New Age Islam
Tue Aug 09 2022, 08:42 PM

Hindi Section ( 20 Jan 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

The Past and Present of China's Uighur Muslims चीन के उइघुर मुसलमानों का अतीत और वर्तमान

हसन कमाल

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

२५ मई २०२१

चीन के उइघुर मुसलमानों पर किए गए "अमानवीय अत्याचारों" के प्रति संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप की श्वेत चेतना अचानक जाग गई है। हद तो यह है कि भारत के तथाकथित राष्ट्रीय मीडिया ने इन "उत्पीड़ित" मुसलमानों के लिए कई बार कुछ आंसू बहाए हैं। "इस सादगी के लिए कौन न मर जाए, ऐ खुदा?" जैसा कि पिछले तीन दशकों में इराक, सीरिया और अफगानिस्तान में कोई मुसलमान नहीं मारा गया था, उस समय इस श्वेत अंतःकरण को सुलाया नहीं बल्कि क्लोरोफॉर्म सूंघाकर बेहोश कर दिया गया था और जो पुरुष, महिलाएं और बच्चे इजरायल की गाजा पर बमबारी के परिणामस्वरूप मारे गए और बेघर हुए, वे शायद मुसलमान थे।

तथ्य यह है कि चीनी प्रांत सिंकियांग, जिसे झिंजियांग के नाम से भी जाना जाता है, सदियों से उइघुर मुसलमानों द्वारा बसाया गया है। चीन में अरब व्यापारियों का आंदोलन सदियों से चला आ रहा है और अरब भी जानते थे कि चीन एक बहुत विकसित देश है। और ज्ञान और कला का एक बड़ा केंद्र। शायद पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैही वसल्लम की हदीस कि "भले ही आपको ज्ञान प्राप्त करने के लिए चीन जाना पड़े, जाओ" चीन की उसी अरब धारणा का परिणाम था। उस समय चीन की भौगोलिक स्थिति क्या थी ये तो यकीन के साथ कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन इतिहासकारों के अनुसार उस समय चीन पर टेंग राजवंश का शासन था। इस राजवंश के शासकों में से एक गाओजिंग था। गाओजिंग एक बहुत शक्तिशाली सम्राट था, लेकिन उसके साम्राज्य में विद्रोह शुरू हो गए। वह उग्रवाद से तंग आ चुका था। गाओजिंग ने खलीफा को अरब व्यापारियों के हाथों एक संदेश भेजा, जिसमें उन्हें विद्रोहियों को दबाने में मदद करने के लिए कहा। गाओजिंग जानता था कि मुसलमान एक मजबूत राष्ट्र बन गए हैं। उन्होंने रोम और ईरान जैसे महान साम्राज्यों को जीत लिया है। इस बुरे समय में वह ही उसकी मदद कर सकते थे। उस समय के खलीफा हजरत उस्मान बिन अफ्फान रज़ीअल्लाहु अन्हु थे। खलीफा ने गाओजिंग के अनुरोध को स्वीकार कर लिया और हज़रत साद बिन अबी वकास के नेतृत्व में गाओजिंग के झिंजियांग साम्राज्य के लिए एक सेना भेजी। यह ६५२ ई० की घटना है।

