New Age Islam
Wed Oct 20 2021, 03:59 PM

Hindi Section ( 16 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Significance of Tafseer in Understanding the Quran कुरआन को समझने में तफसीर का महत्व

सुहैल अरशद, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

27 मार्च, 2021

पवित्र कुरान की तफसीर करने की परंपरा पहली शताब्दी हिजरी में उमवी खलीफा अब्दुल मलिक के आदेश पर शुरू हुई थी। उनकी खिलाफत के दौरान पहली तफसीर संकलित की गई थी। जैसे-जैसे पैगंबर मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की वफात के बाद इस्लामिक राज्य का विस्तार हुआ, मुसलमानों ने कुरआन की शिक्षाओं को दुनिया भर के आम मुसलमानों के लिए सुलभ बनाने की आवश्यकता महसूस की, जिससे तफसीरों का संकलन हुआ।

न केवल जिब्राइल अलैहिस्सलातु  वस्सलाम ने पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर कुरआन की आयतों को नाजिल किया, बल्कि गेब्रियल जिब्राइल अलैहिस्सलातु  वस्सलाम ने पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को इन कुरआन की आयतों का अर्थ भी समझाया। निम्नलिखित आयतें इस बात को सिद्ध करती हैं:

तो जब हम उसको (जिबरील की ज़बानी) पढ़ें तो तुम भी (पूरा) सुनने के बाद इसी तरह पढ़ा करो (18) फिर उस (के मुश्किलात का समझा देना भी हमारे ज़िम्में है)” (19) (75:18-19)

और हमने जब कभी कोई पैग़म्बर भेजा तो उसकी क़ौम की ज़बान में बातें करता हुआ (ताकि उसके सामने (हमारे एहक़ाम) बयान कर सके तो यही ख़ुदा जिसे चाहता है गुमराही में छोड़ देता है और जिस की चाहता है हिदायत करता है वही सब पर ग़ालिब हिकमत वाला है (14:4)

और (ये कुफ्फार) चाहे कैसी ही (अनोखी) मसल बयान करेंगे मगर हम तुम्हारे पास (उनका) बिल्कुल ठीक और निहायत उम्दा (जवाब) बयान कर देगें (25:33)

कुरआन के नाजिल होने के शुरुआती के दिनों में, पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम इसे याद रखने और आयतों की तफसीर और व्याख्या करने की चिंता करते थे। अल्लाह ने आपको इस बारे में चिंता न करने का निर्देश दिया और आपको आश्वासन दिया कि कुरआन को याद रखना और आयतों की तफसीर सिखाना उसकी जिम्मेदारी है।

सुरह फुरकान में शब्द तफसीर का प्रयोग कुरआन की बेहतर समझ के लिए तफसीर की रिवायत को औचित्य प्रदान करता है।

इसी तरह सुरह इब्राहीम में शब्द लिसान कौम का प्रयोग दुनिया की विभिन्न भाषाओं में कुरआन के अनुवाद को जायज करार देता है क्योंकि कुरआन दुनिया के तमाम लोगों के लिए कयामत तक के हर दौर के लिए नाजिल हुआ है।

पहली व्यापक तफसीर इमाम तबरी द्वारा तीसरी शताब्दी हिजरी में लिखी गई थी। उन्होंने उस समय उपलब्ध दस्तावेजों की एक श्रृंखला की मदद से तफसीर संकलित की। अपने संतुलित और वैज्ञानिक दृष्टिकोण के कारण इस तफसीर को सबसे विश्वसनीय तफसीर माना जाता है। इस तफसीर को उम्मुल-तफासीर भी कहा जाता है क्योंकि बाद के सभी मुफ़स्सेरीन ने इसका इस्तेमाल किया है।

एक अन्य महत्वपूर्ण तफसीर इब्ने कसीर की तफसीर है जिसे आमतौर पर तफसीर इब्ने कसीर कहा जाता है। यह तफसीर तफ़सीरे तबरी के बाद सबसे विश्वसनीय और व्यापक तफसीर है। इब्ने कसीर ने तफ़सीरे तबरी से बहुत लाभ उठाया है जो कई संस्करणों में उपलब्ध है। हालाँकि इब्ने कसीर सख्त इस्लामिक विद्वान इब्ने तैमियाह के छात्र थे, लेकिन उसकी वैज्ञानिक और संतुलित शैली के कारण उसकी तफसीर विश्वसनीय है। यह तफसीर सलफियों में अधिक प्रचलित है।

