New Age Islam
Mon Jul 04 2022, 11:33 PM

Hindi Section ( 30 March 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

ISIS in Ukraine: Putin to Hire Ex-ISIS 'Liver-Eaters' To Fight 'Neo-Nazis' In Ukraine यूक्रेन में आइएसआइएस: पुतिन यूक्रेन में 'आधुनिक नाजियों' से लड़ने के लिए पूर्व आइएसआइएस 'जिगर खोरों' की सेवा प्राप्त करेंगे

मोसूल के खलीफा यूक्रेन में काफिर पुतिन के लिए लड़ेंगे।

प्रमुख बिंदु:

1. पूर्व आइएसाइएस लड़ाके यूक्रेन में पुतिन के लिए लड़ेंगे।

2. उन्हें सबसे पहले एर्दोगन ने अजरबैजान में लड़ने के लिए रखा था।

3. मोसूल के पूर्व खलीफाओं को भाड़े का सिपाही बना दिया गया।

4. तथाकथित खलीफा बगदादी के लड़ाकों का यह अंजाम हमारे इस्लामी उलमा और संगठनों के दिल तोड़ देगा।

-----

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

14 मार्च 2022

जैसे जैसे यूक्रेन में युद्ध बढ़ता और तेज होता जा रहा है, सुचना के अनुसार प्रत्येक देश कथित तौर पर अपने विरोधी पर वर्चस्व हासिल करने के लिए निराशाजनक साधनों का सहारा ले रहा है।

एक तरफ, यूक्रेन के राष्ट्रपति ज़ेलेंस्की ने लड़ाकू विमानों की कमी से मजबूर होकर, विदेशी लड़ाकों को रूस के खिलाफ लड़ने के लिए आमंत्रित किया है। संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, कनाडा और जापान के 16,000 से अधिक स्वयंसेवकों ने लड़ने के लिए अपना पंजीकरण कराया है। इन स्वयंसेवकों में युद्ध के दिग्गज और अनुभवहीन दिग्गज और आम लोग जैसे रसोइया और कॉमेडियन शामिल हैं। ऐसा लग रहा है कि यह युद्ध एक नाटकीय मोड़ लेने वाला है।

विदेशों में रहने वाले कई यूक्रेनियन भी अपने देश के लिए लड़ने के लिए यूक्रेन पहुंचे हैं।

दूसरी ओर, रूसी राष्ट्रपति पुतिन ने कथित तौर पर पूर्व आइएसाइएस लड़ाकों की सेवाओं की मांग की है ताकि वह "नव-नाज़ियों" और नशीली दवाओं के आदी लोगों से लड़ सकें।

रूस ने आधिकारिक तौर पर घोषणा की है कि वह 2014-2015 के दौरान आइएसाइएस से लड़ने वाले सीरियाई लड़ाकों की सेवा प्राप्त करेगा। लेकिन यूक्रेन ने दावा किया है कि रूस सीरिया से 16,000 पूर्व आइएसाइएस लड़ाकों की सेवा प्राप्त करने जा रहा है। यदि यह दावा सही है तो इसका क्षेत्र में दूरगामी प्रभाव पड़ेगा।

अरब स्प्रिंग के दौरान, आइएसाइएस ने अवामी विद्रोह का अपहरण कर लिया और बशर अल-असद के नेतृत्व वाले सीरिया के शिया-बहुल देश को अपने अधीन करने की योजना बनाई। यद्यपि संयुक्त राज्य अमेरिका स्पष्ट रूप से आइएसाइएस से लड़ रहा था और सीरियन डेमोक्रेटिक फोर्सेस और फ्री सीरियन आर्मी की सहायता कर रहा था, लेकिन उसे आइएसाइएस से लड़ने से अधिक बशर अल-असद को ज़ेर करने में अधिक रुचि थी। 2016 के दौरान, राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार हिलेरी क्लिंटन ने इस तथ्य पर अफसोस जताया कि अमेरिकी सरकार ने आइएसाइएस को हराने के लिए SDF को गंभीरता से और प्रभावी ढंग से प्रशिक्षित नहीं किया था। उनका इशारा शायद सीरिया में अमेरिकी सरकार के गुप्त खेल की ओर था। जवाब में, उनके प्रतिद्वंद्वी उम्मीदवार डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि हिलेरी क्लिंटन और बराक ओबामा आइएसाइएस के सह-संस्थापक हैं। यह एक गंभीर आरोप था और इसने क्षेत्र में अमेरिकी गुप्त राजनीतिक खेल का पर्दाफाश कर दिया। आखिरकार आइएसाइएस ने मोसूल पर कब्जा कर लिया और अपने तथाकथित खिलाफत की स्थापना की घोषणा की।

