New Age Islam
Mon Jan 17 2022, 04:49 AM

Hindi Section ( 13 Dec 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Pakistan: Killing in the Name of the Prophet पाकिस्तान: नामूसे रिसालत के नाम पर हत्या

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

उर्दू से अनुवाद न्यू एज इस्लाम

4 दिसंबर 2021

मुसलमानों को खुले तौर पर चर्चा करने की जरूरत है कि वे किस तरह के इस्लाम का पालन करना चाहते हैं

प्रमुख बिंदु:

1. श्रीलंका के प्रियांथा कुमारा की इस्लाम पसंद भीड़ ने पाकिस्तान के सियालकोट में तौहीने मज़हब के आरोप में हत्या कर दी थी।

2. लोगों के बीच इस धार्मिक कट्टरता को भड़काने के लिए तहरीक-ए-लब्बैक और पाकिस्तानी प्रशासन को जिम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

3. मुसलमानों ने फिर माफी मांगते हुए कहा कि इसका इस्लाम से कोई लेना-देना नहीं है। यह रवैया इस्लाम परस्ती के हानिकारक भूमिका के बारे में स्वतंत्र और निष्पक्ष बहस का द्वार बंद कर देता है।

-----

पवित्र पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम  पर दरूद वाले पोस्टर को कथित रूप से अपमानित करने के आरोप में शुक्रवार को पाकिस्तानी शहर सियालकोट में श्रीलंकाई व्यक्ति प्रियांथा दियावदाना की हत्या कर दी गई थी।

-----

पाकिस्तान के सियालकोट में एक श्रीलंकाई व्यक्ति की यातना और उसके बाद हुई मौत ने सभी मुसलमानों को शर्मिंदा कर दिया है। प्रियांथा कुमारा एक धार्मिक अल्पसंख्यक थे और एक कपड़ा कारखाने में वरिष्ठ प्रबंधन पद पर कार्यरत थे। स्थानीय पुलिस का कहना है कि कुमारा ने तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान (टीएलपी) का एक पोस्टर उतारा और कूड़ेदान में फेंक दिया, यह दर्शाता है कि मुस्लिम भीड़ क्रोधित हो गई और अंततः उसे मार डाला। कई टीएलपी पोस्टरों की तरह, इस पर कुरआन की आयत लिखी हो सकती हो। लेकिन यह भी सच है कि कुमारा ने गैर-मुस्लिम होने के नाते इसे किसी अन्य राजनीतिक पोस्टर की तरह ही माना होगा और इसे दफ्तर की जगह से हटाने का फैसला किया होगा। उस पर हमला करने वाली भीड़ ने कैमरे के सामने तर्क दिया कि उसने एक आयत को फाड़ दिया जिस पर मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम का नाम लिखा हुआ था। उनका तर्क है कि उसने इस्लाम के पैगंबर का अपमान करके तौहीने रिसालत की, इसलिए उसे मार दिया गया। उपलब्ध जानकारी के अनुसार भीड़ ने पहले उसे प्रताड़ित किया, फिर उसकी हत्या कर दी और उसके शव को सड़क पर जला दिया। मुसलमान के जहन में लाश को जलाना यह सुनिश्चित करना है कि वह स्वर्ग में न जाए। दूसरे धर्म से घृणा इससे अधिक स्पष्ट नहीं हो सकती।

जलती हुई लाश का वीडियो हैरान कर देने वाला है। लेकिन कैमरे पर हत्या को जायज ठहराने वाले शख्स का बयान उतना ही परेशान करने वाला है। वे सभी युवा हैं और लोग सोचते होंगे कि उनके सपने अलग होंगे। लेकिन जब कोई उन्हें बिना पछतावे के बोलते हुए सुनता है, तो उसका भ्रम टूट जाता है। वे युवा पूरी तरह से आश्वस्त प्रतीत होते हैं कि पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम या इस्लाम का अपमान करने वाले किसी भी व्यक्ति को मारना मुसलमानों का धार्मिक कर्तव्य है। वे किस हद तक नकारात्मक सोच रखते हैं, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वे अपने धर्म के हुक्म के मुताबिक एक भयानक हत्या को नेक काम घोषित कर रहे हैं। पूरे वीडियो में, इन लोगों को "नारा ए तकबीर", "लब्बैक या रसूलुल्लाह" और "गुस्ताखे नबी की एक सजा सर तन से जुदा सर तन से जुदा" जैसे नारे लगाते हुए सुना जाता है। इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात यह है कि इस तरह के नारे एक बार सुनने के बाद बच्चों की आवाज साफ सुनाई देती है। यह समझ से बाहर है कि इस तरह की नकारात्मकता और घृणा का इन युवा सादा दिमाग वाले लोगों पर क्या प्रभाव पड़ेगा।

इमरान खान सरकार ने तुरंत "घटना" की निंदा की। लेकिन निंदा करना हमेशा आसान होता है, लेकिन मुश्किल काम पीड़ित और उसके परिवार को न्याय दिलाना होता है। लेकिन खुला सवाल यह है कि क्या सरकार ऐसा कर पाएगी। आखिरकारइस समस्या का अधिकांश हिस्सा सरकार से संबंधित नजर आता है। अभी पिछले महीने ही इमरान खान की सरकार ने टीएलपी कट्टरपंथियों के सामने सरेंडर कर दिया था। एक राजनीतिक दल और धार्मिक संगठन होने के नाते टीएलपी तौहीने मज़हब के किसी भी मामले में सबसे कठोर सजा की मांग करती रही है। इस आंदोलन ने हत्यारे मुमताज कादरी को एक वली के रूप में पेश किया है। पाकिस्तान के अंदर तौहीने मज़हब से संबंधित लिंचिंग की हालिया घटना टीएलपी द्वारा इस मुद्दे को मुस्लिम गरिमा का मामला बनाने के बाद आई है। टीएलपी की मांगों के सामने सरेंडर कर सरकार पहले ही संकेत दे चुकी है कि वह किस पक्ष में है। दरअसल अपुष्ट खबरों के मुताबिक इमरान खान की पार्टी अगले चुनाव में टीएलपी के साथ गठबंधन कर सकती है।

A screengrab of a video that was recorded when the Sri Lankan factory worker's body was burnt.

