New Age Islam
Mon Aug 10 2020, 11:48 AM

Hindi Section ( 9 Oct 2016, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Sultan Shahin Raises Triple Talaq Issue सुल्तान शाहीन ने UNHRC में ट्रिपल तलाक के मुद्दे को उठाया , उन्होने मुसलमानों से कहा कि वे इस्लामी थियोलाजी पर गंभीरता से पुनर्विचार करें

 

 

 

 

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद, जिनेवा,

एजेंडा आइटम 9, आम बहस, 26 सितंबर, 2016,

एशियन- यूरेशियन ह्यूमन राइट्स फोरम: की ओर से

सुल्तान शाहीन, संस्थापक संपादक, न्यु एज इस्लाम द्वारा मौखिक वक्तव्य

अध्यक्ष महोदय,

जब दुनिया का ध्यान मुसलमानों के एक वर्ग द्वारा अपनाए गए हिंसक चरमपंथ पर केंद्रित है,   धर्म के नाम  पर बहुत से मुस्लिम समाजों  में  मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन हो  रहा है।

दक्षिण पूर्व एशिया के एक देश में,  ईश्वर के अरबी नाम पर मुसलमानों का एकाधिकार है। गैर-मुसलमान यदि ईश्वर के लिए पारंपरिक नाम अल्लाह का प्रयोग करते हैं, तो उन्हें दंड दिया जाता है।

दक्षिण एशिया के एक मुस्लिम देश में हजारों हिंदू और ईसाई लड़कियों को , जिनमें से बहुत सी18 वर्ष की आयु से कम की हैं उनकाअपहरण कर लिया गया है, उन्हें जबरन मुसलमान बनाया गया हैऔर फिर उनकी "शादी"अपहणकर्ताओं से कर दी गई है।

एक मध्य पूर्वी देश में, अदालतें, 9 साल की उम्र  वाली छोटी लड़कियों के विवाह की अनुमति देती हैं और उन्हें अपने विवाह को शारीरिक संबंध स्थापित करके पूर्ण करने और अपने पति के साथ रहने को मजबूर करती हैं।

मेरे अपने देश, भारत में , मुस्लिम पति  एक बार में, एक के बाद एक, तीन बार  तलाक शब्द बोलकर ,कानूनी तौर पर एक मिनट से भी कम समय में, अपनी पत्नियों को अपने घरों से बाहर फेंक देते हैं।

यह  मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन तो हैं ही, साथ हीये सब तरीके इस्लाम धर्म को भी अवमानित करते हैं।

आतंकवाद सहित बहुत से आपराधिक कार्य इस तरह  किए जा रहे हैं , जैसेकि इस्लामी शास्त्रों द्वारा उनकी आज्ञा दी गई  हो ।

आतंकवाद सहित बहुत से आपराधिक कार्य इस तरह  किए जा रहे हैं , जैसेकि इस्लामी शास्त्रों द्वारा उनकी आज्ञा दी गई  हो ।

इन्ही कारणों से, मुस्लिम समुदाय के लिए यह जरूरी हो गया है कि वे गहराई से इसपर विचार करें। हम मुसलमानों को ,इस तरीके सेअपने धर्म  का अपहरण करने की अनुमति नहीं देनी चाहिए।

अध्यक्ष महोदय, मैं आपके माध्यम से ,परिषद में मुस्लिम देशों के प्रतिनिधियों से एक अनुरोध करना चाहता हूं।

प्रिय महोदया, महोदया, कृपया अपने देशों में धर्मशास्त्रियों के साथ एक गंभीर बातचीत शुरू करें और उनसे रचनात्मक विचार के लिए,रास्ता निकालने के लिए कहें। इस्लाम के मूल शास्त्र, पवित्र कुरान में,  न केवल इसकी अनुमति दी गई है, बल्कि अल्लाह की ओर से यह आज्ञा दी गई है क्योंकि पैगंबर मुहम्मद (सल्ल) के बाद किसी अन्य पैगंबर को नहीं आना है ।

हम मुसलमानों को 21 वीं सदी की जरूरतों को ध्यान  में रखते  हुए अपने धर्मशास्त्र पर पुनर्विचार करना चाहिए। हम 7 वीं शताब्दी में नहीं रह रहें हैं और न ही उन शुरुआती लड़ाइयों को लड़ रहे हैं और न ही हम अपने समाज को मध्ययुगीन तरीके से रख सकते हैं।

URL for English article: http://www.newageislam.com/islam,-women-and-feminism/sultan-shahin,-founding-editor,-new-age-islam/sultan-shahin-raises-triple-talaq-issue-at-unhrc,-asks-muslims-to-engage-in-serious-rethinking-of-islamic-theology-and-bring-it-in-line-with-the-needs-of-21st-century/d/108677

URL for this article: http://www.newageislam.com/hindi-section/sultan-shahin,-founding-editor,-new-age-islam/sultan-shahin-raises-triple-talaq-issue--सुल्तान-शाहीन--ने-unhrc-में--ट्रिपल-तलाक-के-मुद्दे-को-उठाया-,-उन्होने-मुसलमानों-से-कहा-कि-वे-इस्लामी-थियोलाजी-पर-गंभीरता-से-पुनर्विचार-करें/d/108805

New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Womens in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Womens In Arab, Islamphobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism,

 

Loading..

Loading..