New Age Islam
Sun Oct 17 2021, 02:28 PM

Hindi Section ( 19 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Blasphemy-Centric Barelwi Radicalisation Of Pakistan Is Snowballing To India मज़हब के तौहीन पर आधारित पाकिस्तान की बरेलवी रूढ़िवादिता भारत में पैर पसार रही है

बरेलवी उलमा जिन्हें दक्षिण एशिया में शांतिपूर्ण इस्लामी उपदेशक माना जाता है, पाकिस्तान में हिंसा का फिकही तौर पर जवाज़ पेश करते हैं

मुख्य विशेषताएं:

1. तौहीने रिसालत के खिलाफ इस हिंसक फिकही मुद्दे को पाकिस्तान के बरेलवी उलेमा ने कुछ हदीस की रिवायत के आधार पर तैयार किया है।

2. तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) ने  केवल उसी की तकमील की है जिसका सपना पाकिस्तान में मुख्यधारा के बरेलवी उलेमा ने पाकिस्तान की स्थापना के माध्यम से बुना था।

3. कुछ बरेलवी संस्थाओं के माध्यम से भारत में तौहीने रिसालत पर आधारित इस्लामी कट्टरवाद सीमा पार से फैल रही है

-----                

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

22 अप्रैल, 2021

Late Maulana Khadim Hussain Rizvi

------

सार्वजनिक संपत्ति को नष्ट करना, राजमार्गों को बंद करना, नागरिकों और सुरक्षा बलों की हत्या, और रमजान के पवित्र महीने के दौरान कई दिनों तक सामान्य जीवन में व्यवधान, ये सभी ऐसे कारनामे हैं जो कभी पाकिस्तान के पसंदीदा थे, लेकिन अब रूढ़िवादिता खत्म हो रही  अत्यंत रुढ़िवादी इस्लामी संगठन तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) ने पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सम्मान और नामूस को फ्रांसीसी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से बचाने के नाम पर अंजाम दिया है।

टीएलपी ने हिंसक विरोध और हमलों के दौरान इस्लामाबाद, रावलपिंडी, कराची और पाकिस्तान के अन्य हिस्सों में दंगा किया। विरोध तीन मांगों के लिए था: पहला, टीएलपी नेता के बेटे साद हुसैन रिज़वी और मौलाना खादिम हुसैन रिज़वी की रिहाई, जिन्हें 10 अप्रैल को सुरक्षा बलों ने हिरासत में लिया था, दूसरा, पाकिस्तान से फ्रांसीसी राजदूत का निष्कासन और तीसरा, फ्रांस के साथ पाकिस्तान के राजनयिक संबंध रद्द कर दिए जाने चाहिए।

(Image Credit: Instagram/@imrankhan/PTI) Tehreek-e-Labbaik Pakistan Chief Saad Hussain Rizvi Released From Kot Lakhpat Jail

-------

इसके बाद, इमरान खान के नेतृत्व वाली पीटीआई सरकार ने कट्टरपंथी इस्लामी समूह की लगभग सभी मांगों को खारिज कर दिया कि इसे आतंकवादी संगठन घोषित किया जाए और पाकिस्तान सरकार के आतंकवाद विरोधी अधिनियम 1997 के तहत इसकी गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद भी, स्वीकार कर लिया है। टीएलपी प्रमुख साद रिजवी को देश भर में हफ्तों तक चले हिंसक विरोध प्रदर्शनों के बाद रिहा कर दिया गया है, जबकि पाकिस्तानी सरकार फ्रांस के राजदूत को हटाने के लिए नेशनल असेंबली में एक प्रस्ताव पेश करने पर सहमत हो गई है। इस प्रकार, पाकिस्तान में राज्य सत्ता को एक बार फिर खुद साख्ता नामूसे रिसालत के संरक्षण और पाकिस्तान के कुख्यात और विवादास्पद तौहीने रिसालत कानूनों के रक्षकों द्वारा पराजित किया गया है। वह कोई और नहीं बल्कि बरेलवी उलमा हैं जिन्हें दक्षिण एशिया में सबसे शांतिपूर्ण इस्लामी उपदेशक माना जाता है। लेकिन पाकिस्तान में वही उलमा इन दो विचारधाराओं के आधार पर हिंसा के लिए धार्मिक औचित्य प्रदान करते हैं: (१) तौहीने रिसालत की सजा केवल हत्या है जो एक व्यक्ति द्वारा की जा सकती है, अगर राज्य अपनी सजा को लागू नहीं करता है। (२) मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के हर 'सच्चे' प्रेमी का धार्मिक कर्तव्य है कि वह उन लोगों को मार डाले जो कथनी या करनी से उनका अपमान करते हैं।

Tehreek-e-Labbaik Pakistan agitators burn a photo of French President Emmanuel Macron in protest against blasphemous caricatures published in France in 2020 | @SabahKashmiri | Twitter

