New Age Islam
Tue Aug 09 2022, 09:00 PM

Hindi Section ( 11 May 2022, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Hyderabad Inter-Faith Killing: Why Muslim Condemnation is Not Enough हैदराबाद इंटरफेथ मर्डर: क्यों मुसलमानों की केवल निंदा ही काफी नहीं है?

अरशद आलम, न्यू एज इस्लाम

6 मई 2022

उन्हें धर्मांतरण और जातिवाद पर ईमानदारी से चर्चा शुरू करनी चाहिए।

प्रमुख बिंदु:

1. हैदराबाद में एक मुस्लिम परिवार द्वारा दलित नागराजू की हत्या में धर्म और जाति दोनों की भूमिका है

2. मुसलमानों ने हमेशा अपने समुदायों में जाति को नकारा है, भले ही इसका हमेशा सबूत मौजूद रहा है

3. वे शादी के समय दूसरे पक्ष को धर्म बदलने के लिए मजबूर करते हैं और इस्लामी वर्चस्व का प्रदर्शन करते हैं

4. धर्मांतरण पर जोर देना बंद होना चाहिए। जातिवाद के अस्तित्व को स्वीकार किया जाना चाहिए

----

नागराजू और फातमा ने अपने घर वालों की मर्ज़ी के खिलाफ शादी की थी।

हैदराबाद में बी नागराजू की निर्मम हत्या एक बार फिर अंतरधार्मिक जोड़ों के दर्दनाक जीवन को उजागर करती है। दलित हिंदू नागराजू और सैयद मुस्लिम अशरीन सुल्ताना ने हाल ही में लड़की के परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की थी। यह रिश्ता अशरीन के भाइयों को हजम नहीं हुआ और उन्होंने सार्वजनिक रूप से नागराजू की हत्या कर दी। नागराजू की कई बार चाकू मारकर हत्या की गई, जबकि दर्शकों ने इस भयावह घटना की वीडियोग्राफी की। अपने पति की दुखद मौत को देखने के बाद, प्रेस के सामने घटना को बताते हुए कई बार अशरीन होश खो बैठी।

यह धर्म और जाति दोनों का मामला है। ऐसे मुसलमान भी हैं जो हमेशा अपने समाज में जाति को नकारते हैं और इसे सिर्फ एक हिंदू-मुस्लिम मुद्दे के रूप में देखना चाहते हैं। लेकिन हाल ही में, मुसलमानों का एक समूह है जो हर चीज पर जाति को प्राथमिकता देता है और कह रहा है कि यह मूल रूप से जाति का मुद्दा है। उस नागराजू को सिर्फ इसलिए मार दिया गया क्योंकि वह एक दलित था। एक को दूसरे पर वरीयता देना गलत है। धर्म और जाति आपस में इस कदर जुड़े हुए हैं कि एक को दूसरे से अलग करना अक्सर मुश्किल होता है।

यह घटना इस तथ्य की ओर इशारा करती है कि मुसलमानों का एक वर्ग अंतर्धार्मिक विवाहों को लेकर उतना ही चिंतित है जितना कि हिंदुओं का एक वर्ग। लेकिन यह समस्या मुस्लिम समाज के भीतर बहुत गहरी हो सकती है क्योंकि मुसलमानों के बीच इन बातों पर उतनी खुलकर बात नहीं की जाती जितनी हिंदू समाज में की जाती है। जिस तरह हिंदू नहीं चाहेंगे कि उनके बच्चे उनके समुदाय के बाहर शादी करें, उसी तरह मुसलमान भी इसके बिल्कुल खिलाफ हैं। इसलिए यह आश्चर्य की बात नहीं है कि कुछ मुसलमान उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के समर्थन में सामने आए जब उन्होंने एक ऐसा कानून पेश किया जिससे अंतरधार्मिक जोड़ों के लिए शादी करना बहुत मुश्किल हो गया।

