New Age Islam
Sat May 25 2024, 09:50 AM

Hindi Section ( 10 Jul 2021, NewAgeIslam.Com)

Comment | Comment

Refuting Islamophobic Claim - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता है, चौथी क़िस्त: आत्मघाती बम विस्फोटों या शहादत अभियानों को सही ठहराने वाले जिहादी बयानिये का खंडन

न्यू एज इस्लाम विशेष संवाददाता

(उर्दू से अनुवाद, न्यू एज इस्लाम)

२२ जनवरी २०२१

आधुनिक समय के जिहादी आत्मघाती बम विस्फोटों, बलिदानों, या "शहादत" के कृत्यों को युद्ध और क्रूर हिंसा के साधन के रूप में उपयोग करते हैं और वैध बनाते हैं। इस कथन को सही ठहराने में कुरआन और हदीस और क्लासिकी इस्लाम का इस्तेमाल गलत है। जिहादी बयानबाजी के समर्थन में, इस्लामोफोबिक लोग प्रचार करते हैं कि जिहादी इस्लाम की पारंपरिक और क्लासिकी व्याख्याओं पर आधारित है। इसलिए, हमारे लिए इस्लाम के मूल ग्रंथों के आलोक में जिहादी बयानिये की जांच करना और इस्लामोफोबिक लोगों और जिहादियों दोनों को अस्वीकार करना अनिवार्य हो जाता है, इस प्रकार आम आदमी के खिलाफ अहिंसा का मार्ग प्रशस्त होता है जो जिहादी बयानिये के लगातार प्रचार का शिकार हो जाते हैं।

9/11 का हमला पहला ऐसा मौक़ा नहीं था  जब किसी आतंकवादी संगठन ने अपने नापाक लक्ष्य को हासिल करने के लिए आत्मघाती हमला किया हो। पूरे इतिहास में, आत्मघाती बम विस्फोटों के कई उदाहरण हैं। ४०० ईसा पूर्व में, ग्रीक नाविकों ने अपने जहाजों में आग लगा दी और उन्हें दुश्मन सेना के लिए छोड़ दिया। यह युक्ति इतनी लोकप्रिय हुई कि "फायरशिप" शब्द लोकप्रिय हो गया। सीकारी  संप्रदाय के यहूदियों ने पहली शताब्दी ईस्वी में हेलेनिस्टिक यहूदियों पर आत्मघाती हमले किए। 1386 में सिम्पैच  की लड़ाई में स्वतंत्रता के लिए स्विस संघर्ष के दौरान अर्नोल्ड वॉन विंकलेरेड ने एक आत्मघाती हमलावर का इस्तेमाल किया। मुस्लिम चरमपंथियों ने भी शुरुआती धर्मयुद्धों में आत्मघाती हमले किए। द्वितीय विश्व युद्ध में, जापानी कामिकेज़ पायलटों ने आत्मघाती हमले किए और जानबूझकर दुश्मन के ठिकानों पर अपने विमानों को मार गिराया। हालांकि आत्मघाती हमलों का इतिहास लंबा है, आत्मघाती हमलों के वर्तमान युग ने वैश्विक ध्यान आकर्षित किया है। १९८१ में अल-दावा ने बेरूत में एक कार बम से इराकी दूतावास को उड़ा दिया, और १९८३ में हिजबुल्लाह ने अमेरिकी दूतावास, अमेरिकी नौसेना और फ्रांसीसी बैरकों पर आत्मघाती हमला किया। यह वर्तमान युग की कुछ आत्मघाती हमलों की मिसालें  हैं।

अल कायदा, हमास, अल-अक्सा ब्रिगेड के शहीद, फतह, तालिबान, आईएसआईएस, बोको हराम और अन्य जैसे चरमपंथी और आतंकवादी समूहों ने अपने आत्मघाती बम विस्फोटों के लिए दुनिया भर में कुख्याति प्राप्त की है। हालांकि, ये संगठन अपने आत्मघाती हमलों को शहादत कहते हैं। और आत्महत्या शब्द के प्रयोग को नापसंद करते हैं, क्योंकि इस्लाम में आत्महत्या की सख्त मनाही है। आत्महत्या करने के बजाय, वे फिदाई , यानी अमलियात फ़िदाइयह  और शहादत के कार्य के शब्दों के उपयोग पर ज़ोर देते हैं, और अपने नापाक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए फ़िदाइयत और तथाकथित शहादत को सही ठहराने का प्रयास करते हैं।

सऊदी शाखा में अल-कायदा के प्रभावशाली नेता, यूसुफ अल-अबीरी (१९७३-२००३) ने "ऑपरेशन शहीद की शरई स्थिति" नामक एक पैम्फलेट जारी किया। अल-अबीरी ने जोर देकर कहा कि आत्मघाती बम विस्फोटों के माध्यम से "शहादत की कार्यवाही" न केवल वैध हैं बल्कि बेहतर सैन्य बलों के लिए एक आवश्यक प्रतिक्रिया भी हैं। वह कहते हैं:

اما أثرها على العدو , فإننا و من خلال واقع نلمسه ونعايشه, فقد رأينا أن أثرها على العدو عظيم. بل لا يوجد نوع من العمليات أعظم في قلوبهم رعبا من هذا النوع

जहां तक शहादत की कार्रवाइयों का दुश्मन पर असर का सवाल है तो अब तक के अनुभव ने दिखाया है कि दुश्मन के दिलों में आतंक पैदा करने और उनके जोश को खत्म करने के लिए शहादत से बढ़कर कोई कारगर तकनीक नहीं है।

युद्ध की कीमत के बारे में बात करते हुए अल-अबीरी कहते हैं:

