New Age Islam
Wed Oct 27 2021, 01:08 PM

Hindi Section ( 5 Oct 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Suicide Is Not a Viable Answer to Problems of Life आत्महत्या जीवन की समस्याओं और दुखों का समाधान नहीं है

गुलाम गौस सिद्दीकी, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

 28 सितंबर, 2021

 क्या आत्महत्या हमारी समस्याओं का समाधान है?

प्रमुख बिंदु:

1. यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इस जीवन की रक्षा करें जो कि अल्लाह की एक बड़ी नेअमत है

2. हमें केवल अपने करियर में सफलता और उन्नति के लिए प्रयास करने और साथ ही अल्लाह में अपने ईमान और विश्वास को मजबूत करने की आवश्यकता है।

3. आत्महत्या एक बड़ा पाप है, और जो लोग इसे करते हैं उन्हें नरक में दंडित किया जाएगा।

4. जो व्यक्ति इस जीवन में जरा सी भी कठिनाई नहीं सह सकता, वह नरक की बात तो दूर कब्र की भयावहता को कैसे सह सकता है?

 ------

यह जीवन अल्लाह पाक का एक अनमोल उपहार है। अगर हम इन नेअमतों के लिए खुदा को एक हजार बार धन्यवाद भी दें, तो यह पर्याप्त नहीं होगा। अल्लाह पाक पुरुषों और महिलाओं को बनाने और उन्हें इस नश्वर दुनिया में लाने वाला हैं। उसने प्रत्येक मनुष्य को कभी न ख़त्म होने वाली नेअमतें दी है। इसने किसी को कम दौलत, किसी को ज्यादा दौलत, किसी को ज्यादा खूबसूरती और किसी को कम खूबसूरती दी है, लेकिन इसके हर चीज में कुछ फायदे और कुछ नुकसान हैं। कुछ में कुछ अच्छाई होती है और कुछ में कुछ। अब यह हमारी जिम्मेदारी है कि हम इस जीवन की रक्षा करें और इसे सही दिशा में ले जाएं, और जो कोई भी अल्लाह पाक के मार्ग पर चलता है और अपनी परेशानियों में स्थिर रहता है, वह अल्लाह पाक की दृष्टि में सबसे प्रिय है।

अल्लाह पाक अपने बंदों से बहुत प्यार करता है, यही कारण है कि वह कई परीक्षणों के साथ उनकी परीक्षा लेता है। आदम और हव्वा के समय से परीक्षण चल रहे हैं। यह उनके लिए एक परीक्षा थी जब उन्हें स्वर्ग दिया गया था। हर नबी की परीक्षा उसी तरह हुई जिस तरह आदम और हव्वा की स्वर्ग में परीक्षा हुई थी। और उसकी दृढ़ता के परिणामस्वरूप, वह अल्लाह का प्रिय बंदे बन गए। उसी तरह, पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के जीवन का अध्ययन करने से हमारे प्यारे पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के साथ हुए कई कष्टों का पता चलता है।

परीक्षाएं सबके जीवन में होती हैं, कभी धन के रूप में, कभी स्वास्थ्य के रूप में तो कभी किसी और चीज के रूप में। अल्लाह पाक अपने बंदों को परीक्षा में डालता है, इसलिए नहीं कि वे कमजोर हैं और जीवन को छोड़ना चाहते हैं और मृत्यु को स्वीकार करना चाहते हैं, बल्कि इसलिए कि यह उनके विश्वास को मजबूत करता है और वह अधिक से अधिक अल्लाह के प्रिय बंदे बन जाते हैं। जो लोग इन परीक्षणों के दौरान धैर्यपूर्वक और कृतज्ञतापूर्वक काम करते हैं, वे दोनों दुनिया में सफल होंगे, जबकि जो अधीर और कृतघ्न बन जाते हैं वे दोनों दुनिया में असफल हो जाते हैं।

जीवन समस्याओं, कठिनाइयों, दर्द और पीड़ा से भरी है, लेकिन यह एकमात्र जीवन नहीं है। आत्महत्या जीवन की समस्याओं, दर्द और पीड़ा का जवाब नहीं है। ये सभी चीजें अस्थायी हैं और हमेशा के लिए नहीं रहती हैं। अगर आज जीवन चुनौतीपूर्ण है, तो कल आसान हो जाएगी। अल्लाह मुश्किलों के बाद आराम पैदा करता है, जैसे रात के बाद दिन का उजाला आता है। अल्लाह सबसे दयालु, सबसे दयावान है और अपने बंदे को हर चीज उसके सुख या दुःख के अनुपात में सब कुछ प्रदान करता है। हर चीज के लिए एक अवसर होता है और यह समय के साथ बदलता है। जैसे आकाश में हमेशा बादल नहीं होते, वैसे ही जीवन में हमेशा चुनौतियां नहीं होती हैं।

जिस प्रकार हमें अपने मन में उठने वाले प्रश्नों का समाधान खोजने की आवश्यकता है, उसी प्रकार हमें अपने मन में उठने वाले प्रश्नों के उत्तर भी खोजने होंगे। यदि हमें उत्तर नहीं मिल रहा है तो किसी प्रश्न को हटाना संभव नहीं है। समस्या का समाधान ढूंढ़ना ही समस्या का समाधान है। उसी तरह हमें खुद को मार कर अपने जीवन को समाप्त करने के बजाय अपनी समस्याओं को हल करने का प्रयास करना चाहिए। आत्महत्या आपकी समस्याओं से निपटने का तरीका नहीं है।