-----

पाकिस्तान का इस्लामीकरण शायद पूरा हो गया है। "मदीना राज्य" की स्थापना के नाम पर, इमरान खान की सरकार ऐसा कानून बना रही है जो पाकिस्तानी प्रशासन के भीतर जो कुछ भी अच्छा बचा है उसे नष्ट कर देगा। चाहे वह एक एकल राष्ट्रीय पाठ्यक्रम का कार्यान्वयन हो जो दर्सगाहों में इस्लामी रक्षकों को दाखिल कर देगा या तथाकथित इस्लामोफोबिया के खिलाफ उनके संघर्ष का एक बड़ा अभियान हो, इमरान खान के पाकिस्तान ने इस्लाम परस्ती को देश का सबसे बड़ा बयानिया बना दिया है। निकट भविष्य में, यह सरकार को अपनी सर्वांगीण विकास विफलताओं से कुछ राहत दे सकता है, लेकिन लंबे समय में, यह देश को रासिखुल अकीदा इस्लाम के रास्ते पर ले जाएगा।

निश्चित रूप से केवल वर्तमान पाकिस्तानी प्रशासन ही इस इस्लामी कट्टरता के लिए जिम्मेदार नहीं है। जिया-उल-हक और उनकी इस्लामी नीति ने समाज और यहां तक कि राजनीति को भी बहुत नुकसान पहुंचाया है। उन्होंने अलग अलग शरिया अदालतों और हुदूद अध्यादेश की स्थापना के माध्यम से रूढ़िवादी उलमा के प्रभाव को मजबूत किया है। ऐसे कई इस्लाम पसंदों को सरकार में विभिन्न पदों पर नियुक्त किया गया था, जिसमें इस्लामी नजरियाती काउंसिल भी शामिल थी, जिसे संसद में निर्वाचित प्रतिनिधियों का "मार्गदर्शन" करना था। लेकिन उससे पहले ही, धर्मनिरपेक्षतावाद का दम भरने वाले जुल्फिकार अली भुट्टो ने इस्लामवा पसंदों की कट्टर मांगों को स्वीकार कर लिया और अहमदिया मुसलमानों को इस्लाम के दायरे से बाहर कर दिया और मुस्लिम नागरिकों के रूप में उनके धार्मिक अधिकारों से प्रभावी रूप से वंचित कर दिया।

हर बार जब तौहीने रिसालत से संबंधित हत्या की जाती है, तो उस इतिहास को याद रखना और उसका वर्णन करना महत्वपूर्ण है। और इसे यह नाम देना महत्वपूर्ण है कि यह वास्तव में है: धार्मिक इस्लामी फासीवाद है। यह विचारधारा मानती है कि मुसलमान बनने का एक ही तरीका है और बाकी सभी तरीके अनिवार्य रूप से अपमानजनक हैं। इस्लामी फासीवाद इस्लामी नुसूस से अपना पोषण प्राप्त करता है जो इस प्रकार की बर्बरता को सही ठहराते हैं और कभी-कभी इसकी सिफारिश भी करते हैं। सियालकोट नरसंहार के बाद कई लोग इसे गैर-इस्लामी कहेंगे। समस्या यह है कि इस्लामी साहित्य में ऐसी बहुत सी सामग्री है जो इस तरह की हत्याओं को सही ठहराती है। जिन लोगों ने भी इस हत्या की निंदा की है, उन्होंने तकनीकी आधार पर ऐसा किया है। उनका तर्क है कि ऐसे "अपराधियों" को दंडित करने की शक्ति केवल राज्य के पास है। दूसरे शब्दों में, इस बात पर मतभेद है कि किसके पास मारने का अधिकार है और न कि खुद हत्या के अमल पर। और समस्या की जड़ यह है कि इस्लाम के पास न तो कोई अपनी समझ है और न ही अपने मूल्यों और प्रणाली की आलोचना झेलने की अपनी क्षमता है। जुजवी तौर पर  यह उनकी गलत धार्मिक सोच का एक उत्पाद है, जो उन्हें बताता है कि इस्लाम ही सबसे अच्छा और अंतिम धर्म है।

यह समझ में आता है कि कुछ मुसलमान आज विद्रोह करते हैं जब वे अपने ही समुदाय के भीतर से ऐसी छवियों को उभरते हुए देखते हैं, लेकिन समाधान केवल यह कहना नहीं है कि यह इस्लाम की शिक्षा नहीं है। इसका समाधान इस्लामी नुसूस की वर्तमान समझ में एक क्रांतिकारी परिवर्तन लाने में है। इसका समाधान खुले तौर पर यह घोषणा करने में है कि अगर इस्लाम के कुछ वर्ग हत्या का समर्थन करते हैं तो यह गलत है और मुसलमान इसका पालन करने के लिए बाध्य नहीं हैं।

English Article: Pakistan: Killing in the Name of the Prophet

Urdu Article: Pakistan: Killing in the Name of the Prophet پاکستان: ناموس رسالت کے نام پر قتل

Malayalam Article: Pakistan: Killing in the Name of the Prophet പാകിസ്ഥാനിലെ പ്രവാചകന്റെ പേരിലുള്ള കൊലപാതകം

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/prophet-pakistan-killing-anka-priyantha/d/125957

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..