New Age Islam
Wed Oct 20 2021, 04:08 PM

Hindi Section ( 28 Sept 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Refutation of ISIS: Did the ‘Sword Verse’ 9:5 Really Abrogate Verses of Peace and Forbearance? Part -5 आइएसआइएस का रद्द: क्या आयत 9:5 ने वाकई अमन व भाईचारगी वाली आयतों को मंसूख कर दिया है? भाग-5

गुलाम गौस सिद्दीकी, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

30 नवंबर 2019

जब आईएसआईएस के आतंकवादियों ने 2014 में तथाकथित वलायत नीनवा प्रांत में इराकी क्षेत्र पर कब्जा कर लिया, तो उन्होंने "आयतुल सैफ" के माध्यम से यज़ीदियों के खिलाफ अपने आतंकवादी कृत्य को सही ठहराया। उन्होंने यज़ीदी आबादी को "इराक और सीरिया में एक काफिर अल्पसंख्यक" के रूप में वर्णित किया और कहा कि क़यामत के दिन, मुसलमानों से पूछा जाएगा कि "यज़ीदी अभी भी क्यों मौजूद हैं" और उन्होंने मुशरेकीन के बारे में "1400" साल पहले नाजिल होने वाली आयत अल सैफ पर अमल क्यों नहीं किया। (दाबिक पत्रिका, अंक 4, सितंबर-अक्टूबर 2014, पृष्ठ 13)। इसके बाद इस पत्रिका में आयत "जहाँ भी मुशरिकों को पाओ उन्हें मार डालो" (9: 5) आयत का हवाला दिया और अपने अनुयायियों को यज़ीदियों को मारने का आदेश दिया क्योंकि वे भी "मुशरेकीन में से हैं"।

आईएसआईएस और अन्य जिहादी विचारकों के अनुसार, आयत 9:5 ने शांति, सहिष्णुता और सभी प्रकार की शांति संधियों पर कुरआन की आयतों को स्थायी रूप से निरस्त कर दिया है। इसलिए उनका मानना है कि मुशरेकीन सहित "यज़ीदीयों" और "सूफ़ी मुसलमानों" को मार दिया जाना चाहिए, अन्यथा क़यामत के दिन उन्हें खुदा के सामने जवाबदेह ठहराया जाएगा।

पिछले चार खंडों में, हमने आयत 9:5 की उचित व्याख्या की है और विभिन्न फिकही जावियों से इसके संदर्भ का विश्लेषण किया है। इस खंड में हम यह पता लगाने की कोशिश करेंगे कि जिहादियों ने नस्ख की अवधारणा का दुरुपयोग कैसे किया और क्या गलत है जब वे कहते हैं कि आयत 9:5 ने शांति और सहिष्णुता के आयतों को मंसूख कर दिया है।

"नस्ख" शब्द की इस्लाही परिभाषा को लेकर पहले के फुकहा और बाद के फुकहा के बीच काफी असहमति रही है। इस संबंध में शाह वलीउल्लाह मुहद्दिस देहलवी ने सहाबा और ताबईन की बातों की रौशनी में यह शोध प्रस्तुत किया है कि उन्होंने 'नस्ख' को बाद में सामने आए सिद्धांतों की तुलना में कहीं अधिक व्यापक अर्थों में लागू किया है।

पहले के फुकहा के अनुसार, नस्ख का अर्थ है कि किसी आयत के हुक्म के कुछ हिस्सों को निम्नलिखित कारणों से दूसरे आयत के हुक्म से हटा दिया जाता है।

* यह इंगित करने के लिए कि मंसूख आयत पर अमल करने का समय समाप्त हो गया है

* कलाम का रुख गैर-वैकल्पिक से वैकल्पिक में बदलने के लिए

* आम हुक्म की तख्सीस की निशानदही करने के लिए जहां किसी आयत में आपस में विरोधाभास नहीं होता बल्कि किसी आयत के आम हुक्म के सिलसिले में स्पष्टीकरण पेश कर दी जाती है।

