certifired_img

Books and Documents

Hindi Section

The Divine Gnosis and The Words of Great Sufis- Part 1  मारफाते इलाही और सुफिया इज़ाम के अक़वाल भाग-1
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

जिस ने अल्लाह पाक को पहचान लिया वह अल्लाह के अलावा हर चीज़ से अलग हो गया, नहीं नहीं बल्कि गूंगा हो गया और उसकी बीनाई चली गईl हज़रत वास्ती रहमतुल्लाह अलैह के इस कौल का मतलब यह है कि जिस ने अल्लाह की मारफत हासिल कर ली अब उसे अपने रब के सिवा किसी और की तरफ रुजूअ करने का रास्ता नज़र नहीं आता, उसकी जुबान भी केवल अल्लाह पाक की हमद व सना (प्रशंसा) के लिए ख़ास हो गईl इस अर्थ में वह बंदा अल्लाह के अलावा हर चीज़ के लिए अँधा और बहरा हो गयाl

 

The Left-Liberals, Muslim Leadership and the State, Sadly  लेफ्ट-लिबरल, मुस्लिम नेतृत्व और सरकार, अफ़सोसनाक स्थिति
Arshad Alam, New Age Islam

किसी भी समुदाय और ख़ास तौर पर हिन्दुस्तानी मुसलामानों के लिए एक लिबरल और रौशन खयाल कयादत बहुत जरुरी हैl गुहा की बात बिलकुल सही है कि ऐसी कयादत के बिना मुसलामानों पर मौलवियों का वर्चस्व कायम रहेगा और विभिन्न राजनीतिक पार्टियां अपने चुनावी फायदे के लिए उनका इस्तेमाल करती ही रहेंगीl तथापि, यह भी बराबर तौर पर एक हकीकत है किसी भी समाज में लिब्रालिज्म की जड़ों को मजबूत करने के लिए राज्य को एक सहायक किरदार अदा करना पड़ता हैl

 

Decoding The Meanings of the Medieval Islamic Terminologies  ‘दारुल हरब’ और ‘दारुल इस्लाम’ जैसे मध्यकालीन शब्दों की व्याख्या
Ghulam Rasool Dehlvi, New Age Islam

बाबरी मस्जिद ढाए जाने की 25 वीं वर्षगांठ के मौके पर मुसलामानों के बीच उत्तेजना भड़काने के लिए अंसार गज्वतुल हिन्द ‘दारुल हरब’ और ‘दारुल इस्लाम’ जैसे मध्यकालीन इस्लामी सिद्धांतों का इस्तेमाल कर रहा है— भारत में अतिवादी जिहादी बयान बाजियां पुरी तरह उस हादसे पर आधारित है जो आज से कई दाहाइयों पहले आया था और इसी घटना के आधार पर इसका जवाज़ भी पेश किया जाता हैl

 

Religious Extremism  धार्मिक उग्रवाद
Javed Ahmad Ghamidi

यह बात अब तर्क का मोहताज नहीं रहा कि पाकिस्तान के लिए इस समय सबसे बड़ी समस्या धार्मिक उग्रवाद हैl हमारी बदकिस्मती है कि फ़िक्र व ख़याल और जुबान व कलम से आगे अब यह क़त्ल व गारत और आतंकवाद का रूप धारण कर चुका हैl राजनीति, अर्थव्यवस्था, समाज हर चीज इसकी चपेट में है और हज़ारों बच्चे, बूढ़े और जवान इसकी नज़र हो चुके हैंl इतिहास बताता है कि इस तरह की स्थिति में अंततः लड़ने ही का निर्णय करना पड़ता है और हमारी राजनीति को भी शायद एक दिन यही करना पड़ेगाl

 

Some Questions for the Proposed World Council of Muslim Minorities  मुस्लिम अल्पसंख्यक के प्रस्तावित वर्ल्ड काउंसिल से कुछ सवाल
Arshad Alam, New Age Islam

