New Age Islam
Sat Nov 27 2021, 10:11 AM

Hindi Section ( 20 Oct 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

The Significance of Cleanliness and Purification in Islam इस्लाम में स्वच्छता और पवित्रता का महत्व

सुहैल अरशद, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

4 फरवरी 2011

इस्लाम के आगमन से पहले अरब समाज कई सामाजिक और नैतिक बुराइयों से ग्रस्त था, जबकि शारीरिक और पर्यावरणीय गंदगी और अशुद्धता भी इस समाज का एक अभिन्न अंग बन गई थी। उनके असभ्य आदिवासी जीवन में स्वच्छता और परिष्कार के लिए कोई जगह नहीं थी। उनका रहन-सहन और तौर -तरीके किसी नियम के पाबंद नहीं थे। नहाना उनके लिए एक अनावश्यक कार्य था। कुछ हदीसें यह भी साबित करती हैं कि अरब के यहूदियों में भी गंदगी आम थी और वे अपने घरों में स्वच्छता को कोई महत्व नहीं देते थे। पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया:

अपने घरों को साफ़ रखो और यहूदियों के नक़्शे कदम पर मत चलो (तिरमिज़ी)

इसलिए, इस्लाम ने एक ओर मनुष्य को आध्यात्मिक शुद्धता प्रदान की, उसकी नैतिकता को परिष्कृत किया और उसे सभ्यता से परिचित कराया, वहीं दूसरी ओर, इसने समाज को स्वच्छता के सिद्धांत सिखाए और मानव जाति को जीना, उठना, बैठना भी सिखाया और पोशाक पहनने का सलीका भी सिखाया। इसलिए कुरआन में कई आयतें स्वच्छता और पवित्रता से संबंधित हैं।

अपने लिबास को साफ़ रखो (सुरह मुदस्सिर 4:74)

ऐ ईमान वालों! जब तुम नमाज़ का इरादा करो, चेहरे को, और अपने हाथों को कोहनियों तक धोओ, सर का मसह करो और अपने पैरों को टखनों थक धो डालो (सुरह मायदा 222)

ऐ आदम की औलाद! हर नमाज़ के समय खुद को संवारो (सुरह अल आराफ)

उपरोक्त आयतों से स्पष्ट है कि इस्लाम में आध्यात्मिक शुद्धता के साथ-साथ शारीरिक स्वच्छता और पवित्रता का भी बहुत महत्व है। अल्लाह उन लोगों से प्यार करता है जो पश्चाताप के माध्यम से उसकी ओर मुड़ते हैं और खुद को शारीरिक रूप से शुद्ध रखते हैं।

जाहिर है, कुरआन को मुसलमानों से आग्रह करना पड़ा कि वे अपने कपड़े साफ रखें, हर नमाज़ के लिए खुद को सजाएं, और स्वच्छ और परिष्कृत रहें क्योंकि पूर्व-इस्लामी अरब समाज साफ-सुथरा नहीं था। अरब समाज, जिसमें यहूदी, मूर्तिपूजक और ईसाई शामिल थे, ने स्वच्छता और शारीरिक स्वच्छता पर बहुत कम ध्यान दिया। उन्होंने अपने घरों, अपने आस-पड़ोस और खुद को गंदा रखा। ईसाई राहिबों और पादरियों में सफाई से बेज़ारी आम थी क्योंकि वे दुनिया से बेज़ार थे। उनका यह फलसफा था कि मानव शरीर बदी का पैकर है और इसलिए इसे सभी अच्छी चीजों, जीवन के सुखों, अलंकरण और स्वच्छता से वंचित किया जाना चाहिए। अंग्रेजी साहित्यकार केथ्राइन एशन बर्ग द डर्ट ओन क्लीन में लिखती हैं, “कई प्राचीन पादरियों ने बड़े उत्साह के साथ गंदगी को गले लगाया। एक ईसाई खानकाह के प्रमुख ने राहिबाओं को चेतावनी दी कि "स्वच्छ शरीर और स्वच्छ वस्त्र का अर्थ अशुद्ध आत्मा है।" स्पेन में गुस्ल को बुराई का प्रतीक कहा जाता था। इसलिए जब सरकारी अन्वेषक (पुलिस) को एक आरोपी के बारे में पता चला कि वह नहाता भी है तो इसमें कोई शक नहीं रह जाता था कि वह दोषी है क्योंकि उन्हें नहीं लगता था कि नहाने वाला अच्छा आदमी हो सकता है। इसी तरह, चर्च के पादरियों ने एक ऐसे व्यक्ति के पाप को माफ नहीं किया जिसे वे जानते थे कि वह नहाने का आदी था। चौदहवीं शताब्दी से अठारहवीं शताब्दी तक, बादशाहों से लेकर किसानों तक लोग भी पानी से दूर भागते थे क्योंकि उन्हें डर था कि पानी प्लेग फैला सकता है। वे शरीर की दुर्गंध को छिपाने के लिए इत्र का प्रयोग करते थे।

