certifired_img

Books and Documents

Hindi Section

लेकिन वह ऐसा हरगिज़ नहीं कर सकते कि लोगों के सामने दीन की सही तस्वीर पेश कर दें कि इससे उनके हितों पर ज़द लगने लगे गी और जंग व जिदाल और क़त्ल व किताल पर आधारित उनका पूरा कारोबार ख़त्म हो जाएगाl.......

 

पवित्र कुरआन की उल्लेखित आयतों और हदीसों के इतने उल्लेख से अब इस बात में कोई शक बाकी नहीं रहता कि गुनाहों से निजात हासिल करने के लिए अब हमारे पास सच्चे दिल से अल्लाह की बारगाह में तौबा करने के अलावा और कोई रास्ता नहीं हैl.......

 

शैख़ यूसुफ अल अबीरी के इन कलिमात को आतंकवाद का ज़हर मैंने इसलिए कहा क्योंकि उन्होंने अपने उपर्युक्त बयान में बे दरेग कत्ल की हिमायत की है और एक ऐसे नरसंहार का समर्थन इस्लाम और पैगंबर ए इस्लाम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के हवाले से पेश करने की कोशिश की हैl.........

 

मौलाना तौकीर रज़ा: तो सुनिए तलाक़ ए बिदअत पर उन्होंने बिल बनाया है तलाक़ ए अहसन और तलाक़ ए हसन पर नहीं बनाया है तलाक़ ए बिदअत जो नशे में और गुस्से में होती है और ऐसी तलाक़ पर हुजुर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने भी नागवारी का इज़हार फरमाया था और हज़रत उमर के ज़माने में ऐसी तलाक़ पर कोड़े भी लगाए गए थे l........

 

कुरआन और सुन्नत ने खूँ रेज़ी को सख्ती से निषेध करार दिया हैl और जहां कहीं भी जंग की अनुमति दी गई वहाँ भी असल में मानवता की सुरक्षा ही मद्देनजर रहीl कुरआन पाक सरीह शब्दों में यह एलान करता है कि जिसने किसी एक जान को क़त्ल किया ना जान के बदले ना ज़मीन पर किसी आपराधिक कार्य के आधार पर तो गोया उसने पूरी इंसानियत का कत्ल कर दिया (अल मायदा).......

 

अक्टूबर १९४७ ई० में कश्मीर के महाराजा को कश्मीर का भारत से सहबद्ध करना पड़ा था वहाँ की जनता तीन वर्गों में बट गईl एक वर्ग आज़ाद राज्य, दोसरा वर्ग पाकिस्तान के साथ एकीकरण और तीसरा वर्ग भारत के साथ सहबद्धता का इच्छुक थाl

 

अल्लाह ने हज़रत ईसा अलैहिस्सलाम को शिफा याबी की ताकत अता की थीl इसलिए, अगर कोई बीमार शख्स उनके पास शिफा याबी के लिए आया तो क्या यह “शिर्क” हुआ? बेशक नहीं\, ख़ास तौर पर जब आने वाले को इस बात का शउर है कि शिफा की ताकत हज़रात ईसा अलैहिस्सलाम को अल्लाह ने अता की हैl

 

कुरआन में मुसलमानों को दीन के प्रचार और इसके अस्तित्व के लिए मेहनत करने और कुर्बानी पेश करने की तलकीन की है और इसके लिए बड़े बदले की बशारत दी हैl मुसलमानों को दीन के प्रचार प्रसार और तौहीद के संदेश को जनता तक पहुंचाने के लिए हर तरह से मेहनत और संघर्ष करने की हिदायत दी हैl

 

कुरआन और दोसरे सभी आसमानी सहिफों में खुदा को निरंकार, बेमाहीत और लतीफ कहा गया हैl उसकी ज़ात को ना देखा जा सकता है, ना अंदाजा किया जा सकता है और ना उसे अक्ल पा सकती हैl उसे किसी भी माद्दी सूरत से पहचाना नहीं जा सकताl मगर इसके साथ ही साथ कुरआन यह भी कहता है कि वह सुनने, देखने, तदबीर करने और तखलीक करने और तबाह करने की सलाहियत रखता हैl

