certifired_img

Books and Documents

Hindi Section

Defeating Islamism and Jihadism  जेनेवा में सुलतान शाहीन का खिताब: इस्लामिज्म और जिहादिज्म की हार के लिए अमन व शांति, सहअस्तित्व और लैंगिक न्याय पर आधारित इस्लामिक थियोलौजी का गठन आवश्यक
Sultan Shahin, Founding Editor, New Age Islam

इस बढ़ती हुई इस्लामिज्म की अतिवाद के हवाले से सर्द मेहरी इस हद तक बढ़ चुकी है कि कुछ उच्च शिक्षा प्राप्त मुस्लिम अब यह कहते हुए दिखाई दे रहे हैं कि, “क्या हुआ अगर एक साल के अन्दर 86 देशों से तीस हज़ार मुसलामानों ने इस्लामी रियासत में शमूलियत इख्तियार की? 1.7 बिलियन लोगों की बिरादरी में उनकी प्रतिशत कितनी है?! इतनी छोटी और सीमित संख्या को बढ़ती हुई अतिवाद के सबूत के तौर पर कैसे पेश किया जा सकता है?” अकल हैरान है कि ऐसे विचारकों और बुद्धिजीवियों को कैसे जवाब दिया जाएl वास्तविकता यह है कि अगर एक मुसलमान को यह ;लगता है कि एक इंसानी बम की शक्ल में मस्जिद के अन्दर जाने और खुद को और दुसरे मुसलामानों को नमाज़ के दौरान धमाके से उड़ा देने पर खुदाई इनाम हासिल होगा, तो उम्मत के लिए यह अवश्य चिंता का क्षण है कि हमारे मज़हब में ऐसा क्या है जिसकी आड़ में आतंकवादी संगठन इस तरह के घिनावने अपराध का प्रतिबद्ध करने के लिए तैयार हो जाते हैं, क्या ऐसा करके वह जन्नत में दाखिल हो जाएंगेl उम्मत के लिए यह निश्चित रूप से गौर का मुकाम हैl उम्मत को सोचना चाहिए कि हिंसा में नुमाया इज़ाफा होता जा रहा है, यहाँ तक कि आतंकवादी अपराधों के सैंकड़ों घटनाओं के बावजूद भी हम बे हिसी की ज़िन्दगी गुज़ार रहे हैं, प्रतिदिन दुनिया के किसी ना किसी हिस्से से आतंकवाद की घटनाओं की सुचना मिलती है लेकिन हमें इसकी फ़िक्र कहाँ, हमें तो बेहिस ही बने रहना है!!

 

आयत (60:8) के बारे में अक्सर मुफ़स्सेरीन की एक राय यह है कि यह आयत मोहकम है और यह मंसूख नहीं हुईl इन आयतों में मुसलामानों को मुशरिकों और काफिरों सहित सभी गैर मुस्लिमों के साथ बराबर सुलूक करने से मना किया गया है इसका अर्थ यह है कि अल्लाह मुसलामानों को उन मुशरिकों और काफिरों सहित गैर मुस्लिमों के साथ अच्छा बर्ताव करने से मना नहीं करता जो मज़हब के मामले में मुसलामानों से जंग नहीं करते और मुसलामानों के साथ अमन और न्याय के साथ ज़िन्दगी गुजारते हैंl

 

Organ Donation Is What Is Called Sadqa Jariyah, Continuous Charity, in Islam  आर्गन डोनेशन (अंग दान) इस्लाम में सदका ए जारिया
Maulana Wahiduddin Khan

अंगों का दान आधुनिक सर्जरी का एक बड़ा उपहार हैl पिछले ज़माने में इस प्रकार का दान बिलकुल असंभव थाl अंगों का दान सभी धर्मों सहित इस्लाम में भी जायज हैl अधिक यह कि इस काम में बड़ा अज्र (इनाम) भी हैl एक मानव निर्मित ट्रांस्पलांट प्राकृतिक आर्गन ट्रांसप्लांट का विकल्प कभी नहीं हो सकताl

 

