New Age Islam
Tue Aug 16 2022, 02:18 PM

Hindi Section ( 1 Apr 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why UN’s Islamophobia Resolution Troubles Moderate Muslims संयुक्त राष्ट्र का इस्लामोफोबिया घोषणा उदारवादी मुसलमानों के लिए चिंताजनक क्यों है?

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

21 मार्च 2022

संयुक्त राष्ट्र को इस्लामोफोबिया की प्रकृति और रूप को स्पष्ट करने की आवश्यकता है

प्रमुख बिंदु:

1. संयुक्त राष्ट्र ने 15 मार्च को इस्लामोफोबिया का मुकाबला करने के लिए अंतर्राष्ट्रीय दिवस के रूप में घोषित किया है।

2. सभी मुस्लिम देशों ने उक्त प्रस्ताव का समर्थन किया है; सबसे बड़ी प्रेरणा पाकिस्तान है।

3. इस बात से कोई इंकार नहीं है कि इस्लामोफोबिया पारंपरिक मीडिया और सोशल मीडिया में व्याप्त है।

4. लेकिन इस्लामोफोबिया एक वैचारिक प्रणाली के रूप में इस्लाम की निष्पक्ष आलोचना को रोकने के लिए रूढ़िवादी लोगों का एक हथियार भी हो सकता है।

----

इस्लामोफोबिया से निपटने के लिए 15 मार्च को अंतरराष्ट्रीय दिवस के रूप में चिह्नित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र द्वारा अपनाए गए प्रस्ताव पर स्वयं मुसलमानों को व्यापक रूप से विचार करने की आवश्यकता है। इस प्रस्ताव के लिए मुख्य प्रेरणा स्वयं पाकिस्तान राज्य ही शुरू करने के लिए एक अच्छी जगह है। इमरान खान ने अपने लोगों से वादा किया था कि वह मदीना के प्रारंभिक इस्लामी राज्य की शैली में एक नया पाकिस्तान स्थापित करेंगे। उनके पास अपने देश को शैक्षिक और आर्थिक विकास के क्षेत्र में दिखाने के लिए कुछ भी नहीं है, इसलिए खुद को मुस्लिम दुनिया के मसीहा के रूप में पेश करना आसान है। उनकी सरकार को धार्मिक अल्पसंख्यकों और यहां तक कि अहमदियों और शियाओं जैसे छोटे मुस्लिम अल्पसंख्यकों पर बढ़ते हमलों के लिए याद किया जाता है। इसके अलावा, वे बार-बार चरमपंथी सुन्नी पार्टियों और देश के मामलों में अधिक भागीदारी की मांग करने वाले आंदोलनों के आगे झुक गए हैं। इस तरह की पार्टियों और आंदोलनों ने कई मौकों पर पाकिस्तान की सरकार को सफलतापूर्वक बंधक बना लिया है और शिक्षा प्रणाली में ऐसे बदलाव का आह्वान किया है जिसके दूरगामी परिणाम पाकिस्तानी नस्लों पर होंगे। जैसा कि परवेज हुडभाए ने लिखा है, पाकिस्तान में पाठ्यक्रम में बदलाव की निगरानी की जिम्मेदारी ऐसे लोगों को सौंपी गई है जो या तो शिक्षा प्रणाली से पूरी तरह अपरिचित हैं या उन्हें इसकी जानकारी नहीं है। यदि वे सफल होते हैं, तो यह उदार शिक्षा प्रणाली का अंत होगा जैसा कि हम जानते हैं। इसलिए, जबकि दुनिया संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव को अंतिम रूप देने के लिए इमरान खान की प्रशंसा कर रही है, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि उन्होंने अपने प्रचार सहित अपने नापाक उद्देश्यों के लिए इस्लाम का इस्तेमाल किया है।

लगभग सभी मुस्लिम देशों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया है। उन्होंने अपनी घरेलू राजनीति की मजबूरी और इस्लामोफोबिया पर प्रतिबंध लगाने के पक्ष में मजबूत भावनाओं के तहत ऐसा किया है, बल्कि इसलिए भी कि यह शब्द इतना लोकप्रिय हो गया है कि सरकारों ने असहमति और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पर अंकुश लगाने के लिए इसका सहारा लिया है। इस्लाम की लगभग हर आलोचना को इस्लामोफोबिया कहा जा सकता है और इसमें शरीअत की आलोचना या यहां तक कि राज्य या सरकार की आलोचना भी शामिल हो सकती है। मुस्लिम बहुल देश अलोकतांत्रिक हैं और सामाजिक और राजनीतिक स्वतंत्रता के मामले में बहुत पीछे हैं। किसी भी अरब देश में राजनीतिक नेतृत्व बढ़ाने की मुहिम को इस्लामी हुकूमत की बुनियाद को कमज़ोर करने से ताबीर किया जा सकता है। और तो और स्वयं लोकतंत्र की अवधारणा को ही गैर-इस्लामी कहा जा सकता है। मुहिम चलाने वालों पर भी आरोप लगाया जा सकता है और उन्हें इस्लामी इस्लामी व्यवस्था का "फोबिक" कहकर इस्लामोफोबिक होने का मुकदमा भी चलाया जा सकता है। संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव से लैस हो कर ऐसी सरकारें राजनीतिक असंतोष पर एक नई वैधता के साथ हमला करने में सक्षम होंगी।

