New Age Islam
Mon Jun 14 2021, 02:51 AM

Hindi Section ( 21 May 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Why the American Liberal Bluff on Israel Needs to be Called इज़राइल के बारे में अमेरिकी उदारवाद के झूठ का पर्दाफाश होना आवश्यक

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम

19 मई 2021

हांअमेरिकी उदारवादियों ने ट्रम्प का विरोध कियालेकिन बाइडन अभी भी इज़राइल के उत्पीड़न का समर्थन करता है।

प्रमुख बिंदु:

ट्रम्प को बाइडन से बदलना मुख्य रूप से अमेरिकी प्रशासन की उदार छवि को बचाने के लिए था।

अमेरिकी उदारवादी अमेरिकी नीतियों की मूलभूत खामियों को उजागर करने में पूरी तरह विफल रहे हैं।

इज़राइल ने हमास को फिलिस्तीन मुक्ति संगठन (पीएलओ) के धर्मनिरपेक्ष प्रतिरोध को समाप्त करने में मदद की।

हमास की मदद से इजराइल की मंशा फिलीस्तीनी संघर्ष को उसकी वैधता खत्म कर बेअसर करना था।

--------

सबसे पहलेसंयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य जगहों में उदारवादियों ने यह धारणा दी कि दुनिया में जो गलत हो रहा था वह ट्रम्प की नीतियों के कारण था। ट्रंप अब व्हाइट हाउस में नहीं हैंलेकिन फिलीस्तीनियों का नरसंहार अभी भी बे रोक टोक जारी है। इज़रायल अभी भी फिलिस्तीनियों को उनके घरों से बेदखल कर रहा हैउन पर बमबारी कर रहा हैबच्चों और महिलाओं को बेरहमी से मार रहा है। लेकिन बाइडन का अमेरिकी प्रशासन अभी भी नेतन्याहू के साथ अपनी तोड़फोड़ को सही ठहराते हुए खड़ा है। संयुक्त राज्य अमेरिका न केवल इज़राइल को हथियारों की आपूर्ति कर रहा हैजो हजारों नागरिकों को मार रहा हैबल्कि दमनकारी शासन के अपराधों को कवर करके इज़राइल की रक्षा भी कर रहा है। इज़राइल जो कर रहा है वह अमेरिकी समर्थन के बिना संभव नहीं हैइसलिए फिलिस्तीनियों के साथ जो हो रहा हैउसमें संयुक्त राज्य अमेरिका समान भागीदार है।

कहने का मतलब यह नहीं है कि ट्रम्प का विरोध नहीं किया जाना चाहिए थाबल्कि वाम उदारवादी प्रशासन के प्रतिरोध का खोखलापन दिखाता हैजो अमेरिकी नीति की मूलभूत खामियों से जुड़ा हुआ है। कारण बहुत स्पष्ट है। ट्रम्प संयुक्त राज्य अमेरिका को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदनाम कर रहे थेअमेरिकी उदारवादियों को शर्मिंदा कर रहे थे। उदार प्रशासन खुद को सभ्य और दुनिया की समस्याओं के बारे में चिंतित दिखाना चाहता था।

An old Palestinian couple in front of their stolen home now inhabited by Jewish settlers from Brooklyn, New York.

-----

लेकिन मूल रूप सेवे सिर्फ इस बात से चिंतित थे कि चीजें ठीक नहीं चल रही थीं। इसलिए उदार प्रशासन ने ओबामा का समर्थन किया। ओबामा अकेले निगरानी प्रणाली और ड्रोन के लिए जिम्मेदार थेजिन्होंने पूरे मुस्लिम दुनिया में हजारों लोगों को मार डाला। लेकिन चूंकि ओबामा विनम्र थे और उन्होंने खुद को इस तरह प्रस्तुत किया कि उदारवायों को लगा कि यह तो बिलकुल हमारी तरह है। विनम्रता की आड़ में ओबामा ने अमेरिका के व्यवहार को बदलने के लिए कुछ नहीं किया। उदारवादियों ने परवाह नहीं की। इसलिएयह कहना सही होगा कि उदारवादियों का संबंध केवल रूप और दिखावे से हैमौलिक और नवउदारवादी परिवर्तन से बिल्कुल नहीं। तो क्या हुआ अगर बाइडन उसी पुरानी अमेरिकी नीति को जारी रखेअब हमें उदारवादियों की तरफ से  क्रोध का भाव नहीं दिखेगा। जब इज़राइल की बात आती हैतो ओबामाट्रम्प या बाइडन के बीच कोई विकल्प नहीं है। यदि उदार अमेरिकी उतने ही ईमानदार होते जितना वे सोचते हैंतब भी वे फिलिस्तीनियों के बचाव में रैलियां कर रहे होते। लेकिन निश्चिंत रहेंऐसा होने वाला नहीं है।