* यह स्पष्ट करने के लिए कि मंसूस और मुतशाबेह में क्या अंतर है

* अरब के काफिर या पिछले शरीअत को स्थायी रूप से तंसीख करने के लिए

* किसी हुक्म या इल्लत के अंत का कारण दिखाने के लिए

* ऐसी प्रभावी इल्लत की गैर मौजूदगी में अस्थाई नस्ख ज़ाहिर करने के लिए जिस वजह से वह हुक्म नाजिल हुआ था

संक्षिप्त यह कि शाह वलीउल्लाह के अनुसार पहले के फुकहा नस्ख का शब्द एक बड़े अर्थ में प्रयोग किया करते थे यही कारण था कि पहले के मुफ़स्सेरीन ने मंसूख आयतों की संख्या पांच सौ ज़िक्र की है।

इसके विपरीत, बाद के फुकहा ने नस्ख की इस व्यापक परिभाषा को रद्द कर दिया जिसका परिणाम यह हुआ कि मंसूख आयतों की संख्या बहुत कम रह गई।

क़ाज़ी अबू बकर इब्ने अरबी, अल इत्कान में अल्लामा जलालुद्दीन सुयूती और अल फौजुल कबीर में शाह वलीउल्लाह देहलवी की पेश की हुई तहकीक से भी यह मालुम होता है कि मंसूख आयतों की संख्या में इतना बड़ा फर्क केवल शब्द नस्खके सैद्धांतिक उपयोग का परिणाम था क्यों कि बाद के फुकहा ने उसुलैन की वजा की हुई नस्ख की एक अत्यंत सीमित परिभाषा को अपनाया। शाह वलीउल्लाह देहलवी की वजा की हुई शब्द नस्खकी इस उसूली और सीमित परिभाषा का ही परिणाम था कि उन्होंने आखिर कार मंसूख आयतों की संख्या केवल पांच निर्धारित की है।

हालाँकि, शाह वलीउल्लाह देहलवी के सैद्धांतिक विश्लेषण के अनुसार, कुछ क्लासिकी उलमा थे जिन्होंने सोचा था कि यदि उसी विश्लेषण को और अधिक गहराई से देखा जाए, तो कुरआन में कोई आयत नहीं बची होगी जिसे मंसूख घोषित किया जा सके। उदाहरण के लिए, अबू मुस्लिम अल-अस्फ़हानी (मृतक ९३४/१५२७) यहां तक मानते थे कि मुख्यधारा के क्लासिकी उलमा और फुकहा द्वारा प्रस्तावित नस्ख की जो अवधारणा पेश की है और जो नियम विरोधाभासी प्रतीत होते हैं उन्हें सुलझाया जा सकता है। अस्फहानी के इस विचार को अन्य क्लासिकी उलमा ने खारिज कर दिया था, उदाहरण के लिए, अल्लामा आलुसी कहते हैं, "सभी शरीअतों से संबंधित लोगों ने सर्वसम्मति से नस्ख की वैधता को स्वीकार किया। हालांकि, असाविया संप्रदाय के अपवाद के साथ, केवल यहूदियों ने इसका खंडन किया और अबू मुस्लिम अल -अस्फ़हानी ने केवल इस बात से इनकार किया कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उन्होंने कहा कि अक्ल मानता है कि यह संभव है लेकिन ऐसा कभी नहीं हुआ। "(रुह अल-मआनी) इमाम क़ुरतुबी कहते हैं," नस्ख के प्रश्न को समझना महत्वपूर्ण है क्योंकि इसके बड़े लाभ हैं जिसका इनकार कोई भी आलिम नहीं कर सकता हैं लेकिन केवल अज्ञानी लोग ही नस्ख से इनकार कर सकते हैं।"