भौतिक स्तर पर, ये ऑपरेशन दुश्मन को सबसे अधिक नुकसान पहुंचाते हैं और लागत भी कम लगते  हैं। अन्य हमलों की तुलना में लागत नगण्य है। इसमें केवल एक नुकसान है और वो नुकसान जीवन का हैलेकिन वास्तव में, एक नायक की तरह शहीद होने का मौक़ा मिलेगा और फिर वो, हम सबसे पहले अनन्त स्वर्ग में प्रवेश करेंगे। इंशाअल्लाह। जहां तक शत्रु की बात है तो उनका नुकसान काफी होता है। (अमलियाते इस्तिश्हाद की शरई हैसियत, पृष्ठ २ और ३ (अंग्रेज़ी संस्करण)) अरबी संस्करण में पृष्ठ १० पर है। पैम्फलेट अरबी में "ہل انتحرت حواء ام استشہدت" के नाम से है।

ऐसे हमलों की वैधता के बारे में, अल-अबीरी आवश्यकता और लाभ की विषयगत प्रकृति के तहत बोलते हैं। आधुनिक विद्वानों ने उन परिस्थितियों पर चर्चा की है जिनमें ऐसे हमलों की अनुमति है। उदाहरण के लिए, प्रभावशाली मौलवी यूसुफ अल-क़रजावी ने 9/11 के हमलों की कड़ी निंदा की, जिसमें अमेरिकी मारे गए, लेकिन इससे पहले १९९७ में, उन्होंने सैन्य आवश्यकता के तहत इज़राइल में आत्मघाती बम विस्फोटों को सही ठहराते हुए एक फतवा जारी किया। अल-क़रजावी कहते हैं:

إن المجتمع الإسرائيلي عسكري بطبيعته. فالرجال والنساء يخدمون في الجيش على حد سواء، ويمكن أن يُجنَّدوا على نحو إلزامي في أي لحظة. ومن جهةأخرى، لو قتِل طفل أو كهل في عملية كهذه، فهو لا يُقتلقصداً وإنمابالخطأ، كنتيجة للضرورة العسكرية. فالضرورة تبرر ما هو محظور.

अनुवाद: इजरायली समाज स्वभाव से उग्रवादी है, पुरुष और महिला दोनों सेना में सेवा करते हैं, और उन्हें किसी भी समय सेना में शामिल किया जा सकता है, दूसरी ओर, यदि कोई बच्चा या बुजुर्ग इस तरह के ऑपरेशन में मारे जाते हैं, तो वह सैन्य आवश्यकता के परिणाम में जानबूझ कर नहीं गलती से मारे जाएंगे। आवश्यकता हराम चीजों को जायज कर देती हैं।

(القرضاوی، شرعية العمليات الاستشهادية في الأراضي المحتلة، यह अंश मोहम्मद मुनीर के लेख الہجمات الانتحاریۃ و القانون الاسلامی के पृष्ठ संख्या ४ पर मंकुल है।)

आत्मघाती बम विस्फोटों या तथाकथित "शहीद अभियानों" के खिलाफ उलमा के बीच एक आम सहमति है कि महिलाओं, बच्चों, बुजुर्गों और गैर-लड़ाकों को मारने की अनुमति नहीं है, और यह कि जीवन की पवित्रता शरिया के मूल स्रोतों में सर्वव्यापी है। और युद्ध के दौरान आत्मघाती बम विस्फोटों के बारे में क्लासिकी स्रोतों में कोई स्पष्ट चर्चा नहीं है। इसलिए, जिहादी आत्महत्या या "शहादत" ऑपरेशन को क्लासिकी और पारंपरिक फुकहा और आलिमों द्वारा समर्थित नहीं किया जा सकता है।

न्यू एज इस्लाम के स्थायी स्तंभकार जनाब गुलाम ग़ौस सिद्दीकी साहब लिखते हैं:

हालांकि, इस तरह की इस्तेलाह साज़ी हुक्मे इलाही को दबाने के लिए काफी नहीं है, खुद सोज़ी (ख़ुदकुशी) का जवाज़ किसी भी हालत में नहीं है। उन्हें (जिहादियों) को उन मुस्लिम विद्वानों की आलोचना के जवाब में कोई मजबूत तर्क लानी होगी, जिन्होंने केन्द्रीय धारे की मुस्लिम दुनिया को हर समय यह विश्वास दिलाया है कि आत्मघाती हमला हर स्थिति में निषेध है।

इसलिए शहादत ऑपरेशन के बयानिये के तहत कुरआन की निम्नलिखित आयतों का हवाला देते हुए वह यह बताना चाहते हैं कि कुरआन शहादत को स्वीकार और उसकी प्रशंसा करता है।

إِنَّ ٱللَّهَ ٱشْتَرَىٰ مِنَ ٱلْمُؤْمِنِينَ أَنفُسَهُمْ وَأَمْوَٰلَهُم بِأَنَّ لَهُمُ ٱلْجَنَّةَ ۚ يُقَـٰتِلُونَ فِى سَبِيلِ ٱللَّهِ فَيَقْتُلُونَ وَيُقْتَلُونَ ۖ وَعْدًا عَلَيْهِ حَقًّۭا فِى ٱلتَّوْرَىٰةِ وَٱلْإِنجِيلِ وَٱلْقُرْءَانِ ۚ وَمَنْ أَوْفَىٰ بِعَهْدِهِۦ مِنَ ٱللَّهِ ۚ فَٱسْتَبْشِرُوا۟ بِبَيْعِكُمُ ٱلَّذِى بَايَعْتُم بِهِۦ ۚ وَذَٰلِكَ هُوَ ٱلْفَوْزُ ٱلْعَظِيمُ (سورہ التوبہ، آیت نمبر ۱۱۱)