और जहां तक रहा मुस्लिम समाज के अंदर विविधतावाद का प्रशन तो इसे तरजीही बुनियाद पर बढ़ावा दिया जाना हैl प्रस्तावित काउंसिल को इस बात का खयाल रखना चाहिए कि काउंसिल के सभी फैसला करने वाले लोगों के आंतरिक सांस्कृतिक और धार्मिक विविधता अवश्य मौजूद होंl जैसा कि हमें यह मालूम है कि सुन्नी मुसलमान के अंदर शिया मुसलामानों के लिए और शिया मुसलामानों के अंदर सुन्नी मुसलामानों के लिए गहरा अविश्वास पाया जाता हैl

 

Why Shah Waliullah’s Thesis should be Repudiated by Indian Muslims  भारतीय मुसलामानों का शाह वलीउल्लाह की शिक्षाओं से दस्तबरदार होना आवश्यक; कारण
Arshad Alam, New Age Islam

शाह वलीउल्लाह के खिलाफ सबसे पहला आरोप यह है कि उनके दिल में भारत के लिए कोई रुचि नहीं थीl उन्होंने मराठों से मुगलों को बचाने के लिए अहमद शाह अब्दाली को भारत पर हमला करने और यहाँ मुसलामानों को बचाने के लिए ख़त लिखेl यहाँ इस बात की संभावना प्रबल है कि उनके इस अमल को इस्लाम हिमायती और देश से गद्दारी की एक मिसाल के तौर पर देखा जाएl

 

Making Sense of Afrazul’s Lynching  अफराजुल के ह्त्या के निहितार्थ
Arshad Alam, New Age Islam

मैं यहाँ एक तंबीह पेश करना चाहता हूँl मेरा कहना यह नहीं है कि किसी को हर प्रकार के कत्ल और हर प्रकार के अत्याचार व हिंसा के खिलाफ विरोध प्रदर्शन नहीं करना चाहिएl बल्की इस संदर्भ में कि मुसलामानों की ज़िन्दगी केवल मुसलिम होने की वजह से मामूली हो चुकी है; अफराजुल के कत्ल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन में पुरी बेबाकी के साथ यह बयान दिया जाना चाहिए थाl संतुलन पैदा करने की कोशिश में इन प्रदर्शनों ने केवल उस नियोजित क़त्ल के फासिद नज्रियाती की शिद्दत को कम किया हैl

 

Rejoinder To The Rhetoric Of Jihad In Kashmir  कश्मीर में जिहाद के एलान का दंदान शिकन जवाब
Ghulam Rasool Dehlvi, New Age Islam

असल में कश्मीर में सारी की सारी चरमपंथी जिहादी बयान बाजियां जो सोशल मीडिया और यू ट्यूब पर मुसलामानों को भड़काने के लिए जारी हैं, उनमें कोई ख़ास बात नहीं है और उनका समर्थन इस्लामी अहकामात के चार स्रोत अर्थात कुरआन, हदीस, इज्माअ और कयास में से किसी एक से भी नहीं होती हैl जो लोग भारतीय उलेमा और फुजला की आलोचना करते हैं और उन पर ‘हुकूमत का साथ देने’और ‘कश्मीर में जिहाद का फतवा’ देने से असमर्थ होने’ का आरोप लगाते हैं उनहें इस बात की फिकर होनी चाहिए कि वह किस तरह आख़िरत में अल्लाह को अपना चेहरा दिखाएंगेl

 

True Purpose of Life Is Beyond Self  जीवन का सही उद्देश्य स्वयं से परे होना है
Maulana Wahiduddin Khan

किसी व्यक्ति को उच्चतम स्थान तभी प्राप्त होता है जब वह एक उद्देश्यपूर्ण जीवन व्यतीत करता हैl इस प्रकार का जीवन मानवीय विकास के सबसे उच्चतम चरण का निर्धारण करता हैl बेशक अपने लिए अच्छा खाना, वस्त्र और निवास की व्यवस्था करना इस दुनिया के अंदर इंसान की सबसे प्रथम जिम्मेदारी हैl

 

Asifa was Brutalised Because She Was a Muslim  आसिफा पर ऐसे अत्याचार इस लिए किए गए क्योंकि वह एक मुसलमान बच्ची थी
Arshad Alam, New Age Islam