आज की दुनिया पर एक नज़र डालें तो आप पाएंगे कि हर कोई अपने भविष्य को लेकर चिंतित है। हमारे युवा विशेष रूप से भविष्य की चिंता के कारण मानसिक रूप से बीमार हो गए हैं। लेकिन क्या हमने कभी इस बात पर विचार किया है कि भविष्य पर किसका नियंत्रण है और जो हम बदल नहीं सकते, उसकी चिंता करके हम क्या हासिल कर सकते हैं? हमारा भविष्य जो भी हो, हम न तो इसकी भविष्यवाणी कर सकते हैं और न ही इसे बदल सकते हैं। इस पर अल्लाह का नियंत्रण है और वह सबसे अच्छा न्याय करने वाला है। हमें केवल अपने करियर में सफल होने और आगे बढ़ने की कोशिश करनी है और साथ ही साथ खुदा में अपनी आस्था, आशा और विश्वास को मजबूत करना है।

कितने लोगों ने अपना जीवन समाप्त कर लिया है और मृत्यु को गले लगा लिया है क्योंकि वे उस भविष्य से डरते थे जिसने उनके भविष्य को हमेशा के लिए अंधकारमय और भयानक बना दिया ? अगर हम कड़ी मेहनत करते हैं और मानते हैं कि भविष्य अल्लाह पाक के हाथों में है और वह हमें वह सब कुछ देगा जिसके हम हकदार हैं, तो हमारे प्रयासों में ताकत होगी और जीवन में कभी निराश नहीं होंगे।

 हमें पता होना चाहिए कि यह जीवन अल्लाह पाक की अमानत है और उनकी कृपा से हमें इस अमानत की रक्षा करनी है। आत्महत्या एक महान पाप है और जो लोग इसे करते हैं उन्हें नरक में दंडित किया जाएगा। आत्महत्या करने वाला व्यक्ति यदि यह मानता है कि इस संसार की पीड़ा और दुख इस संसार के पाप से भी बड़ी है, तो कब्र की पीड़ा और नर्क की पीड़ा को याद करने पर वह कभी आत्महत्या नहीं करेगा। दुख की बात है कि आज के समाज में आत्महत्या एक आम बात हो गई है। कुछ मरना चाहते हैं, लेकिन वे यह नहीं जानना चाहते कि मरने के बाद उनके साथ क्या होगा?

जो व्यक्ति इस जीवन की छोटी-सी परेशानी को सहन नहीं कर सकता, वह कब्र की भयावहता को कैसे सह सकता है, नर्क की तो बात ही छोड़िए। यदि मृत्यु का कोई विकल्प नहीं है और बचने का कोई रास्ता नहीं है, तो बका कैसे हो सकती है?

 हमें यह भी याद रखना चाहिए कि अल्लाह पाक ने हमें सोचने और समझने की क्षमता में समृद्ध एक महान प्राणी के रूप में बनाया है, और हमारे प्यारे पैगंबर ने हमें जरूरत के समय में एक दूसरे की मदद करने की आज्ञा दी है। इसलिए हमें दूसरों के लिए परेशानी खड़ी करने की बजाय उनकी मदद करने की कोशिश करनी चाहिए। आज मनुष्य खुद का सबसे बड़ा शत्रु बन गया है। यदि कोई व्यक्ति दूसरे के कार्यों के परिणामस्वरूप आत्महत्या करता है, तो दूसरा भी उसके पाप में भागीदार होता है। हमें दूसरों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए काम करना चाहिए।

इन दिनों हम हर दिन आत्महत्या की खबरें सुनते हैं और जो लोग आत्महत्या करते हैं वे न केवल अज्ञानी होते हैं बल्कि कुछ तो शिक्षित भी होते हैं, लेकिन शायद धार्मिक शिक्षाओं से अनजान होते हैं कि आत्महत्या करना किसी भी कारण से एक बड़ा पाप है। आखिर हमारे समाज में क्या खराबी है? हमने एक नैतिक समझ के साथ-साथ कुरआन और सुन्नत की थोड़ी बहुत समझ को भी पीछे छोड़ दिया है। माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों को इमानियात और नैतिक शिक्षा की पूरी शिक्षा दें ताकि उनका ईमान मजबूत बना रहे और वे आत्महत्या जैसे गंभीर पापों से बच सकें।

अल्लाह हमारी मुश्किलों को दूर करे और हमारे ईमान, विश्वास और आशा को मजबूत करे। आमीन।

--------

English Article: Suicide Is Not a Viable Answer to Problems of Life, Such As Difficulties, Pains or Sorrows

Urdu Article: Suicide Is Not a Viable Answer to Problems of Life زندگی کے مسائل اور رنج و الم کا جواب خودکشی نہیں ہے

Malayalam Article: Suicide Is Not a Viable Answer to Problems of Life ബുദ്ധിമുട്ടുകൾ, വേദനകൾ അല്ലെങ്കിൽ സങ്കടങ്ങൾ തുടങ്ങിയ ജീവിതപ്രശ്നങ്ങൾക്ക് ആത്മഹത്യ ഒരു പരിഹാരമല്ല.

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/suicide-sorrow-life/d/125517

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..