New Age Islam
Sun Apr 11 2021, 11:12 AM

Hindi Section ( 5 March 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Bengal Elections and the Muslim Vote बंगाल चुनाव और मुस्लिम वोट


अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

१ मार्च २०२१

कई दशकों से पश्चिमी बंगाल के मुसलामानों ने वाम पक्ष को वोट दिया। सच्चर कमेटी रिपोर्ट के कई पहलु हैं जिनमें सबसे कम ध्यान इस बात पर दी गई थी कि पश्चिम बंगाल में मुसलमान सबसे अधिक वंचित वर्ग हैं। राज्य के उन हिस्सों में जहां मुसलमानों ने पारम्परिक तौर पर कांग्रेस को वोट दिया था, वहाँ स्थिति कुछ अधिक बेहतर नहीं थी। राज्य में वाम मोर्चे के हुकमरानी का उद्देश्य हिन्दू उच्च जाती को मजबूती प्रदान करना था और मुसलमानों को कहा गया था कि वह केवल इस बात के लिए शुक्रगुजार हैं कि उन्हें दंगों में मारा नहीं जा रहा है जैसा कि देश के दुसरे क्षेत्रों में स्थित हो रहे हैं। वाम पंथ के लिए मुसलमानों के लिए बुनियादी तौर पर यह समस्या था कि मुस्लिम समाज के सामाजिक व व्यवसायिक हालत को होने वाले हानि से सुरक्षा प्रदान किया जाए।

सच्चर रिपोर्ट के माध्यम से अपनी हालत से आगाह हो कर मुसलमानों ने फैसला कुन अंदाज़ में अपनी वफादारियों को तृणमूल कांग्रेस (टी एम सी) की ओर स्थानांतरित कर दिया, जिसकी वजह से राज्य में बाएँ बाजू का खात्मा हुआ। २०१९ के चुनावों में, सी पी एम कैडर के एक बहुत बड़े हिस्से ने उनकी वफादारी को भाजपा की जानिब स्थानांतरित कर दी जिसने पहली बार १८ संसदीय सीटों पर कब्ज़ा किया। पार्टी अब अपने हितों को और स्थिर करने की कोशिश कर रही है और अगले विधानसभा चुनाव में नम्बर वैन पार्टी बनने की कोशिश में कोई कसार नहीं छोड़ रही है। मगर तब भी मुसलमान लगभग ३० प्रतिशत मतदाता पर आधारित हैं मगर कोई जमात इस बात को विचाराधीन लाए बिना सरकार नहीं बना सकती। मुसलमानों ने कभी भी भाजपा पर भरोसा नहीं किया क्योंकि यह पार्टी अपनी मुस्लिम विरोधी राजनीति के बारे में ढिटाई का प्रदर्शन करती रही है। तथापि मुसलमान किस तरह वोट डालते हैं इसका असर यक़ीनन इस बात पर पड़ेगा कि क्या भाजपा पश्चिम बंगाल में सरकार बनाने में सफल होती है या नहीं।

भाजपा को सत्ता में आने से रोकना न केवल राज्य में बल्कि हर जगह मुसलमानों के लिए एक महत्वपूर्ण मुद्दा बन गया है। हालाँकि, समाज में एक बढ़ती भावना है कि तथाकथित धर्मनिरपेक्ष राजनीतिक दलों ने अपने लाभ के लिए मुसलमानों का उपयोग किया है और ये दल मुस्लिम सामाजिक और आर्थिक विकास के बारे में सोचने के बजाय अपने वोट हासिल करने में अधिक रुचि रखते हैं। ऐसी भावना ने मुसलमानों को अपनी राजनीतिक पार्टी बनाने के लिए मजबूर किया है। इसका ताजा उदाहरण पश्चिम बंगाल में देखा जा सकता है। अब्बास सिद्दीकी के नेतृत्व वाले भारतीय सेक्युलर मोर्चे के गठन को इस प्रकाश में देखा जाना चाहिए। अब जब मुसलमान समझते हैं कि उन्हें अपने मंच की आवश्यकता है, तो यह निश्चित रूप से एक स्वागत योग्य विकास है क्योंकि केवल राजनीतिक शक्ति है जिसके माध्यम से पुनर्वितरण की राजनीति को आगे बढ़ाया जा सकता है जो मुसलमानों के लिए फायदेमंद होगा। जो लोग इसे "साम्प्रदायिक" कहते हैं, वे मूल रूप से डरते हैं कि मुस्लिम वोट उनसे छीन लिया जाएगा। धर्मनिरपेक्षता की रक्षा पर उनका कोई सैधांतिक स्टैंड नहीं है।

पश्चिम बंगाल में मुस्लिम चेतना के इस नए सीध को हमें कैसे समझना चाहिए? पिछले दो चुनावों में, मुसलमानों ने बड़े पैमाने पर सत्तारूढ़ टीएमसी को वोट दिया है, कुछ कांग्रेस-प्रभावित निर्वाचन क्षेत्रों को छोड़कर। टीएमसी ने जमीयत उलेमा-ए-हिंद और उसके पश्चिम बंगाल के नेता सिद्दीकुल्लाह चौधरी के माध्यम से बड़े पैमाने पर मुस्लिम भावना पर काबू पाने की कोशिश की। जमीयत एक देवबंदी संगठन है जिसने राज्य में तब्लिगियों के प्रवेश आसान बनाया है जबकि अधिकांश मुस्लिम बरेलवी हैं। अब्बास सिद्दीकी, एक प्रसिद्ध दरगाह फरफोरा के संरक्षक के रूप में, मुस्लिम राजनीति के देवबंदी नियंत्रण को पीछे छोड़ते हुए, अपनी राजनीतिक पार्टी को आगे बढ़ा रहे हैं। पश्चिम बंगाल में बरेलवी स्थिरता कोई अपवाद नहीं है, लेकिन इसे बांग्लादेश और पाकिस्तान में कहीं भी समान प्रयासों के साथ देखा जाना चाहिए।