लेकिन इस्लाम ने शुरू से ही ग़ुस्ल को शारीरिक शुद्धि का मुख्य साधन माना और कुछ खास परिस्थितियों में ग़ुस्ल को अनिवार्य कर दिया। पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने लोगों को कम से कम शुक्रवार को ग़ुस्ल करने को कहा और ग़ुस्ल के शिष्टाचार सिखाए। कहा जाता है कि सलीबी जंगों के खात्मे पर जब यूरोपीय सेनाएं वापस लौटतीं तो आलमे अरब से गुस्ल की आदत ले कर लौटतीं। इसके बावजूद वर्षों तक उनके धर्मगुरु उन्हें विभिन्न कारणों से गुस्ल करने से रोकते रहे। यहां तक कि गौरतलब है कि साबुन मुसलमानों का आविष्कार है।

अरब के भूगोल और उसकी शुष्क जलवायु ने भी उनमें गंदगी को बढ़ावा दिया। पानी की उपलब्धता वहाँ एक आम समस्या थी। कोई भी बड़ी नदी फरात या नील जैसी नहीं थी। केवल कुएं थे जो गर्मी में सूख जाते थे। लेकिन पानी की आपूर्ति की कमी किसी भी वर्ग में स्वच्छता से घृणा का कारण नहीं हो सकती है क्योंकि गंदगी उन समाजों में भी देखी गई है जहाँ पानी बहुतायत में है। वास्तव में, पूर्व-इस्लामिक समाज में सभ्यता की कमी ने अनैतिकता, जीवन में अराजकता, दुर्व्यवहार और व्यवहार में विसंगतियों को बढ़ावा दिया था। उनके पास सामान्य गंदगी, शौच या जनाबत से पाकी के लिए दिशानिर्देश नहीं थे। वह जहां चाहता था वहां शौच और इस्तंजा करता था, मासिक धर्म और प्रसवोत्तर की स्थिति उसके लिए घृणित नहीं थी।

इसलिए इस्लाम के आगमन के साथ, मुसलमानों के जीवन में अनुशासन आया। इस्लाम ने उन्हें शरीर को साफ और शुद्ध रखने के सिद्धांत सिखाए। कुरआन की रौशनी में, पवित्र पैगंबर ने न केवल धार्मिक और नैतिक मार्गदर्शन दिया बल्कि मुसलमानों को घरों, सड़कों और पर्यावरण को साफ रखने का भी निर्देश दिया, इसलिए एक प्रसिद्ध हदीस है:

"सफाई आधा ईमान है" (मुस्लिम, तिरमिज़ी)

कई हदीसें साबित करती हैं कि पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम मुसलमानों को एक प्रतिष्ठित, सुसंस्कृत और सभ्य कौम के रूप में देखना चाहते थे। इसलिए, यदि वह किसी मुसलमान को असभ्य देखते, तो वह उसे तुरंत टोक देते।पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा:

अल्लाह ख़ूबसूरत है और ख़ूबसूरती से मुहब्बत करता है (मुस्लिम)

हज़रत अबू हुरैरा से रिवायत है कि हुजुर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया अपने सर के बालों का खयाल रखा करो (अबू दाउद 4163) इसी तरह इब्ने यासिर से रिवायत है कि एक व्यक्ति जिसके सर और दाढ़ी के बाल बिखरे हुए थे मस्जिद में आया हुजुर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इशारे से सर और दाढ़ी के बालों को संवारने का हुक्म दिया। वह व्यक्ति चला गया और थोड़ी देर के बाद वापस आया तो उसके बाल सलीके से थे। हुजुर ने यह देख कर फरमाया क्या यह उससे बेहतर नहीं है कि कोई बिखरे हुए बालों के साथ आए जैसे कि शैतान। (मालिक)

