाम की किसी भी कट्टरपंथी शिक्षा से सहमत नहीं हैं। वह निश्चित रूप से 21वीं सदी में मुहम्मद में उन गुणों को नहीं पाते जो अनुकरण योग्य हों।

मुसलमानों का यह समूह 9/11 के बाद की युवा विश्वविद्यालय से शिक्षित, स्मार्ट, स्पष्ट दिमाग वाले लोगों की पीढ़ी है। उनका तर्क है कि यदि इस्लामवादी सरकारें अपने जबरदस्ती के तरीकों (जैसे मुर्तदों की हत्या) को समाप्त कर दें, तो न केवल शरिया पर आधारित इस्लामी सरकारें बल्कि स्वयं इस्लाम भी ढह जाएगा। इस प्रकार वे या तो मुल्हिद, मार्क्सवादी या पूर्व मुसलमान बन गए हैं।

दूसरे प्रकार के मुसलमानों की मांग है कि पवित्र पुस्तक और धर्म को "प्रासंगिक ढांचे" में ढाला जाए। वे उस अकीदे का विरोध नहीं करते जिसमें वे पैदा हुए थे। वह पूरी ईमानदारी से ख्वाहिश व कोशिश करते हैं कि गैर-मुस्लिम दोस्त इस्लाम को एक भयानक, कट्टर या असहिष्णु धर्म न मानें। इस्लाम को अधिक स्वीकार्य बनाने के लिए, वे कुरआन में बड़े पैमाने पर चेतावनियों, सुधारों या हवाशी को परिचित कराने के खिलाफ नहीं हैं। कुल मिलाकर, वे चाहते हैं कि इस्लाम को दुनिया के अन्य धर्मों के साथ समान रूप से सम्मान दिया जाए, अलगाववाद या आतंकवाद से नहीं जोड़ा जाए।

मुसलमानों का तीसरा समूह इस बात पर जोर देता है कि कुरआन अल्लाह द्वारा नाज़िल एक पुस्तक है, जिसका प्रत्येक शब्द अपरिवर्तनीय, निर्विवाद और पवित्र है। इसलिए इसमें किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। वह सभी से मुसलमानों का अनुसरण करने का आग्रह करता है जिनक पवित्र कर्तव्य है कि वह अपनी शिक्षा या साक्षरता की शुरुआत कुरआन के माध्यम से "दीन की शिक्षा" से करें। उनका अकीदा (शायद यह कुरआन की शिक्षा है) उन्हें बताता है कि दुनिया में हर कोई जो एक अलग अकीदे के कारण भटक गया था, वह अंततः इस्लाम में वापस आ जाएगा। हर इंसान पैदाइशी मुसलमान होता है। वह हर उस व्यक्ति को 'इस्लामोफोब' कहते हैं जो ईमानदाराना संदेह या सवाल उठाता है।

बड़ी संख्या में भारतीय मुस्लिम लेखक और इस्लामी विद्वान हैं जो द्वितीय श्रेणी से संबंधित हैं। कम से कम, उनकी यह कहने की हिम्मत के लिए तो प्रशंसा की जानी चाहिए कि मुसलमानों को अपने सहीफों पर दोबारा गौर करना चाहिए और सातवीं शताब्दी के बाद से एक वैश्वीकृत और पूरी तरह से बदली हुई दुनिया के आलोक में उनकी पुनर्व्याख्या करनी चाहिए। सुकरात ने कहा था कि अपुष्ट धर्म पालन करने योग्य नहीं है।

ये उदार, प्रगतिशील भारतीय मुसलमान, अपने अंतरराष्ट्रीय साथियों की संगति में, अधिक ज़ोरआवर होते जा रहे हैं और सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मुहम्मद बिन सलमान (एमबीएस) के स्पष्ट धार्मिक समर्थन के साथ, वह इस्लाम को एक अलग दिशा में ले जाने के लिए तैयार हैं।

जब ऐसा होगा, तो न्यू एज इस्लामजैसे आंदोलनों के निरंतर प्रयास रंग लाएंगे।

English Article: Emerging Perspective of a Hindustani Muslim on Islam

Urdu Article: Emerging Perspective of a Hindustani Muslim on Islam اسلام پر ایک ہندوستانی مسلمان کا ابھرتا ہوا نقطہ نظر

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/hindustani-muslim-islam/d/126644

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..