अब्बास सिद्दीकी द्वारा शुरू की गई राजनीतिक पार्टी का एक महत्वपूर्ण पहलू यह है कि इसमें दलित और आदिवासी सामाजिक समूहों का अच्छा प्रतिनिधित्व है, जो नजरअंदाज किए जाने से खुश नहीं हैं। समावेश का यह संदेश महत्वपूर्ण है, जो वंचितों और शोषितों के एक गठबंधन का सुझाव देता है, जो अब उनकी आवाज सुनना चाहते हैं। इसके अलावा, ऐसा लगता है कि वाम और कांग्रेस, अपनी अज्ञानता का एहसास करते हुए, अब इस नए उभरते मुस्लिम राजनीतिक बल के साथ एकजुट होना चाहते हैं। बाईं ओर, विशेष रूप से अब्बास सिद्दीकी मुफाहेमत वाले इशारे कर रहे हैं और इस मुस्लिम मंच को अपना उचित हिस्सा देने के लिए तैयार दिख रहे हैं। अगर यह गठबंधन काम करता है, तो शायद पहली बार मुस्लिम अपनी शर्तों पर कुछ राजनीतिक ताकत हासिल करेंगे।

हैदराबाद स्थित पार्टी एआईएमआईएम भी गठबंधन का हिस्सा बनने की कोशिश कर रही है, लेकिन अभी तक कुछ भी नहीं बन पाया है। असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ने हाल ही में बिहार चुनाव जीता है और उसी उत्साह के साथ वह पश्चिम बंगाल चुनाव लड़ना चाहती है। हालांकि, उन्हें यह याद रखना चाहिए कि बिहार में उनकी सफलता आंशिक रूप से कुछ तिमाहियों में चार साल की कड़ी मेहनत का नतीजा थी। इसके अलावा, वह अन्य दलों के कुछ अच्छे मुस्लिम नेताओं के लिए भाग्यशाली था। ये दोनों कारक पश्चिम बंगाल के मामले में अनुपस्थित हैं।

उसके पास जमीन पर दिखाने के लिए कोई काम नहीं है और अभी तक उसने अपनी पार्टी के लिए एक प्रमुख चेहरा आकर्षित नहीं किया है। जैसे, AIMIM मुस्लिम मतदाताओं को प्रभावित नहीं कर पाएगी। इसके अलावा, इसमें बाहरी पार्टी होने का टैग है, जो पश्चिम बंगाल में मुस्लिम स्थिति की विशेषताओं को समझने में असमर्थ है। यह सच है कि ओवैसी की मुस्लिम युवाओं के एक वर्ग के बीच अच्छी लोकप्रियता है, खासकर जो लोग उर्दू बोलते हैं। उनके लिए अच्छे अवसर हैं यदि वे बिहार से जुड़ी सीटों पर ध्यान केंद्रित करते हैं। रणनीति के परिणामस्वरूप, उन्हें उन सीटों पर नहीं लड़ना चाहिए, जहां अब्बास सिद्दीकी की थोड़ी भी अपील है।

और यह सिर्फ रणनीति की बात नहीं है, यह सिद्धांत की बात है। भारतीय सेक्युलर मोर्चा, अब्बास सिद्दीकी के नेतृत्व में, बंगाली मुस्लिम समुदाय के भीतर एक जैविक विकास है। इस प्रकार, इन राजनीतिक बयानों का सम्मान करने की आवश्यकता है और सभी सही सोच वाले मुसलमानों को इस मोर्चे का समर्थन करना चाहिए। हालांकि यह सच है कि एआईएमआईएम ने मुसलमानों के लिए बहुत जरूरी राजनीतिक स्थान खोल दिया है, यह समझना जरूरी है कि पार्टी को हर राज्य में मौजूद रहने की जरूरत नहीं है।

स्थानीय और राज्य स्तर की राजनीतिक पार्टियां, एक अकेली आल इंडिया मुस्लिम पार्टी रखने के बजाए, मुस्लिम राजनीतिक आवश्यकता की सेवा के लिए बेहतर हैं। जिस तरह ओवैसी आसाम में दखल अंदाजी नहीं कर रहे हैं क्योंकि बदरुद्दीन अजमल का ए आई यू दी एफ पहले ही वहाँ काम कर रहा है, उसी तरह उन्हें पश्चिम बंगाल से भी दूर रहना चाहिए। बल्कि प्रयास केवल यह होनी चाहिए कि अब्बास सिद्दीकी जैसे लोगों के हाथ मजबूत हों।

क्या भारतीय सेक्युलर मोर्चा बंगाल चुनाव पर बहुत अधिक प्रभाव डाले गा या नहीं, यह देखना बाकी है। लेकिन एक बात निश्चित है कि इस राजनीतिक मोर्चे की तशकील के बाद किसी भी जमात के लिए मुसलमानों को तुच्छ समझना कठिन होगा।

---------

अरशद आलम न्यू एज इस्लाम के स्थायी स्तंभकार हैं।

----------

URL for English article: https://www.newageislam.com/islam-and-politics/arshad-alam-new-age-islam/bengal-elections-and-the-muslim-vote/d/124422

URL for Urdu article: https://www.newageislam.com/urdu-section/arshad-alam-new-age-islam/bengal-elections-and-the-muslim-vote-بنگال-انتخابات-اور-مسلم-ووٹ/d/124438

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/arshad-alam-new-age-islam/bengal-elections-and-the-muslim-vote-बंगाल-चुनाव-और-मुस्लिम-वोट/d/124469


New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..