दरअसल, किसी मुस्लिम लड़के या लड़की को शादी से पहले अपना धर्म बदलने के लिए मजबूर करना अंतरधार्मिक एकता का मजाक है। जब एक पक्ष को शादी करने के लिए धर्म बदलना पड़ता है, तो अंतरधार्मिक के नाम पर क्या बच जाता है? मुसलमान इस चीज को नहीं छोड़ सकते क्योंकि उनके इस्लाम में धर्मांतरण जरूरी है। अगर लोग वास्तव में प्यार के आधार पर एक दूसरे से शादी कर रहे हैं तो इसका क्या लाभ? जब तक मुसलमान धर्मांतरण पर जोर देते रहेंगे, तब तक हिंदुओं और मुसलमानों के बीच लड़कों और लड़कियों का वास्तविक आदान-प्रदान नहीं हो सकता है। हिंदुओं को हमेशा लगेगा कि उनकी संख्या घट रही है और मुसलमानों को भी दोष नहीं दिया जा सकता है क्योंकि शादी पर इस्लाम की वैचारिक स्थिति यह है कि शादी बिना बदलाव के नहीं हो सकती।

सैयद अशरीन सुल्ताना ने अपने हमलावरों का बहादुरी से सामना किया, बुधवार की शाम कैमरे में कैद खुले आम हत्या का एक भयावह दृश्य।

---

जब एक महिला उनके धर्म में परिवर्तित हो जाती है, तो मुसलमानों या हिंदुओं को अंतरधार्मिक विवाह से इतनी परेशानी नहीं होती है। इस मामले में अशरीन ने एक हिंदू लड़के से शादी की और समुदाय से बाहर चली गई जिस पर हिंसा का होना तो बिलकुल तय बात थी। धर्म की इस समझ के अनुसार, महिलाएं सिर्फ एक पत्थर की मूर्ति हैं जिनकी अपनी कोई समझ है और न ही कोई अधिकार। उसे हमेशा बताया जाता है कि क्या करना है और क्या नहीं करना है और हर समय उसकी निगरानी की जाती है, खासकर जब जीवनसाथी चुनने की बात आती है। वे मुसलमान जो गर्व से यह घोषणा करते हैं कि इस्लाम में महिलाओं को बहुत अधिक स्वतंत्रता है, हमें बताएं कि अशरीन अपने जीवन का फैसला करने के लिए स्वतंत्र क्यों नहीं थी।

अशरीन ने प्रेस को बताया कि नागराजू इस्लाम कबूल करने के लिए राजी हो गए थे, लेकिन उन्हें मार दिया गया। इसलिए हत्या को इस अर्थ में समझाया जा सकता है कि नागराजू एक दलित थे जिनका धर्म परिवर्तन भी इस उच्च जाति के मुस्लिम परिवार के लिए अस्वीकार्य था। दलित पूर्व अछूत हैं,जो कि एक बहुत मेहनती समुदाय है, जिनमें से कुछ सदियों के जातिगत उत्पीड़न और भेदभाव के बाद खड़े होने में सक्षम हो सके हैं। उनका विकास प्रचलित सामाजिक वर्गीकरण को तोड़ता है और जो लोग इस स्थिति को बनाए रखना चाहते हैं वे अपनी स्थिति और विशेषाधिकार बनाए रखने के लिए हिंसक प्रतिक्रिया करते हैं। यही बात हरियाणा और पंजाब जैसी जगहों के बारे में भी सच है जहां विकासशील दलित लड़के जाट समुदाय की लड़कियों के साथ संबंध बना रहे थे। ऐसे कई मामलों में परिणाम विनाशकारी रहे हैं। हैदराबाद के मामले में भी यही सच है, जहां सैयद सरासर हिंसा के जरिए यथास्थिति बनाए रखने पर तुले हुए हैं। अशरीन के भाई का असंवेदनशील चेहरा हमें बताता है कि उसने नागराजू को फर्ज़ समझ कर कत्ल किया था: निचली जाति की तरफ से किसी भी उल्लंघन को उसी तरह से दंडित किया जाना था।