जैसा कि हमने पहले ही कहा है, ये सभी मतभेद सिद्धांत रूप में "नस्ख" शब्द के प्रयोग का परिणाम थे, हालांकि, यह किसी भी पहले के फुकहा या बाद के फुकहा की निंदा करने का औचित्य नहीं है। और जहां तक जिहादी विचारकों का संबंध है, वे नस्ख की सही और व्यापक समझ को कवर करने में विफल रहे हैं, जिसका व्यापक रूप से प्रमुख फुकहा द्वारा उपयोग किया गया है और आधुनिक फुकहा द्वारा पालन किए गए सिद्धांतों द्वारा सीमित है। जिहादी विचारकों की इस विफलता ने कुरआन की आयतों, विशेष रूप से युद्ध और शांति पर आयतों की तफसीर में बहुत अधिक भ्रष्टाचार का कारण बनी।

बिना विस्तार के यहाँ नस्ख के इस प्रारंभिक विश्लेषण के बाद, अब हम शांति और युद्ध पर आयतों को समझने के लिए नस्ख के एक महत्वपूर्ण अर्थ की ओर मुड़ते हैं। इस संबंध में, हमें यह भी ध्यान रखना चाहिए कि पहले के फुकहा ने व्यापक और सामान्य अर्थों में नस्ख शब्द का प्रयोग किया है, जिसमें कुछ शर्तों, प्रावधानों या अपवादों के साथ एक आदेश का स्थायी नस्ख और अस्थायी नस्ख शामिल है। प्रमुख फुकहा की शब्दावली में, युद्ध और शांति से संबंधित आयतों के साथ "नस्ख" के उपयोग का अर्थ स्थायी नस्ख नहीं बल्कि अस्थायी नस्ख या संदर्भ का मामला है। इससे पता चलता है कि उनके नस्ख के सामान्य उपयोग के अनुसार, युद्ध से संबंधित आयत युद्ध के समय में लागू होते हैं और शांति से संबंधित आयत शांति के समय या शांति संधि की स्थिति पर लागू होते हैं।

इन दोनों उसूलों के अनुसार जिनकी तकलीद जदीद फुकहा ने की नस्ख केवल वही नस्ख है जिसे किसी भी तरह से हुक्म मा कबल के साथ हम आहंग नहीं किया जा सकता। इस परिभाषा से हम देख सकते हैं कि युद्ध और शांति से संबंधित आयतों के बीच के संदर्भ को आसानी से लागू किया जा सकता है, इसलिए बाद के फुकहा के अनुसार, इन आयतों को मंसूख या निरस्त नहीं माना जा सकता है। हालांकि, यदि ऐसा वर्गीकरण किया जाता है, तो यह तभी संभव है जब हम प्रमुख फुकहा द्वारा तैयार की गई नस्ख की सामान्य परिभाषा को अपनाएं, लेकिन फिर भी हम जानते हैं कि युद्ध और शांति पर आयतों से उनका क्या मतलब है। यह निश्चित रूप से एक बात होगी 'अस्थायी नस्ख' और संदर्भ का मामला होगा।

अब, यदि इस मुद्दे में पहले के फुकहा और बाद के फुकहा के बीच कोई अंतर है, तो यह केवल नस्ख के सैद्धांतिक उपयोग का परिणाम है। इसलिए, दोनों पक्षों के जिहादियों के पास शांति की मौजूदा स्थिति में युद्ध पर संबंधित आयतों को लागू करने का कोई तरीका नहीं है, जिस पर दुनिया के लगभग सभी देशों की आपसी सहमति है।

अब हम युद्ध और शांति से संबंधित आयतों के नस्ख के विषय पर कुछ क्लासिकी उलमा के शब्दों की ओर मुड़ते हैं।

पहले के फुकहा के लेखन का उल्लेख करते हुए, इब्न कसीर लिखते हैं, "इस आयत 9:5 को आयते सैफ कहा जाता है, जिसके बारे में ज़हाक इब्न मजाहिम कहते हैं:" इस आयत ने पैगम्बर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और मुशरेकीन के बीच के सभी शांति समझौतों को रद्द कर दिया। अल-अवफी ने कहा कि इब्न अब्बास ने आयत 9:5 की व्याख्या की है कि सूरह बकरा के नुज़ूल के बाद से, मुशरेकीन के पास कोई शांति और सुरक्षा का समझौता और कोई वादा नहीं रहा ”(तफ़सीर इब्न कसीर, खंड 2)। पृष्ठ 573