यह कहते हुए दिली तकलीफ होती है कि आठ वर्षीय बच्ची का अपहरण किया जाता है, बार बार उसके साथ बलात्कार किया जाता है और अंत में उसे क्रूरता के साथ मार दिया जाता है, जिससे हमारे सर शर्म से झुक जाने चाहिएl इस शर्मनाक दुर्घटना के लगभग तीन महीने बाद ऐसा लगता है कि इस देश का विवेक जागृत हुआ हैl अचानक हमने आसिफा के हक़ में न्याय के लिए विरोधी आवाज बुलंद करने लगे हैं और इस खौफ व दहशत के खिलाफ नई दिल्ली से लेकर श्रीनगर तक आवाजें बुलंद हो रही हैंl

 

There Is an Enormous Energy Reservoir in You  हमारे अंदर ऊर्जा का एक सागरहै
Maulana Wahiduddin Khan

इंसान का दिमाग ऊर्जा के भंडार की तरह हैl अगर किसी का लक्ष्य मामूली है तो उसका दिमाग सीमित पैमाने पर ऊर्जा के दरवाज़े खोलेगाl लेकिन अगर किसी का लक्ष्य उच्च है तो उसका दिमाग भी उसके लिए बड़े पैमाने पर ऊर्जा के दरवाज़े खोलेगाl यही अंतर इंसान की सफलता के स्तर निर्धारित करता हैl आप अपने दिमाग का प्रयोग करने की कोशिश करें, आप अवश्य वह सब कुछ कर लेंगे जो आप अपने जीवन में प्राप्त करना चाहते हैंl

 

Letters of Khawja Gharib Nawaz to Hadrat Qutubuddin Bakhtiyar Kaki- Secrets of Obligatory Pilgrimage (Hajj) - Part 5  खवाजा गरीब नवाज़ के मकतूबात खवाजा क़ुतुबुद्दीन के नाम- हज की हकीकत
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

हज़रत उमर (रज़ी अल्लाहु अन्हु) ने अर्ज़ किया: ए अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) दिल के काबे का हज किस तरह होना चाहिए? हुजुर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम ने फरमाया कि इंसान का वूजूद एक चार दिवारी की तरह हैl अगर इस चार दिवारी में से शक व वहम आदि का पर्दा दूर कर दिया जाए, तो दिल के आँगन में खुदा की ज़ात का जलवा नज़र आएगाl हज का यही उद्देश्य हैl और ऐसा हकीकी हज करने से यह भी उद्देश्य है कि इंसान अपनी खुद की हस्ती को इस तरह मिटा दे कि हस्ती का जर्रा भर भी बाकी ना रहे यहाँ तक कि ज़ाहिर व बातिन बराबर पवित्र हो जाए और दिल अल्लाह की सिफात की मार्फ़त हासिल कर लेl

 

Letters of Khawja Gharib Nawaz to Hadrat Qutubuddin Bakhtiyar Kaki- Secrets of Obligatory Charity (Zakah) - Part 4  खवाजा गरीब नवाज़ के मकतूबात खवाजा क़ुतुबुद्दीन के नाम- ज़कात की हकीकत
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

ज़ाहिरी जकात जो शरअन दुनयावी माल पर फर्ज होती है, इसमें केवल यह हिकमत है कि अमीर लोग जकात के बहाने से ग़रीबों और मुफलिसों की मदद कर सकें और गरीब अपने खाने पीने का इंतज़ाम सहूलत व आसानी से कर सकेंl ऐ उमर (रजी अल्लाहु अन्हु)! गंजे हकीकी के बारे में अल्लाह की मारफत रखने वालों के अलावा किसी को खबर नहींl गंजे हकीकी असल में रुबुबियत का राज़ है और आरेफीन का दिल रुबुबियत के राज़ का गंजीना (खज़ाना) होता हैl

 

Letters of Khawja Gharib Nawaz to Hadrat Qutubuddin Bakhtiyar Kaki- Secrets of Fasting (Roza)-Part 3  खवाजा गरीब नवाज़ के मकतूबात खवाजा क़ुतुबुद्दीन के नाम- रोज़े की हकीकत
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

