New Age Islam
Sat Nov 27 2021, 09:28 AM

Hindi Section ( 1 Nov 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Abbas Siddiqi’s Communalism Is Dangerous: Muslims in West Bengal Should Beware of His Militant Mindset अब्बास सिद्दीकी की सांप्रदायिकता खतरनाक है: पश्चिम बंगाल के मुसलमानों को उसकी उग्रवादी मानसिकता से सावधान रहना चाहिए

अब्बास सिद्दीकी ने कहा था कि वह उन लोगों का गला काट देंगे जिन्होंने बांग्लादेश में दुर्गा पूजा पंडाल में कुरआन रखा था, जिससे चरमपंथी कट्टरपंथियों द्वारा तौहीने मज़हब के खिलाफ हिंसा का माहौल बनाया गया था, जिसके पीछे मूल रूप से शेख हसीना सरकार विरोधी और पाकिस्तान समर्थक जमात-ए-इस्लामी  थी।। लेकिन असल में इसमें इकबाल हुसैन नाम के एक 'मानसिक रूप से बीमार मुसलमान' का हाथ है जिसने पवित्र कुरआन को दुर्गा पूजा पंडाल में रखा था।

प्रमुख बिंदु:

1. अब्बास सिद्दीकी ने कहा कि मैं कुरआन का अपमान करने वालों का गला काट दूंगा।

2. वह पश्चिम बंगाल के मुसलमानों का नेता बनना चाहता है।

3. उसके इस बयान से राज्य का माहौल खराब हो गया है।

4. बांग्लादेशी मौलवियों और कार्यकर्ताओं ने अल्पसंख्यकों पर हमले की निंदा की है।

 ----

 न्यू एज इस्लाम स्टाफ राइटर

 23 अक्टूबर 2021

 ----

Abbas Siddiqui later released a video on Facebook and demanded strict punishment to those who attacked Durga Puja Pandals in Bangladesh. (File photo)

----

फुरफुरा शरीफ दरगाह के पीरजादा और तथाकथित भारतीय धर्मनिरपेक्ष मोर्चे के प्रमुख अब्बास सिद्दीकी ने पश्चिम बंगाल में सांप्रदायिक सद्भाव के माहौल को यह कहकर खराब कर दिया है कि कुरआन का अपमान करने वालों का सिर कलम कर दिया जाना चाहिए। उन्होंने पिछले सप्ताह दुर्गा पूजा उत्सव के दौरान बांग्लादेश में एक पूजा स्थल पर कुरआन के अपमान की घटना का हवाला देते हुए उत्तरी 24 परगना में एक कार्यक्रम में यह टिप्पणी की। उनके भड़काऊ बयान को राज्य के मुस्लिम युवाओं को हिंसा के लिए उकसाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।

बांग्लादेशी पुलिस ने 13 अक्टूबर को एक पूजा पंडाल में कुरआन का अपमान करने के मामले को सुलझा लिया है। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के आधार पर इकबाल हुसैन नाम के एक मुस्लिम शख्स को गिरफ्तार किया है। सीसीटीवी फुटेज में दिखाया गया है कि हुसैन कार्यक्रम स्थल के अंदर कुरआन की एक प्रति ले जा रहे था, हनुमान का गदा ले कर बाहर आ रहा था।

इस खुलासे से अब यह स्पष्ट है कि मामला सांप्रदायिक दंगे भड़काकर देश में अशांति फैलाने के लिए कट्टरपंथी और सांप्रदायिक तत्वों की साजिश थी।

यह याद रहे कि जब से शेख हसीना बांग्लादेश में सत्ता में आई हैं, विपक्षी दल और विशेष रूप से चरमपंथी संगठन हिफ़ाज़त-ए-इस्लाम किसी न किसी बहाने अशांति फैला रहे हैं। उन्होंने बांग्लादेश के स्वर्ण जयंती समारोह के दौरान ढाका और विभिन्न शहरों में शेख मुजीबुर रहमान की मूर्तियों की स्थापना का विरोध किया, इसे गैर-इस्लामी और अशांति फैलाने वाला बताया था।

उन्होंने भारतीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की बांग्लादेश यात्रा के दौरान अशांति और हिंसा भी की। उन्होंने फ्रांस के राष्ट्रपति मैक्रों के इस बयान पर भी नाराजगी व्यक्त की थी कि इस्लाम अभी भी संकट में है।

जब हम कोमेला के एक पूजा पंडाल में कुरआन के कथित अपमान के खिलाफ वर्तमान विरोध को देखते हैं, तो इसका उद्देश्य और साजिश स्पष्ट हो जाती है।