 इब्न कसीर ने यह भी कहा:

ثم اختلف المفسرون في آية السيف هذه ، فقال الضحاك والسدي : هي منسوخة بقوله تعالى : ( فإما منا بعد وإما فداء ) [ محمد : 4 ] وقال قتادة بالعكس ۔

इसलिए आयाते सैफ 9:5 पर मुफ़स्सेरीन ने एक दुसरे से मतभेद किया है। ज़हाक और सुद्दी ने कहा कि, “यह आयत कुरआन की उस आयत से मंसूख है.फिर इसके बाद चाहे एहसान करके छोड़ दो चाहे फिदया ले लो (47:4) तथापि कतादा ने ज़हाक के खिलाफ कौल किया।

उपरोक्त हवालों में इब्ने कसीर ने ज़हाक बिन मजाहिम का हवाला दिया है जो ताबई थे (उन मुसलमानों की दूसरी नस्ल जिन्होंने सहाबा रज़ीअल्लाहु अन्हुम की शिक्षा एक वास्ते से हासिल की थी) लेकिन उनकी रिवायत को इमाम ज़हबी की तहकीक के अनुसार यहया अल कितान सहित मुफ्स्सेरीन और मुहद्देसीन की एक जमात ने जईफ करार दिया है। दुसरे रिवायात के अनुसार ज़हाक एक प्रतिष्ठित मुफस्सिर और फकीह थे। (देखें इमाम ज़हबी की सैर आलामुल नबला)। जहाक के जिस हवाले को इब्ने कसीर ने लिया है उसे प्रमाणिक समझ लिया जाए तब भी इससे यह स्पष्ट नहीं होता है कि इससे जहाक की मुराद भविष्य में किये जाने वाले तमाम अमन समझौते की हमेशा के लिए मंसूखी है। चूँकि जहाक का शुमार फुकहा ए मुत्कद्देमीन में होता है जिन्होंने अस्थाई और स्थाई दोनों प्रकार की तंसीख के लिए सामान्य अर्थ में शब्द नस्खका उपयोग किया है। इसलिए उपर्युक्त इबारत में ज़हाक और इब्ने अब्बास दोनों के हवालों से यह परिणाम निकाला जा सकता है कि नस्ख से उनकी मुराद आरज़ी तौर पर अमन व रवादारी की मंसूखी थी क्योंकि वह सूरते हाल जंग की थी। यह परिणाम इस वजह से भी अधिक उचित लगता है कि जंग के हालात ख़त्म होने के बाद रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की हयात के बाद और खुलेफा ए राशेदीन के जमाने में भी अमन के बहुत सारे दुसरे समझौते किये गए थे।

क्लासिकी बाद के फुकहा के अनुसार जिन्होंने शब्द नस्खकी एक अत्यंत सीमित परिभाषा है, जंग से संबंधित आयतों ने अमन व रवादारी वाली आयतों को मंसूख नहीं किया है। इमाम जलालुद्दीन सयूती और ज़रकशी आदि ने उलूमे कुरआन पर अपने उम्दा फन पारों में इस नजरिये को साबित किया है।