तिबयानुल कुरआन में है: कुरआन ए पाक की सीधे रास्ते पर दलालत है और मुत्तकीन को कुरआन ए पाक के अहकाम पर अमल की तौफीक भी नसीब होती है वह कुरआन ए पाक के अनवार से रौशनी तलब करने वाले और लाभ उठाने वाले होते हैं और कुरआन ए पाक में तदब्बुर और तफ़क्कुर करने से उनके दिमाग की गिरहें खुलती चली जाती हैं और गैर मुत्तकीन के लिए भी कुरआन ए पाक हिदायत है, नेकी और दुनिया की खैर की ओर राहनुमाई है, हालांकि वह इसकी हिदायत को कुबूल नहीं करते और इसके अहकाम पर अमल करके अपनी दुनिया और आखिरत को रौशन नहीं करतेl”

 

अगर कोई व्यक्ति केवल अल्लाह की रज़ा के लिए अल्लाह की इबादत करे इस तरह कि उसके ख़याल में केवल और केवल अल्लाह की रज़ा बस जाए और सुलूक के मर्तबे की उस मंजिल पर पहुँच जाए जहां उसे अल्लाह की रज़ा के सिवा कोई दुसरा ख़याल ना आता हो यह जरुर बेहतर है और यही इबादत का असल उद्देश्य हैl

 

इस्लाम का संदेश बहुत स्पष्ट हैl इसके बावजूद भी हम यह देखते हैं कि कुछ लड़ाका गिरोह जमीन के उपर आतंकवाद और फसाद मचा रहे हैंl ऐसे लड़ाकों के लीडर हो सकता है कि इस तरह के इस्लामी संदेशों से अवगत हों या अनभिज्ञ हों, लेकिन हमें यह बात दिमाग में रखनी चाहिए कि आज के युवा इस तरह के लीडरों के प्रोपेगेंडे का शिकार हो रहे हैंl इसी लिए हमें इस्लाम के असल पैगामों का प्रचार करते रहना चाहिए, इस आशा पर कि newageislam.com पर अतिवाद के खिलाफ हमारे संघर्ष के साकारात्मक परिणाम बरामद हो रहे हैंl

 

Why Imran Khan’s Invocation of Medina is Deeply Regressive  इमरान खान का मदीना को रोल मॉडल करार देना बहुत ही रुजअत पसंदाना रवय्या है: कुछ तथ्य
Arshad Alam, New Age Islam

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के लिए आवश्यक है कि अल्लाह की वहदानियत पर, अल्लाह की किताबों पर, कुरआन के आखरी आसमानी किताब होने पर, पैगम्बरे इस्लाम सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के आखरी नबी होने पर, और इस बात पर कि आप के बाद अब कोई नबी नहीं होगा, कयामत के दिन पर और कुरआन और सुन्नत की सभी आवश्यकताओं और शिक्षाओं पर ईमान रखेl अब अगर प्रधानमंत्री के लिए यह शपथ है तो यह बात समझी जा सकती है कि क्यों अब भी मदीना मॉडल लोगों को अपनी ओर आकर्षित करता हैl

 

Ban on Amr bil Maroof and Nahi Anil Munkar?  अम्र बिल मारूफ़ और नही अनिल मुनकर पर प्रतिबंध?
Shakeel Shamsi

अंग्रेज़ों के विरुद्ध फतवे जारी करने वाले उलेमा ने ना तो काले पानी की फ़िक्र की और ना तोप से उड़ाए जाने के डर से अपनी जुबान रोकी, लेकिन इस सच से कोई इनकार नहीं कर सकता कि हज़ारों उलेमा ऐसे भी हुए जिन्होंने हुकूमत के लुकमे खाने को ही अपना दीनी फरीज़ा समझा, मगर खुदा का करम यह है कि इस्लाम दोनों प्रकार के उलेमा की पहचान उलेमा ए हक़ और उलेमा ए सू के रूप में बहुत पहले ही कर चुका थाl इसलिए जब कोई आलिमे दीन किसी बादशाह के हाँ में हाँ मिलाता नज़र आया तो आम मुसलामानों ने फ़ौरन उसको पहचान लिया कि उसका संबंध उलेमा के किस वर्ग से हैl