अनुवाद: इसमें तो शक़ ही नहीं कि ख़ुदा ने मोमिनीन से उनकी जानें और उनके माल इस बात पर ख़रीद लिए हैं कि (उनकी क़ीमत) उनके लिए जन्नत  है (इसी वजह से) ये लोग ख़ुदा की राह में लड़ते हैं तो (कुफ्फ़ार को) मारते हैं और ख़ुद (भी) मारे जाते हैं (ये) पक्का वायदा है (जिसका पूरा करना) ख़ुदा पर लाज़िम है और ऐसा पक्का है कि तौरैत और इन्जील और क़ुरान (सब) में (लिखा हुआ है) और अपने एहद का पूरा करने वाला ख़ुदा से बढ़कर कौन है तुम तो अपनी ख़रीद फरोख्त से जो तुमने ख़ुदा से की है खुशियाँ मनाओ यही तो बड़ी कामयाबी है।

وَ لَا تَقُوْلُوْا لِمَنْ یُّقْتَلُ فِیْ سَبِیْلِ اللّٰهِ اَمْوَاتٌؕ-بَلْ اَحْیَآءٌ وَّ لٰكِنْ لَّا تَشْعُرُوْنَ (سورہ البقرۃ آیت نمبر ۱۵۴)

अनुवाद: और जो लोग ख़ुदा की राह में मारे गए उन्हें कभी मुर्दा न कहना बल्कि वह लोग ज़िन्दा हैं मगर तुम उनकी ज़िन्दगी की हक़ीकत का कुछ भी शऊर नहीं रखते

शहीदों की प्रशंसा में कुरआन की इन आयतों के अलावा, जिहादियों ने हदीस की प्रसिद्ध किताबों जैसे सहीह बुखारी और सहीह मुस्लिम से कई हदीसों को भी उद्धृत किया। इसके अलावा, वे "अल्लाह के लिए" लड़ने में गर्व महसूस करते हैं।

यदि कोई व्यक्ति एकांत में मन की सच्ची शांति और इरफाने इलाही की तलाश में हो और फिर इस्लामी बयानिये और जिहादी बयानिये की तुलना करता है, तो सूरह अल-मायदा की आयत ३२ से चौंकाने वाली इस हकीकत का खुलासा होता है कि असली खुदा तो वह है जो इसे निर्दोष नागरिकों की बेरहम हत्या की अनुमति नहीं दे सकता। इसी से वह समझता है कि जिहादी खुदा के मुस्लिम और गैर-मुस्लिम दोनों प्राणियों को नष्ट करने में लगे हुए हैं, और यह कि जिहाद खुदा का मार्ग और खुदा की इच्छा नहीं है। इसलिए जिहादी मर रहे हैं और अल्लाह के रास्ते में नहीं बल्कि अल्लाह के आदेश का उल्लंघन कर मारे जा रहे हैं। सूरह अल-मायदा की आयत ३२ में, अल्लाह इंसानों को अन्याय से मारने से मना करता है।

अल्लाह पाक फरमाता है: مَنۡ قَتَلَ نَفۡسًۢا بِغَيۡرِ نَفۡسٍ اَوۡ فَسَادٍ فِى الۡاَرۡضِ فَكَاَنَّمَا قَتَلَ النَّاسَ جَمِيۡعًا

अनुवाद: जिसने किसी इंसान को खून के बदले के बिना या ज़मीन में फसाद (रोकने) के अलावा क़त्ल किया तो गोया उसने तमाम इंसानों को क़त्ल कर दिया

सवाल यह है कि शहादत के नाम पर निर्दोष नागरिकों की अन्यायपूर्ण हत्या को कैसे जायज ठहराया जा सकता है, जब उनके कार्यों को, यदि आत्मघाती हमला कहा जाए, तो इस्लाम में सख्त मनाही है। सिर्फ नाम बदलने से बुरे काम को अच्छा नहीं बनाया जा सकता। चाहे जिहादी अपने हमलों को आत्मघाती हमला कहें, आत्मघाती ऑपरेशन या शहादत का ऑपरेशन, उनका हमला इस्लाम का स्पष्ट उल्लंघन है। जिन कारणों से आत्मघाती हमलों को हराम घोषित किया जाता है, वे शहादत के अभियानों में भी पाए जाते हैं और इसलिए वे भी हराम हैं। सीधे शब्दों में कहें तो जिस तरह नाम बदलने से कोई चीज हराम या हलाल नहीं हो जाती, उसी तरह आत्मघाती हमले को शहादत की कार्रवाई कहना जायज नहीं है। "

एक अन्य लेख में, जनाब गुलाम गौस सिद्दीकी ने  विभिन्न कुरआन की आयतों और पैग़म्बर की हदीसों  के हवालों से  साबित कर दिया है कि किसी भी परिस्थिति में आत्मघाती हमले की अनुमति नहीं है, न तो जिहाद के दौरान और न ही युद्ध की रणनीति के रूप में। यह जिहादी विचारधारा का भी खंडन करता है जो कहती है कि एक आत्मघाती हमले या एक तथाकथित 'शहीद अभियान' को युद्ध की रणनीति के तहत उचित ठहराया जा सकता है। नीचे उनके लेख के कुछ अंश दिए गए हैं।

दूसरों को मारना या किसी भी कारण से आत्महत्या करना सख्त मना है, अल्लाह तआला कहता है:

ولا تقتلوا انفسكم (سورہ النساء، آیت نمبر۲۹)

अनुवाद: और खुद को कत्ल मत करो

ईमान वालों के लिए यह अल्लाह का आदेश है। यह बिल्कुल स्पष्ट है कि केवल आज्ञाकारी मोमिन ही इस आदेश को महत्वपूर्ण मानेंगे। केवल अवज्ञाकारी लोग ही खुद को मारेंगे। यह आयत सामान्य रूप से आत्मघाती हमलों का निषेध करता है। ऐसी किसी भी आत्मघाती बमबारी की अनुमति नहीं है।