इमाम जलालुद्दीन सुयूती अपनी किताब अल इत्कान फी उलूमिल कुरआनमें जिसे उलूमिल कुरआन में एक अज़ीम शाहकार तस्लीम किया जाता है, यह स्पष्ट किया है कि कुछ फुकहा की राय के खिलाफ यह आयत 9:5 नस्ख का नहीं बल्कि संदर्भ का विषय है। कुछ विशेष हालात में सब्र और अफ्व व दरगुज़र वाली आयत पर अमल किया जाता है जबकि कुछ विशेष हालात में जंग आवश्यक हो जाती है। वह लिखते हैं कि कुरआन की कोई भी आयत किसी दूसरी आयत से पुर्णतः मंसूख नहीं हुई बल्कि हर आयत का एक विशेष संदर्भ और इन्तेबाक का महल है। चूँकि इमाम सुयूती ने पहले के फुकहा के विपरीत नस्ख की एक सीमित परिभाषा इख्तियार की है इसी लिए वह संदर्भ और आरज़ी तंसीख के लिए शब्द नस्खका उपयोग नहीं करते। खुलासा यह कि यह नज़रिया पहले के फुकहा से अलग नहीं है। अंतर केवल इतना है कि पहले के फुकहा ने संदर्भ या आरज़ी मंसूखी के मामले को शब्द नस्खके आम अर्थ में शामिल कर लिया था।

इमाम सुयूती ने अल्लामा मक्की का यह कौल भी नकल किया है कि फुकहा का एक वर्ग यह मानता है कि आयत उन्हें मुआफ कर दो और उनसे दरगुज़र करो बेशक एहसान वाले अल्लाह को महबूब हैं , मोहकम और गैर मंसूख है इसलिए कि इस किस्म का आसमानी हुक्म संदर्भ और इन्तेबाक के महल का विषय है (अल इत्कान फी उलूमिल कुरआन, जिल्द, पेज 70-71)। हमने मा सबक में यह देखा कि पहले के फुकहा ने भी संदर्भ और इन्तेबाक के महल का मामला बयान किया है मगर नस्खके उमूमी अर्थ में।

बिलकुल इसी नजरिये की ताईद एक अज़ीम फकीह और उसूली इमाम ज़रकशी ने भी उलूमे कुरानिया में अपनी एक माया नाज़ तसनीफ अल बुरहान फी उलूमिल कुरआनमें की है। कई मुफ्स्सेरीन का हवाला पेश करते हुए इमाम ज़रकशी इन शब्दों में नस्ख का अर्थ बयान करते हैं:

الثالث: ما أمر به لسبب ثم يزول السبب، كالأمر حين الضعف والقلة بالصبر بالمغفرة للذين يرجون لقاء الله ونحوه من عدم إيجاب الأمر بالمعروف والنهي عن المنكر والجهاد ونحوها، ثم نسخه إيجاب ذالك۔ وهذا ليس بنسخ في الحقيقة، وإنما هو نسء، كما قال تعالى (أو ننسئها) فالمنسأ هو الأمر بالقتال، إلى أن يقوى المسلمون، وفي حال الضعف يكون الحكم وجوب الصبر على الأذى۔

وبهذا التحقيق تبين ضعف ما لهج به كثير من المفسرين في الآيات الآمرة بالتخفيف أنها منسوخة بآية السيف، وليست كذالك بل هي من المنسأ، بمعنى أن كل أمر ورد يجب امتثاله في وقت ما لعلة توجب ذالك الحكم، ثم ينتقل بانتقال تلك العلة إلى حكم آخر، وليس بنسخ، إنما النسخ الإزالة حتى لا يجوز امتثاله أبدا۔ وإلى هذا أشار الشافعي في "الرسالة" إلى النهي عن ادخار لحوم الأضاحي من أجل الرأفة، ثم ورد الإذن فيه فلم يجعله منسوخا، بل من باب زوال الحكم لزوال علته، حتى لو فجأ أهل ناحية جماعة مضرورون تعلق بأهلها النهى۔۔۔۔۔ويعود هذان الحكمان – أعنى المسالمة عند الضعف والمسايقة عند القوة- بعود سببهما، وليس حكم المسايقة ناسخا لحكم المسالمة، بل كل منهما يجب امتثاله في وقته" (البرهان في علوم القرآن للزركشي ج 2، النوع الرابع والثلاثون، ص 42، مكتبة دار التراث، القاهرة)