 

Terrorism is not the Result of Unemployment Rahul G!  आतंकवाद बेरोजगारी का परिणाम नहीं है राहुल जी!
Shakeel Shamsi

जर्मनी के दौरे पर गए राहुल गांधी ने वहाँ एक जलसे में जहां मोदी सरकार की असफलताएँ गिनाईं वहीँ उन्होंने एक अजीब व गरीब बयान भी दियाl उन्होंने कहा कि देश में बेरोज़गारी है और जब लोगों को रोज़गार नहीं मिलेगा तो उनको बहकाने वाली शक्तियाँ भी सक्रिय हो सकती हैं, उन्होंने उदाहरण के रुप में आइएसआइएस का नाम लिया और कहा कि अमेरिका ने जब ईराक पर हमला किया तो तिकरीत के लोगों को बहुत अनदेखा किया जिसका वहाँ के युवाओं पर नाकारात्मक प्रभाव पड़ा और वह आइएसआइएस की ओर आकर्षित हो गएl राहुल गांधी ने यह भी कहा कि जब आप अपने युवाओं का ख़याल नहीं रखेंगे तो दुसरे उनको बहका सकते हैंl

 

Don’t Give Up, Just Try Something New and Look Ahead With Hope  हार न मानें, कुछ नया आज़माएं और उम्मीद के साथ आगे की ओर देखें
Maulana Wahiduddin Khan

मैं अक्सर ऐसे लोगों से मिलता रहता हूँ और मेरी यह जानने की कोशिश होती है कि वह कैसे ऐसी लत का शिकार हो गए हैं जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है, मैं ने एक व्यक्ति से इसकी वजह पूछी, वह मुस्कुराया और मुझ से कहा “यह मेरे लिए एक भुलावा हैबिट है”l उसने मुझसे कहा वह अच्छी तरह यह जानता है कि यह एक जानलेवा लत है लेकिन इसके बावजूद मैंने इसे अपनाया ताकि मेरा दर्द कम हो सकेl

 

The Bogey of Islamophobia  इस्लामोफोबिया का दानव
Arshad Alam, New Age Islam

ब्रिटेन में रुढ़िवादियों का चेहरा माने जाने वाले ब्रूनी वारसी ने इस मौके पर टोरेस को अपने अन्दर सहज तौर पर मौजूद इस्लामोफोबिया और मुस्लिम विरोधी तास्सुब पर नज़र करने को कहाl अब तक अपनी पार्टी की ओर से दबाव के बावजूद बोरिस जॉन्सन ने माफी मांगने से इनकार कर दिया हैl उसके इस स्पष्ट इनकार के पीछे कई कारण हो सकते हैं और हो सकता है कि इन्हीं कारणों में से एक ऐसा करके अतिवादी वर्ग का वोट प्राप्त करने का रुढ़िवादी पार्टी का गुमान भी होl

 

कुरआन अपने अनुयायियों को सीमा (हद) से आगे बढ़े बिना कमज़ोर और पिछड़े लोगों की सुरक्षा के लिए केवल रक्षात्मक जंग की अनुमति देता है और इससे इस्लाम हिंसा का मजहब नहीं बनताl इसलिए जो लोग धार्मिक अत्याचार के खिलाफ बचाव में जंग की अनुमति से संबंधित कुरआनी आयतों को गलत अंदाज़ में पेश कर रहे हैं और अमन के साथ रहने वाले बेगुनाह व्यक्तियों को क़त्ल करने के लिए उनका प्रयोग कर रहे हैं वह असल में इस्लाम के मूल उद्देश्य की खिलाफवर्जी कर रहे हैं जो कि अमन का कयाम हैl

 

On the Meaning of Khatm e Nabuwwat  खत्मे नबूवत का अर्थ
Naseer Ahmed, New Age Islam