इसी तरह उन्होंने हाथ और दांत साफ करने पर विशेष जोर दिया। आप खाने से पहले और बाद में अपने हाथ धोने की सख्त तलकीन फरमाई। पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने कहा: "जो कोई भी मुरगन खाना खाने के बाद बिना हाथ धोए सो जाता है, वह बीमारियों को आमंत्रित करता है जिसके लिए वह खुद जिम्मेदार है।" (अबू दाऊद 3852, तिरमिज़ी 1861)

उन्होंने जागने के तुरंत बाद अपने हाथों को अच्छी तरह धोने का भी आदेश दिया।

"कोई नहीं जानता कि उसकी नींद में उसके हाथ कहाँ फिरते हैं" (बुखारी, मुस्लिम, इब्न माजा, अबू दाऊद, तिरमिज़ी)

अरब के बददु ठहरे हुए पानी और छायादार स्थानों में शौच और इस्तंजा कर लेते थे।उन्होंने मुसलमानों को ऐसा करने से सख्त मना किया। एक हदीस है:

"उन बातों से सावधान रहो, जिनके कारण लोग तुम्हें लानत भेजें।" लोगों ने पूछा, "कौन-से हैं?" आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया "रास्तों में सायादार जगह पर शौच करना (अबू दाउद, मुस्लिम)

एक और हदीस इस प्रकार है:

 "उन तीन चीजों से सावधान रहें जिससे लोग आप पर लानत भेजें। बहते पानी में, सड़क पर या छायादार स्थान पर शौच करना।" (अबू दाऊद, अल-बहकी)

एक और हदीस पाक है। "तुममें से कोई ठहरे हुए पानी में पेशाब करने के बाद उसमें वजू न करे" (तिरमिज़ी निसाई)

एक और हदीस है।

"तुम में से किसी को भी ग़ुस्ल की जगह पर इस्तंजा नहीं करना चाहिए।" (अबू दाऊद, तिरमिज़ी, इब्न माजा, निसाई)

हदीसों में लोगों को प्याज, लहसुन और इसी तरह की बदबूदार चीजें खाने के बाद मस्जिद में आने से मना किया गया है। क्योंकि इससे नमाजियों को कष्ट होता है। एक हदीस है:

 "अगर मुझे अपने उम्मत की मुश्किलों की परवाह नहीं होती, तो मैं हर नमाज़ से पहले मिस्वाक करना अनिवार्य कर देता।"

इसलिए पवित्र क़ुरआन की आयतें और हदीसें यह साबित करती हैं कि आध्यात्मिक शुद्धता के साथ-साथ सामूहिक और पर्यावरणीय शुद्धता और परिष्कार भी मुसलमानों की आस्था का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। लेकिन अलमिया यह है कि मुसलमान कुरआन और सुन्नत से दूर हो कर स्वच्छता और पवित्रता से दूर चले गए हैं। उनके घरों और आस-पड़ोस में गंदगी आम बात है। खाना, पीना, रहना और बात करना उनके अजीब होने को दर्शाता है। गंदगी और गलाजत मुस्लिम मोहल्लों की पहचान बन गई है। घर के अंदर और बाहर कूड़े के ढेर, उबलती नालियां, गंदगी में लौटते बच्चे, सड़क के किनारे और घर के दरवाजे पर बिखरे बाल, कंधे पर आंचल ढलकाए फालतू बातें करती महिलाएं, ऐसे दृश्य हैं जो आपको देखने को मिलेंगे यह हर मुस्लिम मोहल्ले में देखने को मिल जाएंगे आवश्यकता इस बात की है कि मुसलमानों के बीच स्वच्छता और अच्छे व्यवहार को बढ़ावा देने के लिए और कुरआन और हदीस के आधार पर एक आदर्श मुस्लिम समाज के गठन को संभव बनाने के लिए सामाजिक और कल्याणकारी संगठनों को अपने प्रयासों को तेज करने की आवश्यकता है।

-----------

Urdu Article: The Importance and Significance of Cleanliness and Purification in Islam - اسلام میں صفائی اور طہارت کی اہمیت

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/the-importance-significance-cleanliness-purification/d/125615

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..