New Age Islam
Wed Aug 17 2022, 05:32 PM

Hindi Section ( 23 May 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Assamese Muslims Divided As Indigenous Muslims And Immigrant Muslims आसामी मुसलमान स्थानीय और अप्रवासियों में बटे हैं

सरकारी पैनल ने असमिया भाषी मुसलमानों की जनगणना और उन्हें पहचान पत्र जारी करने का प्रस्ताव दिया

प्रमुख बिंदु:

1. असम में, बंगाली भाषा बोलने वाले मुसलमानों को बांग्लादेश से अप्रवासी माना जाता है

2. आसामी भाषा बोलने वाले मुसलमानों की जनसंख्या 4 मिलियन है

3. बंगाली भाषा बोलने वाले मुसलमानों की जनसंख्या 9 मिलियन है

4. बंगाली बोलने वाले मुसलमान भारी बहुमत में हैं

5. सरकार असमिया भाषी मुसलमानों के लिए विकास कार्यक्रम शुरू करना चाहती है

-----

न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

29 अप्रैल, 2022

स्थानीय मुसलमानों (असमिया भाषी मुसलमानों) के विकास को देखने के लिए पिछले साल असम सरकार द्वारा स्थापित आठ पैनलों में से एक ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की है जिसमें उसने कई सिफारिशें की हैं। अपनी सिफारिशों में उन्होंने कहा कि सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि स्थानीय असम के मुसलमान कौन हैं। दूसरे, सरकार को स्थानीय मुसलमानों की जनगणना करनी चाहिए और स्थानीय मुसलमानों के रूप में पहचाने जाने वाले लोगों को पहचान पत्र जारी करना चाहिए। उन्होंने यह भी सिफारिश की कि उन्हें विधानसभा या संसद में अधिक राजनीतिक प्रतिनिधित्व दिया जाए। इस पर सरकार ने विधानसभा में एक विधान परिषद बनाने की योजना बनाई है जिसमें कुछ सीटें स्थानीय मुसलमानों के लिए आरक्षित होंगी।

पिछले साल जुलाई में, असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा ने 150 असमिया भाषी मुस्लिम बुद्धिजीवियों और गणमान्य व्यक्तियों से मुलाकात की थी।

लेकिन एआईयूडीएफ ने सरकार के इस कदम को असम के मुसलमानों को बांटने की कोशिश करार दिया है। असम में मुस्लिम समुदाय द्विभाषी समुदायों में बंटा हुआ है। असमिया भाषी मुसलमान यहाँ के पुराने निवासी हैं और बांग्ला भाषी मुसलमान विभाजन के पहले और बाद के विभिन्न कालखंडों में वर्तमान बांग्लादेश के क्षेत्रों से पलायन कर चुके हैं। असमिया भाषी मुसलमानों को तीन समूहों - गोरिया, मोरिया और देसी में बांटा गया है। जुला को भी एक स्थानीय मुस्लिम समुदाय माना जाता है जो स्वतंत्रता पूर्व रेलवे विस्तार कार्यक्रम के दौरान बिहार और यूपी से असम चले गए थे।

स्थानीय मुसलमानों की पहचान की प्रक्रिया आधिकारिक तौर पर अप्रैल 2021 में शुरू हुई थी।

असम के मुसलमानों ने राज्य के स्थानीय मुसलमानों की पहचान के लिए 15 अप्रैल, 2021 से मुस्लिम एनआरसी में भाग लिया था। इसकी शुरुआत असम जनागोथी समान परिषद (जेएसपीए) ने की थी। सर्वेक्षण का उद्देश्य असम में स्थानीय मुस्लिम समुदायों की पहचान करना और उन्हें बंगाली भाषी मुसलमानों से अलग करना था, जो असम में बहुसंख्यक मुसलमान हैं, लेकिन जिन्हें बांग्लादेश से अप्रवासी के रूप में देखा जाता है। JSPA ने असम के स्थानीय मुसलमानों के तौर पर केवल तीन समुदायों - गोरिया, मोरिया और देसी की पहचान की है और उन्हें मान्यता दी है। बाकी मुस्लिम आबादी को बांग्लादेशी शरणार्थी कहा जाता है, इसलिए उनकी नजर में वे बांग्लादेशी हैं। असम के बंगाली भाषी मुसलमानों को मिया कहा जाता है।

जेएसपीए के अध्यक्ष सैयद मोमिनुल अव्वल सर्वेक्षण के प्रमुख थे। उन्होंने कहा कि सर्वेक्षण आवश्यक था क्योंकि मुस्लिम अप्रवासी गोरिया, मोरिया और देसी मुसलमानों को मियावों के साथ मिलानेने की कोशिश कर रहे हैं। स्थानीय मुस्लिम समुदाय में पहचान का संकट है। मोमिन-उल-अव्वल का यह भी कहना है कि बंगाली मुसलमानों के वर्चस्व के कारण स्थानीय मुसलमानों को आर्थिक और राजनीतिक रूप से नुकसान उठाना पड़ा है।

