New Age Islam
Tue Sep 28 2021, 01:29 AM

Hindi Section ( 18 Jun 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why the Message of the 7th Century Quran Is Eternally and Universally Valid सातवीं सदी के कुरआन का संदेश हमेशा के लिए और सार्वभौमिक रूप से सही क्यों है?

नसीर अहमद, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

२८ अगस्त २०१९

होमो प्रजाति पहली बार लगभग 200,000 साल पहले दिखाई दी थी। हांइतना कि सत्तर हजार साल तक वे बंदरबिल्ली और गाय जैसे जानवरों से अलग नहीं थे। इतिहास के पहले या बाद की यह अवधि एक महत्वपूर्ण ऐतिहासिक अवधि हो सकती हैइसका उल्लेख कुरआन में भी है।  [هل اتی علی الانسان حین من الدهر لم یکن شیا مذکورا (سورہ الانسان آیت ۱) ، अनुवाद: यक़ीनन मानव पर ज़माने का एक ऐसा लंबा समय भी गुजरा है, जब वह कोई उल्लेखनीय चीज नहीं था।] तुच्छ अस्तित्व की यह लंबी कहानी अन्य सभी जीवों की कहानी से बहुत अलग है।

जानवरों का सामाजिक व्यवहार काफी हद तक उनके जीन द्वारा निर्धारित किया जाता हैऔर कुछ हद तक उनकी सामाजिक कंडीशनिंग और व्यक्तिगत लक्षण अर्थात ऑडियो सिंक्रेसी से होता है।

विभिन्न प्रजातियों और उप-प्रजातियों में पाए जाने वाले विभिन्न व्यवहार जीन द्वारा निर्धारित किए जाते हैं। उदाहरण के लिएचिंपैंजी एक अल्फा नर के नेतृत्व में पदानुक्रमित समूहों में रहते हैं। बोनोबोस समानता समूहों में रहते हैं जिसका नेतृत्व गठबंधन या महिलाओं के समूह करते हैं। हालांकि ये दो उप-प्रजातियां एक-दूसरे से निकटता से संबंधित हैंवे एक-दूसरे के व्यवहार या सामाजिक कंडीशनिंग से  कुछ नहीं सीख सकते हैं। व्यवहार में ऐसा बदलाव कि चिंपैंजी बोनोबोस की तरह व्यवहार करने लगते हैं या बोनोस चिंपैंजी की तरह व्यवहार करने लगते हैंयह केवल डीएनए में बदलाव के साथ ही संभव है। इसी कारण सेप्रागैतिहासिक मानव लंबे समय में ज्यादा नहीं बदले हैं। दो मिलियन साल पहलेएक नई मानव प्रजातिजिसे होमो इरेक्टस कहा जाता हैआनुवंशिक उत्परिवर्तन के परिणामस्वरूप उभरा। जानवरों की यह प्रजाति दूसरों से बहुत अलग हो गई क्योंकि इसने पत्थर से औजार बनाना और उनका इस्तेमाल करना शुरू कर दिया। होमो इरेक्टस अगले 200,000 वर्षों तक आनुवंशिक संशोधन से नहीं गुजराऔर इसलिए उनके पत्थर के औजार वही रहे। आधुनिक मानव को छोड़कर अन्य सभी प्राणियों के सामाजिक व्यवहार में महत्वपूर्ण परिवर्तन आनुवंशिक भिन्नता से ही संभव है।

योवाल नूह हरारी की तथाकथित वैज्ञानिक क्रांति सत्तर हजार साल पहले आदम की रचना के साथ हुई थी। यह सृष्टि अन्य सभी कृतियों से इतनी भिन्न थी कि इसे नई सृष्टि कहा जा सकता था। आदम के औलाद का व्यवहार जल्द ही बदल गया और उन्होंने इसे आनुवंशिक या पर्यावरणीय परिवर्तन की आवश्यकता के बिना आने वाली पीढ़ियों को पारित कर दिया। जबकि प्रागैतिहासिक काल में मनुष्य का व्यवहार लाखों वर्षों से नहीं बदला हैआदम के औलाद ने अपने जीवन में कई बार सामाजिकराजनीतिक और आर्थिक संरचना में बदलाव देखा है। योवल नूह हरारी अपनी पुस्तक सीपींस में निम्नलिखित उदाहरण देते हैं: एक बर्लिन की कल्पना करें जो १९०० ईसवी में पैदा हुआ था और पूरे सौ वर्ष जीवित रहा। उन्होंने अपना बचपन विल्हेम २ के होहेनज़ोलर्न साम्राज्य में बिताया होगाअपनी युवावस्था वीमर गणराज्यनाज़ी थर्ड रीच और कम्युनिस्ट पूर्वी जर्मनी में बिताई होगीऔर एक लोकतांत्रिक और एकजुट जर्मनी में मृत्यु हो गई होगी। डीएनए संशोधन के बिनायह कई अलग-अलग सामाजिक और राजनीतिक प्रणालियों का हिस्सा बन सकता है। इस प्रकार आदम की सन्तान अन्य सभी प्राणियों से भिन्न है।

