New Age Islam
Tue Oct 26 2021, 09:28 PM

Hindi Section ( 24 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Followers of the Clear Book Quran Have Turned Its Advantage into a Disadvantage पवित्र कुरआन के अनुयायियों ने इसके गुण को अवगुण में बदल दिया है

सुहैल अरशद, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

18 सितंबर, 2021          

हर मुद्दे पर स्पष्ट मार्गदर्शन के बावजूद मुस्लिम सामूहिक और व्यक्तिगत मुद्दों पर बुरी तरीके से बंटे हुए हैं

प्रमुख बिंदु:

1. कुरआन सांप्रदायिकता की निंदा करता है लेकिन मुसलमान 72 संप्रदायों में बंटे हैं।

2. कुरआन विज्ञान को बढ़ावा देता है लेकिन मदरसों के पाठ्यक्रम में विज्ञान को शामिल करने को लेकर मुसलमानों में बंटवारा है।

3. परदे पर कुरआन का स्पष्ट मार्गदर्शन है, लेकिन मुसलमान इस मुद्दे पर भी बंटे हुए हैं।

4. तलाक के बारे में कुरआन में स्पष्ट निर्देश हैं, लेकिन तलाक के तरीके पर भी मुस्लिम बंटे हुए हैं।

5. कुरआन आतंकवाद की निंदा करता है, लेकिन मुस्लिम आतंकवादी संगठनों के समर्थन को भी लेकर बंटे हुए हैं।

 -----

पवित्र कुरआन को किताबे मुबीन कहा जाता है, जो एक स्पष्ट पुस्तक है। इसे एक ऐसी किताब कहा जाता है जिसमें संदेह की कोई गुंजाइश नहीं होती। खुदा कहता हैं कि मैं क़ुरआन को क़यामत के दिन तक बदलाव से सुरक्षित रखूंगा। यह पुस्तक आज भी ठीक उसी स्थिति में मौजूद है, जिसमें चौदह सौ साल पहले यह नाजिल हुआ था। इसमें 114 छोटे और बड़े सुरह शामिल हैं।

मुसलमान इस बात पर गर्व करते हैं कि कुरआन, अन्य सभी आसमानी और नाजिल पुस्तकों के विपरीत, अपने मूल रूप में है, जब से यह नाजिल हुआ है इसमें कोई परिवर्तन नहीं हुई, और यह मुसलमानों के हर सामाजिक और व्यक्तिगत मामले में स्पष्ट मार्गदर्शन प्रदान करता है। उनका यह भी कहना है कि चूंकि पहले के सभी आसमानी किताबें तहरीफ़ शुदा हो चुकी हैं और बाद के उलमा द्वारा खुर्द बुर्द कर दिया गया है, इसलिए उनके अनुयायी सांप्रदायिक और सामाजिक मामलों में विभाजन और खुदा के नियमों के बारे में संदेह का शिकार हैं। दूसरी ओर, उनका दावा है कि कुरआन में स्पष्ट निर्देश हैं, इसलिए मुसलमानों को अपने धार्मिक कर्तव्यों को पूरा करने में कोई कठिनाई नहीं होती है। उनका दावा है कि कुरआन से मुसलमानों को बहुत फायदा है।

लेकिन हकीकत में मामला इतना सीधा नहीं है। व्यवहार में मुसलमानों ने इस लाभ को बड़े नुकसान में बदल दिया है। मुसलमानों के सामने आने वाले लगभग हर मुद्दे पर स्पष्ट मार्गदर्शन और आदेशों के बावजूद, वे गहराई से विभाजित हैं और लगभग हर सामाजिक और व्यक्तिगत मुद्दे पर उनके बीच तीखे मतभेद हैं। वास्तव में, कुछ मामलों में, मुसलमान कुरआन की आज्ञाओं और इस्लाम की भावना के खिलाफ जाते हैं। कुरआन, उदाहरण के लिए, गिरोह बंदी और संप्रदायवाद की निंदा करता है, लेकिन आज मुसलमान 72 संप्रदायों में विभाजित हैं। ये मतभेद न केवल वैचारिक हैं बल्कि तकफीर को भी जन्म देते हैं, जिससे हिंसा और रक्तपात होता है। कुरआन (बचाव में या न्याय प्रदान करने जैसे) बिना किसी उचित कारण के हिंसा और रक्तपात की निंदा करता है, लेकिन मुसलमान हिंसा में लिप्त हैं और आयतों की गलत व्याख्या के कारण निर्दोष लोगों को मारते हैं।