सालिकाने गैर मजज़ूब बिना कामिल मुर्शिद की सोहबत के अल्लाह की मारफ़त हासिल नहीं कर सकते और ना ही बातिनी सुधार के बिना आलमे जबरूत तक रसाई हो सकती हैl वह आलमे नासूत व मलकूत में ही भटकते रहते हैं यह लोग शहवत परस्त और शोहरत के तालिब हैंl ऐ उमर (रज़ी अल्लाहु अन्हु)! जो उलेमा व फुकहा और सालेकीन गैर मजज़ूब हैं और उन्होंने किसी कामिल मुर्शिद की सोहबत से फैज़ हासिल नहीं किया, वह असरारे इलाही के जज़्बे से बिलकुल बेखबर हैंl यह लोग दुनयावी व ज़ीनत व शहवत नफसानी के पीछे मारे मारे फिरते हैंl

 

Letters of Khawja Gharib Nawaz to Hadrat Qutubuddin Bakhtiyar Kaki- Secrets of Namaz- Part 2  खवाजा गरीब नवाज़ के मकतूबात खवाजा क़ुतुबुद्दीन के नाम- नमाज़ की हकीकत
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

नबी अकरम (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने फरमाया की अंबिया और औलिया की नमाज़ असल में वह नमाज़ होती है कि जब वह नमाज़ में खड़े होते हैं, बल्कि हर समय ही उनके हवासे खमसा [यानी पाँचों इंदरीये] अल्लाह के अलावा किसी और के लिए बंद हो जाते हैं और उनका एक एक सांस अल्लाह पाक की याद में गुज़रता हैl वह अपने एक सांस का खयाल व शुमार रखते हैं कि कहीं लापरवाही में ना गुज़र जाए, यही लोग असल में नमाज़ी हैंl ऐ उमर (रजी अल्लाहु अन्हु)! हकीकी नमाज़ रहमानी होती हैl

 

Letters of Khawja Gharib Nawaz to Hadrat Qutubuddin Bakhtiyar Kaki- Secrets of Holy Kalima- Part-1  खवाजा गरीब नवाज़ के पत्र खवाजा क़ुतुबुद्दीन के नाम- कलमा तैय्यबा की हकीक़त
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

अल्लाह से सच्ची मुहब्बत का तकाज़ा और दलील यह है कि अल्लाह के महबूब नबी (अलैहिस्सलातु वस्सलाम) से भी मुहब्बत की जाए, और उनसे मुहब्बत का मतलब यह है कि उनकी सुन्नतों पर अमल किया जाए, उनके बताए गए तरीकों पर चला जाएl इसलिए जो अल्लाह का वली और दोस्त होगा वह जरुर अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) की बात पर अमल करेगाl सरकार ख्वाजा गरीब और हुजुर ख्वाजा कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी (रदिअल्लाहु अन्हुमा) तो सर्वसम्मति से अल्लाह के वली और दोस्त थेl ख्वाजा गरीब नवाज़ की शाने महबूबी का यह आलम था कि जब आप ने विसाल फरमाया तो आपके माथे पर कुदरत के कलम से लिखा हुआ था: हबीबुल्लाह माता फी हुब्बिल्लाहीl अर्थात यह अल्लाह का हबीब है जिसकी जान अल्लाह की मुहब्बत गयी हैl ...

 

How China and the Call to Caliphate Are Re-Writing the Script in Kashmir  कश्मीर में चीन और तहरीके खिलाफत अपना इतिहास फिर से रकम करने के लिए तैयार है: कुछ कारण और तथ्य
Arshad Alam, New Age Islam

बुरहान वाणी के क़त्ल के बाद से कश्मीर में आतंकवाद की एक नई लहर देखने को मिली हैl घाटी में बुरहान की हलाकत के बाद आम तौर पर हर वर्ग से संबंध रखने वाले युवाओं और आम लोगों की भीड़ में वृद्धि हुई हैl आज आतंकवादीयों के जनाज़े में केवल स्थानीय गांव के लोगों ने ही नहीं बल्कि सशस्त्र आतंकवादीयों ने भी शिरकत की हैl उनमें से कुछ आतंकवादी अपने चेहरे पर मास्क (Mask) लगाए हुए इस्लामी राज्य के नारे भी लगा रहे थेl

 

Thanks, but A ‘Love a Muslim Day’ Isn’t Enough To Counter Islamophobia  धन्यवाद, लेकिन ‘लव ए मुस्लिम डे' की योजना इस्लामोफोबिया का मुकाबला करने के लिए पर्याप्त नहीं है
Shaista Aziz