------

इस हिंसक तौहीने रिसालत विरोधी इस्लामी कानून, जो हदीस की कुछ रिवायतों पर आधारित है, उस पर अधिक खद व खाल पाकिस्तानी बरेलवी उलमा जैसे पीर मेहर अली शाह, मौलाना शाह अहमद नूरानी, मौलाना हनीफ कुरैशी, मौलाना अशरफ आसिफ जलाली और मुफ्ती इरफान शाह मशहदी वगैरा ने लगाया है। मरहूम मौलाना खादिम हुसैन रिज़वी ने टीएलपी का गठन किया और वही किया जो पाकिस्तान में मुख्यधारा के बरेलवी उलमा ने इस्लामिक स्टेट ऑफ़ पाकिस्तान की स्थापना के माध्यम से कल्पना की थी। उल्लेखनीय है कि बंटवारे से पहले की विचारधारा का बरेलवी उलमा ने जोरदार समर्थन किया था, जिसमें फिरके के संस्थापक मौलाना अहमद रजा खान बरेलवी भी शामिल थे, जिन्हें उपमहाद्वीप में आला हज़रत के नाम से जाना जाता है।

जिस तरह कट्टरपंथी वहाबियों और देवबंदियों ने एकेश्वरवाद की शुद्ध समझ के आधार पर एक अतिवादी बयान विकसित किया है, उसी तरह बरेलवियों ने भी रिसालत की एक जटिल अवधारणा प्रस्तुत की है। लेकिन बरेलवी मज़हब हिंसक उग्रवाद को भड़काने में देवबंदियों और वहाबियों से अलग नहीं है। वहाबी सलाफी और देवबंदी हलकों में बढ़ते उग्रवाद के मद्देनजर, पाकिस्तानी बरेलवियों ने खत्मे नबूवत के मूल इस्लामी सिद्धांतों और तह्फ्फुज़े नामुसे रिसालत के राजनितिक सिद्धांतों और उग्रवाद पर, तौहीने रिसालत की अतिवाद के एक पूर्णतः हिंसक मज़हब के तौर पर, ज़ोर देना शुरू कर दिया है।

Courtesy/ The Hindu

-----

यह आंदोलन धर्मनिरपेक्ष सामाजिक ताने-बाने के लिए एक संभावित खतरे के रूप में उभरा है जो सदियों से भारतीय मुसलमानों के बीच मजबूत रहा है।

अपने बरेलवी रक्षक मुमताज़ कादरी द्वारा सलमान तासीर की हत्या पर टिप्पणी करते हुए, लेखक आरिफ जमाल शैडो वॉर: द अनटोल्ड स्टोरी ऑफ़ जिहाद इन कश्मीर में लिखते हैं:

"बड़ी संख्या में दावते इस्लामी के कार्यकर्ता; कथित तौर पर [मुमताज़] कादरी [उनमें से] ही एक है; इस हिंसक सुन्नी आंदोलन में शामिल हो रहे हैं। कादरी इस बरेलवी अकीदे का केवल एक नमूना है न कि उसके उलट। हालांकि बरेलवी अभी भी आतंकवाद में देवबंदियों और वहाबियों का मुकाबला नहीं कर सकते हैं, यह हत्या स्पष्ट रूप से उस दिशा को दिखाती है जिधर वे जा रहे हैं।

तह्फ्फुज़े नामुसे रिसालत

बरेलवी लोग पैगंबर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के प्रति अपनी गहन अकीदत और प्रेम के लिए जाने जाते हैं। उनका मानना है कि पैगंबर के इज्जत और सम्मान की हर संभव तरीके से रक्षा करना उनका धार्मिक कर्तव्य है। इसलिए, वे किसी ऐसे व्यक्ति के साथ समझौता नहीं करते हैं जो मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के खिलाफ आलोचनात्मक या अपमानजनक कुछ भी बोलता या लिखता है। पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के खिलाफ इस तरह का अपमान करने वाले व्यक्ति की हत्या के लिए हर किसी को कानून अपने हाथ में लेने की अनुमति है। इस तरह वे "तहफ्फुज़े नामुसे रिसालत" करते हैं। सबसे प्रसिद्ध तौहीने रिसालत का नारा जो पाकिस्तानी बरेलवियों के बीच तेजी से लोकप्रिय हो रहा है, वह यह है: गुस्ताखे नबी की एक सजा, सर तन से जुदा।

आज भारत के कुछ हिस्सों में बरेलवी कट्टरवाद भी पाकिस्तान से प्रवेश कर चुका है। इसकी परिणति कुछ कट्टर बरेलवियों को पाकिस्तान से निकलने वाली तौहीने मज़हब विरोधी विचारधारा को स्वीकार कर लिया। कई दशकों से, पाकिस्तान में अधिकांश कट्टरपंथी इस्लामवादी - जैसे टीटीपी, जैश-ए-मुहम्मद और लश्कर-ए-झींगवी - देवबंदी या वहाबी समूहों के थे। लेकिन पाकिस्तान में बरेलवी कट्टरवाद पंजाब के गवर्नर सलमान तासीर की जनवरी 2011 में इस्लामाबाद में उनके बरेलवी अंगरक्षक मलिक मुमताज कादरी द्वारा हत्या के बाद उभरा, जिन्हें भारत और पाकिस्तान में 'गाजी' या शहीद के रूप में सम्मानित किया जाता है।