 

कुछ मुफ़स्सेरीन इस आयत (८५:१०) की तफ़सीर में फरमाते हैं कि यहाँ फितने में मुब्तिला करने से आग में जलाना भी मुराद लिया गया हैl मुफ़स्सेरीन के इस अर्थ की रू से देखा जाए तो मौजूदा दौर में होने वाले खुद काश हमलों, बम धमाकों, और बारूद से आम नागरिकों को जला कर मार देने वाले फितना परवर लोग अज़ाब के हकदार हैंl

 

डॉक्टर ज़वाहिरी, आपने कुरआन की एक विशिष्ट संदर्भ वाली आयत का हवाला देकर मुसलमानों को गुमराह करने की कोशिश की है, और एक ऐसी कुरआनी हिदायत में विस्तार पैदा करने की कोशिश की है जो स्पष्ट रूप से उस एक ख़ास जमात के हक़ में नाज़िल हुई थी जो इस्लाम के पैगम्बर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के साथ जंग के लिए तैयार थीl पिछले पांच छः सौ सालों से अनेकों उलेमा यही कहते हुए आए हैं कि इन आयतों को उसी संदर्भ में देखा जाना चाहिए जिसमें उनका नुज़ूल हुआ थाl

 

खुदा ने मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की उम्मत के लिए यह भी फर्ज़ कर दिया है कि वह हज़रत मोहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम पर दरूद व सलाम कसरत से भेजते रहेंl दरूद व सलाम भेजना अफज़ल इबादत भी हैl दरूद व सलाम के बड़े सवाब की वजह से खुद हुज़ूर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम अपने सहाबा से दरूद व सलाम की ताकीद करते थेl खुदा इस बात का आदेश इस आयत में देता है-

 

गायकार सोनू निगम ने कुछ समय पहले माइक पर अज़ान की आलोचना की थी तो मुसलमानों ने इसे असहिष्णु और संकीर्ण मानसिकता करार दिया था मगर अब कलकत्ता की एक मुस्लिम शख्सियत ने अज़ान की आलोचना कर के एक विवाद खड़ा कर दिया है और खुद मुसलमान ही बगलें झाँक रहे हैं और इस मामले को दबाने की कोशिश कर रहे हैंl घटना यह है कि २ जुलाई को कलकत्ता के मिल्ली अल अमीन कॉलेज में उलेमा, बुद्धिजीवियों और मिल्ली संगठनों के नेताओं की एक मुशावरती मीटिंग मिल्लत ए इस्लामिया के सामने मॉब लिंचिंग और दोसरे समस्याओं पर गौर करने के लिए बुलाई गई थीl

 

कुरआन के नाज़िल होने और हुजुर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के भेजे जाने का उद्देश्य यही है कि इंसान के दुनियावी मामले बेहतर हो जाएं चाहे वह मामले ज़ाती हों, समाजी हों, पारिवारिक हों, वैवाहिक हों, व्यक्तिगत हों चाहे क्षेत्रीय या वैश्विक होंl असल उद्देश्य यह है कि इंसान की शख्सियत संवर जाए और इसकी सारी ताकत आख़िरत को बेहतर बनाने में खर्च होl

 

मज़हब पुर्णतः प्रकृति के खिलाफ साबित हुआ है इसलिए कि हर मज़हबी हुक्म या कानून उस चीज को खत्म करता है जिससे इंसान को लज्ज़त मिलती है और हर उस बात से परहेज़ करने का आदेश देता है जो खुद के हक़ में या समाज के हक़ में हानिकारक है, और बड़े पैमाने पर समाज की भलाई के लिए ऐसे कामों का आदेश देता है जो तकलीफदेह या नागवार हो सकते हैंl

 