मुहम्मद सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की उम्मत को उलेमा और इमामों की इताअत से भी आज़ाद रखा गया है, हर मुसलमान स्वयं कुरआन का अध्ययन कर सकता है और अपनी समझ के अनुसार उस पर अमल भी कर सकता हैl कुरआन एक ऐसी किताब है जो हक़ के रास्ते के चाहने वालों के लिए हर चीज को ऐसा स्पष्ट करके पेश करती है जिसमें संदेह की कोई गुंजाइश नहीं रहती है, इसमें किसी भी बहाने के तहत किसी भी बातिल की पैरवी की कोई गुंजाइश नहीं हैl अल्लाह ने हम में से हर एक को कुरआन के बारे में अपने इल्म और कुरआन की बेहतर समझ के अनुसार इसकी पैरवी करने की पूर्ण स्वतंत्रता प्रदान की हैl

 

How Imran Khan Will Set Up Medina-Like Islamic Welfare State?  इमरान खान मदीना की तरह इस्लामी कल्याणकारी राज्य कैसे स्थापित करेंगे?
Ghulam Rasool Dehlvi, New Age Islam

ध्यान देने योग्य बात यह है कि आम चुनाव से पहले पाकिस्तान तहरीक ए इंसाफ ने अपने मेनू फेस्टो में भी स्पष्ट रूप से अपना मिशन पाकिस्तान को एक ऐसा इस्लामी कल्याणकारी राज्य बनाना प्रदर्शित किया था जो मानवीय और न्यायप्रिय सिद्धांतों पर आधारित होगी जिस पर मीसाक़े मदीना का आधार थाl जो कि नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम के राज्य में मानवाधिकार का एक लिखित घोषणापत्र थाl

 

The Myth of Jahiliyyah  जाहिलियत के दिनों का अफ़साना
Arshad Alam, New Age Islam

इस्लाम से पहले का वह दौर जैसा कि उसे जाहिलियत के दिन कहा जाता है वैसा ही है जैसा दुनिया के दुसरे क्षेत्रों में अंधियारे का राज रह चुका हैl और जिस प्रकार रौशन ख़याली ने यूरोप को अँधेरे युग से निकाल कर आधुनिकता की दहलीज पर ला कर खड़ा कर दिया इसी तरह इस्लाम ने भी उस अरब क्षेत्र और उसके नागरिकों को अत्याचार, अज्ञानता, बर्बरता और वहशत के अंधियारे से निकाल कर मानवता, इल्म व फिक्र, सभ्यता व संस्कृति, और रौशन ख़याली की एक नई सुबह से परिचित कियाl इस्लाम की आधुनिक इतिहास में सैयद क़ुतुब और मौदूदी के अनुसार अब भी इस दुनिया के अधिक क्षेत्र जाहिलियत के अँधेरे में डूबे हुए हैं और अपनी इस स्वयंभू अज्ञानता के अँधेरे से आज़ाद होने के लिए अब भी इस्लाम का मुंह तक रहे हैंl

 

हदीस के शारेहीन ने सामान्यतः इस भविष्यवाणी की व्याख्या यह की है कि ईसा अलैहिस्सलाम के नाज़िल होने के मौके पर कुफ्र का अंत और इस्लाम का बोलबाला हो जाएगाl तथापि निकटतम अतीत के प्रसिद्ध मुहद्दिस अल्लामा अनवर शाह कश्मीरी रहमतुल्लाह अलैह ने इस राय से मतभेद व्यक्त किया हैl उनका कहना है कि रिवायत में उस मौके पर इस्लाम के ग़ालिब आने का जो ज़िक्र हुआ है, उससे मुराद पूरी धरती नहीं, बल्कि सीरिया और उसके आस पास का विशिष्ट क्षेत्र है जहां सैयदना मसीह का नुज़ूल होगा और जो उस समय इस्लाम वालों और कुफ्र वालों के बीच दुविधा और युद्ध का केंद्र होगाl

 

Need of the Hour Is for Pakistan to Adopt the Prophet’s Delinking Policy  पाकिस्तान का नबी सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की डिलिंकिंग नीति पर अग्रसर होना समय की सबसे महत्वपूर्ण आवश्यकता
Maulana Wahiduddin Khan

