New Age Islam
Mon Jan 17 2022, 03:29 AM

Hindi Section ( 24 Dec 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why Do Some People Dislike Islam? कुछ लोग इस्लाम से नफरत क्यों करते हैं?

कनीज़ फातिमा, न्यू एज इस्लाम

29 सितंबर, 2021

मैंने Kora.com पर एक प्रश्न देखा जिसका शीर्षक था "कुछ लोग इस्लाम को नापसंद क्यों करते हैं?"। कई लोगों ने इस प्रश्न का उत्तर अलग-अलग तरीकों से दिया। किसी ने लिखा कि इस्लाम से अज्ञानता के कारण कुछ लोग इस्लाम को नापसंद करते हैं। किसी ने लिखा है कि इस्लाम अतिवाद सिखाता है। किसी ने लिखा कि इस्लाम लैंगिक और अल्पसंख्यक समानता और मानवाधिकारों के साथ न्याय करता है तो कुछ लोग इस्लाम से नफरत करते हैं। संक्षेप में सभी ने अपनी-अपनी समझ के अनुसार अपनी राय रखी। कुछ ऐसे उत्तर हैं जिनसे आप सहमत नहीं हो सकते हैं लेकिन कुछ कड़वे सच हैं जो इस प्रश्न के उत्तर में मैं आपको बताना चाहूंगी।

इस प्रश्न का उत्तर देने से पहले, मैं इस तथ्य की प्रस्तावना के रूप में कुछ शब्द प्रस्तुत करना चाहूंगी कि किसी धर्म के गुण को उसके अनुयायी स्वीकार करते हैं। आज दुनिया के लगभग सभी धर्मों के साथ यही स्थिति है कि लोग एक-दूसरे के धर्म को एक-दूसरे के कर्मों और किरदार से आंकते हैं। मैं पूरे विश्वास के साथ कहना चाहता हूं कि मुझे इस्लाम में कोई कमी नहीं दिखती। यदि मुसलमानों के कार्यों और चरित्र में कोई कमी है जिसके कारण इस्लाम को निशाना बनाया जाता है। आज हम इस्लाम के अनुयायी होने का दावा करते हैं लेकिन हम इस्लाम की खूबसूरत शिक्षाओं का पालन करने से बहुत दूर हैं।

जीवन के हर क्षेत्र में इस्लाम ने हमें हिदायत का बेहतरीन नमूना दिया है मगर जब हम मुसलमानों के पारिवारिक जीवन से लेकर बाहरी उमूर व मामलों तक के हालात और घटना का अध्ययन करते हैं तो बात बिलकुल स्पष्ट होती है कि आज हमारे किरदार व आमाल इस्लामी शिक्षाओं से मुतसादिम नजर आते हैं। आज हमारे किरदार में अतिवाद, अज्ञानता, निरक्षरता और नैतिक बुराइयों को दर्शाता है। आज इस्लाम का कलमा पढ़ने वाले कुछ चरमपंथी संगठन बना चुके हैं और राजनीति और अमारत का झंडा पाने के लिए मानव जीवन का खून बहा रहे हैं। इराक, सीरिया, अफगानिस्तान, अल्जीरिया, यमन और अन्य देशों की स्थिति पर विचार करें और फिर देखें कि कैसे कलमा पढ़ने वाले मुसलमानों ने एक-दूसरे का खून बहाया है, एक-दूसरे पर तकफीर किया है। ये सब कुछ वह इस्लाम के नाम पर करते आ रहे हैं। जब दुनिया इन स्थितियों को देखती है, तो वे निश्चित रूप से इस्लाम के बारे में संशय में होंगे, और निश्चित रूप से, कुछ लोग होंगे जो इस्लाम से नफरत करेंगे।

इसमें कोई शक नहीं कि इस्लाम ने महिलाओं की स्थिति को ऊंचा किया है। मैं व्यक्तिगत रूप से मानती हूं कि इस्लाम ने मुझे जो सम्मान दिया है वह शायद कहीं न मिले। लेकिन इसके विपरीत जब आप उन घटनाओं को देखेंगे जिनमें मुस्लिम महिलाओं को प्रताड़ित किया गया था, तो आपका कलेजा अवश्य मुंह को आ जाएगा। फिर जो लोग इस्लाम की शिक्षाओं को अच्छी तरह समझते और जानते हैं, वे जुल्म की इन घटनाओं की खुलेआम निंदा करेंगे लेकिन जिनके पास इस्लाम का अध्ययन करने का समय नहीं है, वे इस्लाम पर उंगली उठाएंगे और इस्लाम से मुंह मोड़ लेंगे।