“पनिश ए मुस्लिम डे(Punish a Muslim Day)” की साज़िश पिछले महीने रची गई थी, और उत्तरी इंग्लैंड, मिडलैंड और ईस्ट लंदन में रहने वाले मुसलामानों के घर अज्ञात व्यक्तियों ने कई ख़त भेजे थेl चार मुस्लिम सांसदों को भी यह ख़त भेजे गए, और संसद को भी इसकी एक कापी भेजी गई, जिससे सेक्युरिटी अलर्ट की स्थिति पैदा हो गई थीl इस ख़त में किसी मुसलमान की पिटाई करने पर “इनाम” का भी उल्लेख था जिसका उद्देश्य लोगों को मुसलामानों पर हमला करने, मस्जिदों को आग लगाने और मुसलामानों के चेहरे में एसिड फेंकनें के लिए उकसाना थाl अभी तक यह पता नहीं चाल सका है कि इन सबके पीछे कौन है, हालांकि काउंटर आतंकवाद पुलिस मामले की जांच कर रही हैl

 

वर्तमान में बदकिस्मती से इस्लाम को असहिष्णुता और हिंसा का दाई समझा जाता हैl इस अन्याय पूर्ण और भ्रष्ट आरोप से बड़ा झूट कुछ नहीं हो सकताl अरबी भाषा में शब्द इस्लाम का शाब्दिक अर्थ अमन और तस्लीम हैl केवल इसी एक बिंदु से यह बात स्पष्ट हो जाती है कि इस्लाम एक शांतिपूर्ण जीवनशैली से अधिक किसी भी बात को महत्व नहीं देता है, एक ऐसा जीवन जिसमें इंसान खुदा का वफादार होl

 

System of the Pious Land, Pakistan  पाक सरज़मीन का निज़ाम
Imam Syed Ibn Ali, New Age Islam

मेरे पूर्वज शिया घराने से संबंध रखते थेl जिला अम्बाला में हमारी बहुत बड़ी जायदाद और गद्दी थीl हम अहमदपुर पूर्व जिला बहावलपुर में आकर आबाद हुए तो जिस मोहल्ले में हमारा घर था साथ ही वहाँ मस्जिद थी, मैं अभी बच्चा ही था कि एक दिन मोहल्ले की मस्जिद में गया तो उस दिन मौलवी साहब यह खुतबा दे रहे थे की यह ज़माना इमाम मेहदी का जमाना हैl उस समय कुछ समझ ना आया कि यह क्यों कहा जा रहा हैl लेकिन आज इस बात की समझ आ रही है कि उम्मत इतनी बीमार हैl केवल पाकिस्तान ही नहीं दुसरे इस्लामी देशों का हाल भी देख लेंl

 
The Essence of Prayer इबादत की रूह
Maulana Wahiduddin Khan, Tr. New Age Islam

The Essence of Prayer  इबादत की रूह
Maulana Wahiduddin Khan

अगर कोई खुदा की इबादत को किसी एक इबादत गाह में सीमित कर देता है और वह उसका प्रदर्शन अपने दैनिक जीवन में नहीं करता तो उसकी इबादत कोई इबादत नहीं है इसलिए कि उसका स्रोत खुदा का वास्तविक ज़िक्र नहीं हैl ऐसा क्यों हो सकता है कि कोई खुदा के सामने विनम्र हो और फिर बाहर निकल कर लोगों के सामने घमंड में इतराता फिरे?

 

The Fate of Extremists  अतिवादियों का अंजाम
Mansour Alnogaidan

अल औदा की गिरफ्तारी जिस दिन हुई उस दिन लोगों की एक भीड़ ने इब्ने उसैमन को घेर लिया और अल औदा की हिमायत में खड़े होने के लिए उन पर दबाव डालाl उन्होंने जवाब दिया “तुम लोगों ने अपनी सीमाएं पार कर दी हैंl तुम ने केन्द्रीय सरकारी इमारत को घेर लिए और उसके दरवाज़े को तोड़ दियाl तुमने राज्य के नामूस को चोट पहुंचाया हैl भीड़ में से एक व्यक्ति ने कहा, “तुम एक अपमानित प्रचारक हो”l एक और व्यक्ति ने कहा, “तुम एक कायर इंसान हो”l इस भी का एक सदस्य ए० ज़ेड० भी थाl और यह वही नवयुवक था जो दो वर्ष बाद कत्ल की कोशिश में गिरफ्तार किया जाने वाला थाl