इतिहास इस वास्तविकता का गवाह है कि इस्लाम के पैगम्बर सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम की डिलिंकिंग (delinking) नीति सैद्धांतिक और व्यावहारिक दोनों तौर पर जबर्दस्त साबित हुईl इसका सबसे बड़ा लाभ यह है कि इसमें नए सिरे से योजना बनाने और कौम के निर्माण पर ध्यान केन्द्रित करने का मौक़ा मौजूद हैl दुसरे विश्व युद्ध के बाद बहुत सारे देशों ने इस नीति को अपनाया जिसके आधार पर उन्हें बड़ी सफलताएं मिलींl जर्मनी और जापान ने शिक्षा और वैज्ञानिक विकास के क्षेत्र में जबरदस्त सफलता प्राप्त कीl

 

Indian Secularism: Non-Religious, Irreligious or Anti-Religious?  भारतीय सेकुलरिज्म: गैर मज़हबी मज़हब बेज़ार या मज़हब विरोधी
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

बेशक भारत जैसे एक बहु सांस्कृतिक और बहु धार्मिक देश में सेकुलरिज्म एक आवश्यक भाग बन चुका हैl सेकुलरिज्म भारत की विशेषता बन चुकी है, और इसकी बुनियादी वजह यह है कि यह सभी धर्मों को बराबर सम्मान प्रदान करता है और इसके संविधान में सभी देशवासियों को अपने अपने धर्मों के अनुसार गुज़र बसर करने की अनुमति हैl इसलिए सभी धर्मों के अनुयायियों के लिए आवश्यक है कि वह भारतीय सेकुलरिज्म के इस बुनियादी कल्पना को दिमाग में रखें और देश में अमन व शांति कायम रखें, इसके लिए उन्हें सामूहिक रूप में शांतिपूर्ण सह अस्तित्व के प्वाइंट को मजबूत करना होगाl

 

The Language of the Quran  कुरआन की भाषा
Naseer Ahmed, New Age Islam

कुरआन के अन्दर हर कीवर्ड और कल्पना को उन दूसरी आयतों की सहायता से अच्छी तरह समझा जा सकता है जिनमें वह कीवर्ड (कलीदी अलफ़ाज़) वारिद हुए हैं और इससे किसी भी प्रकार की व्याख्या की आवश्यकता भी दूर हो जाती है और इस प्रकार कुरआन की हर आयत से एक स्पष्ट अर्थ निकाला जा सकता है और कुरआन का यह दावा बिलकुल सहीह है कि यह एक स्पष्ट किताब हैl

 

Why are Islamic countries not coming forward to take Rohingyas?  इस्लामी देश रोहंगिया मुसलामानों की सहायता के लिए आगे क्यों नहीं आ रहे हैं? क्या मानवाधिकार केवल मुसलामानों के लिए है?
Ghulam Rasool Dehlvi, New Age Islam

न्यू एज इस्लाम के एडीटर जनाब सुलतान शाहीन ने प्राइम टाइम टीवी के बहस में एक और महत्वपूर्ण प्रश्न यह उठाया कि क्यों इस्लामी देश रोहंगिया मुसलामानों को पनाह देने के लिए आगे नहीं आ रहे हैं? उन्होंने कहा कि “सीरिया के शरणार्थियों को जर्मनी और दुसरे योरोपियन देशों ने पनाह दी है लेकिन मुस्लिम देश उन्हें शरणार्थी का स्थान देकर भी उनकी सहायता नहीं कर रहे हैंl यह वास्तव में वैश्विक मुस्लिम बिरादरी के लिए एक सामूहिक रूप से अपमान की बात है कि इस्लामी देश रोहंगिया शरणार्थियों से अपना मुंह मोड़ रहे हैं”l

 

Why Should an Academic Course on Islamist Terror Rile Muslims?  इस्लामी आतंकवाद पर शैक्षणिक कोर्स पेश किए जाने से मुसलमानों में गुस्सा क्यों?
Arshad Alam, New Age Islam