इसका मतलब यह नहीं है कि इस्लामोफोबिया जैसी कोई चीज नहीं है। बल्कि, यह रोग सदियों से अस्तित्व में है और शायद इस्लाम के उदय के बाद से, जिसे प्रारंभिक ईसाई एक झूठा धर्म कहते थे। कुछ अनाजीली समूह अभी भी ऐसा सोचते हैं और इस्लाम को वह दर्जा देने से इनकार करते हैं जो वह अन्य धर्मों को देते हैं। इसके अलावा, इस्लामोफोबिया उद्योग हाल के वर्षों में बढ़ा है, खासकर 9/11 के बाद से। वैचारिक संगठनों द्वारा प्रायोजित राजनेताओं, नीति निर्माताओं और कार्यकर्ताओं का एक बड़ा समूह है, जो दुनिया की आबादी के एक महत्वपूर्ण हिस्से को सार्थक बनाने में इसके मूल और इसके महत्व की निंदा करने के स्पष्ट इरादे से इस्लाम का उपहास करते हैं और इसे अपना पसंदीदा शगल बना लिया है। उदाहरण के लिए भारत में चौबीसों घंटे इस्लाम और उसकी शिक्षाओं को बदनाम करने के लिए कई सोशल मीडिया हैंडल और चैनल स्थापित किए गए हैं। मुख्यधारा के समाचार चैनल उनके नापाक प्रयासों में उनकी सहायता कर रहे हैं जो इस्लाम और मुसलमानों के बारे में झूठी खबरें फैलाने से नहीं हिचकिचाते।

फिर भी, हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि एक वैचारिक प्रणाली और रूढ़िवाद के रूप में इस्लाम की निष्पक्ष आलोचना की जा सकती है। उदाहरण के लिए, दुनिया भर के मुसलमान तेजी से इस्लाम से मुंह मोड़ रहे हैं और खुद को पूर्व मुस्लिम कह रहे हैं। उनमें से अधिकांश ऐसे लोग हैं जिन्होंने इस्लाम छोड़ दिया क्योंकि उन्हें दीन के बारे में उनके सवालों के जवाब नहीं मिले। कुछ लोगों ने धर्म छोड़ दिया क्योंकि, उनके अनुसार, वैज्ञानिक पुष्टि, लैंगिक समानता, वैकल्पिक यौन अभिविन्यास और यहां तक कि मानवाधिकारों के बारे में उनकी चिंताओं के लिए दीन में कोई जगह नहीं थी। उनका मानना है कि मुसलमानों की एक बड़ी आबादी है जो सवाल पूछना चाहते हैं लेकिन ऐसा नहीं कर सकते क्योंकि उन्हें अपनी जान का खौफ है। मुस्लिम बहुल इलाकों में इर्तेदाद और तौहीने मज़हब एक बड़ी समस्या है। सऊदी अरब में, राईफ बदवी जैसे नागरिकों पर तौहीने मज़हब का आरोप लगाया गया और कई वर्षों से उनकी स्वतंत्रता छीन ली गई क्योंकि उन्होंने शासक परिवार से कुछ आपत्तिजनक प्रश्न पूछे थे। अरब देशों में कुछ आलोचकों पर तौहीने मज़हब का आरोप लगाया गया है। वह भले ही अदालतों से बरी हो जाएं लेकिन लोगों के जेहन में वह हमेशा आरोपी रहते हैं और इस वजह से उसकी जान हमेशा के लिए खतरे में पड़ जाती है। उनमें से कुछ अरब बुद्धिजीवी ऐसे हैं जिन्होंने केवल इस्लामी फिकह को आधुनिकता के साथ सामंजस्य स्थापित करने का प्रयास किया है। क्या हमें उनकी सभी चिंताओं को इस्लामोफोबिक बताकर खारिज कर देना चाहिए

संयुक्त राष्ट्र ने इस्लाम की आलोचना के नाम पर पूर्वाग्रह को खारिज करने का अच्छा काम किया है। लेकिन समस्या यह है कि यह इस्लामोफोबिया की प्रकृति और रूप की व्याख्या नहीं करता है और इसे इस्लाम की निष्पक्ष आलोचना से अलग नहीं करता है। इस्लामोफोबिया की सीमाओं को परिभाषित नहीं करना दुनिया भर के मुसलमानों के लिए विशेष रूप से हानिकारक है जो इस्लाम के दीन को उलमा की हिंसक व्याख्याओं से बचाने की कोशिश कर रहे हैं।

English Article: Why UN’s Islamophobia Resolution Troubles Moderate Muslims

Urdu Article: Why UN’s Islamophobia Resolution Troubles Moderate Muslims اقوام متحدہ کا اسلامو فوبیا اعلامیہ اعتدال پسند مسلمانوں کے لیے پریشان کن کیوں ہے؟

Malayalam Article: Why UN’s Islamophobia Resolution Troubles Moderate Muslims എന്തുകൊണ്ടാണ് യുഎന്നിന്റെ ഇസ്ലാമോഫോബിയ പ്രമേയം മിതവാദികളായ മുസ്ലീങ്ങളെ ബുദ്ധിമുട്ടിക്കുന്നത്

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/un-islamophobia-moderate-muslims/d/126708

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..