यह 2019 में असम में भाजपा सरकार में अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री रंजीत दत्ता द्वारा प्रस्तावित किया गया था। 2019 असम बजट बैठक में स्थानीय असमिया मुसलमानों के लिए एक विकास निगम की योजना भी प्रस्तुत की गई थी। बजट में स्थानीय असमिया मुसलमानों के सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण की भी योजना थी।

10 फरवरी, 2020 को अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने स्थानीय मुसलमानों के सामाजिक-आर्थिक सर्वेक्षण को अंतिम रूप देने के लिए स्थानीय असमिया मुस्लिम समूहों और समुदायों की एक बैठक बुलाई, लेकिन सर्वसम्मति से स्थानीय (खलुनजिया) शब्द को चार समुदाय के विशिष्ट नामों में बदल दिया गया। - गोरिया, मोरिया, देसी और जूला। अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री ने कहा था कि गोरिया, मोरिया, देसी और जूला विकास निगम की स्थापना की जाएगी।

लंबे समय से स्थानीय या असमिया भाषी मुसलमानों ने महसूस किया है कि वे बंगाली भाषी मुसलमानों से पिछड़ गए हैं और उन्होंने स्थानीय मुसलमानों के आर्थिक पिछड़ेपन के लिए कांग्रेस और बदरुद्दीन अजमल की एआईयूडीएफ को जिम्मेदार ठहराया है। इसलिए स्थानीय मुसलमान कांग्रेस और एआईयूडीएफ को अपना दुश्मन और बीजेपी सरकार को अपना दोस्त और हितैषी मानते हैं। लेकिन एआईयूडीएफ का कहना है कि यह कदम राज्य के मुसलमानों को और कमजोर करेगा और उन्हें एक-दूसरे के खिलाफ खड़ा करेगा।

स्थानीय मुसलमानों का कहना है कि असम के 13 जिलों में बांग्लादेशी मुसलमानों का दबदबा है और कांग्रेस के 13 मुस्लिम विधायक बांग्लादेशी मुसलमान हैं।

इस पहल के प्रमुख और जेएसपीए के प्रमुख मोइनुल अव्वल ने कहा कि असम में सभी बंगाली भाषी मुसलमान अवैध बांग्लादेशी अप्रवासी हैं। वह कांग्रेस को बांग्लादेशी मुस्लिम पार्टी कहते हैं।

JSPA द्वारा उपलब्ध कराए गए आंकड़ों के अनुसार, असम में स्वदेशी मुसलमानों की आबादी 4 मिलियन है। शेष 90 मिलियन बांग्लादेशी अप्रवासी (बंगाली भाषी असमिया मुसलमान) हैं। राज्य में मुसलमानों की कुल आबादी 3.5 करोड़ की कुल आबादी में से 1.3 करोड़ है। असम की कुल आबादी में मुसलमानों की संख्या 33.4% है।

स्थानीय असमिया की संकीर्ण सोच ने सभी बंगाली भाषी मुसलमानों को अवैध बांग्लादेशी बना दिया है जो 19 वीं शताब्दी के अंतिम के बाद से असम में रह रहे हैं, उन्हें गैर कानूनी बांग्लादेशी का नाम दिया है जो कि वह नहीं हैं क्योंकि बांग्लादेश 1971 में अस्तित्व में आया था और जो आज बांग्लादेशी कहलाते हैं वह केवल आजीविका की तलाश में भारत के एक हिस्से से हिजरत करके दूसरे हिस्से में आबाद हुए थे।

सर्वे या मुस्लिम एनआरसी तीन महीने में होना था। लोगों को सरकारी संगठन और विभागों द्वारा जारी दस्तावेजों के साथ इसके पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन करना था। उसके बाद पुष्टि की जाती और अंतिम सूची जारी की जाती।

असम सरकार के इस कदम की राज्य के राजनीतिक और सामाजिक कार्यकर्ताओं और बुद्धिजीवियों ने आलोचना की है। उनका मानना है कि यह मुस्लिम समुदाय को बांटने की कोशिश है।

यदि योजना सफल होती है, तो मुस्लिम द्विभाषी समुदायों के बीच स्पष्ट विभाजन होगा। असमिया भाषी मुसलमान भाजपा के समर्थक बन जाएंगे और बांग्ला भाषी मुसलमानों को यह अहसास कराया जाएगा कि वे बाहरी हैं। यह उनके लिए उत्पीड़न और सामाजिक अलगाव का कारण बनेगा।

English Article: Assamese Muslims Divided As Indigenous Muslims And Immigrant Muslims

Urdu Article:  Assamese Muslims Divided As Indigenous Muslims And Immigrant Muslims آسامی مسلمان مقامی اور تارکین وطن میں منقسم ہیں

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/assamese-muslims-indigenous-immigrant/d/127074

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism

Loading..

Loading..