उन्हें इस्लाम की किसी भी मौजूदा आलोचना पर खुल कर बहस करने के लिए हमेशा तैयार रहना चाहिए इस आत्मनिरीक्षण के बिना यह समझना बहुत कठिन है कि हम हिंदुस्तानी मुसलमान की हैसियत से किस तरह हमारे आस पास की दुनिया के साथ सद्भाव स्थापित करने में सफल होंगेl अगर हम यह स्वीकार नहीं करते कि किसी दुसरे धर्म की तरह इस्लाम भी आतंकवाद का कारण बन सकता है तो हमारे अन्दर एक ऐसा काल्पनिक दृष्टिकोण परवान चढ़ेगा कि जिसमें मुसलमान मज़लूम दिखेंगे और 11/9 जैसी आतंकवादी घटनाएं ईसाईयों की साज़िश लगेगीl

 

Parents’ Rights After Their Death from Islamic Perspective  माता-पिता की मौत के बाद संतान पर माता-पिता के अधिकार
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

माता-पिता के मर जाने के बाद औलाद को चाहिए कि वह उनके जनाज़े की तजहीज़, गुस्ल व कफ़न व नमाज़ व तद्फीन को सुनन व मुतहेब्बात की रिआयत के साथ अदा करें, उनके लिए हमेशा दुआ व इस्तिग्फार करते रहें, सदका व खैरात व नेक काम का सवाब उन्हें हमेशा पहुंचाते रहें, अपनी नमाज़ और रोजों के साथ उनके लिए भी नमाज़ पढ़ें और उनके लिए भी रोज़े रखें, माता-पिता पर कोई उधार हो तो उसे जल्दी अदा करें, उनपर कोई फर्ज़ रह गया हो तो अपनी कुदरत के अनुसार उसे पूरा करें जैसे उनकी तरफ से हज्जे बदल कराना आदि, अगर माँ बाप ने कोई जायज और शरई वसीयत की हो तो उसके निफाज़ की पूरी कोशिश करना, उनकी कसम पुरी करना, हर जुमे को उनके कब्र की ज़्यारत के लिए जाना, वहाँ यासीन शरीफ की तिलावत करना और उसका सवाब उनकी रूह को पहुंचाना, माँ बाप के रिश्तेदारों, दोस्तों के साथ उमर भर नेक सुलूक करना और उनका सम्मान करना, और इसी तरह कोई गुनाह करके उन्हें कब्र में तकलीफ ना पहुंचाना आदिl

 

Refuting the Jihadist Interpretation of Surah Nisa - Verse 89  चरमपंथियों के माद्ध्यम से की गई सुरह निसा की आयत 89 की गलत व्याख्या का रद्द
Ghulam Ghaus Siddiqi, New Age Islam

अहम् बात यह है कि जंग से संबंधित आयतें केवल जंगों तक ही सीमित हैंl केवल एक राज्य या देश की हुकूमत ही जंगी नियम बना सकती हैl आम नागरिकों को किसी भी गिरोह के खिलाफ जंग का एलान करने या कानून अपने हाथों में लेने की अनुमति नहीं हैl इसके अलावा, जंग से संबंधित आयतों का इतलाक उन देशों पर नहीं किया जा सकता है जहां मुस्लिम और गैर मुस्लिम अपने एकमत कानून या किसी प्रकार के अमन समझौते या संविधान के तहत अमन के साथ रहते हैंl इसलिए, आतंकवादी किसी भी प्रकार अपनी कारस्तानियों को वैधता प्रदान करने के लिए आयत 4:89 नक़ल नहीं कर सकतेl अपने जुर्म को सहीह साबित करने के लिए इसी तरह वह दुसरे कुरआन की आयतों का हवाला पेश करते हैं, और यह केवल इस्लाम और शरीअत पर झूट बाँधना हैl

 

A Truthful Person Experiences  एक सच्चा मनुष्य इस संसार में ही उन चरणों से गुज़र जाता है जिनसे पापी आख़िरत (न्याय के दिन) में गुज़रने वाले हैं
Maulana Wahiduddin Khan