शेख हसीना की सरकार का विरोध करने वाले चरमपंथी संगठन हमेशा सरकार के खिलाफ हिंसक विरोध प्रदर्शन करने के लिए किसी मुद्दे या अवसर की तलाश में रहते हैं। चूँकि उन्हें कोई अवसर नहीं मिला तो उन्होंने एक आदमी को कुरआन की एक प्रति के साथ भेजा और उसे एक पूजा पंडाल में रखवा दिया, जिससे उनके हाथ एक नया अवसर लगा। और फिर उन्होंने सरकार के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन शुरू कर दिया और हिंदू मंदिरों और उनकी दुकानों और घरों पर हमला करना शुरू कर दिया।

इस खुलासे ने अब्बास सिद्दीकी का चेहरा काला कर दिया है क्योंकि उन्होंने गैर-मुसलमानों के खिलाफ सांप्रदायिक बयान दिए थे। इकबाल की मां आमना के मुताबिक 30 साल का इकबाल हुसैन मानसिक रूप से बीमार और नशे का आदी है और कुछ चोटों के कारण पिछले दस साल से मानसिक परेशानी से जूझ रहा है।पुलिस के अनुसार, कोमेला के पंडाल में प्रवेश करने से पहले उसने एक अन्य पूजा पंडाल में प्रवेश करने की कोशिश की थी।

गौरतलब है कि अब्बास सिद्दीकी ने विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस और वाम दलों के साथ मिलकर इंडियन सेक्युलर फ्रंट का गठन किया था। गठबंधन बुरी तरह विफल रहा और अब्बास सिद्दीकी का पश्चिम बंगाल का ओवैसी बनने का सपना चकनाचूर हो गया। इसलिए वह तूफान को रोकने और उसे राजनीति के केंद्र में लाने के लिए एक उपयुक्त अवसर और समाधान की प्रतीक्षा कर रहे थे।

दुर्भाग्य से, उन्होंने बांग्लादेश में एक पूजा स्थल पर कुरआन के कथित रूप से अपमान करने का अवसर हाथ लग गया। मौका मिलते ही वह हरकत में आ गया और कुरआन का अपमान करने वाले का गला काटने की धमकी दी। यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि बांग्लादेश सरकार ने उन लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की है जिन्होंने बांग्लादेश में हिंदू मंदिरों पर हमला किया या पूजा स्थलों में तोड़फोड़ की। शेख हसीना की सरकार ने हमलों में शामिल होने के लिए अपने ही राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं को भी निलंबित कर दिया है।

मुस्लिम और हिंदू बुद्धिजीवियों, कवियों और जीवन के सभी क्षेत्रों के लेखकों सहित बांग्लादेश के सिविल सोसाइटी के सदस्यों ने संयुक्त रूप से अल्पसंख्यकों पर हमलों की निंदा की है। भारत के भीतर, मुसलमानों ने गैर-मुसलमानों और उनके मंदिरों और दुकानों पर व्यापक हमलों की निंदा की। कोलकाता में 21 अक्टूबर को विभिन्न संगठनों द्वारा एक विरोध सभा आयोजित की गई थी।

बांग्लादेश के उदारवादी मौलवियों, जैसे अबुल कलाम आज़ाद बशार, ने राम कृष्ण मिशन मंदिर सहित अल्पसंख्यक पूजा स्थलों पर हमलों की निंदा की है। मौलाना अबुल कलाम आजाद बशार ने पवित्र कुरआन की आयत "و لا تزرو وازرۃ وزرا اخرا" को उद्धृत किया (कोई भी बोझ उठाने वाला दुसरे का बोझ नहीं उठाएगा) कुरआन कहता है कि किसी को दूसरों की गलतियों की सज़ा नहीं देनी चाहिए। उन्होंने कहा, "गलती करने वालों पर कानून के तहत मुकदमा चलाया जाना चाहिए और दंडित किया जाना चाहिए, लेकिन अल्पसंख्यकों के खिलाफ भीड़ की हिंसा गैर-इस्लामी है।"

बांग्लादेश क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और अवामी लीग के सांसद मुशर्रफ बिन मुर्तजा ने अल्पसंख्यकों पर हो रहे हमलों पर दुख व्यक्त करने के लिए ट्विटर का सहारा लिया है। उन्होंने लिखा "मैंने कल दो हार देखी, एक बांग्लादेशी क्रिकेट टीम थी जिसने मुझे आहत किया, जबकि दूसरी पूरे कौम की हार थी जिसने मेरा दिल तोड़ दिया।"