संयुक्त राज्य अमेरिका बशर अल-असद के शासन को उखाड़ फेंकने के लिए इतना उत्सुक था कि उसने पुतिन को आइएसाइएस पर बमबारी करने से रोकने की कोशिश की ताकि सीरियाई शहरों पर आगे बढ़ने से उन्हें रोका जा सके। ओबामा के साथ एक बैठक के दौरान, पुतिन ने एक वीडियो का हवाला देते हुए कहा कि वह "जिगर खोरों" के साथ गठबंधन नहीं कर सकते उस वीडियो का हवाला देते हुए जिसमें आइएसाइएस के एक लड़ाके को अपने मृत प्रतिद्वंद्वी के जिगर को काटते हुए दिखाया गया था।

युद्ध के दौरान, सऊदी अरब और कतर ने बशर अल-असद को उखाड़ फेंकने के उद्देश्य से आइएसाइएस को वित्तीय सहायता प्रदान की थी। यह सिर्फ अटकलें नहीं हैं, बल्कि सऊदी सरकार के एक मंत्री का बयान है। जब संयुक्त राज्य अमेरिका ने आइएसाइएस या एसडीएफ की मदद से असद सरकार को उखाड़ फेंकने में विफल रहने के बाद रासायनिक हथियारों का उपयोग करने का आरोप लगाते हुए सीरिया पर सीधा हमला करने का फैसला किया, तो सऊदी खुफिया मंत्री बंदर बिन सुल्तान ने रूसी राष्ट्रपति पुतिन के आधिकारिक निवास पर उनसे मुलाक़ात की। और उनसे कहा कि "इराक और सीरिया में सक्रिय आतंकवादी समूह हमारे नियंत्रण में हैं। यदि आप सीरिया के खिलाफ हमारी लड़ाई में हस्तक्षेप नहीं करते हैं, तो हम यह सुनिश्चित करेंगे कि ये आतंकवादी संगठन सोची ओलंपिक को बाधित न करें। जो उस समय आयोजित किया जा रहा था)।" रूस ने सऊदी अरब को खुलेआम धमकी दी थी कि अगर उसने सीरिया को अमेरिकी हमले से बचाने की कोशिश की, तो वह सोची में आइएसाइएस और अन्य आतंकवादी संगठनों को बेलगाम कर देगा। इससे पुतिन नाराज हो गए, जिन्होंने अपने सैनिकों को 2 मिनट मोड (अटैक मोड) में जाने का आदेश दिया। उन्होंने तब सऊदी अरब को चेतावनी दी थी कि अगर संयुक्त राज्य अमेरिका ने सीरिया पर हमला किया, तो रूस सऊदी अरब पर आक्रमण करेगा। इसने एक बाधा पैदा की और सीरिया को विनाश से बचाया

हालांकि, 2020 में आइएसाइएस को लेवेंट से पूरी तरह से निष्कासित कर दिया गया था। और फिर आइएसाइएस ने अपना असली चेहरा दिखाया। इसने अफगानिस्तान, श्रीलंका, फिलीपींस और बांग्लादेश में आतंकवादी हमले शुरू किए। लेकिन इस श्रृंखला की सबसे चौंकाने वाली घटना सितंबर 2020 में अज़रबैजान और आर्मेनिया में युद्ध में तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगान द्वारा इन आइएसाइएस लड़ाकों को काम पर रखने की थी। रिपोर्टों के अनुसार, तुर्की ने ईसाई बहुल देश आर्मेनिया के खिलाफ लड़ने के लिए 4,000 आइएसाइएस लड़ाकों को अजरबैजान भेजा था। इससे पहले, तुर्की ने गुप्त रूप से आइएसाइएस का समर्थन किया था क्योंकि SDF का नेतृत्व कुर्द कर रहे थे जो तुर्की में कुर्दों के लिए एक स्वतंत्र देश के लिए लड़ रहे थे।

