New Age Islam
Sat Nov 27 2021, 10:33 AM

Hindi Section ( 7 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Islamophobia Watch: Nityananda Singh Blasphemes Against Quran And Prophet इस्लामोफोबिया वॉच: साहिब गंज, बिहार, भारत के नित्यानंद सिंह का कुरआन और इस्लाम के पैगंबर के खिलाफ अपमान

यह घटना मुसलमानों के लिए एक सबक और आत्म-जवाबदेही का अवसर है

प्रमुख बिंदु:

1. नित्या नंद सिंह ने कहा कि कुरआन ने मुसलमानों को हिंदू, ईसाई और यहूदियों को अपना दुश्मन मानना सिखाया है।

2. उसने खुदा, पैगंबर और कुरआन के खिलाफ गुस्ताखी किया है

3. मुसलमानों को कुरआन की सही शिक्षाओं का प्रसार करना चाहिए ताकि गैर-मुसलमानों के दिमाग से कुरआन के बारे में गलत धारणाओं को दूर किया जा सके।

----

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

30 अक्टूबर, 2021

भारत के साहिब गंज बिहार के नित्या नंद सिंह को सोशल मीडिया पर पवित्र कुरआन और इस्लाम के पैगंबर के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। कस्बे में मुसलमानों ने गुस्ताखाना पोस्ट की शिकायत की और स्थानीय पुलिस ने तुरंत आरोपी को गिरफ्तार कर उसके खिलाफ साइबर अपराध के तहत मामला दर्ज किया जिसके बाद बांग्लादेश और फिर त्रिपुरा में सांप्रदायिक दंगों को रोक दिया गया।

30 अक्टूबर को राष्ट्रीय सहारा उर्दू में प्रकाशित एक रिपोर्ट के अनुसार, नित्यानंद सिंह ने पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम को एक अनपढ़ व्यक्ति कहा और उनके बारे में बुरा बोला। उन्होंने यह भी कहा कि कुरआन ने मुसलमानों को बहुओं, बहनों और बेटियों के साथ यौन संबंध बनाना सिखाया है और मुसलमानों को मुशरिकों, यहूदियों और ईसाइयों को अपना दुश्मन मानना सिखाया है।

साहिब गंज टाउन पुलिस ने गुस्ताखाना पोस्ट को हटाने के बाद किसी भी सांप्रदायिक दंगों को रोकने में अपनी तत्परता के लिए प्रशंसा की पात्र है।

नित्यानंद सिंह की टिप्पणियों को भारत और दुनिया में बढ़ते इस्लामोफोबिया के संदर्भ में देखा जाना चाहिए। हालांकि, यह घटना मुसलमानों के लिए एक सबक और आत्म-जवाबदेही का अवसर है।

मुसलमानों ने न केवल अपने समाज में कुरआन की संस्कृति को त्याग दिया है, बल्कि यह विचार भी फैलाया है कि गैर-मुसलमानों को कुरआन का अध्ययन करने और उसके संदेशों के बारे में जानने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। न केवल मुसलमान स्वयं कुरआन के सच्चे संदेशों और शिक्षाओं से अनभिज्ञ हैं, बल्कि वे गैर-मुसलमानों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को भूल गए हैं।

 नित्यानंद सिंह ने कुरान की शिक्षाओं के बारे में अपनी अज्ञानता के कारण यह टिप्पणी की। उन्होंने वही बात दोहराया जो इस्लामोफोब्ज़ इस्लाम और कुरआन के बारे में दुनिया भर में फैलाते हैं।

 रिपोर्ट के मुताबिक, नित्यानंद सिंह ने कहा कि कुरआन मुसलमानों को मुशरिकों, यहूदियों और ईसाइयों को अपना दुश्मन मानना सिखाता है। इसका वास्तविकता से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि कुरआन मुसलमानों को मुशरिकों, यहूदियों और ईसाइयों को अपना दुश्मन मानने की शिक्षा नहीं देता है, बल्कि उन्हें प्यार और स्नेह के साथ व्यवहार करने की आज्ञा देता है। कुरआन यहूदियों और ईसाइयों को अहले किताब घोषित करता है और मुसलमानों को प्यार और स्नेह के साथ व्यवहार करने की आज्ञा देता है यदि वे उनके प्रति शत्रुतापूर्ण नहीं हैं। कुरआन अहले किताब को मुसलमान कहता है क्योंकि वे भी एक खुदा और न्याय के दिन में विश्वास करते हैं। कुरआन कहता है कि अहले किताब का केवल एक वर्ग काफिर है क्योंकि उनके पास गलत अकीदे हैं, लेकिन उनमें से जो एक खुदा और कयामत के दिन में विश्वास करते हैं और अच्छे कर्म करते हैं, उन्हें आख़िरत में पुरस्कृत किया जाएगा।

मुशरिकों के संबंध में, कुरआन मुसलमानों को सलाह देता है कि वे उन्हें चोट और दुख न पहुंचाएं और उनके खिलाफ हिंसा का इस्तेमाल न करें जब तक कि वे उत्तेजक न हों। मुसलमानों को आदेश दिया गया है कि वे कुरआन का संदेश शांति से दें और उनके साथ किसी भी तरह के टकराव से बचें। कुरआन मुसलमानों को मुशरिकों से नफरत करने का निर्देश नहीं देता है, बल्कि उन्हें खुदा की एकता के संदेश को शांतिपूर्ण तरीके से व्यक्त करने का आदेश देता है।

लेकिन यह एक सच्चाई है कि मुसलमानों को सिखाया जाता है कि यहूदी, ईसाई और मुशरिक मुसलमानों के दुश्मन हैं इसलिए मुसलमानों को उनके साथ मैत्रीपूर्ण संबंध नहीं रखने चाहिए। मुस्लिम प्रचारक अक्सर अहले किताब को कुरान की स्थिति के खिलाफ सामूहिक रूप से काफिर और मुशरिक कहते हैं।

जब कोई गैर-मुस्लिम मुसलमानों पर गैर-मुसलमानों को अपना दुश्मन मानने का आरोप लगाता है, तो अलगाववादी मुसलमान अपना चेहरा छिपा लेते हैं और उनके पास कहने के लिए कुछ नहीं होता है।

अब मुसलमानों के लिए कुरआन की सच्ची शिक्षाओं को फैलाने का समय है, जो एक शांतिपूर्ण समाज की कल्पना करता है जहां सभी धर्मों के अनुयायी शांति से रह सकें।

English Article: Islamophobia Watch: Nityananda Singh Of Saheb Ganj, Bihar, India Blasphemes Against The Quran And The Holy Prophet Of Islam

Urdu Article: Islamophobia Watch: Nityananda Singh Blasphemes Against Quran And Prophet اسلامو فوبیا واچ: صاحب گنج، بہار، انڈیا کے نتیانند سنگھ کا قرآن اور پیغمبر اسلام کے خلاف توہین

URL:  https://www.newageislam.com/hindi-section/blaspheme-quran-prophet-islamophobia-nityanand/d/125728

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..