लेकिन दूसरी ओर, स्वयंभू सूफी अब्बास सिद्दीकी, जो भारतीय राज्य पश्चिम बंगाल में फुरफुरा शरीफ में एक सूफी संत की दरगाह से जुड़ा हुआ है, ने एक ऐसा बयान दिया जो खतरनाक था और राज्य के सांप्रदायिक सद्भाव के लिए खतरा था। जाहिर है, उन्होंने मुस्लिम युवाओं को गैर-मुसलमानों के खिलाफ हिंसा के लिए उकसाकर राज्य में सांप्रदायिक तनाव पैदा करने की कोशिश की।

अब्बास सिद्दीकी खुद एक टीएमसी नेता तोहा सिद्दीकी के भतीजे हैं, और राज्य में मुसलमानों के राजनीतिक नेता बनने की अपनी महत्वाकांक्षाओं को पूरा करते दिख रहे हैं। अब्बास असदुद्दीन ओवैसी की नीति का पालन करते दिख रहे हैं, जो ध्रुवीकरण या हिंदू-मुस्लिम विभाजन की राजनीति पर निर्भर हैं, जिससे देश के सांप्रदायिक सद्भाव को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचने का खतरा है।

यह बहुत बड़ी त्रासदी है कि एक स्वयंभु सूफी सच्चाई के सामने आने का इंतजार किए बिना इस तरह के आक्रामक बयान देता है।

सूफी समाज के सभी वर्गों के प्रति अपनी सहिष्णुता, आलिंगन और क्षमाशील रवैये के लिए जाने जाते हैं। लेकिन अब्बास सिद्दीकी कुरआन का अपमान करने के लिए गैर-मुसलमानों को मारने की बात करते हैं, भले ही वही कुरआन जिसके लिए वह मरने और मारने की कसम खाता है, अल्लाह, फ़रिश्तों और खुदा के नबियों का अपमान करने के लिए कोई सजा तजवीज नहीं करता है।

कुरआन मुसलमानों को अपमान और मज़हब के तौहीन के मामलों में धैर्य रखने और मामले को खुदा पर छोड़ने की सलाह देता है ताकि कयामत के दिन इसका फैसला किया जा सके। अब्बास सिद्दीकी के बयान कुरआन के आदेश और इस्लाम की भावना के खिलाफ हैं। ऐसा लगता है कि मिस्टर सिद्दीकी सामाजिक और सांप्रदायिक मुद्दों पर कुरआन के आदेशों से पूरी तरह अवगत नहीं हैं। वह पीरजादा के रूप में अपनी स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि उनकी छवि मुसलमानों के नेता के रूप में विकसित हो सके। क्योंकि वह जानते हैं कि वह एक धार्मिक व्यक्ति की छवि के साथ बड़े पैमाने पर समाज का विश्वास नहीं जीत सकते, इसलिए उन्होंने मुस्लिम लोगों का मसीहा बनने और असदुद्दीन ओवैसी की राजनीति के रास्ते पर चलने का फैसला किया है। वह हिंदू-मुस्लिम सद्भाव की कीमत पर राज्य में मुसलमानों का नेता बनना चाहता है।

सांप्रदायिक बयानबाजी कर अब्बास सिद्दीकी देश में साम्प्रदायिक तत्वों के हाथ की कठपुतली बनकर अपने हाथ मजबूत कर रहे हैं। अब जबकि असली अपराधी, एक मुसलमान को गिरफ्तार कर लिया गया है, बांग्लादेश में चरमपंथी मुस्लिम संगठनों को अपने कार्यों के लिए जवाब देना होगा। कुरआन कहता है कि जब कोई आपके लिए खबर लाए, तो उसकी सच्चाई की पुष्टि करें ताकि आप भटक न जाएं और परेशानी में न पड़ें। धार्मिक संगठनों और व्यक्तियों ने भी इस कुरआन के आदेश की अनदेखी की है और निर्दोष हिंदुओं के खिलाफ हिंसा का सहारा लिया है जिन्होंने अमन के साथ रह कर मुस्लिमों के साथ बांग्लादेश की आजादी की जंग लड़ी है और अपनी मातृभूमि के पुनर्निर्माण और विकास में अपनी भूमिका निभाई है।

English Article: Abbas Siddiqi's Communalism Is Dangerous: Muslims in West Bengal Should Beware Of His Militant Mindset, Throw Him Out Of Furfura Sharif Shrine Management; He Is No Sufi

Urdu Article: Abbas Siddiqi’s Communalism Is Dangerous: Muslims in West Bengal Should Beware of His Militant Mindset عباس صدیقی کی فرقہ واریت خطرناک ہے: مغربی بنگال کے مسلمانوں کو اس کی عسکریت پسندانہ ذہنیت سے ہوشیار رہنا چاہیے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/abbas-siddiqi-militant-bengal-furfura/d/125696

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..