सुरह निसा की आयत नंबर २९ की तफसीर में इमाम फखरुद्दीन राज़ी लिखते हैं:

इस आयत (वला तकतुलू अन्फुसकुम) से साबित होता है कि खुद को कत्ल करना या किसी दुसरे को नाहक कत्ल करना जायज नहीं है। (अल तफसीर अल कबीर लिल राज़ी, जिल्द नंबर १० पेज नंबर ५७)

सुरह निसा की आयत नंबर २९ में आत्मघाती हमले की मनाही है और ठीक दूसरी आयत में अर्थात आयत नंबर ३० में अल्लाह पाक आत्मघाती हमला करने वालों की सज़ा के लिए कानून बनाता है। अल्लाह पाक फरमाता है

وَمَنۡ يَّفۡعَلۡ ذٰ لِكَ عُدۡوَانًا وَّظُلۡمًا فَسَوۡفَ نُصۡلِيۡهِ نَارًا ؕ وَكَانَ ذٰ لِكَ عَلَى اللّٰهِ يَسِيۡرًا

और जो शख्स जोरो ज़ुल्म से नाहक़ ऐसा करेगा (ख़ुदकुशी करेगा) तो (याद रहे कि) हम बहुत जल्द उसको जहन्नुम की आग में झोंक देंगे यह ख़ुदा के लिये आसान है

उलमा और फुकहा का इस बात पर आम इत्तेफाक है कि अगर अल्लाह पाक का हुक्म उमूम पर दलालत करे तो इसकी तख्सीस बिना किसी सुबूत के जायज नहीं है। इसलिए, आइएसआइएस या किसी और आतंकवादी संगठन के लिए जायज नहीं है कि वह इस तरह के आत्मघाती हमले को जिहाद का नाम दे कर जायज़ ठहराए। इस आयत के आम इतलाक से वहाबियत से प्रभावित उन तमाम उलमा का रद्द हो जाता है जो कहते हैं कि कुछ हालात में जंगी हरबा के तौर पर आत्मघाती बम धमाके का इस्तेमाल जायज है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि आतंकवादी संगठनों के तथाकथित जिहाद का उद्देश्य मुसलमानों और गैर-मुसलमानों सहित नागरिकों को मारना है। आतंकवादी संगठन इस्लाम के साधारण संदेश को नहीं समझते हैं कि जिहाद बिल किताल की कुछ' शर्तें  हैं और यदि पार्टियां आपसी सहमति से शांति समझौते पर सहमत हों तो लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती। जिहादी कुरआन और हदीस के इस संदेश को नहीं समझते हैं कि शांति समझौते में किए गए वादे को तोड़ना इस्लाम में बहुत बड़ा पाप है। इसलिए आतंकवादी संगठनों को खुद को सुधारना चाहिए और स्वीकार करना चाहिए कि उनके तथाकथित जिहाद का कोई औचित्य नहीं है। एक और विचार करने वाली बात यह है कि अल्लाह ने आमतौर पर आत्महत्या पर रोक लगाई है। आत्मघाती हमलावरों की सजा नरक है। इसलिए जिहादी संगठन और ब्रेनवॉश किए गए युवाओं को बिना किसी विशेष तर्क के इसे कभी भी आवंतित त नहीं करना चाहिए।

एक दूसरी आयत में अल्लाह पाक फरमाता है:

وَ لَا تُلْقُوْا بِاَیْدِیْكُمْ اِلَى التَّهْلُكَةِ وَ اَحْسِنُوْا-اِنَّ اللّٰهَ یُحِبُّ الْمُحْسِنِیْنَ (سورہ البقرۃ، آیت نمبر۱۹۵)

अनुवाद: अपने हाथ जान हलाकत मे न डालो और नेकी करो बेशक ख़ुदा नेकी करने वालों को दोस्त रखता है।

फुकहा और मुफ़स्सेरीन का इस बात पर इत्तेफाक है कि इस आयत के नुज़ूल का संदर्भ अल्लाह के रास्ते में खर्च करना है। इसलिए उन्होंने इस आयत को तर्क के तौर पर इस बात को साबित करने के लिए भी नक़ल किया है कि खुद की जान लेना किसी भी तरह का आत्मघाती हमला करना निषेध है। उनके दावे की दलील यह है कि इस आयत में उल्लेखित तहलुकाका शब्द आम है, साथ ही आत्मघाती हमलों कि निषेधता के लिए उन्होंने सुरह निसा की आयत २९ और ३० को और कई हदीसों को भी नक़ल किया है।

इमाम बगवी सुरह निसा की आयत नंबर ३० की तफसीर में सुरह बकरा की आयत नंबर १९५ को नक़ल करते हुए लिखते हैं कि कहा जाता है इस आयत में उसने (अल्लाह) ने मुस्लिम का ज़िक्र किया है जो खुद को क़त्ल करता है। (तफसीर अल बगवी, जो  मआलिमुल तंजील के नाम से भी जाना जाता है, जिल्द १ पृष्ठ ४१८)

हाफ़िज़ इब्ने हजर अस्कलानी फरमाते हैं:

जहां तक सुरह बकरा की आयत १९५ को अल्लाह की राह में ना खर्च करने के सियाक  के साथ तख्सीस की बात है, इस पर मजीद बहस की जरूरत है क्योंकि इस हुक्म की बिना आम है। (फ़तहुल बारी, जिल्द8, पृष्ठ ११५)

इमाम शोकानी फरमाते हैं:

सुरह बकरा की आयत १९५ के मफहूम के बारे में उलमा ए मुतकद्देमीन की विभिन्न राय हैं। लेकिन सच तो यह है कि यह शब्द आम है, ख़ास नहीं। इसलिए वह सारी चीजें जो दुनयवी और मज़हबी लिहाज़ से तहलुकाअर्थात तबाही के दायरे में आती हैं इस शब्द के मफहूम में शामिल होगी। (तहलुका का ज़िक्र सुरह बकरा की आयत नंबर १९५ में आया है) इब्ने जरीर तबरी की भी यही राय है। (फ़तहुल कदीर, जिल्द १ पेज १९३)

इस्लामी फिकह के मशहूर اصول العبرۃ بعموم اللفظ لا بخصوص السبب को बुनियाद मान कर मैं यहाँ इस्लामी उलमा और फुकहा के नक़्शे कदम पर चलते हुए कहूंगा कि इस आयत में हर तरह की तबाही की निशेधता है जिसमें हर तरह के आत्मघाती हमले भी शामिल हैं।

तहलुका के आम मफहूम को समझने और सुरह बकरा की आयत १९५ की तफसीर सुरह निसा आयत २९ से कर लेने के बाद, ईमान वालों पर यह बात बिलकुल स्पष्ट हो जाती है कि आत्मघाती हमला हराम है। बहर हाल, अगर रेडीकल विचारों से किसी की इतनी ब्रेन वाशिंग कर दी गई है कि वह दोनों आयतों की सहीह तफसीर तक नहीं पहुंच पा रहा है और शक व शुबहे का शिकार है, तो हम उसकी दिमाग की पाकीजगी के लिए अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की इन विभिन्न हदीसों का ज़िक्र करना चाहेंगे जिनमें किसी भी तरह के आत्मघाती हमले की मनाही है।

नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम फरमाते हैं:

من تردى من جبل فقتل نفسه فهو في نار جهنم، يتردى فيه خالدا مخلدا فيها ابدا، و من تحسى سما فقتل نفسه فسمه في يده يتحساه في نار جهنم خالدا مخلدا فيها ابدا، ومن قتل نفسه بحديدة فحديدته في يده يجا بها في بطنه في نار جهنم خالدا مخلدا فيها ابدا (صحیح البخاری، کتاب الطب، بَابُ شُرْبِ السُّمِّ، وَالدَّوَاءِ بِهِ، وَبِمَا يُخَافُ مِنْهُ)

जिसने पहाड़ से अपने आपको गिरा कर आत्महत्या कर ली वह जहन्नम की आग में होगा और उसमें हमेशा पड़ा रहेगा और जिसने ज़हर पी कर आत्महत्या कर ली वह उसके साथ में होगा और जहन्नम की आग में वह उसे उसी तरह हमेशा पीता रहेगा और जिसने लोहे के किसी हथियार से आत्महत्या कर ली तो उसका हथियार उसके साथ में होगा और जहन्नम की आग में हमेशा के लिए वह इसे अपने पेट में मारता रहेगा।

अबू हुरैरा रज़ीअल्लाहु अन्हु फरमाते हैं कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया:

الذي يخنق نفسه يخنقها في النار، والذي يطعنها يطعنها في النار (صحیح البخاری، کتاب الجنائز، بَابُ مَا جَاءَ فِي قَاتِلِ النَّفْسِ)

जो व्यक्ति खुद अपना गला घोंट कर जान दे डालता है वह जहन्नम में भी अपना गला घोंटता रहेगा और जो बरछे या तीर से अपने आप को मारे वह दोजख में भी इस तरह अपने आपको मारता रहेगा।

एक दूसरी रिवायत है कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया:

من حلف بملة غير الإسلام كاذبا فهو كما قال، ومن قتل نفسه بشيء عذب به في نار جهنم، ولعن المؤمن كقتله، ومن رمى مؤمنا بكفر فهو كقتله۔ (صحیح البخاری، کتاب الادب، بَابُ مَنْ كَفَّرَ أَخَاهُ بِغَيْرِ تَأْوِيلٍ فَهْوَ كَمَا قَالَ)

जिसने इस्लाम के सिवा किसी और धर्म की झूठी कसम खाई तो वह वैसा ही हो जाता है, जिसकी उसने कसम खाई है और जिसने किसी चीज से आत्महत्या कर ली तो उसे जहन्नम में उसी से अज़ाब दिया जाएगा और मोमिन पर लानत भेजना उसे कत्ल करने के बराबर है और जिसने किसी मोमिन पर कुफ्र की तोहमत लगाई तो यह उसके कत्ल के बराबर है।

आत्मघाती हमलों की दावत देने वाले रहनुमाओं की इताअत निषेध है, सुबूत के लिए हदीस पेश है:

ان رسول الله صلى الله عليه وسلم بعث جيشا وامر عليهم رجلا، فاوقد نارا، وقال: ادخلوها فاراد ناس ان يدخلوها، وقال الآخرون: إنا قد فررنا منها، فذكر ذلك لرسول الله صلى الله عليه وسلم، فقال: للذين ارادوا ان يدخلوها لو دخلتموها لم تزالوا فيها إلى يوم القيامة، وقال للآخرين: قولا حسنا، وقال: لا طاعة في معصية الله إنما الطاعة في المعروف۔ (صحیح مسلم، کتاب الامارۃ، باب وُجُوبِ طَاعَةِ الأُمَرَاءِ فِي غَيْرِ مَعْصِيَةٍ وَتَحْرِيمِهَا فِي الْمَعْصِيَةِ، यह हदीस बुखारी में भी है)

अनुवाद:

नबी सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने एक सेना भेजी और उस पर हाकिम किया एक व्यक्ति को। उसने आग लगा दी और लोगों को उसमें प्रवेश करने के लिए कहा। कोई उसमें घुसना चाहता था, तो कोई कहता था कि हम अंगारे से भागे और मुसलमान हो गए और नर्क के डर से कुफ़्र छोड़ दिया और अब फिर अंगारों में प्रवेश करे, यह हमसे नहीं होगा। फिर पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम के सामने इसका उल्लेख किया गया। पैगंबर सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम ने उन लोगों से कहा जो प्रवेश करना चाहते थे: अगर तुम घुस जाते तो हमेशा उसी में रहते कयामत तक। (क्योंकि यह आत्महत्या है और वह शरीअत में हराम है) और जो लोग घुसने पर राज़ी ना हुए उनकी प्रशंसा की और फरमाया: अल्लाह की नाफरमानी में किसी की इताअत नहीं बल्कि इताअत उसी में है जो दस्तूर की बात हो।

शब्दों के थोड़े फेर बदल के साथ यही रिवायत हदीस की कई किताबों में दर्ज है। जैसे कि सुनन निसाई, किताबुल बैअ, बाब जज़ाइ मन उमिरा बी मासियती फअताआ में यह हदीस मौजूद है और इसी तरह यह हदीस सुनन अबी दाउद किताबुल जिहाद, बाब फिल इताआ में भी है।

इस हदीस के अनुसार, रहनुमाओं की इताअत केवल अच्छी चीजों में होनी चाहिए, आत्मघाती हमले जैसी बुरी चीजों में नहीं। आत्मघाती हमला करने वालों पर जन्नत हराम है।

जुन्दुब इब्ने अब्दुल्लाह रज़ीअल्लाहु अन्हु से नकल है, वह कहते हैं कि अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने इरशाद फरमाया।

كان فيمن كان قبلكم رجل به جرح فجزع فاخذ سكينا فحز بها يده فما رقا الدم حتى مات، قال الله تعالى بادرني عبدي بنفسه حرمت عليه الجنة۔

 (صحیح البخاری، کتاب احادیث الانبیاء، باب بَابُ مَا ذُكِرَ عَنْ بَنِي إِسْرَائِيلَ، صحیح مسلم، کتاب الایمان، باب غِلَظِ تَحْرِيمِ قَتْلِ الإِنْسَانِ نَفْسَهُ وَإِنَّ مَنْ قَتَلَ نَفْسَهُ بِشَيْءٍ عُذِّبَ بِهِ فِي النَّارِ وَأَنَّهُ لاَ يَدْخُلُ الْجَنَّةَ إِلاَّ نَفْسٌ مسْلِمَةٌ अर्थात आत्महत्या करने की सख्त हुरमत का बयान, और जो शख्स आत्महत्या करेगा उसको आग का अजाब दिया जाएगा, और जन्नत में केवल मुसलमान ही दाखिल होगा)

अनुवाद:

पिछले जमाने में एक व्यक्ति (के हाथ में) घाव हो गया था और उसे इससे बड़ी तकलीफ थी, आखिर उसने छुरी से अपना हाथ काट लिया और इसका नतीजा यह हुआ कि खून बहने लगा और इसी से वह मर गया फिर अल्लाह पाक ने फरमाया कि मेरे बन्दे ने खुद मेरे पास आने में जल्दी की इसलिये मैंने भी जन्नत को उस पर हराम कर दिया।

कुरआन व हदीस के अनुसार आत्मघाती हमले की मनाही का आदेश आम है। आइएसआइएस के लड़ाके और दुसरे आतंकवादी संगठन तथाकथित और शहादत के नाम पर आत्मघाती हमले को जायज करार दे कर युवाओं को ब्रेन वाश करते हैं। बखुदा वह लोग निम्नलिखित हदीसों को तोड़ मरोड़ कर पेश कर रहे हैं और उनसे बच रहे हैं जिनमें वास्तविक जिहाद अर्थात रक्षात्मक जिहाद के दौरान भी आत्महत्या से मना किया गया है, चाहे वह आज कल लड़ी जा रही तथाकथित जिहाद।

हज़रत सहल से रिवायत है वह फरमाते हैं:

التقى النبي صلى الله عليه وسلم والمشركون في بعض مغازيه فاقتتلوا، فمال كل قوم إلى عسكرهم، وفي المسلمين رجل لا يدع من المشركين شاذة ولا فاذة إلا اتبعها فضربها بسيفه، فقيل: يا رسول الله، ما اجزا احد ما اجزا فلان، فقال:" إنه من اهل النار، فقالوا: اينا من اهل الجنة إن كان هذا من اهل النار؟، فقال رجل من القوم: لاتبعنه، فإذا اسرع وابطا كنت معه، حتى جرح فاستعجل الموت، فوضع نصاب سيفه بالارض وذبابه بين ثدييه، ثم تحامل عليه، فقتل نفسه، فجاء الرجل إلى النبي صلى الله عليه وسلم فقال: اشهد انك رسول الله، فقال:" وما ذاك؟"، فاخبره، فقال:" إن الرجل ليعمل بعمل اهل الجنة فيما يبدو للناس وإنه لمن اهل النار، ويعمل بعمل اهل النار فيما يبدو للناس وهو من اهل الجنة۔ (صحیح البخاری، کتاب المغازی، باب بَابُ غَزْوَةُ خَيْبَرَ، صحیح مسلم، کتاب الایمان، باب غِلَظِ تَحْرِيمِ قَتْلِ الإِنْسَانِ نَفْسَهُ وَإِنَّ مَنْ قَتَلَ نَفْسَهُ بِشَيْءٍ عُذِّبَ بِهِ فِي النَّارِ وَأَنَّهُ لاَ يَدْخُلُ الْجَنَّةَ إِلاَّ نَفْسٌ مُسْلِمَةٌ)