बेशक हमारा प्यारा वतन एक महान देश हैl पूरी दुनिया में यहाँ की सभ्यता व संस्कृति ज्ञान व कला की प्राचीन काल में भी शोहरत व अज़मत थी और आज भी उन्हीं विशेषताओं के लिए जाना जाता हैl वर्तमान काल में विज्ञान और तकनीक ने और इस देश को उंचाई के शिखर तक पहुंचा दिया हैl इसके साथ साथ लोकतांत्रिक भारत के आंदोलन का इतिहास भी एक ऐसी रचनात्मक उदाहरण है जहां विभिन्न धर्मों और भाषाओं से संबंध रखने वाले शांति और अमन व सलामती के साथ रहते हैंl

 

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार काउंसिल ने पिछले मार्च एक प्रस्ताव स्वीकार किया था जिसे इस्लामी देशों की तरफ से पाकिस्तान ने पेश किया था जिसके अनुसार “धर्म का अपमान” को मानवाधिकारों की खिलाफवर्जी स्वीकार किया गया थाl ५६ देशों पर आधारित और्गिनाइज़ेश्न आफ इस्लामिक कांफ्रेंस का नेतृत्व करते हुए पाकिस्तान ने कहा था कि “इस्लाम को हमेशा गलत तौर पर मानवाधिकार की खिलाफवर्जी और आतंकवाद के साथ जोड़ा जाता हैl इसने राज्यों से ऐसे लोगों पर पकड़ मजबूत करने का मुतालबा किया था जो नस्लीय और मज़हबी अल्पसंख्यकों के लिए असहिष्णुता का प्रदर्शन करते हैं और यह भी कहा था कि “सहिष्णुता और सभी दीनों व मजहबों के सम्मान को बढ़ावा देने के लिए सभी संभव कदम उठाए जाएंl

 

श्री राम कृष्ण को वेदांत में ही बुत परस्ती का जवाज़ नज़र आयाl हिन्दुओं के दोसरे बड़े धार्मिक आलिमों और रूहानी पेशवाओं ने भी बुत परस्ती को सहीह ठहरायाl इसलिए बुतपरस्ती हिन्दुओं में रिवाज पा गईl उनका विश्वास था कि बुतों पर इर्तेकाज़ के माध्यम से नए मुर्ताज़ को निर्गुण ब्राह्मण की पहचान हासिल करने में मदद मिलती है और वह आगे चल कर गुणों से खाली वास्तविक माबूद की पहचान हासिल करने में सफल हो जाते हैंl

 

जीव विज्ञान के विशेषज्ञों ने लम्बे अध्ययन और अवलोकन के बाद जानवरों के प्राकृतिक आदतों का उसी प्रकार निर्धारण किया है जैसे मनोविज्ञान के विशषज्ञों ने इंसानों के आंतरिक और सामाजिक व्यवहारों काl भेड़िया कुत्ते की नस्ल का शिकारी जानवर है लेकिन पालतू नहीं है अर्थात उसे कुत्ते की तरह पालतू नहीं बनाया जा सकता हैl आश्चर्यजनक बात है कि नस्ली विकास और शारीरिक गुणों में कुत्ते से अच्छे होते हुए भी भेड़िया कुत्ते की तरह बहादुर नहीं होताl

 

मॉब लिंचिंग या आतंकवाद की वबा सार्व देश में फूट पड़ी हैल इसके बारे में मुसलमानों की चिंता और फिक्रमंदी स्वभाविक बात हैl क्योंकि उन पर नाहक हमले किसी ना किसी बहाने से किये जा रहे हैंl आज कल ‘जय श्री राम’ के ना बोलने से मुसलमानों पर हमले एक के बाद एक किये जा रहे हैंल जहां जहां संघ परिवार की हुकूमतें हैं वहाँ हमला करने वालों की सराहना हो रही हैl अपराधियों को गले लगाया जा रहा है और फूलों का हार पहना कर स्वागत किया जा रहा है l

 