इमाम ज़रकशी के उपर्युक्त अरबी अंश का अर्थ यह है कि कई मुफ़स्सेरीन को यह मुगालता हुआ कि आयत अल सैफ ने सब्र और अफ्व व दरगुज़र वाली आयतों को मंसूख कर दिया है। इसकी वजह यह है कि नस्खकिसी कानूनी हुक्म के इस तरह मुकम्मल खात्मे का तकाजा करता है कि फिर दुबारा कभी इसे नाफ़िज़ किया जाए। जबकि इस तरह की आयतों का यह मामला नहीं है। बल्कि उनमें से हर एक आयत का एक ख़ास अर्थ है जो कि एक विशेष संदर्भ के साथ ख़ास है। हालात के बदलने पर विभिन्न आयतों का निफाज़ लाज़िम हो जाता है। नस्ख का सहीह अर्थ यह है कि कोई हुक्म हमेशा के लिए ख़त्म नहीं किया गया है। इमाम ज़रकशी ने अपने दलाइल को पुखता करने के लिए इमाम शाफई के अल रिसालासे भी एक मिसाल पेश किया है जिसे महुला बिल किताब में देखा जा सकता है।

यहां इमाम जरकशी कहते हैं कि शांति और युद्ध से संबंधित आयतों को उनके उचित संदर्भ में लागू करने की आवश्यकता है, इसलिए उनमें से किसी को नासिख या मंसूख नहीं कहा जा सकता है।

उलूमे कुरआनिया के उपरोक्त दो महान इमामों के तर्कों का सारांश यह है कि आयत 9:5 किसी भी तरह से शांति, अफ्व व दरगुज़र की आयतों को मंसूख नहीं करता है, बल्कि प्रत्येक आयत को उसके उचित संदर्भ में लागू करने की आवश्यकता है।

आयत 9:5 का नियम संदर्भ और तख्सीस व तअय्युन का विषय है, न कि 'नस्ख' का जैसा कि बाद के फुकहा ने कहा है। इस विचार को इमाम बैज़ावी, अल्लामा आलूसी, इमाम अबू बक्र जसास और कई अन्य उसुलैन ने भी की है।

अल बैज़ावी (मृतक 685 हिजरी) अपनी किताब अनवारुल तंजील व इसरारुल तावील की जिल्द 3, पेज 71, 9:5- अरबी)में जो कि क्लासिकी तफसीर की किताब है और उपमहाद्वीप हिंद के मदरसों में पाठ्यक्रम में शामिल भी है, इस आयत की तफसीर करते हुए लिखते है "فاقتلوا المشرکین (ای) الناکثین" जिसका अर्थ है कि आयत 9:5 में बयान किये हुए मुशरेकीन से मुराद नकासैन अर्थात मुसलमानों के खिलाफ जंग का एलान कर के अमन मुआहेदे की खिलाफवर्जी करने वाले हैं।

आलूसी (मृतक 1270 हिजरी) अपनी किताब रुहुल मुआनी (जिल्द 10, पेज 50, 9:5, अरबी) में जो कि तफसीर की एक दूसरी क्लासिकी किताब है लिखते हैं,

على هذا فالمراد بالمشركين في قوله سبحانه: (فاقتلوا المشركين) الناكثون

अनुवाद: इसलिए, अल्लाह पाक के कौल मुशरिकों को मारोमें मुशरेकीन से मुराद नाकेसीन अर्थात वह लोग हैं जिन्होंने मुसलमानों के खिलाफ जंग का एलान कर के अमन समझौते की खिलाफवर्जी की थी।

एक क्लासिकी उसूली अबू बक्र अल जसास (मृतक370 हिजरी) लिखते हैं,

"صار قوله تعالى: {فَاقْتُلُوا المُشْرِكِينَ حَيْثُ وَجَدْتُمُوهُمْ} خاصّاً في مشركي العرب دون غيرهم"

अनुवाद: आयत (मुशरिकों को क़त्ल करो जहां कहीं पाओ) में ख़ास तौर पर अरब के मुशरेकीन मुराद हैं और इसका इतलाक किसी और पर नहीं होता (अह्कामुल कुरआन लिल जसास, जिल्द 5, पेज 270)