कुरआन में तलाक के मुद्दे पर स्पष्ट निर्देश हैं, लेकिन तलाक की प्रक्रिया के मुद्दे पर मुसलमानों में काफी मतभेद हैं। प्यू रिसर्च सेंटर द्वारा हाल ही में किए गए एक सर्वेक्षण में, लगभग 50 प्रतिशत मुसलमानों का मानना है कि तीन तत्काल तलाक मान्य नहीं हैं, जबकि अन्य 50 प्रतिशत का कहना है कि तत्काल तलाक को वैध माना जाना चाहिए। करीब 64 फीसदी मुस्लिम महिलाओं का कहना है कि तत्काल तीन तलाक पर रोक लगनी चाहिए। कुरआन कहता है कि अत्तलाकू मर्रतान (तलाक दो है) और तीसरा तलाक बहुत विचार-विमर्श के बाद दिया जाना चाहिए क्योंकि तीसरा तलाक शादी को हमेशा के लिए खत्म कर देगा। लेकिन इस कुरआन के आदेश का उल्लंघन करते हुए, हमारे उलमा कहते हैं कि तलाक तीन मर्तबा है और तुरंत होता है, जिसके बाद सोचने समझने या मध्यस्थता के लिए कोई जगह नहीं छोड़ता है।

एक और मुद्दा आयतों की मनसूखी का है। इस सिद्धांत को इस्लाम के पैगंबर की वफात के दो शताब्दी बाद सामने रखा गया था और कुरआन या हदीस में इसका कोई आधार नहीं है, लेकिन इस्लामी उलमा इस मुद्दे शदीद मतभेद का शिकार हैं। इस्लामी उलमा का एक समूह तंसीख के सिद्धांत में विश्वास नहीं करता है, जबकि दूसरे समूह का मानना है कि तंसीख का सिद्धांत कुरआन पर आधारित है। दिलचस्प बात यह है कि यह समूह उन आयतों की संख्या पर भी विभाजित है जिनके बारे में माना जाता है कि उन्हें मंसूख कर दिया गया है। कुछ लोग सोचते हैं कि 100 आयतें मंसूख हैं, जबकि कुछ सोचते हैं कि केवल पाँच आयतें मंसूख हैं।

आमीन कहने और रफा यदैन के मुद्दे पर भी मुसलमानों में फूट है। वे इस बात पर भी बंटे हुए हैं कि खड़े होकर सलाम पढ़ना है या बैठना कर।

अज़ान के लिए माइक्रोफोन के उपयोग पर भी मुसलमानों में विभाजन है। मुसलमानों के रूढ़िवादी वर्ग का मानना है कि अज़ान केवल माइक्रोफोन पर दी जा सकती है, जबकि दूसरे समूह की राय है कि अज़ान के लिए माइक्रोफोन आवश्यक नहीं है। अज़ान पर ये मतभेद एक बहुसांस्कृतिक समाज में खासकर रमजान के महीने के दौरान गंभीर हिंसा और रक्तपात की ओर ले जाते हैं।

धार्मिक वर्ग के एक बड़े वर्ग के लिए विज्ञान एक कमजोर बिंदु है। यद्यपि इस्लामी उलमा के एक वर्ग का मत है कि कुरआन विज्ञान के अध्ययन को प्रोत्साहित करता है और इसलिए इसे मदरसों के पाठ्यक्रम में शामिल किया जाना चाहिए, अधिकांश इस्लामी उलमा का मानना है कि इस्लाम विज्ञान के अध्ययन को प्रोत्साहित नहीं करता है।इसलिए कि यह भौतिकवाद की ओर ले जाता और मुसलमानों को आध्यात्मिकता से दूर कर देता है। अतीत में कई वैज्ञानिक और दार्शनिक मारे जा चुके हैं। इसलिए विज्ञान को मदरसों से दूर रखा गया है।

सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा जिस पर इस्लामी उलमा ने सबसे अधिक समय बिताया है (मुझे उनके अनुयायियों की प्रतिक्रिया के डर से 'उलमा' शब्द का उपयोग करने से डर लगता है) वह परदे का मुद्दा है। कई उलमा, ओह.... इस्लामी इस्कालर्ज़ और शोधकर्ताओं ने इस महत्वपूर्ण मुद्दे पर आम सहमति तक पहुंचने की कोशिश में काफी समय बिताया है लेकिन वे सभी बेकार हैं। कुछ उलमा का मानना है कि मुस्लिम महिलाओं को परदे की दृष्टि से कुछ स्वतंत्रता दी जानी चाहिए, जबकि कुछ उलमा का मानना है कि महिलाओं को पूरा पर्दा करना चाहिए और परदे में एक आंख के सामने एक छोटा सा छेद होना चाहिए। उर्दू शायर इकबाल ने उनके बारे में कहा था।

आह, बेचारों के आसाब पर औरत है सवार।

फिर भी मुसलमानों की स्थिति यह है कि क़ुरआन एक स्पष्ट किताब है जिसमें हर बात चाहे छोटी हो या बड़ी, सूखी या तर इहाता किया गया है। तमाम इस्लामी इस्कालर्ज़ मिल कर भी उन तमाम और जिहाद और आतंकवाद जैसे बहुत से दुसरे समस्याओं पर एकमत नहीं हो सकते।

--------

Urdu Article: Followers of the Clear Book Quran Have Turned Its Advantage into a Disadvantage قرآن کریم کے پیروکاروں نے اس کی خوبی کو خامی سے بدل دیا ہے

English Article: Followers of the Clear Book Quran Have Turned Its Advantage into a Disadvantage

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/followers-quran-disadvantages/d/125431

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..