एक गजवा (खैबर) में नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम और मुशरेकीन का मुकाबला हुआ और खूब जम कर जंग हुई आखिर दोनों लश्कर अपने अपने खेमों की तरफ वापिस हुए और मुसलमानों में एक आदमी था जिन्हें मुशरेकीन की तरफ का कोई शख्स कहीं मिल जाता तो उसका पीछा कर के क़त्ल किये बिना वह न रहते। कहा गया कि या रसूलुल्लाह! जितनी बहादुरी से आज फला शख्स लड़ा हैउतनी बहादुरी से तो कोई कोई न लड़ा होगा। नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि वह अहले दोज़ख में से है। सहाबा रज़ीअल्लाहु अन्हुम ने कहाअगर यह भी दोजखी है तो फिर हम जैसे लोग किस तरह जन्नत वाले हो सकते हैं? इस पर एक सहाबी बोले कि मैं उनके पीछे पीछे रहूंगा। इसलिए जब वह दौड़ते या धीरे चलते तो मैं उनके साथ साथ होता। आखिर वह ज़ख्मी हुए और चाहा कि मौत जल्द आ जाए। इसलिए वह तलवार का कब्ज़ा ज़मीन में गाड़ कर उसकी नोक सीने के मुक़ाबिल कर के उस पर गिर पड़े। इस तरह से उसने आत्महत्या कर ली। अब वह सहाबी रसूलुल्लाह सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की खिदमत में हाज़िर हुए और कहा कि मैं गवाही देता हूँ कि आप अल्लाह के रसूल हैं। आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने पुछा कि क्या बात है? उन्होंने तफसील बताई तो आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि एक शख्स बजाहिर जन्नतियों जैसे अमल करता रहता है हालांकि वह अहले दोज़ख में से होता है। इसी तरह एक दुसरा शख्स बजाहिर दोजखियों के से अमल करता रहता है हालांकि वह जन्नती होता है।

कुछ वहाबी-प्रभावित मौलवी कुछ मामलों में एक रणनीति के रूप में आत्मघाती बम विस्फोटों के औचित्य का समर्थन करते हैं। यह पूरी तरह से इस्लाम की भावना के विपरीत है। सूरह अल-बकरा की आयत १९५ और हज़रत सहल की हदीस का सामान्य अनुप्रयोग वहाबी के दृष्टिकोण का खंडन करता है कि कुछ मामलों में आत्मघाती बमबारी की अनुमति है। सूरह अल-बकराह की आयत १९५ के अनुसार, जब आत्मघाती हमला सभी परिस्थितियों में हराम है, और इसी तरह, उपर्युक्त हदीस के अनुसार, जब जिहाद के दौरान आत्मघाती हमला भी निषिद्ध है, तो फ़ित्ना की स्थिति में इसकी अनुमति कैसे हो सकती है? कुरआन और हदीस दोनों बताते हैं कि सभी परिस्थितियों में आत्मघाती हमलों की मनाही है, लेकिन वहाबवाद कुछ परिस्थितियों में इसकी अनुमति देता है। इस तरह वहाबी अल्लाह की हदों को लांघ रहे हैं और क़ुरआन के संदेश को भूल गए हैं कि إن الله لا يحب المعتدين (سورہ البقرہ، آیت نمبر۱۹۰) अल्लाह हद से आगे बढ़ने वालों को पसंद नहीं करता। अब मुस्लिम बुद्धिजीवियों, उलमा और विद्वानों के लिए इस्लाम के स्पष्ट संदेश को फैलाने का समय है कि आत्मघाती बमबारी सभी परिस्थितियों में हराम है, और कुछ परिस्थितियों में इसे उचित नहीं ठहराया जा सकता है, यदि ऐसा नहीं किया जाता है, तो आतंकवाद   आत्महत्या करते रहेंगे  और भोले भाले लोगों को बहला कर निर्दोष लोगों की जान लेते रहेंगे।

एक रिवायत में आता है कि नबी करीम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने आत्महत्या करने वाले शख्स के  जनाज़े की नमाज़ नहीं पढ़ी।

हज़रत जाबिर बिन समरा रज़ीअल्लाहु अन्हु बयान करते हैं:

أُتِيَ النَّبِيُّ صلی الله علیه وآله وسلم بِرَجُلٍ قَتَلَ نَفْسَهُ بِمَشَاقِصَ، فَلَمْ يُصَلِّ عَلَيْهِ (صحیح مسلم، كتاب الجنائز، باب ترك الصلاة على القاتل نفسه)

अनुवाद: नबी अकरम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के सामने एक शख्स लाया गया जिसने अपने आप को एक तीर से हलाक कर लिया था, आप सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने उसकी जनाज़े की नमाज़ नहीं पढ़ी।

उपरोक्त आयतों और कई हदीसों के विश्लेषण से यह स्पष्ट हो जाता है कि इस्तांबुल के अतातुर्क हवाई अड्डे और बगदाद, या पूरे इराक या दुनिया में कहीं भी आतंकवादियों द्वारा किए गए आत्मघाती हमले या बम विस्फोट इस्लाम विरोधी हैं।आइएसआइएस के आत्मघाती हमलावर हमेशा के लिए नर्क में रहेंगे। इसलिए, एक सच्चा मुसलमान जिसे ईश्वर के वचन के बारे में कोई संदेह नहीं है और जो हदीस को सनद के रूप में स्वीकार करता है, वह आत्मघाती हमलों को कभी भी उचित नहीं ठहरा सकता है। एक मुसलमान जिसने अल्लाह और उसके रसूल के प्यार का स्वाद चखा है, वह आत्महत्या को हराम मानेगा। एक सच्चा मुसलमान जो जीवन की नेमत के लिए अल्लाह का शुक्रगुजार है, वह एक झटके में खुद को नष्ट नहीं कर सकता। वह आत्मघाती हमलों के लिए दूसरे मुसलमान का ब्रेनवॉश कभी नहीं कर सकता। यदि वह इस हराम कृत्य को करता है, तो वह नर्क के योग्य होगा और परलोक में वह हर उस रास्ते से वंचित हो जाएगा जो अल्लाह और उसके प्यारे पैगंबरसल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की निकटता की ओर ले जाता है।