अब, आइएसाइएस के पूर्व लड़ाकों के यूक्रेन के खिलाफ रूसी सेना में शामिल होने की खबरों ने आइएसाइएस का असली चेहरा उजागर कर दिया है। यह इस्लामी संगठनों और उलमा के लिए एक सबक है जिन्होंने उन्हें खिलाफत का सच्चा अलमबरदार करार दिया था। कोई भी देश, चाहे मुस्लिम हो या गैर-मुसलमान, उन्हें पैसे के बदले रख सकता है। वे भाड़े के सैनिकों के एक समूह में सिमट कर रह गए हैं जिनकी अपनी कोई विचारधारा नहीं है और उनका एकमात्र काम पृथ्वी पर रक्तपात करना है। रूस ने 2014-15 में उनके खिलाफ क्रेक डाउन इसलिए नहीं कि वह शियाओं का समर्थक था और सुन्नियों का दुश्मन था, बल्कि इसलिए कि आइएसाइएस संयुक्त राज्य अमेरिका और सऊदी अरब के हाथों की कठपुतली था, जो नहीं चाहते थे कि क्षेत्र में सीरिया के साथ रूस के व्यापारिक और आर्थिक संबंध बहाल और विकसित हों। अब जब कि पुतिन का लक्ष्य पूरा हो चुका है और सीरिया में उनके व्यापारिक हितों को सुरक्षित कर लिया गया है और आइएसाइएस अब केवल एक भाड़े के फौजियों का एक समूह बन कर रह गया है, रूस अपने असली पेशेवर सैनिकों को खोए बिना उन्हें यूक्रेन के खिलाफ इस्तेमाल कर सकता है। चूंकि यूक्रेन रूस से लड़ने के लिए गैर-पेशेवर लोगों का उपयोग कर रहा है, इसलिए रूस भी अपने पेशेवर सैनिकों को नए लोगों के खिलाफ लड़ाना बेकार समझता है

अब हमारे नदवी, कासमी, नोमानी और इस्लाही उलमा के लिए यह विचार करने का समय है कि आइएसाइएस ने अजरबैजान में किस तरह की खिलाफत स्थापित की है या यूक्रेन में खिलाफत स्थापित करने की क्या संभावनाएं हैं।

आइएसाइएस भाड़े के सैनिकों का एक समूह था, जिन्हें पश्चिमी शक्तियों द्वारा प्रशिक्षित, वित्त पोषित किया गया था, और केवल मध्य पूर्व में अपने आर्थिक और राजनीतिक हितों की रक्षा और बढ़ावा देने के लिए तैनात किया गया था। उन्होंने दुनिया भर में सुन्नियों का समर्थन हासिल करने के लिए गृहयुद्ध को शिया-सुन्नी संघर्ष के रूप में चित्रित किया, भले ही यह वास्तव में रूसी और यूरोपीय राजनीतिक और आर्थिक हितों का संघर्ष था। नाटो ने आइएसाइएस से लड़ने के नाम पर पूरे क्षेत्र को तबाह कर दिया, लेकिन यूक्रेन को बचाने की हिम्मत नहीं पैदा कर सका क्योंकि उनका मुकाबला एक शक्तिशाली देश रूस है। यूक्रेन में सैन्य और युद्धक विमान भेजने के बजाय, नाटो देश रूस की शक्तिशाली सेना से लड़ने के लिए रसोइयों, हास्य कलाकारों और गायकों को भेज रहे हैं। वे यूक्रेन, जॉर्जिया और पोलैंड को युद्ध के मैदान के रूप में इस्तेमाल नहीं करना चाहते हैं जैसा कि उन्होंने मध्य पूर्व में किया था क्योंकि वे यूरोपीय देशों को नष्ट नहीं करना चाहते।

English Article: ISIS in Ukraine: Putin to Hire Ex-ISIS 'Liver-Eaters' To Fight 'Neo-Nazis' In Ukraine

Urdu Article: ISIS in Ukraine: Putin to Hire Ex-ISIS 'Liver-Eaters' To Fight 'Neo-Nazis' In Ukraine یوکرین میں داعش: پوتن یوکرین میں 'جدید نازیوں' سے لڑنے کے لیے داعش کے سابق 'جگر خوروں' کی خدمات حاصل کریں گے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/isis-ukraine-putin-isis-neo-nazis-ukraine/d/126698

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..