जब व्यक्तिगत मानवाधिकारों, महिलाओं की शिक्षा और मानव और आध्यात्मिक विकास की बात आती है, तो आज अधिकांश मुस्लिम देश बुरी स्थिति में हैं। मुस्लिम बहुल देशों में लैंगिक और अल्पसंख्यक समानता का रिकॉर्ड काफी खराब है। जब आप पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के जीवन का अध्ययन करते हैं तो आप पाएंगे कि उनका जमाना अपने समय में सबसे उन्नत था, लेकिन जब आप आज की स्थिति को देखते हैं, तो मुस्लिम देश सबसे पिछड़े लगते हैं। और इसके कई कारण हैं, जिनमें से सबसे महत्वपूर्ण हैं हत्या, अलगाववाद, कट्टरता और उग्रवाद। मुस्लिम देश वैज्ञानिक और तकनीकी क्षेत्रों में इख्तेरा करने और आगे बढ़ने में विफल रहे हैं और दुनिया में हमारी भागीदारी पिछले 200 वर्षों से प्रभावी रूप से न के बराबर रही है।

इसके अलावा, ISIS, बोको हराम और अल-कायदा जैसे चरमपंथी समूह हैं जो इस्लाम के नाम पर दुनिया पर कब्जा करने की कोशिश कर रहे हैं। वे अपने एजेंडे को आगे बढ़ाने के लिए पूरी दुनिया में आतंकवादी हमले करते हैं, लेकिन हम मुसलमान के रूप में अभी तक पर्याप्त प्रयास करने और इस चरमपंथ को खत्म करने में सफलता हासिल करने में विफल रहे हैं। इन सब को देखते हुए कुछ लोग ऐसे भी हो सकते हैं जो इस्लाम के प्रति नफरत का इजहार करते हैं। उन्हें परवाह नहीं है कि इस्लाम शांति और सहिष्णुता का धर्म है या हिंसा और आक्रामकता का धर्म है। वे देखना चाहते हैं कि मुसलमान इसे क्या बना रहे हैं और दुख की बात है कि हम में से कई लोग इसे शांति और सहिष्णुता के धर्म की तरह नहीं बनाते हैं। हमारे कार्यों और चरित्र में अतिवाद इतना प्रचलित हो गया है कि हमें इसे इस्लामी औचित्य देने में भी शर्म नहीं आती है।

यही कारण है कि कुछ लोग इस्लाम से नफरत करते हैं। उनकी नफरत पर अब हमारी क्या प्रतिक्रिया होनी चाहिए? इस सवाल का सीधा सा जवाब यह है कि हमें पहले अपने मुस्लिम समाज को हर संभव तरीके से सुधारना होगा। हम दुनिया की छवि बदल सकते हैं अगर हम चाहते हैं और लोगों के भीतर से इस्लाम की नफरत को खत्म कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए हमारे पास है विश्वास और ईमानदारी, धैर्य और दृढ़ता, अच्छे नैतिकता और अच्छे कर्मों और चरित्र के व्यावहारिक कर्म पेश करने होंगे। लेकिन यह सब अल्लाह के लिए होना चाहिए। इसमें ईमानदारी तभी हो सकती है जब हम इसे अल्लाह की खुशी के लिए करते हैं और हमारे कर्मों और चरित्र में दिखावे का एक भी कोना नहीं पनपने देते हैं। अगर हम ऐसा करने में सफल होते हैं तो निश्चित रूप से हम दुनिया की नज़र में घृणित तस्वीर को बदल सकते हैं।

English Article: Why Do Some People Dislike Islam?

Urdu Article: Why Do Some People Dislike Islam? کچھ لوگ اسلام سے کیوں نفرت کرتے ہیں ؟

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/some-people-dislike-islam/d/126026

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..