Saad Hussain Rizvi, the chief of Tehreek-e-Labbaik Pakistan

-----

वास्तव में, पाकिस्तानी बरेलवी उलमा, जो अपने संप्रदायवाद के लिए जाने जाते हैं, तौहीने रिसालत कानूनों को लागू करने के लिए सभी इस्लामी संप्रदायों को एकजुट करना चाहते हैं। खादिम हुसैन रिजवी तालिबान के पिता के रूप में जाने जाने वाले देवबंदी मौलवी मौलवी समीउल हक के साथ गठबंधन बनाना चाहते थे। रावलपिंडी में मारे जाने से पहले अपने अनुयायियों को दिए गए अंतिम उपदेश में, उन्होंने आसिया बीबी और सभी गुस्ताखों के लिए "दर्दनाक मौत" का आह्वान किया। खादिम रिजवी के साथ-साथ उन्होंने इस्लामाबाद में भी आसिया के बरी होने के खिलाफ प्रदर्शनकारियों को लामबंद किया। खादिम रिजवी ने उनसे जुड़ने का इरादा किया था लेकिन नहीं जुड़ सके।

यहां तक कि अहल-ए-सुन्नत के नेता और रुयत-ए-हिलाल समिति के पूर्व प्रमुख मुफ्ती मुनीब-उर-रहमान और अन्य प्रसिद्ध देवबंदी मौलवियों ने भी प्रतिबंधित टीएलपी के साथ जाने का फैसला किया। जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम फजल (JUI-F) और देश की सबसे बड़ी धार्मिक पार्टी सहित धार्मिक और राजनीतिक दल भी टीएलपी के हड़ताल के आह्वान के समर्थन में सामने आए हैं। उनमें से किसी ने भी टीएलपी प्रदर्शनकारियों की निंदा नहीं की जिन्होंने एक पुलिस स्टेशन पर हमला किया और कम से कम 12 पुलिसकर्मियों को बंधक बना लिया, जबकि कम से कम छह लोग गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

इस प्रकार, बरेलवी इस्लाम के नए चेहरे के रूप में मरहूम खादिम हुसैन रिज़वी ने अपने पुराने और अपेक्षाकृत शांतिपूर्ण इस्लाम से अपनी कट्टरपंथी विचारधारा को सफलतापूर्वक प्रतिष्ठित किया। टीएलपी में उनके पूर्ववर्ती और समर्थक कट्टरपंथी वहाबी और देवबंदी संगठनों के साथ रणनीतिक गठबंधन बनाने की कोशिश कर रहे हैं। आश्चर्य नहीं कि खादिम रिज़वी को उनके अनुयायियों द्वारा अमीर अल-मुजाहिदीन कहा जाता था। अमीर अल-मुजाहिदीन का जिक्र एक फेसबुक पेज पर किया गया है जिसके 48,000 से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। इससे पहले, इस तरह के शीर्षक का इस्तेमाल केवल पाकिस्तान में सलफी / वहाबी और देवबंदी रूढ़िवादी पार्टियों में किया जाता था। लेकिन टीएलपी ने इसे बरेलवी संप्रदाय के पाकिस्तानी मुसलमानों से भी सफलतापूर्वक परिचित कराया है। यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि तौहीने रिसालत पर आधारित बरेलवी कट्टरवाद भारत में भी सीमा पार से फैल रहा है। बरेलवी संगठनों ने तौहीने रिसालत करने वाले को बरी करने के पाकिस्तानी सुप्रीम कोर्ट के ऐतिहासिक फैसले पर शोक व्यक्त किया। 2011 की शुरुआत में, मुंबई स्थित बरेलवी संगठन रज़ा अकादमी ने मुमताज कादरी के समर्थन में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया। इसने भारत में एक पाकिस्तानी बरेलवी युवा संगठन शबाब-ए-इस्लामी को समर्थन दिया, जिसने सबसे पहले मारे गए आतंकवादी मुमताज कादरी की कैद का विरोध किया था।

-----------

Urdu Article: Blasphemy-Centric Barelwi Radicalisation Of Pakistan Is Snowballing To India توہین مذہب پر مبنی پاکستان کی بریلوی قدامت پرستی ہندوستان میں پاؤں پسار رہی ہے

English Article: Blasphemy-Centric Barelwi Radicalisation Of Pakistan Is Snowballing To India

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/blasphemy-pakistani-barelwi-radicalisation-india/d/125394

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..