एक अन्य महत्वपूर्ण तफसीर तफ़सीरे जलालेन है, जिसे 16 वीं शताब्दी में जलालुद्दीन महली और उनके छात्र जलालुद्दीन सुयुती ने साझा तौर पर लिखा है।

इसके बाद इल्मे तफसीर औपचारिक रूप से संपादित हो चुकी थी और कई भाषाओं में हजारों तफसीर लिखी जा चुकी थी। इनमें से कुछ ताफसीरें सैकड़ों खंडों में लिखी गई जिन्हें पढ़ना आम मुसलमानों के लिए आसान नहीं था। उदाहरण के लिए, तफ़सीर हकाएक 500 खंडों में लिखा गया था।

बाद के वर्षों में, कुरआन की तफसीर मुसलमानों के विभिन्न विचारधाराओं के प्रचार का एक साधन बन गई। विभिन्न संप्रदायों और विचारधारा के उलेमा ने अपने संप्रदाय या समूह या विचारधारा को साबित करने के लिए कुरआन की आयतों की व्याख्या की। आयतों की व्याख्या में, आधुनिक मुफ़स्सेरीन ने असनाद की श्रृंखला को छोड़ दिया या अनदेखा कर दिया है ताकि वे अपनी व्याख्या प्रस्तुत कर सकें।

उदाहरण के लिए, मोअतजलियों ने अपने दृष्टिकोण से कुरआन की व्याख्या की और सूफियों ने सूफी या वहद-उल-वुजुद के दृष्टिकोण से आयतों की व्याख्या की। तफसीर में कई इस्राइलियात भी शामिल कर ली गई।हकाइकुल-तफ़सीर कुरआन पर एक सूफी तफसीर है, जबकि तफ़सीर अल-अजाईब वाल-ग़राईब में कुरआन की आयतों की दूरगामी व्याख्याएँ हैं। इन दोनों तफसीरों को उलमा ने खारिज कर दिया है।

इसी तरह, शियाओं ने अपने सांप्रदायिक विश्वासों को सही ठहराने के लिए ताफ्सीरें लिखी हैं। अहमदिया संप्रदाय की अपनी स्वयं की सांप्रदायिक विचारधारा के आधार पर अपनी तफसीर है।

इन सांप्रदायिक व्याख्याओं ने कुरान की समझ को स्पष्ट करने के बजाय जटिल कर दिया है।

यही कारण है कि कुरआन की व्याख्या के ज्ञान ने आधुनिक समय में अपनी विश्वसनीयता खो दी है। प्रारंभ में, तफसीर का उद्देश्य कुरआन की समझ को आसान बनाना था, लेकिन वास्तव में, मुफ़स्सेरीन के बेईमानदाराना और सांप्रदायिक दृष्टिकोण ने कुरआन को समझना मुश्किल बना दिया है। कुरआन के अनुवाद के बारे में भी यही कहा जा सकता है। विभिन्न संप्रदायों या विचारधारा के विद्वानों ने अपने सांप्रदायिक विचारों को सही ठहराने के लिए कुरआन की आयतों का अनुवाद किया है। उनके अनुवादों और तफसीरों में सांप्रदायिक पूर्वाग्रह स्पष्ट है। इन उलमा ने कुरआन को कठिन बना दिया है जबकि खुदा फरमाता हैं:

और हमने तो क़ुरान को नसीहत हासिल करने के वास्ते आसान कर दिया है तो कोई है जो नसीहत हासिल करे (54:17)

आज के मुफ़स्सेरीन के असंतुलित और अवैज्ञानिक दृष्टिकोण के कारण अधिकांश उलमा आज भी तफ़सीरे तबरी को अब भी सबसे विश्वसनीय तफसीर मानते हैं। आधुनिक वैज्ञानिक और सामाजिक संदर्भ पर आधारित विश्व स्तर पर स्वीकार्य आधुनिक तफसीर समय की एक महत्वपूर्ण आवश्यकता है।

---------------

Urdu Article: Significance of Tafseer in Understanding the Quran تفہیم قرآن میں تفسیر کی اہمیت

English Article: Significance of Tafseer in Understanding the Quran

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/significance-tafseer-understanding-quran/d/125374

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..