इमाम जलालुद्दीन सुयूती लिखते हैं,

कुरआन पाक की उपर्युक्त आयत 9:5 पर अपनी तफसीर में इमाम इब्ने हातिम ने हजरत इब्ने अब्बास (रज़ीअल्लाहु अन्हुमा जो कि रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के चचा ज़ाद भाई थे) से यह रिवायत किया है कि वह फरमाते हैं: इस आयत में मजकूर मुशरेकीन से मुराद कुरैश के वह मुशरेकीन हैं जिनके साथ नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने [सुलह] का मुआहेदा किया था (दुर्रे मंसूर, जिल्द-3, पेज 666- उर्दू)

वह यह भी बयान करते हैं कि, “इमाम इब्ने मंजर, इब्ने हातिम और अबू शैख़ (रज़ीअल्लाहु अन्हु) ने हजरत मोहम्मद बिन इबाद बिन जाफर से नकल किया है कि उन्होंने फरमाया यह मुशरेकीन बनू खुजैमा बिन आमिर के हैं जो बनी बकर बिन कनआना से संबंध रखते हैं,” (दुर्रे मंसूर, जिल्द 3- पेज 666- उर्दू)

उपर्युक्त चर्चा से यह परिणाम निकलता है कि जंग से संबंधित आयतों ने 9:5 सहित के अमन, तहम्मुल और रवादारी वाली आयतों को मुस्तकिल तौर पर मंसूख नहीं किया है। अमन और जंग में से हर एक की आयतों का एक ख़ास संदर्भ और इन्तेबाक का महल है। पहले के फुकहा के अनुसार नस्ख की इस्तेलाह संदर्भ, तख्सीस और आरज़ी मंसूखी के लिए भी उपयोग की जाती थी। इसके उलट, बाद के फुकहा ने संदर्भ और तख्सीस व तअय्युन के लिए शब्द नस्खका प्रयोग नहीं किया और इसी वजह से उन्होंने कहा कि जंग वाली आयतें अमन व रवादारी वाली आयतों से मंसूख नहीं हैं। जैसा कि हमने देखा यह अंतर कोई बुनियादी नहीं बल्कि केवल इस्लाही प्रकृति का है। इसलिए, आइएसआइएस, तालिबान, बोको हराम और जैशे मोहम्मद आदि जैसे आधुनिक जिहादी विचारक अपने इस दावे के जवाज़ में किसी सुरत कोई ठोस दलील नहीं कायम कर सकते कि आयत 9:5 ने मुस्तकिल तौर पर अमन व पुरअमन बकाए बाह्मी वाली आयतों को मंसूख कर दिया है। और यह कि मौजूदा 21 वीं सदी वह दौर है कि जहां हम सभी मुसलमान और गैर मुस्लिम बाह्मी तौर पर अमन तरीके से जीने और अपने अपने नियमों की पासदारी करने पर इत्तेफाक कायम कर चुके हैं। इसलिए, जिहादी विचारकों को अमन के खात्मे के नाम पर हमारे किसी भी सीधे साधे मुस्लिम भाई की नकारात्मक मानसिकता बनाने की कोशिश तर्क कर देना चाहिए।

(अंग्रेजी से अनुवाद)

------

Urdu Article: Refutation of ISIS That Justifies Terrorism in 21st Century: Did the ‘Sword Verse’ 9:5 Really Abrogate Verses of Peace and Forbearance? Part -5 دہشت گردی کا جواز پیش کرنے والے داعش کی تردید: کیا آیت السیف 9:5 نے واقعی امن و رواداری والی آیتوں کو منسوخ کر دیا ہے؟ حصہ -5

English Article: Refutation of ISIS That Justifies Terrorism in 21st Century: Did the ‘Sword Verse’ 9:5 Really Abrogate Verses of Peace and Forbearance? Part -5

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/refutation-isis-justifies-terrorism-part-5/d/125461

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..