 

The Secret of Happiness  खुशी का रहस्य
Ahmed Al-Arfaj

मानवीय विकास के विशेषज्ञों ने खुशी के बहुत सारे मूल कारक बताए हैंl सबसे पहली बात उन्होंने यह बताई हैं कि सभी भावनाएँ वायरस के तौर पर काम करते हैंl इसका अर्थ यह है कि भावनाएँ संक्रामक हैं चाहे वह सकारात्मक जैसे प्रसन्नता की भावनाएं, चाहे वह नकारात्मक हों जैसे उदासी और मायूसी की भावनाएंl वह फ्लू की तरह एक व्यक्ति से दुसरे में फ़ैल सकते हैंl उदहारण के लिए जनाज़े के मौके पर हर व्यक्ति उदास हो सकता है क्योंकि लोगों को..........

 

Maulana Imdad Rasheedi's Holiest Jihad  मौलाना इम्दादुल्लाह रशीदी का सबसे बेहतरीन जिहाद
S. Arshad, New Age Islam

आज कौम और मुल्क को मौलाना इम्दादुल्लाह रशीदी जैसे इमामों की आवश्यकता है जो निजी हितों और भावनाओं से ऊपर होकर देश व कौम को एकजुट रखने के लिए प्रभावी इक़दामात करें और देश में एकता और भाई चारे की फ़ज़ा को साज़गार बनाने के लिए अपना खून जिगर दें ना कि मुसलामानों को एक दुसरे का खून बहाने की तरगीब देंl

 

Time Muslims Themselves Did Away With Polygamy and Halala  अब मुसलमान स्वयं बहुविवाह और निकाह हलाला का खात्मा करने के लिए तैयार हैं
Arshad Alam, New Age Islam

तीन तलाक को बातिल और प्रतिबंधित करार देने के बाद सुप्रीम कोर्ट ने अब बहुविवाह और निकाह हलाला जैसे मुस्लिम समाज में प्रचलित प्रथाओं के कानूनी वैधता पर गौर करने की पेटीशन को कुबूल कर लिया हैl यह याद रखना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट ने केवल त्वरित तीन तलाक को ही गैर कानूनी करार दिया है, तलाक देने के एकतरफा अधिकार को नहीं, जैसा कि इस पर अब भी मुसलामानों का अमल जारी हैl

 
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 ... 48 49 50


Get New Age Islam in Your Inbox
E-mail:
Most Popular Articles
Videos

The Reality of Pakistani Propaganda of Ghazwa e Hind and Composite Culture of IndiaPLAY 

Global Terrorism and Islam; M J Akbar provides The Indian PerspectivePLAY 

Shaukat Kashmiri speaks to New Age Islam TV on impact of Sufi IslamPLAY 

Petrodollar Islam, Salafi Islam, Wahhabi Islam in Pakistani SocietyPLAY 

Dr. Muhammad Hanif Khan Shastri Speaks on Unity of God in Islam and HinduismPLAY 

Indian Muslims Oppose Wahhabi Extremism: A NewAgeIslam TV Report- 8PLAY 

NewAgeIslam, Editor Sultan Shahin speaks on the Taliban and radical IslamPLAY 

Reality of Islamic Terrorism or Extremism by Dr. Tahirul QadriPLAY 

Sultan Shahin, Editor, NewAgeIslam speaks at UNHRC: Islam and Religious MinoritiesPLAY 