ऑक्सफोर्ड डिक्शनरी में शब्द टेररिज्म के यह अर्थ दर्ज हैं कि राजनीतिक उद्देश्यों के प्राप्ति या किसी चयनित या अचयनित सरकार को किसी काम पर मजबूर करने के लिए हिंसक कार्यों के प्रयोग को टेररिज्म कहा जाता हैl शब्द आतंकवाद को इस्लाम और मुसलामानों के साथ जोड़ने का खेल वैश्विक षड्यंत्र का हिस्सा हैl जिसका खाका बनाने और व्यावहारिक उपाय में लाने में इस्लाम दुश्मन तत्व यहूदियत ही हैl

 

पिछले कुछ दिनों से एक बार फिर मॉब लिंचिंग की वारदात में वृद्धि हुई है और देश के विभिन्न क्षेत्रों में मॉब लिंचिंग की वारदातें सामने आ रही हैंल अभी हाल ही में झारखंड राज्य के सराए केला जिले के खरसावाँ में तबरेज़ अंसारी के साथ मॉब लिंचिंग की गह्तना सामने आई, लोगों ने उसे पीट-पीट कर मौत के घात उतार दिया l

 

हज़रत अबू हुरैरा (रज़ीअल्लाहु अन्हु) से मरवी है कि रसूलुल्लाह (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फरमाया जिस व्यक्ति ने किसी मुसलमान के क़त्ल में आधे शब्द के साथ भी मदद की तो वह कयामत के दिन अल्लाह पाक से इस हाल में मुलाक़ात करेगा कि उसकी पेशानी पर लिखा हुआ होगा अल्लाह की रहमत से मायूसl

 

तसव्वुफ़ कोई बिदअत नहीं जैसा कि कुछ विरोधी तसव्वुफ़ प्रोपेगेंडा करते रहते हैंl तसव्वुफ़ असल में शरीअत के बताए हुए सिद्धांतों पर अल्लाह पाक से संबंध करने का नाम हैl तसव्वुफ़ दिल की निगहबानी का दोसरा नाम है क्योंकि इंसान बज़ाहिर जिस्म और नफ्स का नाम है मगर असल में, दिल का नाम है और अगर दिल मुसलमान ना हो सका तो रुकूअ व सुजूद या जुबान से खुदा का इकरार, दोनों निरर्थ हैंl

 

क़ाज़ी नुरुल इस्लाम शुरू से ही वैष्णो धर्म से प्रभावित हो कर उन्होंने वैष्णो धर्म स्वीकार कर लिया और मुर्शिदाबाद के राधा घात आश्रम के नेताई खेपा की मुरीदी विकल्प की और संन्यास ले लियाl उनका नाम राधामोए गोस्वामी रखा गयाl

1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 ... 55 56 57


Get New Age Islam in Your Inbox
E-mail:
Most Popular Articles
Videos

The Reality of Pakistani Propaganda of Ghazwa e Hind and Composite Culture of IndiaPLAY 

Global Terrorism and Islam; M J Akbar provides The Indian PerspectivePLAY 

Shaukat Kashmiri speaks to New Age Islam TV on impact of Sufi IslamPLAY 

Petrodollar Islam, Salafi Islam, Wahhabi Islam in Pakistani SocietyPLAY 

Dr. Muhammad Hanif Khan Shastri Speaks on Unity of God in Islam and HinduismPLAY 

Indian Muslims Oppose Wahhabi Extremism: A NewAgeIslam TV Report- 8PLAY 

NewAgeIslam, Editor Sultan Shahin speaks on the Taliban and radical IslamPLAY 

Reality of Islamic Terrorism or Extremism by Dr. Tahirul QadriPLAY 

Sultan Shahin, Editor, NewAgeIslam speaks at UNHRC: Islam and Religious MinoritiesPLAY 