इस बीचइज़राइल फिलिस्तीनियों के जीवन को तबाह कर रहा है और इसे कोई रोक नहीं रहा है। उदासीन दुनिया की नजर में बल का एकतरफा प्रयोग जारी है। फ़िलिस्तीनियों को उनके घरों से बेदखल करने का सिलसिला बदस्तूर जारी है. यहूदी बस्तीवासी उनके घरों में घुसकर जबरन उन्हें हड़प ले रहे हैं। कब्जा करने वालों में अधिकांश न्यूयॉर्क के यहूदी हैंजो "अर्जे मौऊद" में अपने दूसरे या तीसरे घर की तलाश कर रहे हैं और फिलिस्तीनियों को उनके एकमात्र घर से वंचित कर रहे हैं। फिलिस्तीनियों के साथ अमानवीय व्यवहार का प्रमाण यह भी है कि आपराधिक बसने वालों की कानूनी फीस फिलिस्तीनियों से ली जा रही है। कल्याणकारी संगठनों के रूप में पंजीकृत अनेक अमेरिकी संगठन इस भूमि हथियाने में अपनी भूमिका निभा रहे हैं। लेकिन अब जबकि ट्रम्प प्रशासन चला गया हैयह अब कोई समस्या नहीं है जो उदार अमेरिकियों की अंतरात्मा पर बोझ बने।

जब उदारवादी इज़राइल की बर्बरता की निंदा करते हैंतो वे हमास की भी निंदा करते हैंअर्थात वे हमास की निंदा किए बिना इज़राइल की बर्बरता की निंदा नहीं करते हैंजैसे कि हमास और इज़राइल सत्ता और ताकत में बराबर हों। दोनों के बीच इस तरह के बेमेल समानता को दिखाकरवे यह दिखाना चाहते हैं कि फिलिस्तीनियों के साथ जो हो रहा है वह उनके अपने कर्मों का फल है। दूसरी बात यह तर्क देने के लिए कि इस 'संघर्षके दो पक्ष हैंजबकि वास्तव में यह लड़ाई एकतरफा हैवे इस तरह से एक तरह का छलावरण बना रहे हैं। पार्टी जो शुरू से ही मजबूत है और जो चाहे कर रही है। और वह पार्टी इज़राइल हैजिसे संयुक्त राज्य अमेरिका और आपराधिक यूरोप का समर्थन प्राप्त है। फ़िलिस्तीनी अपने साथ हो रहे इज़रायली अत्याचारों के साथ बस तालमेल बिठा रहे हैं।

हमास द्वारा दागे गए रॉकेट पर इतना दुख हैइतना दुख हैऐसा लगता है जैसे सारी हिंसा इस रॉकेट से हो रही है। लेकिन जिस चीज को जानबूझकर नजरअंदाज किया जा रहा हैवह यह है कि इज़राइल का अस्तित्व ही अपने आप में हिंसा की पहली घटना है। यह ऐसा है जैसे कि एक हमास रॉकेट फिलिस्तीनियों के खिलाफ दशकों से व्यवस्थित इजरायली हिंसा को नकार सकता है। अपने इतिहासअपनी यादों और अपने घरों से बेदखल होने से बड़ी और हिंसक घटना क्या हो सकती है?

उदारवादी ढोंग कर रहे हैं कि उन्हें पता ही नहीं कि शुरू में इज़राइल ने ही हमास की सहायता की थी। अब यह सोचना भी शर्मनाक हो गया कि हमास ही इज़राइल आबादकारी से लड़ने लगा है। अगर ऐसा नहीं था तो फिर उन्हें इंतिफाजा की सरबराही कर रहे पी एल ओ की मदद करनी चाहिए थी। लेकिन ऐसा नहीं है। हमास खुद स्वीकार करता है कि उसका जुहूर फतह के मुकाबले के लिए हुआ था। हमास के नेता शेख यासीन ने इजरायलियों द्वारा हत्या किए जाने से पहले यह स्पष्ट कर दिया था कि हथियारों का उद्देश्य पीएलओ से लड़ना थान कि इज़राइल से। गाजा में धर्मनिरपेक्ष पार्टी की जीत समाप्त होने के बादहमास फिलीस्तीनियों का एकमात्र प्रतिनिधि बन गयाऔर इस प्रकार इज़राइल इस प्रवचन को स्थापित करने में सफल रहा कि उसकी लड़ाई केवल इस्लामी आतंकवाद के खिलाफ है। आज अगर हमास का भूत इज़राइल का पीछा नहीं छोड़ रहा है तो इज़राइल इसे चाहता था। उसके लिए पीएलओ से लड़ना नैतिक रूप से कठिन थालेकिन अब जब फिलिस्तीनी हमास के शीर्ष पर हैंतो उन्हें मारा जा सकता है और किसी को भी इसका पछतावा नहीं होगा। फिलिस्तीनियों के जीवन को सामूहिक लीट्रल घोषित करके एक ही सुर में अब सभी उदारवादियों के लिए इज़राइल और हमास के बारे में बात करना आसान हो गया है।

अरशद आलम न्यू एज इस्लाम के स्थाई स्तंभकार हैं

URL for English article:   https://www.newageislam.com/islam-west/american-liberal-israel-palestine-israeli-oppression/d/124848

URL for Urdu article: https://www.newageislam.com/urdu-section/arshad-alam-new-age-islam/-american-liberal-bluff-israel-needs-be-called-اسرائیل-کے-بارے-میں-امریکی-لبرل-کے-جھوٹ-کا-پردہ-فاش-ضروری/d/124857

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/american-liberal-israel-/d/124864


New Age Islam, Islam Online, Islamic Website, African Muslim News, Arab World News, South Asia News, Indian Muslim News, World Muslim News, Women in Islam, Islamic Feminism, Arab Women, Women In Arab, Islamophobia in America, Muslim Women in West, Islam Women and Feminism


Loading..

Loading..