उपरोक्त तर्क आत्मघाती हमलों या 'शहीद अभियानों' को सही ठहराने वाले जिहादी बयान का खंडन करते हैं। वर्तमान जिहादी इंगमास पर आत्मघाती कार्रवाई पर अटकलें लगाते हैं और दावा करते हैं कि आत्मघाती हमलों की वैधता को क्लासिकी उलमा और फुकहा का समर्थन प्राप्त है, क्योंकि क्लासिकी उलमा इंगमासको सही ठहराते हैं। इंगमास का अर्थ है जोखिम उठाना और दुश्मन की रैंक में शामिल होना, इस तरह से कि बचने की संभावना बहुत कम हो। जिहादियों की अटकलें  कयास मअल फारुक हैं जो इस्लामी फिकह में अमान्य हैं।

हम देख सकते हैं कि आत्महत्या की अवधारणा और इंगमास की क्लासिक अवधारणा के बीच एक बड़ा अंतर है। इंगमासकी क्लासिक अवधारणा के अनुसार, जो जोखिम लेता है और दुश्मन के रैंक में प्रवेश करता है, जिसे इंगमासी कहा जा सकता है, दुश्मन के हथियार से मारा जाता है, जबकि जिहादी आत्मघाती ऑपरेशन में, हमलावर जानबूझकर खुद अपने ही हथियार से खुद को मारता है। इंगमासतब किया जाता है जब कोई वास्तविक युद्ध चल रहा हो। लेकिन जिहादी आत्मघाती अभियान युद्ध के दौरान जरूरी नहीं है, क्योंकि जिहादी विवादित क्षेत्र के बाहर आत्मघाती हमले कर रहे हैं, जैसा कि 9/11 के हमलों के मामले में हुआ था। इंगमास में मृत्यु का उच्च जोखिम है लेकिन बचने की उम्मीद है, जबकि आत्मघाती हमलावर के हमले में जीवित रहने का एक भी उदाहरण नहीं है। इतने सारे मतभेदों के साथ, अटकलों को आत्मघाती जिहादी ऑपरेशन को सही ठहराने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता। यह कयास मअल फारिक है (कयास की ऐसी हालत जिसमे कयास को कुबूल नहीं किया जा सकता ) है।

उपरोक्त चर्चा से, यह निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि जिहादियों का दावा है कि आत्मघाती अभियान या तथाकथित शहादत अभियान इस्लाम की क्लासिकी व्याख्या द्वारा समर्थित है, मुख्यधारा के मुसलमानों के बीच लोकप्रियता हासिल करने के लिए गढ़ा गया एक झूठा प्रचार है क्योंकि उन्होंने जिहादीयत को शुरू से ही नकार दिया। यदि जिहादी अपने आत्मघाती हमलों के लिए इस्लामी औचित्य प्रदान नहीं कर सकते हैं, तो इस्लामोफोबिया वाले लोगों को भी जिहादीयत को इस्लाम की क्लासिकी व्याख्याओं से नहीं जोड़ना चाहिए।

-------------

Related Article:

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 1- On the Hakimiyyah اسلاموفوبز کا دعوی کہ جہادزم اسلام کی روایتی تشریحات کی ترجمان ہے کا رد بلیغ، قسط اول مسئلہ حاکمیت پر

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 اسلامو فوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے

Refuting Islamophobic Claims: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، قسط ثالث: ملک سے غداری کے لئے ورغلانے والے جہادی بیانیہ کا بطلان

Refuting Islamophobic Claim - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations اسلاموفوبک دعوے کا رد کہ جہادیت ہی اسلام کی روایتی تشریحات کا ترجمان ہے، قسط رابع: خودکش بم دھماکوں یا شہادت آپریشن کو جائز قرار دینے والے جہادی بیانیہ کا بطلان

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 1- On the Hakimiyyah

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 on Imperativeness of Reclaiming ‘Muslim Land’

Refuting Islamophobic Claims That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam - Part 4 on the Jihadist Narrative Justifying Suicide Bombings or Martyrdom Operations

Refuting Islamophobic Claims इस्लामोफोब्ज़ का दावा कि जिहादिस्ट इस्लाम की रिवायती तशरीहात की तर्जुमान है का रद्दे बलीग़क़िस्त १: मसला हाकिमियत

Refuting Islamophobic Claim That Jihadists Represent Traditional and Mainstream Interpretations of Islam: Part 2 इस्लामोफोबिया और जिहादिज्म का रद्द: कभी मुस्लिम सरज़मीन रहे इलाके को दुबारा हासिल करना लाज़िम या नहीं?

Refuting Islamophobic Claims: Part 3 on the Jihadist Narrative Inciting Treachery towards One’s Country इस्लामोफोबिक दावे का खंडन कि जिहादियत ही इस्लाम की पारंपरिक व्याख्याओं का प्रवक्ता है, तीसरी क़िस्त: देश से गद्दारी के लिए बहकाने वाले जिहादी बयानिये की अमान्यता

URL: https://www.newageislam.com/hindi-section/-refuting-islamophobic-claim-jihadist-part-4/d/125070

New Age IslamIslam OnlineIslamic WebsiteAfrican Muslim NewsArab World NewsSouth Asia NewsIndian Muslim NewsWorld Muslim NewsWomen in IslamIslamic FeminismArab WomenWomen In ArabIslamophobia in AmericaMuslim Women in WestIslam Women and Feminism


Loading..

Loading..