हमें प्राटीलोमा (अस्वीकार्य विवाह) को भी समझने की जरूरत है जो इस मामले में काम कर रही है। पारंपरिक हिंदू सामाजिक व्यवस्था में, निचली जाति की लड़की से शादी करना पितृसत्ता का एक स्वीकार्य रूप है, लेकिन इसके विपरीत संभव नहीं। कोई पुरुष अपने से ऊंची जाति की लड़की से शादी नहीं कर सकता। मुस्लिम समाज में भी ऐसी ही भावनाएँ पाई जाती हैं। नागराजू को सिर्फ इसलिए नहीं मारा गया क्योंकि वह एक दलित था, बल्कि इसलिए भी कि एक दलित होने के बावजूद उसने ऊंची जाति की लड़की से शादी करने की हिम्मत की।

दस्तावेजी साक्ष्य के बावजूद, मुसलमान अपने समुदायों में जाति को मान्यता देने से हिचकते हैं। उनका  बस यही कहना है कि इस्लाम बिना किसी जाति या वर्ग के भेदभाव के समानता का धर्म है। उनका यह भी कहना है कि मुसलमानों में जो भी जातिवाद पाया जाता है, वह हिंदू समाज के 'प्रदूषण' का परिणाम है। जबकि इस्लाम के इतिहास में इसकी कोई मिसाल नहीं मिलती। भारत में इस्लाम के आगमन से बहुत पहले इसमें एक जटिल वर्ग व्यवस्था विकसित हो चुकी थी। भारत में आने वाले तुर्की और मध्य एशियाई मुसलमान पदानुक्रम के सिद्धांत के साथ यहां आए थे, जिसके अनुसार विदेशी मूल के मुसलमान हमेशा अन्य मुसलमानों से श्रेष्ठ होते हैं, हिंदुओं की तो बात ही छोड़िए। मसूद आलम फलाही जैसे उलमा ने स्पष्ट रूप से दिखाया है कि कैसे ऐसे विचार भारतीय इस्लामी फिकह का हिस्सा बन गए। हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि पदानुक्रम इस्लाम में उसी क्षण अंतर्निहित था जब यह कहा गया था कि केवल एक कुरैशी समुदाय का नेता हो सकता है। यह उस समय हुआ जब इस्लाम के पैगंबर को दफनाया भी नहीं गया था।

नागराजू की हत्या सभी मुसलमानों के लिए एक कड़वी याददहानी है कि सबसे पहले वह अपने घरों को करें। सबसे पहले उन्हें अपने समाज में जाति के अभिशाप का सामना करना होगा। अम्बेडकर का यह मुशाहेदा कि मुसलमानों में हिंदू समाज की सभी बुराइयाँ हैं और कुछ और भी। और यह कुछ और वह सख्ती है जो इस्लामी फिकह से उत्पन्न होती है। जब दो लोग केवल एक साथ रहना चाहते हैं तो धर्म परिवर्तन करने की क्या आवश्यकता है?

सभी विचारधारा के मुसलमानों ने इस घटना की कड़ी निंदा की है। हालांकि, इस तरह की निंदा का कोई फायदा नहीं है अगर इसकी जांच नहीं की जाती है कि आखिर यह घटना क्यों हुई। सबसे पहले, मुसलमानों को अपने अंधविश्वास को प्रतिबिंबित करने और बाहर आने की जरूरत है कि केवल उनका धर्म ही अंतिम सत्य है और बाकी सभी गलत या गुमराह हैं। अगर वे वास्तव में इस्लाम का सबसे अच्छा चेहरा पेश करने के लिए गंभीर हैं, तो उन्हें तुरंत धर्मांतरण की जिद छोड़ देनी चाहिए। दूसरा, उन्हें जाति और अस्पृश्यता के बारे में ईमानदारी से बातचीत शुरू करने की जरूरत है।

-----

English Article: Hyderabad Inter-Faith Killing: Why Muslim Condemnation is Not Enough

Urdu Article:  Hyderabad Inter-Faith Killing: Why Muslim Condemnation is Not Enough حیدرآباد بین المذاہب قتل: کیوں مسلمانوں کی صرف مذمت ہی کافی نہیں ہے

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/hyderabad-inter-faith-killing-muslim/d/126981

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..