NEW COMMENTS

  • Mr Arshad If Emanted from single source is right than only middle eastern and Abrhamic relgion cannot be only given ....
    ( By Aayina )
  • Gulam Mohyuddin always critisis Hatts off, but Hatts put bitter truth in bitter from. He/she/?? Who so ever Hatts off must be read and undesrtood. Mr ...
    ( By Aayina )
  • What I said is clear for everyone to see. The sole purpose of Hats Off's visits here is to create some stink.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • starving syrian kids must have plenty of food for thought. probably so do the ethiopian kids. and of course the kids in the "islamic" republic ...
    ( By hats off! )
  • In modernist Islam spousal abuse, triple talaq and bigamy must all be banned.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Hats Off comes to this forum to call God "mean and nasty"! Being insensitive and unmannerly seems to....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Good article. He has addressed a burning issue which has divided the ummah. This is a severe issue but much has not been done to ...
    ( By arshad )
  • people with full stomach do not have much to think and so say things which do not have food for thought.'
    ( By arshad )
  • a god who gets satisfaction seeing people go hungry is not just mean, he is worthless, stupid and more like....
    ( By hats off! )
  • I am afraid this is the sentence we repeat numerous times in our daily discourse. But when the issue of blasphemy....
    ( By arshad )
  • Islam gradually became a violent religion because of the interpretation of certain extremist scholars...
    ( By s. arshad )
  • Mr Aayina, it is an effort to show that all the religions emanated from a single source and had similar rituals to please...
    ( By s. arshadS )
  • Great to start new idea to saw seed of diffrence rather than diversity in the mind of people by telling the diffrence of Saum and ...
    ( By Aayina )
  • Good article and very practical suggestions from Mr Shahin. He is pointed out the basis of the distortion of Quranic principles of peace and peaceful ...
    ( By s. arshad )
  • Mullahs who taught hate and supremacism stayed in Pakistan and became rich and powerful whereas scholars who endeavored to “present ....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Dealing with Islamic civilizational stagnation and espousing genuine modernistic modes of thinking require more guts than most of our ulema possess. Hence ....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The Furqan Force or Furqan Battalion was a uniformed fighting force of volunteers (khuddam-i-din[1]) in newly formed Pakistan, composed....
    ( By Shan94 )
  • The Crown Prince's liberalization moves seem to be phony....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • The basis and inseparable principle of Islam is the followers of Non-Arabic religions are Khafirs. As long as Khafir concept is exist, No ...
    ( By dr.A.Anburaj )
  • Hats Off's venom has always been directed more at moderate Muslims...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Although we do not want to join the Ahmadi sect we should certainly try to learn what makes them better exemplars of peacefulness...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • i know. you are one of the most moderate muslims since the prophet.....
    ( By hats off! )
  • To Mohmmad Rofiq. First I wish Mr sultan Shahin forward this to you. Indonesia and Malaysia ....
    ( By Aayina )
  • Historical Krishna or Mohmmad paigamber cannot be my ideal even Swami Ramdas says. This both had gave enough blunders in human life...
    ( By Aayina )
  • Article writer hiding its identity which tells thousand word how this Abrhamic tradition is hollow of non-violence had no example to ....
    ( By Aayina )
  • Abhrahmic violence technology is best why to use Dharmic relgions Non-violence notion when Abrhamic tradition and its God had establish it'd hegemony on ...
    ( By Aayina )
  • I do not need any anti-venom to spurn your hateful activity in this forum.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • so your anti-venom is just like snake-oil.'
    ( By hats off! )
  • The venom spewers are just a distraction here. The would fit in nicely in any apostate website.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • mr ghulam mohiyuddin comes to this forum to "spew" his anti-venom?
    ( By hats off! )
  • Iran and Saudi Arabia are equally to blame for the winds of war in the Middle East. We should condemn both equally.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Excellent article! Let us hope Malaysians heed it.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Islamophobics will always deny the existence of Islamophobia just as the worst racists deny the existence of racism. One's own....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Hats Off's bitter hate for Islam makes him blind to the whole person and the sum total of his achievements and makes him paint ....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • yeah! caravan raiding is so generous. just like taking sex slaves is. also it was really generous of the prophet to to reserve....
    ( By hats off! )
  • Jehadi ideology has to be defeated. Using the holy platform of the mosque to spread such an ideology must be prohibited. Exposure...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • I am hopeful Allah is with me." Zakir Musa. I would be very surprised if Allah is with you and your retrogressive ideas....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Comments of the PAS President and Hats Off are equally simplistic but the latter's comment is also mean-spirited.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • To fix the me and other you have to fix your "Quran" first which has highest notion of me and other on nearly every page.' ...
    ( By Aayina )
  • This is what happens when Urbanisim, and mordernity was imposed on the Tribal India. I am against of all this public place encroachment but we need ...
    ( By Aayina )