NEW COMMENTS

  • Excellent speech! The urgency of social reform and political liberalization....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • #Islamophobia is inverse of what Left Liberal Lobbyists peddled....
    ( By Anil Kumar Dikshit )
  • An important information on the early history of that country....
    ( By Rashid Samnakay )
  • This is why I reject every Imam and his bigoted fiq. And that is why....
    ( By Naseer Ahmed )
  • Thanks Arshad. You have explained very well. My question is here //Therefore, Muslims....
    ( By RoyalJ )
  • Atheism is common among all people. The problem in Islam or with Muslims is that it is hidden because ....
    ( By Naseer Ahmed )
  • It is GM sb who has lost the argument. In his comment By Ghulam Mohiyuddin - 9/11/2019 2:41:48 PM, he rejects what Science ...
    ( By Naseer Ahmed )
  • This guy was an accused in child molestation case'
    ( By Ramachandrannair Kazhipurath )
  • It is a very good article for Reformist Muslims....
    ( By RoyalJ )
  • As is his long-standing habit, Naseer sb. begins a vicious personal....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • "Last saturday, September 7, two female Imams, Eva Janadin...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • If all religions have a violent past, we must accept the fact that....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Khilafat and Jihad are obsolete and regressive concepts. Islam....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Tariq sb aap aap ne likha k jihad Islam ka ek pillar hai. Magar humko to....
    ( By Moin Siddiqui )
  • Khilafat is Sunnah and Jihad is a pillar of Islam. Muslims dominated...
    ( By TARIQ KHAN )
  • GM sb is reduced to blubbering nonsense. He contradicts himself in his comment....
    ( By Naseer Ahmed )
  • سر سیّد ہندوستان ہی نہی بلکی دنیا کے ہر اس شخس کے سینے مے جگہ بناۓ ہوے ہیں جس نے علیگڑھ کی ...
    ( By Aijaz khan )
  • "India Never Compromised On the Principles of Vasudhaiva...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The first ijtihad we need to do is on the definition of the word "ijtihad....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The thing which according to traditional Sunni/Sufi Ulama is Haram is being legalized now by Salafi/Wahabi Ulama.....
    ( By Kaniz Fatma )
  • Ask the Wahabi cult who has legalized Misyar and Misfar. Ask the Shia Rafidi cult ....
    ( By Huzaifa )
  • Comment 5 on Islam and Hinduism The Quran says, “And when Allah the One God ....
    ( By GGS )
  • Comment 4 on Islam and Hinduism The Quran says, “Eyes do not encompass Him ....
    ( By GGS )
  • Comment 3: On Islam and Hinduism The Quran says, “There is nothing like Him” (42.11....
    ( By GGS )
  • Comment 2- Islam and Hinduism The Quran says, “He (Allah Almighty)....
    ( By GGS )
  • Comment -1, Islam and Hinduism on the Concept of Tauhid / Oneness of God Almighty The Quran says...
    ( By GGS )
  • The simple rule is that something which is not prohibited by Islam cannot be called Un-Islamic.....
    ( By Huzaifa )
  • Very informative! Can you please write to explain who can do Taqleed and who cannot. Taqleed...
    ( By Huzaifa )
  • Thank you. very helpful for the common readers who have just started learning. It would be very helpful...
    ( By Anjum )
  • Zuma sb, From theological perspective based on the Quran, the relation between Kuffar and Mushrikin is that....
    ( By Talha )
  • In Quran, Kafir refers to those who disbelieve in Allah. The following is the extract from Mohsin Khan...
    ( By zuma )
  • Mushrikun are idolatry worshippers. The following is the extract....
    ( By zuma )
  • She's mad because she's ugly. Try that shit over here, chump.'
    ( By MT gun toter )
  • Naseer sb. does not seem to understand that Mitochondrial Eve and....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The reason so many Muslims leave Islam is Islam's failure to reform....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • We, the Muslims of today, respect the right of everyone to have their....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The Muslims were divided into different Sects and Islam within....
    ( By Ross Btrien )
  • @Ghulam Mohiyuddin it's powerphobia bro .. in afghanistan....
    ( By Ross Btrien )
  • Reform is easy, when we do not call man-made fiq Islamic. What is ....
    ( By Naseer Ahmed )
  • GM sb now rejects Science, which has established that all of us living today, have descended ....
    ( By Naseer Ahmed )