सच यह है कि एक सच्चा मनुष्य इस संसार में ही उन चरणों से गुज़र जाता है जिनसे गुनाहगार आख़िरत में गुज़रने वाले हैंl एक पापी मनुष्य खुदा को देखने के बाद उसकी बारगाह में विनम्रता का सर झुकाए गा जबकि एक नेक मनुष्य खुदा को देखे बिना ही अपना सिर उसकी आज्ञाकारिता में झुका देता हैl

 

Discussions Should Be Held with Open Heart, Otherwise the Door to Reform will not Open  बात खुलकर होनी चाहिए अन्यथा सुधार का दरवाजा नहीं खुलेगा
Dr Quaisar Shamim, New Age Islam

एक बदलता हुआ लोकतांत्रिक समाज जिसमें बच्चों के अधिकारों पर इतना जोर है और जो इस मामले में नई दुनिया के साथ कदम से कदम मिला कर चलना चाहता है, उसमें ऐसी बातें कब तक नज़र अंदाज़ हो सकती हैं अगर शिक्षा के क्षेत्र में सुधार का, साहसिक चौतरफा योजना नहीं बनाया जाएगा तो लिपा पोती वाली बातों से कुछ नहीं होने वाला है; साहसिक इसलिए कि मसलेहत और मुनाफिकत के माहौल में सच बोलने और जवाबदेही करने के लिए साहस की आवश्यकता होगीl यह काम अगर खुद नहीं करेंगे तो समाज और उसका कानून करेगाl केवल बवाल मचाने से कुछ नहीं होने वाला हैl

 
1 2 3 4 5 6 7 8 9 10 11 12 13 14 15 ... 50 51 52


Get New Age Islam in Your Inbox
E-mail:
Most Popular Articles
Videos

The Reality of Pakistani Propaganda of Ghazwa e Hind and Composite Culture of IndiaPLAY 

Global Terrorism and Islam; M J Akbar provides The Indian PerspectivePLAY 

Shaukat Kashmiri speaks to New Age Islam TV on impact of Sufi IslamPLAY 

Petrodollar Islam, Salafi Islam, Wahhabi Islam in Pakistani SocietyPLAY 

Dr. Muhammad Hanif Khan Shastri Speaks on Unity of God in Islam and HinduismPLAY 

Indian Muslims Oppose Wahhabi Extremism: A NewAgeIslam TV Report- 8PLAY 

NewAgeIslam, Editor Sultan Shahin speaks on the Taliban and radical IslamPLAY 

Reality of Islamic Terrorism or Extremism by Dr. Tahirul QadriPLAY 

Sultan Shahin, Editor, NewAgeIslam speaks at UNHRC: Islam and Religious MinoritiesPLAY 