जहाँ पशुओं का सामाजिक व्यवहार सहज और स्वाभाविक होता हैवहाँ मनुष्य के व्यवहार को सीखा और अर्जित किया जाता है। मनुष्य सीखकर बहुत कुछ बदल सकता है जबकि अन्य प्राणी नहीं बदल सकते। मनुष्य कभी भी अपनी प्रवृत्ति से पूर्ण रूप से गुलाम नहीं होता है। प्रत्येक युग मेंहर दौर में अल्लाह के वही ने एक नैतिक एजेंट के रूप में वृत्ति पर काबू पाने की शिक्षा में एक विशेष भूमिका निभाई है। मनुष्य ही एकमात्र ऐसी प्रजाति है जिसमें सही और गलत के बीच चयन करने और दुख से बचने की सचेत क्षमता है। आदम की रचना से लेकर सचेत परिपक्वता के स्तर तक सत्तर हजार साल लग गएजब मनुष्य को नैतिक एजेंट के रूप में कार्य करने के लिए मजबूर नहीं किया गया था। यह सचेत परिपक्वता अंतिम पैगंबर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर कुरआन के नुज़ूल के साथ पूरी हुई थी। कुरआन में एक पूर्ण धर्म मौजूद है।  الیوم اکملت لکم دینکم و رضیت لکم  الاسلام دینا (سورہ المائدہ آیت نمبر ۳)  कुरआन के कुछ अंश अतीत की घटनाओं की पुष्टि करते हैं और निश्चित रूप से इसे सभी चुने हुए लोगों और सभी नबियों के सर्वोत्तम कार्यों के संयोजन के रूप में माना जा सकता है।

يريد الله ليبين لكم ويهديكم سنن الذين من قبلكم ويتوب عليكم ،والله عليم حكيم (سورہ االنساء آیت نمبر ۲۶)

अनुवादः अल्लाह चाहता है कि वह तुम्हें स्पष्ट कर देऔर तुम्हें उन लोगों के मार्ग पर ले जाए जो तुमसे पहले हैंऔर तुम्हारी तौबा को स्वीकार करेऔर अल्लाह सब कुछ जानने वालाहिकमत वाला है।

ما يقال لك إلا ما قد قيل للرسل من قبلك إن ربك لذو مغفرة وذو عقاب أليم (سورہ  فصلت آیت نمبر ۴۳)

अनुवाद: आपसे वही कहा जाता है जो आपसे पहले के रसूलों से भी कहा गया है। यकीनन आपका रब मुआफी वाला और दर्दनाक अज़ाब वाला है।

وما كان هذا القرآن أن يفترى من دون الله ولكن تصديق الذي بين يديه وتفصيل الكتاب لا ريب فيه من رب العالمين (سور ہ یونس آیت نمبر ۳۷ )

अनुवाद: और ये कुरान ऐसा नहीं कि खुदा के सिवा कोई और अपनी तरफ से झूठ मूठ बना डाले बल्कि (ये तो) जो (किताबें) पहले की उसके सामने मौजूद हैं उसकी तसदीक़ और (उन) किताबों की तफ़सील है उसमें कुछ भी शक़ नहीं कि ये सारे जहाँन के परवरदिगार की तरफ से है।

सुरह मायदा की आयत नंबर ३ के अनुसार, अगर कुरआन में मुकम्मल और कामिल दीन मौजूद है तो उसका मतलब यह होगा कि अगर कुछ चीजें पिछली सहिफों में मौजूद हैं लेकिन कुरआन में मौजूद नहीं तो उनको मंसूख माना जाएगा।

ما ننسخ من آية أو ننسها نأت بخير منها أو مثلها  ألم تعلم أن الله على كل شيء قدير (سورہ البقرہ آیت نمبر ۱۰۶ )

अनुवाद: (ऐ रसूल) हम जब कोई आयत मन्सूख़ करते हैं या तुम्हारे ज़ेहन से मिटा देते हैं तो उससे बेहतर या वैसी ही (और) नाज़िल भी कर देते हैं क्या तुम नहीं जानते कि बेशुबहा खुदा हर चीज़ पर क़ादिर है।

खुदा ने आदम की रचना को अन्य सभी रचनाओं से अलग किया हैउसे अद्भुत बौद्धिक और तर्कसंगत क्षमताओं से संपन्न किया हैउसे वही द्वारा निर्देशित किया हैउसे एक उल्लेखनीय व्यक्ति के साथ संपन्न किया हैऔर उसे इतना महान बनाया है कि उस पर पूरा दीन नाज़िल हो सकेऔर इस पूर्ण और सिद्ध धर्म का  नुज़ूल उसकी आनुवंशिक बनावट की मानवीय क्षमताओं के साथ पूर्ण सामंजस्य में था। यह आनुवंशिक श्रृंगार आदम की रचना के बाद से नहीं बदला हैऔर न ही यह कयामत तक बदलेगा। इसलिए कुरआन शाश्वत हैइसमें कोई परिवर्तन नहीं होगाऔर यह हमेशा वही रहेगा

-----------

Related Article:

Why the Message of the 7th Century Quran Is Eternally and Universally Valid

Why the Message of the 7th Century Quran Is Eternally and Universally Valid کیوں ساتویں صدی کے قرآن کا پیغام ابدی اور آفاقی طور پر درست ہے ؟

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/message-7th-century-quran-universally-valid/d/124992


New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Women in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Women In Arab, Islamophobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism


Loading..

Loading..