साद बिन अबी वकास झिंजियांग आए। उन्होंने गाओजिंग से मुलाकात की। मुद्दों को समझा। फिर उन्होंने एक व्यापक रणनीति तैयार की और विद्रोहियों पर इस हद तक हमला किया कि इसमें कुछ समय लगा लेकिन विद्रोहियों ने आत्मसमर्पण कर दिया। गाओजिंग जाहिर तौर पर मुसलमानों की मदद के लिए उनके बहुत आभारी थे। झिंजियांग में कुछ दिन बिताने के बाद, हज़रत साद बिन अबी वकास ने लौटने का इरादा किया। लेकिन झिंजियांग में बड़ी संख्या में मुस्लिम सेनाएं आ चुकी थीं। उन्होंने यहीं रहने का फैसला किया। गाओजिंग ने खुशी-खुशी उन्हें न केवल बसने दिया बल्कि अपनी मस्जिदें बनाने और धर्म का प्रचार करने की भी अनुमति दी। इन मुसलमानों ने भी ऐसा ही किया और कुछ समय बाद झिंजियांग में बड़ी संख्या में चीनी इस्लाम में परिवर्तित हो गए। इन मुसलमानों को उइघुर नाम दिया गया था। तब चीन के भूगोल और इतिहास में कई बदलाव हुए। मुझे नहीं पता कि कितने राज्य आए और गए, लेकिन उइघुर मुसलमान वहीं रहे। इनकी संख्या भी बढ़ती रही। फिर जब १९४९ ई० में चीन जापानी शासन से स्वतंत्र हो गया और माओत्से तुंग ने अपनी सरकार बनाई, जो एक नास्तिक सरकार थी। इस सरकार ने चीन में धर्मों के साथ वैसा व्यवहार नहीं किया जैसा उसने १९१४ ई० की रूसी क्रांति के बाद रूस में किया था। यानी गिरजाघरों, बौद्ध पूजा स्थलों और मस्जिदों में ताला नहीं लगाया गया था, लेकिन उन्हें कोई आधिकारिक संरक्षण नहीं दिया गया था। मज़हब मानने वालों को उनके अपने हाल पर छोड़ दिया गया था। कई ईसाई, बौद्ध और मुसलमान भी साम्यवादी दर्शन से प्रभावित थे और अपने-अपने धर्मों से दूर हो गए थे। फिर भी, अनुयायी अपने धर्मों की रक्षा करते रहे। उनमें मुसलमान भी शामिल थे तो क्या यह सिर्फ प्रोपेगेंडा है कि उइघुर मुसलमानों को सताया जा रहा है और हजारों नजरबंद शिविरों में रखा जा रहा हैनहीं, यह सिर्फ प्रोपेगेंडा नहीं है, इसमें कुछ सच्चाई है। पिछली सदी के अंत और इस सदी की शुरुआत में, जब अल-कायदा और आईएसआईएस गति प्राप्त कर रहे थे। उस समय दुनिया के हर उस देश में जहां मुसलमान रह रहे थे, इन आंदोलनों का कुछ न कुछ असर जरूर देखा जा रहा था। युवा मुसलमान विशेष रूप से प्रभावित हुए। इन आंदोलनों का उन देशों में महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ा जहां मुसलमानों के साथ किसी न किसी स्तर पर भेदभाव किया जाता था या खुद को उनके साथ भेदभाव का शिकार समझ रहे थे। उइघुर मुसलमानों को भी एक शिकायत थी। मेंडरान चीन की आधिकारिक भाषा है। उइघुर मुसलमानों की भाषा स्थानीय बोलियों, अरबी और फारसी का मिश्रण है। मेंडरानों पर उनका अधिकार नहीं है। उइघुर मुसलमानों का मानना था कि यही कारण था कि उनके साथ नौकरियों और अन्य क्षेत्रों में भेदभाव किया गया था। यह शिकायत कुछ हद तक उचित थी।

झिंजियांग में कई जगहों पर बम और आत्मघाती हमलावरों ने हमला किया। जाहिर है, यह सब सरकार के लिए असहनीय था। लेकिन सरकार ने इसे कुचलने के लिए दूसरे देशों में इस्तेमाल किए गए तरीकों को नहीं अपनाया। बेशक, युवा लोगों को गिरफ्तार किया गया और दोषी पाए जाने पर मौत की सजा दी गई, लेकिन बहुत अधिक पकड धकड़ और इनकाउंटर नहीं हुए। इसके बजाय ऐसे हजारों छात्रों को तलाश किया गया जिन्होंने निचली कक्षाओं में अच्छी सफलता प्राप्त की थी उन्हें बीजिंग लाया गया। शिविरों में रखा गया। उन्हें मेंडारिन भी सिखाया गया और उच्च शिक्षा दी गई और हां, उनका मानसिक स्नान भी कराया गया, यानी उन्हें धर्म से घृणा करने का प्रयास किया गया। फिर उन्हें झिंजियांग के विकास में भाग लेने के निर्देश के साथ झिंजियांग भेजा गया। यह प्रक्रिया आज भी जारी है। लेकिन साथ ही झिंजियांग की मस्जिदों में पांच वक्त की अजान हो रही हैं। लोग रोज़े भी रख रहे हैं और धार्मिक शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। एक कसबे में तो एक ऐसी मस्जिद भी है जहां पुरुषों का प्रवेश वर्जित है। यहां केवल महिलाएं ही नमाज अदा करती हैं और कराती भी हैं। महिलाएं कुरआन को याद करती भी हैं और याद करवाती भी करती हैं। लेकिन यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि आज उइघुरों सहित हर एक चीनी नागरिक गरीबी रेखा से ऊपर उठ गया है। याद रखें कि चीनी सरकार मुख्य रूप से इस्लाम के खिलाफ नहीं बल्कि धर्म के खिलाफ है। चीन में उइघुर मुसलमान उतने ही स्वतंत्र हैं जितने बौद्ध और ईसाई, और उनकी धार्मिक स्वतंत्रता उतनी ही सीमित है जितनी किसी बौद्ध या ईसाई की। जहां तक पश्चिमी प्रोपेगेंडे की बात है तो इसे मुस्लिम प्रेम नहीं बल्कि चीन से घृणा ही कहा जा सकता है।

Urdu Article: The Past and Present of China's Uighur Muslims چین کے ایغور مسلمانوں کا ماضی اور حال

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/china-uighur-muslims/d/126202

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..