NEW COMMENTS

  • most of the islamic nations somehow (miraculously) manage to have a very low minority burden but the populace starts screaming...
    ( By hats off! )
  • the legendary emigre word soup maker is back again with another of her mixed vegetative soup, served with some semantic mincemeat and assorted grammar....
    ( By hats off! )
  • When one can allege that the U.S. government can be complicit in attacking its own Defense Department's Pentagon building in the capital city...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • "How did it fracture like brittle bone then if it wasn’t melted" - mr. naseer ahmed. that sentence is a jem...
    ( By hats off! )
  • GM Sb is a doctor but his education may not be relevant to what is being discussed. What can I say about his intelligence when ...
    ( By Naseer Ahmed )
  • Islam does not want its followers to go the extremes of hardship. Allah Almighty says in the Quran, "Allah intends ...
    ( By Ghulam Ghaus Siddiqi غلام غوث الصديقي )
  • Hidayat, the Arabic word, literally means guidance, instruction, righteousness or the true path. The word hidayat is comprehensively....
    ( By Ghulam Ghaus Siddiqi غلام غوث الصديقي )
  • Mr Qazi has very correctly pointed out the message of moderation in the Quran, an aspect which the Muslims...
    ( By arshad )
  • Naseer sahib imputes that I had implied "any random destructive force or fire can cause a high rise building to collapse...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Oh really? What does GM sb comprehend? That any random destructive force or fire can cause a high rise building to collapse along the path ...
    ( By Naseer Ahmed )
  • Mohammad Hussain, Christianity makes it as a duty for the citizen to wage war to save one's country if war is thrust!'
    ( By Joyson Duraisingh )
  • Ak Bhat, Al( the) + Ah ( God)= The God'
    ( By Joyson Duraisingh )
  • Joyson Duraisingh the non muslims have freedom to worship in their own way . It is an estabished ....
    ( By Ghulam Ahmad Dar )
  • @Gulam Ahmad Dar No consensus on idol worship, whatever may be the consequences
    ( By Joyson Duraisingh )
  • Secularism is very important .we should not divide the Indians. All are equal.pl.dont show your gods in public..they are statues.maintain .....
    ( By John Vedhamuthu )
  • Dinabandhu Nayak you are right,sir'
    ( By Akshaya Sahu )
  • Mohammad Hussain Manusmriti has been diluted since long. No body has seen this scripture perhaps except you.Hinduism is a auto adjusting ...
    ( By Akshaya Sahu )
  • Dinabandhu Nayak sir, slavery is unknown to Hinduism - cruel joke at its zenith!'....
    ( By Joyson Duraisingh )
  • There is nothing as gazwa-hind like things in islamic scruptures.as far as the word kafir is concerned...it simply means non-beliver.this is not for non-muslims....but ....
    ( By Reshi Siftain )
  • Stop Talibani bagdaddi culture respect SUFI Ahmediays etc be respectful to others'
    ( By Rudra Kumar Varma )
  • Islam will dominate the world insha Allah'
    ( By Muzafer Sheikh )
  • @Rakesh Rawat and Rabindra Dutta Roy But the refugee Muslims are much eager to enter into U S for living. ------and calling US as terrorist. ---
    ( By Rabindra Dutta Roy )
  • Why leave the great USA.
    ( By Rabindra Dutta Roy )
  • @Rabindra Dutta Roy onslaught concept is inhetited to muslims by the very Qoran. The word "Kafir" and "Gajwa e Hind" is itself a discriminatory, inflammatory ...
    ( By Rakesh Rawat )
  • The Prophet said, "And beware of going to extremes in religious matters for those who came before you were destroyed because...
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • it is very nice, India has Prime Minister that talks of Ganesh Surgical Transplant. Here we have ....
    ( By Aayina )
  • What is hidayat? When God gives hidayat, is it the same hidayat that is given by his prophets ...
    ( By Kaniz Fatma )
  • Dear Ghulam Ghaus Saheb. Before putting his opinion, Allama Ghulam Rasool Saeedi (RA) himself admits that it is my own research, He writes: ہماری تحقیق کے ...
    ( By misbahul Hoda )
  • Hats Off's criticism of this article is contrived and hollow.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Allama Saeedi has not given details of abrogation [naskh] in his Tibyanul Quran. When writing Tibyan, he himself benefitted from the usuliyeen such as Allama ...
    ( By Ghulam Ghaus Siddiqi غلام غوث الصديقي )
  • looks like the easiest thing to become today is a two-cent islamic expert. every "researcher...
    ( By hats off! )
  • We want to end triple talaq, not just pay lip service to the cause....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • janab! to kya saeedi sahab ke nazdeek sir Ayate saif ko bunyad bana kar kisi Ghair Muslim, kafir o Mushrik ko Qatal karna, bela wajah...
    ( By nazir banarasi )
  • Totally irrelevant and inane comment from Hats Off.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Getting tired of the routine? No "nothing to do with religion" chorus of one? ....
    ( By hats off! )
  • Was it a demolition job to start with, or was it an indiscriminate act of violence and destruction ....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Naked majoritarian hegemony is the gift that RSS's 70 years of hate prachar have bestowed....
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Both Zionism and Islamism are interested in building walls, not bridges.
    ( By Ghulam Mohiyuddin )
  • Very much pertinent submission'
    ( By Kbarora Arora )
  • How can be there peace when out siders are mindling in Islamic countries'
    ( By Mushtaq Mohammed )